सत्‍ता के ये लाल दलाल और देश की चाल



कितना घोर कलियुग आ गया है जिस देश का दिया खाते है, उसकी मान्‍यताओं को मानने मे शर्म करते है। आज कल इस बामपथिंयों के पास कोई काम नही है। जब चाहते है कांग्रेस के साथ वैलेन्‍टाईन डे की डेट पर चले जाते है जब चुनाव आता है तो तलाक की अर्जी लगा देते है। क्‍या करे धोबी का कुत्‍ता न घर का घाट का ? कुत्‍ता भी इस बामपंथियो से अच्‍छा है जो कम से कम मालिक के नमक हरामी तो नही करता है।
 
ये वामपंथियों के पास कोई काम धाम नही है बस इनकी पूरी टीम आज कल यही देख रही है कि संघ के कार्यक्रमों मे कौन-कौन जा रहा है। अब यह ही देखिये भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान राहुल द्रविड़ ने हाल मे ही नागपुर मे संघ द्वारा संचालित सरस्‍वती विद्या‍ मन्दिर के द्वारा आयोजित विद्यालय के सूर्य नमस्‍कार कार्यक्रम का उदघाटन किया था। द्रविड़ ने दीप प्रज्‍जवलित करने के बाद बच्‍चो से प्रतिदिन सूर्य नमस्‍कार करते हुये कहा कि ‘सूर्य नमस्‍कार करने से शरीर पूरी तरह फीट रहता है।‘
 
इन बामपंथियों की तुच्‍छ मानसिकता यह है कि ये किसी को संघ के साथ पचा नही पाते है। दोष द्रविड़ के बयान मे न था दोष उनके संघ के कार्यक्रम मे शामिल होने तथा सूर्य नमस्‍कार के सर्मथन करने का। अगर यही द्रविड खुले आम किसी वामपंथी सभा मे होते तो गलत नही होता है अगर संघ की बात आती है तो यह गलत हो जाता है।
 
आजकल सरकार स्‍कूलों मे भोग शिक्षा (सेक्‍स एजूकेशन) के कार्यक्रम चलाने जा रही है क्‍या यह हमारे परिवेश के लिये ठीक है। हाल मे ही बाबा राम देव ने स्‍कूलों मे सेक्‍स एजुकेशन का विरोध किया था। उनका कहना था कि आज पीढी के लिये भोगशिक्षा के अपेक्षा योग शिक्षा पर ध्‍यान दिया जाना चाहिये।
क्‍या वास्‍तव मे हमारे स्‍कूलों मे सेक्‍स शिक्षा की जरूरत है? इण्‍टर (12वी) की शिक्षा के पहले इस प्रकार शिक्षा की की जरूरत तो मुझे नही लगती है क्‍योकि हमारे देश वैवाहिक आयु 18-21 वर्ष है तो इससे पहले शिक्षा देने क्‍या औचित्‍य है ? आखिर हम बच्‍चो को इनके बारे मे बात कर शिद्ध करना चा‍हते है। जिस समय पढाई लिखाई और खेल कूर का माहौला होना चाहिये उस अवस्‍था मे हम वयस्‍क श्रेणी की शिक्षा देने का प्रयास कर रहे है। हम पाश्‍चात परम्‍पराओं का अनुकरण तो कर रहे है पर उनसे कोई सीख नही ले रहे है।
 
राहुल द्रविड़ के बारे किया गयी वामपंथियों की टिप्‍पणी उनकी विकृत मानसिकता की ओर इगिंत करता है। इन को वामपथिंयों भारत के अल्‍पसंख्‍यको पर हो रहा अत्‍याचार तो दिखता है किन्‍तु भारत मे ही तथा भारत के बाहर हो रहे हिन्‍दुओं पर अत्‍याखर इन्‍हे नही दिखता। विदेशों मे ख़ासकर वर्तमान मे कजाकिस्‍तान मे हाल मे ही एक हिन्‍दु मन्दिर को तोड़ा गया तथा अब वहाँ रह रहे हिन्‍दुओं अपने भीषण ठंड मे अपने घरो से बाहर निकाला जा रहा है। इस परिपेक्ष मे भारत सरकार की चुप्‍पी कहॉं तक उचित है? क्‍यों चुप है सेक्‍युलर पार्टियॉं ?
 
जब यही घटनाये भारत मे होती है तो पूरा विश्‍व समुदाय हो ह‍ल्‍ला मचाता है, चाहे वह उडीसा के ग्राहम स्‍टेनस का मामला हो या गुजरात की घटनाऐ, भारत सरकार सफाई देती नही थकती किन्‍तु जब विदेशो मे भरतवंशीयो के साथ यह घटनाऐ होती है तो हमारी मौन हो कर तमाशा देखती है। वह क्‍यो नही विश्‍व समुदाय के सामने अपना विरोध दर्ज करती है।
 
जब हमारी सरकार तथा वो पार्टियॉं भारत मे ही जिनके वोटो से सत्‍ता रस का भोग करती है उनके हितो की रक्षा नही कर सकती तो हम भारत के बाहर इन सत्‍ता के दलालों से क्‍या अपेक्षा रखे। जब ये हमारे हितो की रक्षा नही कर सकते, हमारे मान्‍यता मर्यादाओं की लाज की रक्षा न‍ही कर सकते तो इन्‍हे सत्‍ता मे बने रहने का कोई हक नही है।
 
मै यहॉं बात हिन्‍दू और मुसलमानो की नही कर रहा हूँ, मै बात भारतीयता की कर रहा हूँ। चाहे कोई भी हो चाहे हिन्‍दू-मुस्लिम-‍सिख-ईसाई-जैन-बौद्ध किसी भी धर्म के व्‍यक्ति को अपने भारतीय होने पर गर्व होना चाहिये। ऐसा नही है कि कोई हिन्‍दू किसी मुस्लिम से ज्‍यादा बड़ा देश भक्‍त है। हमारे सामने कई उदाहरण है जब मुस्लिमो ने देश की रक्षा मे अपना अमूल्‍य योगदान दिया है, और इसी कारण आज हमारा देश गर्व और सम्‍मान के साथ उन्‍हे याद भी करता है इस कारण से एनही कि वे मुस्लिम है इस कारण से कि वह जो अपने प्राणो का वलिदान किया वह एक सच्‍चा भारतीय था।
 
भारतीय मुस्लिम समाज आज अन्‍य विश्‍व के देशो के मुस्लिम राष्‍ट्रों से काफी पिछडा हुआ है। कारण यह नही है कि मुस्लिम आगे बढना नही चाहते है कारण है कि उन्‍हे आगे बढने नही देना चाहते है। जब पाकिस्‍तान और बाग्‍लादेश जैसे मुस्लिम राष्‍ट्रों के मुस्लिमो की सोच बदल रही है है तो भारत के मुस्लिमों मे क्‍यो नही। अभी हाल मे ही बाग्‍लादेश मे मुल्‍ला मौलवियो ने पोलियों तथा परिवार नियोजन के बारे लोगो से चर्चा की तो यह भारत मे क्‍यो नही सम्‍भव है
 
हाल के कुछ हफ्ते पहले ही किसी एक विधायक को आगरा के निकट हिन्‍दू यज्ञ मे शामिल होने के कारण मुस्लिम धर्म से निकाल दिया गया। यह सोच कहाँ तक उचित है। तो ये मौलविय भारत के महामहीम राष्‍ट्रपति जी को क्‍यो नही निकाल देते है जो हिन्‍दू पवित्र धर्म ग्रन्‍थ गीता का नियमित पाठ करते है। वे नही कर सकते है क्‍योकि किसी साफ व्‍यक्तित्‍व को अगर दागदार करेगे तो उनके ही धर्म के वे राष्‍ट्रवादी व्‍यक्ति इसका विरोध करेगें। आगरा के विधायक की बात दब सकती है पर राष्‍ट्रपति पर की जाने वाली कार्यवाही, इनके अवाही तवाही नियम कानून की धज्जियॉं उडा देगे। 
 
मैने कभी बचपन मे इस्‍लामिक राष्‍ट्र मालद्वीव के बारे मे सुना था कि इस राष्‍ट्र मे आप अपने साथ इस्‍लाम के अतिरिक्‍त किसी और धर्म के किसी भी प्रकार के धर्मिक चिन्‍ह या प्रतीक नही ले जा सकते है यह कितना सही है यह मुझे स्‍पष्‍ट ज्ञात नही अगर आप मे से किसी को इस बात की जारी हो तो मेरी इस शंका का निवारण करे। जब मालद्वीव जैसा छोटा राष्‍ट्र अपने देश के मानव मूल्‍यो तथा आस्‍था को बरकारर रख सकता है। तो क्‍या भारत मे वन्देमातरम, सूर्य नमस्‍कार, योग, वास्‍तुशास्‍त्र साहित वैदिक मान्‍यताओ का विरोध देश के साथ विश्‍वासघात नही है ?


Share:

10 comments:

सागर चन्द नाहर said...

बहुत सुन्दर लेख प्रमेन्द्र जी
पूरे लेख से सहमत होते हुए एक बात से आंशिक रूप से असहमत हूँ वह है यौन शिक्षा के बारे में आपके विचार। इस शिक्शा पद्दति को भोग शिक्षा कहना अनुचित है क्यों कि इसमें सिर्फ़ शारिरिक संबंधों के बारे में शिक्षा नहीं दी जाती वरन अपने शरीर के प्रति जागरुकता भी सिखाई जाती है।
फिर भी एक प्रश्न तो मन में आ ही जाता है कि किसी भी विज्ञान को सही तरीके से सीखने के लिये उसका प्रेक्टिकल ज्ञान जरूरी होता है तो इस शिक्षा पद्दति के बारे में क्या किया जायेगा प्रेक्टिकल ज्ञान देने के लिये ?क्टि
बाकी जिन लोगों के लिये आपने लेख लिखा है उन लोगों को विरोध करने के अलावा कुछ आता भी है ? हम उनके बारे में लिख पढ़ कर क्यों पना समय और जायका खराब करें?

Prabhash said...

PARMENDRA JI NAMAKAR
YAH MERA DURBHAGYA HAI KI MUJHE HINDI TYPING NADI AATI.
AAPKA LEKH PADA BAHUT HI ACHHA LEKH THA HAI. MAIN AAPKI BAATON SE PURNATAH SAHMAT HOON. ASHA HAI AISE LEKH BHAVISYA MEIN BHI PRAKASHIT HOTE RAHENGE.

हँसमुख जी said...

काफ़ी आक्रामक चिंतन है आपका. भाई जी, बहुत ही सटीक अघात किया है वामपंथियों की मानसिकता पर.रही बात भारत सरकार के सफ़ाई देने की तो बंधु सदा कमजोर ही ऐसा करते आये हैं जो कर्मठ हैं उन्हें आगे आकर पलटवार करना आता है. सरकार के लिये देश के अंदर की समस्याएं ही काफ़ी हैं. बाकी सब भी अच्छा लिखा है... ...बस ऐसा जा़री रखें.

mahashakti said...

@ सागर भाई मेरा सिर्फ इतना कहना था कि एक पेड़ भी फलने फलने का समय होता है, जब उसका समय आता है तो वह अपने आप फल देने लगता है। ठीक उसी प्रकार बालको को इस बारे श्रेणी की जानकारी देने से कोई लाभ नही है। मै यौन शिक्षा का विोध नही करता हूँ किन्‍तु इसे 18 से कम उम्र के व्‍यक्ति को देने के खिलाफ है। आज कल वेसे भी युवा पथ भ्रष्‍ट हो रहे है। मै देखता हूँ कि वे बच्‍चे 10 से 18 साल के बीच के वे सिकरेट पान मसाला आदि का सेवन करते है। आये दिन छेडखानी के मामले भी आते है, जब अभी की विभीषिका इतनी दयनीय है तो जब लोगो को पता होगा तो क्‍या होगा

@ प्रभाश जी नमस्‍कार हिन्‍दी टाईपिंग बहुत सरल, मै तो लिखता रहता हूँ और आपकी प्रतीक्षा मे लिखता रहूँगा, अपना सहयोग और स्‍नेह प्रदान करते रहे।


@ भाई हंसमुख जी, धन्‍यवाद की आपको मेरा लिखा पंसद आया।

DR PRABHAT TANDON said...

इन वामपथियों की तो सोच ही सठियाई हुयी है, वैसे इनकी गलती भी नही है, इनके अधिकतर कार्यकर्ता 60 साल बाद वाले ही हैं, लेकिन यौन शिक्षा के संबध मे तुम्हारे विचारों से मै सहमत नही, यौन शिक्षा वक्त की आवशयकता है, सही -बुरे मे अंतर आज टी वी संस्कृति मे 14-15 साल की उभ्र मे ही मिल जाना चाहिये।

DR PRABHAT TANDON said...

यौन शिक्षा का अर्थ सिर्फ़ कन्डोम और एडेस की जानकारी देना भर नही है, बल्कि जवानी की दहलीज पर खडे युवक-युवतियों को गुमराह होने से बचाना भी है। मुझे अच्छी तरह से याद है कि जब मैने हाई स्कूल लखनऊ के महानगर ब्वाएज इन्टर स्कूल से वर्ष 1977 मे किया था तब भी यौन शिक्षा अनिवार्य थी, लेकिन उसकी सोच जैसा आप सोच रहे हो वैसी कतई नही थी।

संजय बेंगाणी said...

यौन शिक्षा के तो अपने भी पक्षधर है.
बाकि आपने जो वामपंथियों के बारे में कहा है, वह एकदम सही है. दोगलेपन का उदाहरण देना हो तो वामपंथि सर्वोत्तम है.
हिन्दू बिखरे हुए तथा कमजोर है इसलिए यह हाल है.

Shrish said...

अब भैया इन वामपंथियों का क्या कहें। सूर्य नमस्कार एक योगासन है ये इसको भी धर्म से जोड़ रहे हैं। और अगर धर्म से भी जुड़ा है तो कोई गंदा काम है क्या जो ये लोग विरोध कर रहे हैं।

इन वामपंथियों का तो नारा है - हम तो विरोध करेगा।

लोग 'सन बाथ' करते हैं, उसकी हिन्दी करो: 'सूर्य स्नान' अब ये लोग उसका भी विरोध करेंगे क्या।

neeraj said...

परमेन्द्र जी,

आपका लेख मुझे बहुत अच्छा लगा. पर मैं आपके यह कहने से सहमत नहीं हूं कि सेक्स एजुकेशन भोग शिक्षा है क्योंकि यह हमारे समाज में यौन विषय के बारे में वो जागरुकता बढ़ाने के लिए जरूरी है. जो कि हमारे समाज में नदारद है और उसके चलते हम यौन शोषण और बलात्कार जैसे अपराधों में बढ़ोत्तरी देखते हैं. बाकी सब बहुत अच्छा है.

धन्यवाद
नीरज.

Rakesh sharma said...

बहुत सुन्दर लेख प्रमेन्द्र जी
पूरे लेख से हूँ ।