अल्प ब्लाग जीवन के फटे में पैबँद



फुरसतिया जी का लेख परदे के पीछे-कौन है बे? को पडा लगा कि तो लगा कि छद्म नाम के साथ लेख करना गलत नही है पर नाम लिख कर दूसरो पर टिप्‍पडी करना गलत है नाम न लिखने की परम्‍परा आज की नही है कई लोग इसे निभाते चले आ रहे है। प्रत्‍येक व्‍यक्ति को अपनी बात को कहने का हक है चाहे जैसे हो कह सकता है स्‍वामी जी तथा छाया जी भी अपनी बात सफलता पूर्वक कह रहे है तथा कोई इन लोगो को काई नही जानता है। स्‍वामी जी तो प्रत्‍येक व्‍यक्ति पर मुह फाड के टिप्‍पडी तथा पोस्ट कर रहे है तथा हम इनके बेनाम पोष्‍टो को झेल रहे है नाम नही पता है तो इनकी दादा गिरी भी झेलनी पडती है।
अब एक जगह देख लिजिये कि स्‍वामी जी के क्‍या वाक्‍य है :- आप जितना समय यहाँ अपनी समझदारी का प्रदर्शन करने में लगाते रहे हैं उसका एक अंश अपने ब्लाग पर "संस्क्रत" को "संस्कृत" कैसे लिखें वो सीखने पर लगाएं. समय आ गया है की आपके अल्प ब्लाग जीवन के फटे में पैबँद लगानें शुरु करे - शुरुआत खराब की है आपने. यदी अपने पाठकों का सम्मान चाहते हैं तो आपकी छवि और ब्लाग दोनो को सुधारना शुरु करें. यहाँ सब आपके शुभाकाँक्षी ही हैं। स्‍वामी जी को उन्‍हे दूसरो का संस्क्रत गलत लगता है जबकि कि यदि का यदी लिखा है वह गलत नही लगता। तुलसी दास जी ने स्‍वामी जी जैसे लोगो के लिये ठीक ही समरथ को नही दोष गोसाईं!!" स्‍वामी जी आप तो समर्थवान है उनसे कहां गलती होने वाली है गलती तो हम लोग ही करते है और हमे ही अल्प ब्लाग जीवन के फटे में पैबँद लगानें पडेगे स्‍वामी जी लोग तो समर्थवान हे अच्‍छा लिखे या खराब लोग पडेगे भी तथा टिप्‍पडी भी करेगे और वाह वाह भी ।
छिपकर लिखने का मतलब है कि आप दूसरो को भला बुरा कहते है किन्‍तु नाम इस लिये छिपाते है कोई दूसरा आपके नाम को लेकर आक्षेप न करे। छद्म नाम से लेख लिखने का मतलब है कि या तो आप मनत्री है, राजनेता है, अधिकारी है या आंतकी है जो नाम छिपाने की जरूरत है। मै तो यही कहूगा कि छिप कर लेख करने तो ठीक है पर छद्म नाम का सहारा किसी पर व्‍ययक्तिगत टिप्‍पडी नही करनी चाहिये।
हमे तो जुम्‍मा जुम्‍मा आये 4 दिन ही हुआ है और अभी तो पैबन्‍द लगाने का समय है सो तो हम लगायेगे ही और ऐसा ही चलता रहा तो वक्‍त आपका भी आयेगा।


Share:

8 comments:

Pratik said...

अरे यार, तुम बहुत जल्दी टेंशन लेने लगते हो। कोई क्या कहता है, इसपर ज़्यादा वक़्त ज़ाया मत किया करो। सिर्फ़ अपने लेखन गुणवत्ता से वास्ता रखो, बाक़ी बातें मत सोचो।

eSwami said...

हां भाई प्रमेन्द्र मैं समर्थवान हूं और मुझसे अधिक समर्थवान लोग भी हैं तुम्हारे आसपास. रवि रतलामी हैं, देबू हैं आलोक हैं! ये मत समझना की लोगों में वैचारिक मतभेद नही होते - लेकिन मतभेद रखने का अर्थ असम्मान नही होता!

समर्थवान होने का सादा फ़र्मुला भी दे दूं - जिसे भी जब भी किसी भी प्रकार की सहायता की जरूरत हुई है लोग निस्वार्थ उपलब्ध होते हैं और पंगे लेने से ज्यादा कुछ काम का श्रमदान करते हैं तब मिलता है समर्थन और होते हो आप समर्थवान - समझे प्यारे? कभी देखना की अमित नें परिचर्चा पर, पंकज नें ग्राफ़िक्स पर और आशीष ने जावा पर कितनी मेहनत की है तब समझोगे की तुम्हारी आयूवर्ग में समर्थवान होने के लिए क्या किया जाता है. क्यों वे सबके लाडले होते हैं - मुझे सचमुच दोष नही लग सकता है - मैं दोष-प्रूफ़ हूं क्योंकी मैंने फ़िर तुम्हें अनुज जान कर सप्रेम खजाने की चाबी दे दी है - खोल लो खजाना और हो जाओ समर्थवान तुम भी! :)

mahashakti said...

स्‍वामी जी समार्थवान होने का मतलब यह नही है कि व्‍याकरण आप पर लागू नही होता है तथा आप व्‍याकरण के बंधन से मुक्‍त हो गये है और आप ''यदि को यदी'' लिख सकते है अगर व्‍यकरण के मामले मे आप टिप्‍पणी करते है तो आपको भी सुधरना होगा। आप दूसरे के सरसो के सामने अपने तरबूज को नही छिपा सकते।

Jitendra Chaudhary said...

मेरे विचार से यहाँ पर टिप्पणी करने से भी कुछ नही होगा। अगर कोई समझने के लिए तैयार हो, तभी समझाना चाहिए। बेकार मे ऊर्जा व्यर्थ करने से क्या लाभ? इसलिए प्रमेन्द्र को उसके हाल पर ही छोड़ना श्रेयकर होगा।

Pankaj Bengani said...

प्रमेन्द्र यार मेरे पल्ले नही पडता आपको तकलीफ क्या है? क्यों गडे मुर्दे उखाडने के चक्कर में खड्डे खोदे जाते हो? देखना उन खड्डों में ऐसा गिरोगे कि कोई सम्भालने वाला नही मिलेगा। सहयोग करोगे तो सहयोग मिलेगा। युँ सबको लताडते फिरोगे तो कोई पुछने वाला भी नहीं होगा।

कितनी बातें हैं जो आपको पता ही नहीं है। हम लोग इतने दूर दूर बैठे भी आपसी सहयोग से कितना कुछ कर पा रहे हैं। और आपका योगदान तो होगा भी कैसे? ऐसा व्यवहार करोगे तो लोग आपका नाम सुनकर भी भागेंगे।

अब ये मत कहना मुझे परवाह नहीं। परवाह सबको होती है, होनी पडती है भाई।

Anonymous said...

ये स्वामी जी कौन हैं भाई? लिंक तो दीजियेगा जी

Anonymous said...

ये स्वामी जी कौन हैं भाई? लिंक तो दीजियेगा जी

PD said...

dusare vaale comment karne vale hi Swamy ji hain anam bhai.. :)