सृष्टि की हवाई यात्रा



जी हां, गोवा की हवाई यात्रा अब सिर्फ एक रूपयें में!
यदि आपके पास है मोबाइल- हच, बीएसएनएल, आइडिया, एयरटेल, एमटीएनएल तो डायल कीजिए 5052855 और टाटा, रिलाइन्‍स के लिये ५०५२८५४।
अब आप उत्‍सुक होगें कि किस तरह दिल्ली-गोवा-दिल्ली की हवाई यात्रा मात्र एक रूपये कैसे हो सकती है ?
मैं यह विज्ञापन पढ़ ही रहा था कि पास में बैठे एक बच्चे ने झट से बोला, ``अंकल बताओ न कैसे चलेंगे गोवा? जैसे सृष्टि दीदी गई थी।´´
नहीं, ``मैने कहा´´
फिर कैसे, बच्चा बोला,
हमारे पास पैसे नहीं है। ``मैनें कहा´´,
क्या बात करते हो अंकल आपके पास एक रूपये भी नहीं है।
तभी ट्रिन-ट्रिन तभी फोन की घंटी बोली, `` मैं दिल्ली एयर पोर्ट से बोल रहा हूँ। आप गोवा जाना चाहेंगे सर! सिर्फ एक रूपये में। यह आफर सिर्फ एक शहर के एक खास व्यक्ति के लिए है ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने शहर की यात्री सृष्टि से बात कर सकते हैं, धन्यवाद।´´
मेरे कान खान खड़े हो गये, सचमुच एक रूपये में गो-आ जाऊंगा कैसे? मेरे पास तो एक रूपये भी नहीं है। भला मैं कैसे गोवा जा पाऊंगा। जाता तो- समुद्र की लहरें, प्राकृतिक सौन्दर्य, विदेशी सैलानी, हवा-ई यात्रा के अनुभव को महसूस कर पाता और लौटने पर मुझसे भी लोग पूछते कि आप भी ``गो-आ´´ हो आये।
क्या सोच रहे हो अंकल, ``बच्चे ने सवाल किया´´। तो सृष्टि दीदी से पूछ क्यों नही लेते? कैसे पूंछू मेरे पास तो फोन के लिए भी पैसे नहीं है। ``मैंनें कहा´´, फोन करने की जरूरत क्या है? बच्चे ने समझाते हुए कहा। उनकी यात्रा वृतान्त तो अखबार में छपा है। `` बच्चे ने जानकारी दी´´। यह बात तो सही है, ``मैनें कहा´´, तब तक बच्चा हाथ में अखबार की प्रति लाकर पढ़ने लगता है, ``इलाहाबाद शहर के एक बहुप्रतिष्ठत व्यवसायी की 17 वर्षीय पुत्री सृष्टि ने नये यमुना पुल से कूदकर आत्महत्या कर ली। सुबह करीब पांच बजें उसके घरेलू नौकर ने गेट का ताला खुला देखा तो उसे शक हुआ, शक यकीन में तब बदला जब सामने के गैराज में खड़ी कीमती कार भी नही थी। इस बात की जानकारी परिजनों को दी, तब उन्होनें अपनी पुत्री के कमरे में देखा, कमरे में पुत्री के न होने पर घर वाले बेचैन हो गये। सुबह करीब दस बजे जानकारी प्राप्त हुयी कि नये यमुना ब्रिज पर एक सुन्दर किशोरी अपनी एसेन्ट कार से आयी थी, जिस पर गार्ड ने उसकी गाड़ी पर डंडे से पीटा भी। फिर वह वहां से चली गयी और पुन: एक घंंटे बाद वहां आयी और आनन-फानन में एक सुसाइड नोट (जिसमें लिखा था ``कि यह गाड़ी मेरे पिता जी को दे दी जाये और मै अपनी मर्जी से आत्म हत्या कर रही हूँ´´) और चप्पल ब्रिज के किनारे पड़ी मिली। परिवार वाले तथा पुलिस के आलाधिकारी मौका-ए-वारदात पर तुरन्त पहुंच कर नदी में मल्लाह और पीएसी के गोताखोर को यमुना नदी में उतार दिया गया। शाम तक लाश का पता नही चल सका था´´।
सृष्टि दीदी तो हवाई नहीं बल्कि मछली की तरह जल यात्रा की है, क्या नदी के भीतर हवाई यात्रा होती है? ``बच्चे ने पूछा´´, मैनें उत्तर दिया ``नहींं´´, तभी मेरा मित्र खबरवाला हाथ में अखबार लिए आ टपका, गोवा चलोगे, मात्र 48 घंटे मे वापस आ जाओगे। ``खबरवाला ने पूछा´´, वो कैसे, मैने पूछा, जैसे सृष्टि गयी थी। खबरवाला ने बताया, वह तो नदी के अन्दर हवाई यात्रा की है, ``बच्चे ने तापक से बोल दिया,´´। पहले दिन जलयात्रा दूसरे दिन हवाई यात्रा इसी प्रकार हम भी करेंगे। `बच्चे ने उत्सुकता पूर्वक पूूछा´! यह तो तुम्हारी सृष्टि दीदी ने गोवा जाने के लिए ढोंग रचा था, जिसके लिए उसने इतनी कहानी रची थी। तुम्हें कैसे पता, ``मैंने पूछा´´, पता चला है कि वह हमेशा मोबाइल से चिपकी रहती थी और वह उससे एसएमएस करती थी। बस मेरी समझ में आ गया अब आगे न बताओ। ``मैंने कहा,´´ उसने भी विज्ञापन को पढ़कर ही एक रूपयें में ही हवाई यात्रा की है। ट्रिन-ट्रिन तभी फिर फोन की घंटी बजी। ``मैं दिल्ली एयर पोर्ट से बोल रहा हूँ। , अगर आप जानकारी प्राप्त कर चुकें हो तो कृप्या दिल्ली आने का कष्ट करें। सुबह 10 बजे हमारी फ्लाइट गोवा जाने के लिए तैयार रहेगी´´ लेकिन मेरे पास पैसें नहीं है, `मैंने झट से सवाल दाग दिया´, इसकी आपकों चिंता करने की जरूरत नहीं है। आपके शहर यात्री ने दो के सिक्के दिये थे, हमारे पास फुटकर न होने के कारण एक रूपया बचा है, सो आप चल सकते है। वैसे भी भारत में सिक्कों की कमी आ गयी है। ``फोन कालर ने समझाते हुए कहा।´´ अब मैं बिल्कुल निश्चिंत था और गोवा जाने की तैयारी सृष्टि को धन्यवाद देतें हुए करने लगा था।


Share:

2 comments:

mahashakti said...

वाह भाई वाह

पहले ही दिन धमाका, अच्‍छा लिखा है। बहुत बढि़या।

पर मुझे एक बात समझ में नही आ रही थी अखिर सृष्टि गोवा गई क्‍यों थी इसके उपर मै लिखता हूँ।

अरुण said...

स्वागत है जी तीनो का अच्छी शुरुआत्,और जरा कल वाले लेख से किसी भाइ ने अपने पारीवारिक जानकारिया और अपने परिवार का परिचय दिया है जरा डीलीट मारो..