मेरियन जोंस



मेरियन जोंस Marion Jones

अर्श से फर्स की कहावत तो हम सबने सुनी ही है। कुछ दिनों पूर्व यह कहावत चरितार्थ भी हो गई। विश्‍व रेस ट्रैक की महारानी कही जाने वाली मेरियन जोंस ने अपने पूरे कैरियर में प्रतिबन्‍धित दवाओं के सेवन की बात स्‍वीकार ली, और खेल से सन्‍यास ले लिया। मेरियन की यह स्‍वीकृतोक्ति निश्चित रूप में मेरे जैसे लाखों, प्रशसकों को एक सदमा तो जरूर पहुचाया है। सबसे अधिक खिन्‍नता यह सोच कर होती है कि रेस कोर्स में हम जिस खिलाड़ी का सर्मथन कर रहे थे वह विश्वासघाती खिलाड़ी निकली। खैर मारियन ने सिड़नी ओलम्पिक के 7 साल बाद मारियन ने यह स्‍वीकार किया वह अपने कृत्‍य के लिये दोषी है।


प्रतिबंधित दवा का सेवन करने की बात स्वीकार करने के बाद मारियन ने संन्यास लेने के बाद 2000 के सिडनी ओलिंपिक में जीते सभी पांच पदक यूनाईटेड स्टेट ओलिंपिक कमेटी को वापस लौटा दिए। इसके साथ ही साथ कमेटी ने जोंस से बोनस व इनाम के रूप में मिले एक लाख अमेरिकी डॉलर भी लौटाने को कहा है, जो नैतिक रूप से सही भी है क्‍योकि वह गलती स्‍वीकार कर लेने के बाद किसी भी प्रकार से पुरस्‍कार की हकदार नही रह जाती है। अब मेरियन जोंस द्वारा लौटाये गये पदक उनके सही हकादारों को लौटा दिया जायेगा।


अमेरिका की फर्राटा धावक मेरियन जोंस ने 2000 के सिडनी ओलिंपिक खेलों से पहले स्टेरॉयड का सेवन किया था, उसने सिडनी ओलिंपिक में तीन स्वर्ण सहित पांच पदक जीते थे। जोंस ने 1999 की शुरुआत से लगभग दो वर्ष तक बे एरिया लेबोरेटरी कोऑपरेटिव (बालको) द्वारा उत्पादित ‘द क्लीयर’ नाम के स्टेरॉयड का सेवन किया था। इसी प्रतिबन्‍धित दवा के सेवन के मामले में उन्‍हे दोषी पाया गया था।

अब मेरियन की सफलता कहा जाये या घोखाधड़ी, उन्होने 2000 सिडनी ओलिंपिक में 100, 200 व 4 गुणा 400 मीटर में स्वर्ण और 4 गुणा 100 मीटर दौड़ व लांग जंप का कांस्य तथा 1997 की वल्र्ड कप चैंपियनशिप में दो, 1999 में सेविले और 2001 में एडमंटन में एक-एक स्वर्ण पदक जीते थे। निश्चित रूप से गोल्‍डेन गर्ल कहलाने वाली जोंस ने अपने कुकृत्‍यों के कारण अपना नाम खराब कर लिया है। क्‍योकि खेल में खेल भावना अहम होती है न कि जीत-हार किन्‍तु मेरियन ने खेल भावना को अपमानित किया है।


Share:

3 comments:

आलोक said...

स्वीकार क्यों किया? ज़मीर नहीं माना, या वैसे ही ब्लैकमेलिंग हो रही थी?

Udan Tashtari said...

आपके माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय खेल सूचना मिल जाती है.

महेंद्र मिश्रा said...

खेल जगत से संबंधित अच्छी जानकारी देने का आपका प्रयास सराहनीय है |