क्यों परेशां हो बदलने को धर्म दूसरों का?



पोप ने उड़ीसा में हुई हिंसा पर दुःख प्रकट किया और निंदा की. लेकिन यह दुःख और निंदा दोनों अपने ईसाई भाई-बहनों के लिए थी. हिंदू भाई-बहनों के लिए न उनके पास दिल है और न समय. जो ईसाई इस हिंसा में मरे उनके लिए पोप ने आंसू बहाए, पर स्वामीजी और उनके चार चेलों के लिए न उनके पास आंसू हैं और न कोई सहानुभूति का शब्द.
शुरुआत किसने की? स्वामीजी और उनके चार चेलों को क्यों मारा गया? क्या यह धर्म के नाम पर हिंसा नहीं है? इन लोगों को मार कर ईसाई क्या सोच रहे थे कि हिन्दुओं को दुःख नहीं होगा? क्या वह चुपचाप कभी मुस्लिम आतंकवादियों और कभी ईसाईयों द्वारा मारे जाते रहेंगे और कुछ नहीं कहेंगे? क्या हिन्दुओं को तकलीफ नहीं होती? क्या जब उनकी दुर्गा माता की नंगी तस्वीर बनाई जाती है तो उनका दिल नहीं दुखता? इन सवालों का जवाब क्या है और कौन यह जवाब देगा?
अब भी कभी किसी मुसलमान या ईसाई के साथ अन्याय होता है, सारे मुसलमान, सारे ईसाई और बहुत सारे हिंदू खूब चिल्लाते हैं. हिन्दुओं को गालियाँ देते हैं. उनके संगठनों पर पाबंदी लगाने की बात करते हैं. भारतीय प्रजातंत्र तक को गालियाँ दी जाने लगती हैं. पर जब हिन्दुओं के साथ अन्याय होता है तो यह सब चुप रहते हैं. कश्मीर से पंडित बाहर निकाल दिए गए, कौन बोला इन में से? जम्मू में आतंकवादियों ने कई हिन्दुओं को मार डाला, कौन बोला इन में से? मुझे लगता है कि मुसलमान और ईसाईयों से ऐसी उम्मीद करना सही नहीं है कि वह कभी किसी हिंदू पर अन्याय होने पर दुःख प्रकट करेंगे. शायद उनके धर्म में ही यह नहीं है. पर हिंदू तो हिन्दुओं को गाली देना बंद करें. जब हिंदू हिंदू को गाली देता है तो मुसलमान और ईसाईयों का हौसला बढ़ता है. मुझे यकीन है कि अगर हिंदू हिंदू को गाली देना बंद कर दे तो भारत में धरम के नाम पर दंगे कम हो जायेंगे. हिन्दुओं का एक होना जरूरी है, मुसलमानों और ईसाईयों के खिलाफ नहीं, बल्कि मुसलमानों और ईसाईयों को यह बताने के लिए कि भारत में हिन्दुओं के साथ मिल जुल कर रहो. इसी में सबकी भलाई है.

न हिंदू बुरा है,
न मुसलमान बुरा है,
करता है जो नफरत,
वो इंसान बुरा है.
और अब एक निवेदन पोप से:
क्यों परेशां हो?
बदलने को धर्म दूसरों का,
खुदा का कोई धर्म नहीं होता.


Share:

2 comments:

Rakesh Kaushik said...

dharam smanta ka path pdhane ka achcha pyas hai. agar ye baat or dharmo ke bhi samajh me aajaye to behtar hai. kyonki aaj tak sirf hinduon ko hi samjhane ki koshish ki jati rahi hai.

Rakesh Kaushik

Anonymous said...

Are wah! Aap ka article ka to jawaab
nahin! Aapne to pura christian terrorist
category hi paida kar diya. Aapne kabhi
socha hai ki Bharat ke sabse garib rajya
ka sabse garib prant kyon minority mein
se terrorists paida kar raha hai? Sab ko
pata hai ki Bharat bhar ke christians
tod-phod nahin karte, chhodiye katl ki
baat. Aur haan, hinduon ko koi gaali nahin de raha.. Parantu hindutwa ke naam
me extreme bichar dhara rakhne walon ko kaha jaa raha hai.

Jahan tak dharmantkaran ka sawaal hai..
woh unethical hai lekin najayaz nahin.
Aap ko kya lagta hai? Adivasiyon ko
jabardasti convert kiya jaa raha hai?
Agar sare hindu ikaththa ho jayen to
orissa ke adivasi hi kya sara desh ka
garibi dur kar sakte hain. Aap karenge
aisa? Aap apna article likhne se pehle
orissa ke adivasiyon ke bare mein padhe
hain?

Aap jaise dainik newspaper padhke blog
likhne walon ka bas chale to sara desh
ko dubo den! Hamari yeh durgati ho gayi
hai ki hum dusron ke sar dhundte rahte
hain, apni khamiyon ka bojh thop ne ke
liye. Ab aap ko oriya christian
terrorists bhi mil gaye! Dhundte
rahiye!! Jai Hind.