स्‍वामी विवेकानन्‍द की एक आकंक्षा



स्‍वामी विवेकानन्‍द की एक आकंक्षा

तुम्‍हारे भविष्‍य को निश्चित करने का यही समय है। इस लिये मै कहता हूँ, कि तभी इस भरी जवानी मे, नये जोश के जमाने मे ही काम करों। काम करने का यही समय है इसलिये अभी अपने भाग्‍य का निर्णय कर लो और काम में जुट जाओं क्‍योकिं जो फूल बिल्‍कुल ताजा है, जो हाथों से मसला भी नही गया और जिसे सूँघा ही नहीं गया, वही भगवान के चरणों मे चढ़ाया जाता है, उसे ही भगवान ग्रहण करते हैं। इसलिये आओं ! एक महान ध्‍येय कों अपनाएँ और उसके लिये अपना जीवन समर्पित कर दें - स्‍वामी विवेकानंद 
 
स्वामी विवेकानंद की दुर्लभ चित्र
 
 
 
 

स्वामी विवेकानंद पर अन्य लेख और जानकारियां
प्रेरक प्रसंग - एक वेश्या ने स्वामी विवेकानंद को कराया संन्यासी एहसास
स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन
स्वामी विवेकानंद का चिंतन : बौद्धिक विकास एवम् बौद्धिक ज्ञान
स्‍वामी विवेकानंद जयंती (राष्‍ट्रीय युवा दिवस) पर एक प्रेरक प्रसंग
स्वामी विवेकानंद की परीक्षा
निबंध एवं जीवनी स्वामी विवेकानंद


Share:

6 comments:

Shrish said...

बहुत सुन्दर विचार, अब क्या कहें स्वामी विवेकानन्द का कहा तो एक एक अक्षर कीमती है।

Udan Tashtari said...

यह कार्य अच्छा शुरु किया, इसको श्रृंखला के रुप में चलाओ.

Tarun said...

अति सुंदर विचार

राजेंद्र माहेश्वरी said...

शिक्षा का नििश्चित लक्ष्य हो - आज की शिक्षा की सबसे बडी खामी यह हैं कि इसके सामने अनुसरण करने के लिये कोई निश्चित लक्ष्य नहीं हैं। एक चित्रकार अथवा मूर्तिकार जानता हैं कि उसे क्या बनाना हैं तभी वह अपने कार्य में सफल हो पाता हैं । आज शिक्षक को यह स्पष्ट नही हैं वह किस लक्ष्य को लेकर अध्यापन कार्य कर रहा है। सभी प्रकार की शिक्षा का एक मात्र उद्धेश्य मनुष्य के व्यक्तित्व का निर्माण करना हैं इसके लिये वेदान्त के दर्शन को ध्यान में रखते हुए मनुष्य निर्माण की शिक्षा प्रदान की जानी चाहिये।-स्वामी विवेकानन्द जी

राजेंद्र माहेश्वरी said...

-:एक निवेदन:-
मनुष्य जीवन को सार्थक बनाने वाले सद्विचार अपने मोबाइल पर नि:शुल्क प्राप्त कर युग निर्माण योजना को सफल बनाने में हार्दिक सहयोग करे।
-:आपका सहयोग:-
मनुष्य जीवन को फलदायी बनाने वाले सद्विचार अपने मोबाइल पर प्राप्त करें।
इसके लिए आपको अपने मोबाइल से केवल एक बार यह मेसेज भेजना हैं।

मेसेज टाइप करे -
JOIN लिखे, इसके बाद एक स्पेस दे फिर MOTIVATIONS लिखे यानि JOIN MOTIVATIONS लिखें और इसे 09870807070 पर भेज दें। Successfully Subscribe होने के बाद प्रतिदिन आपको
अनमोल सद्विचार अपने मोबाइल पर प्राप्त होते रहेंगे।
यह सेवा पूर्णतया नि:शुल्क हैं।
हमारी आप सभी से यह विनम्र अपील हैं कि आप सभी विचार क्रान्ति अभियान की इस अभिनव योजना से जुड़े और अधिकाधिक लोगों को इस योजना से जोड़ने का प्रयास करावें।

HONEY said...

तुम क्यों रो रहे हो?
सब शक्ति तो तुम्हीं में हैं।
हे भगवन्,
अपना ऐश्वर्यमय स्वरूप को विकसित करो।
ये तीनों लोक तुम्हारे पैरों के नीचे हैं।
जड की कोई शक्ति नहीं प्रबल शक्ति आत्मा की है।
"स्वामी विवेकानंद"