ओए हँस ले



अगर आप बस पे चढे...
या फिर बस आप पे चढे... 
दोनो मर्तबा टिकिट आपका ही काटता है। 
*****
एक औरत दुसरी से: जब तेरा तलाक हुवा था तब तो एक ही बच्चा था और अब ३ कैसे? 
दुसरी बोली: वो कभी कभी माफ़ी मँगाने आ जाते थे...
*****
एक दोस्‍त दूसरे दोस्‍त से कहता है - 
तुम्हारी गर्ल फ्रेंड का एसएमएस मिला है, 
कहती है कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाना को, 
इक्कीसवी सदी है बम से उड़ा दो साले को।
*****
रामू (डॉक्टर से)- डॉक्टर साहब! ये फूलों की माला किस के लिए? 
डॉक्टर (रामू से)- ये मेरा पहला ऑपरेशन है, सफल हुआ तो मेरे लिए, नहीं तो तुम्हारे लिए। 
****
बंता: मेरी बीवी मुझे छोड़ के चली गई। 
संता: तू उसका ख्याल नही रखता होगा।
बंता: अरे यार, सगी बहिन की तरह रखता था।


Share:

स्नातक शिक्षा उपधिधारियो से निवेदन



सभी स्नातक शिक्षा उपाधिधारी भाई बहनो से निवेदन है कि २८ अप्रैल को विधान परिषद चुनाव के लिए होने वाले मतदान में अपनी विचार धारा यानी अपने संघ के अनुसांगिक संगठन भाजपा के प्रत्याशियों के पक्ष में भारी संख्या में मतदान कराने का भरसक प्रयास करे और उन्हें विजयी बनवावे.

इलाहाबाद-झाँसी सीट से भाजपा के यज्ञदत्त शर्मा प्रत्याशी है, इस क्षेत्र में कुल ९०००० वोटर है लगभग १५००० वोट पर जीत संभव है. अतः आपसे निवेदन है कि भारी से भारी वोटो स विजयी बनाइये.


Share:

बोलो बजरंगबली की जय - हनुमान जी के जन्म की कथा - चैत्र पूर्णिमा को हुआ था हनुमानजी का जन्म



मुझे एक बात नही समझ आ रही है कि 2006 में हनुमान जयंती अक्‍टूबर में पड़ी थी किन्‍तु इस बार अप्रेल में यह कैसे सम्‍भव है कि लगभगर 6 माह का अन्‍तर हो जाये। अक्‍टूबर में हिन्‍दी माह के अनुसार कातिक महिना होगा, जबकि अप्रेल में चैत्र चल रहा है।
बोलो बजरंगबली की जय - हनुमान जी के जन्म की कथा

बोलो बजरंगबली की जय - हनुमान जी के जन्म की कथा

बोलो बजरंगबली की जय - हनुमान जी के जन्म की कथा

जय बजरंग बली तोड दुश्‍मन की नली

जय बजरंग बली तोड दुश्‍मन की नली

हनुमान जयंती पर मेरी पिछली पोस्‍ट - जय बजरंग बली तोड दुश्‍मन की नली

हनुमान जी के जन्म की कथा - चैत्र पूर्णिमा को हुआ था हनुमानजी का जन्म 
चैत्र सुदी पूनम को हनुमान जी का जन्म हुआ था। इस दिन हनुमान जी के मंदिर में चना-चिरौंजी व नारियल का भोग लगाया जाता है। इसे चैत्र पूर्णिमा भी कहते हैं। इस दिन नदी, तीर्थ, सरोवर आदि में स्नान करने से एक माह तक स्नान का फल प्राप्त होता है। आज के दिन ही भगवान श्रीकृष्ण ने ब्रज में महारास रचाया था। यह महारास कार्तिक पूर्णिमा से प्रारम्भ होकर चैत्र मास की पूर्णिमा को समाप्त हुआ था। इस दिन श्रीकृष्ण ने अपनी अनन्त योग शक्ति से अपने असंख्य रूप धारण कर जितनी गोपी उतने ही कान्हा का विराट रूप धारण कर विषय लोलुपता के देवता कामदेव को योग पराक्रम से आत्माराम और पूर्ण काम स्थित प्रकट करके विजय प्राप्त की थी। इस दिन घरों में स्त्रियां भगवान लक्ष्मी नारायण को प्रसन्न रखने के लिए भी व्रत रखती हैं और प्रभु सत्यनारायण की कथा सुनती हैं। चैत्र की पूर्णिमा को चैती पूनम भी कहा जाता है।
 
शास्त्रों में मतैक्य ना होने पर चैत्र शुक्ल पूर्णिमा को हनुमान जी का जन्म दिवस मनाया जाता है। वैसे वायु पुराणादिकों के अनुसार कार्तिक की चैदस के दिन हनुमान जयंती अधिक प्रचलित है। इस दिन हनुमान जी को सजाकर उनकी पूजा अर्चना एवं आरती करें। उसके बाद भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें। व्रत रखने वाले को चाहिए कि वह हनुमान जयंती के व्रत हेतु हनुमान जी का स्मरण करके पृथ्वी पर सोए तथा सूर्योदय से पूर्व उठकर राम जानकी एवं हनुमान जी का पुनः स्मरण करें और नित्य क्रिया से निवृत्त होकर हनुमान जी की मूर्ति की पूजा करें। विनम्रता के साथ कहें-
अतुलितबलधामं स्वर्णशैलाभदेहं दनुजवनकृशांनु ज्ञानिनामग्रगण्यम्।
सकलगुण निधानं वानराणामधीशं रघुपतिवरदूतं वातजातं नमामि।।
 
हनुमान जी के जन्म तथा उनसे जुड़ी घटनाओं से संबंधित कथा इस प्रकार है- सूर्य, अग्नि, सुवर्ण के समान तेजस्वी और वेद वेदांगों के ज्ञाता तथा महाबली हनुमानजी ने माता अंजनी की कोख से जन्म लिया। एक बार माता अंजना अपने बेटे को पालने में लिटा कर फल-फूल लेने के लिए वन में चली गईं। तभी बालक हनुमान ने पूर्व दिशा में सूर्य को उदय होते देखा। बस क्या था! हनुमानजी तुरंत आकाश में उड़ चले। वायुदेव ने जब यह देखा तो वह शीतल पवन के रूप में उनके साथ चलने लगे ताकि बालक पर सूर्य का ताप नहीं पड़े। अमावस्या का दिन था। राहु सूर्य को ग्रसित करने के लिए बढ़ रहा था तो हनुमानजी ने उसे पकड़ लिया। राहु किसी तरह उनकी पकड़ से छूट कर भागा और देवराज इंद्र के पास पहुंचा। इंद्र अपने प्रिय हाथी ऐरावत पर बैठकर चलने लगे तो हनुमानजी ऐरावत पर भी झपटे। इस पर इंद्र को क्रोध आ गया। उन्होंने बालक पर वज्र से प्रहार किया तो हनुमानजी की ठुड्डी घायल हो गई। वह मूच्र्छित होकर पर्वत शिखर पर गिर गए। यह सब देखकर वायुदेव को भी क्रोध आ गया। उन्होंने अपनी गति रोक दी और अपने पुत्र को लेकर एक गुफा में चले गए। अब वायु के नहीं चलने से सब लोग घबरा गए। देवतागण सृष्टि के रचयिता ब्रम्हाजी के पास पहुंचे। सारी बात सुनकर ब्रम्हाजी उस गुफा में पहुंचे और हनुमानजी को आर्शीवाद दिया तो उन्होंने आंखें खोल दीं। पवन देवता का भी क्रोध शांत हो गया। ब्रम्हाजी ने कहा कि इस बालक को कभी भी ब्रम्ह श्राप नहीं लगेगा। इसके बाद उन्होंने सभी देवताओं से कहा कि आप सब भी इस बालक को वर दें। इस पर देवराज इंद्र बोले कि मेरे वज्र से इस बालक की हनु यानि ठोढ़ी पर चोट लगी है इसलिए इसका नाम हनुमान होगा। सूर्य ने अपना तेज दिया तो वरूण ने कहा कि हनुमान सदा जल से सुरक्षित रहेंगे। इस प्रकार हर देवता ने हनुमानजी को वर प्रदान किया जिससे वह बलशाली हो गए।

हनुमानजी बहुत ही चंचल थे। वह जब चाहें जहां चाहें पहुंच जाते थे और जो मन में आता वह कर डालते थे। हनुमानजी की शरारतों से आश्रमों में रहने वाले ऋषि-मुनि परेशान रहते थे। इस पर ऋषि-मुनियों ने हनुमानजी को श्राप दिया कि जिस बल के कारण तुम इतने शरारती हो गए हो उसी को लंबे समय तक भूले रहोगे जब कोई तुम्हें तुम्हारे बल के बारे में याद दिलाएगा तभी तुमको सब याद आएगा। इस श्राप के कारण हनुमानजी का स्वभाव शांत और सौम्य हो गया।
 
इसके बाद उनके माता-पिता ने उन्हें शिक्षा-दीक्षा के लिए सूर्यदेव के पास भेजने का निर्णय किया तो हनुमानजी बोले कि सूर्यदेव तो बहुत दूर हैं, मैं वहां पहुंचुगा कैसे? उनकी माता अंजना हनुमानजी को मिले श्राप के बारे में जानती थीं और जब उन्होंने उनको उनके बल के बारे में याद दिलाया तो उन्हें सब याद आ गया कि बचपन में वह किस प्रकार सूर्य की ओर लपके थे। वह आकाश में जा पहुंचे और सूर्यदेव के सारथि अरुण से मिले जोकि उन्हें सूर्यदेव के पास ले गए। सूर्यदेव ने उनके आने का कारण जाना तो बोले कि मैं तो हर समय अंतरिक्ष की यात्रा करता रहता हूं मुझे एक पल का भी आराम नहीं है मैं तुम्हें किस प्रकार शिक्षा-दीक्षा दे पाउंगा। इस पर हनुमानजी बोले कि मैं आपके रथ के वेग के साथ-साथ चलता रहूंगा क्योंकि मुझे आपसे ही शिक्षा प्राप्त करनी है। इस पर सूर्यदेव ने हां कर दी और पूरे मनोयोग से हनुमानजी को हर शास्त्र में निपुण बना दिया। शिक्षा खत्म होने के बाद जब हनुमानजी चलने लगे तो उन्होंने दक्षिणा के बारे में पूछा तो सूर्यदेव बोले कि मुझे कुछ नहीं चाहिए लेकिन यदि कपिराज बाली के छोटे भाई सुग्रीव की मदद का वचन मुझे दोगे तो मुझे अत्यंत प्रसन्नता होगी। इस पर हनुमानजी ने उन्हें सुग्रीव की मदद करने का वचन दिया।
 
बाद में हनुमानजी ने सुग्रीव की भरपूर मदद की और उनके खास मित्र बन गए। सीताजी का हरण करके रावण जब उन्हें लंका ले गया तो सीताजी को खोजते श्रीराम और लक्ष्मण जी से हनुमानजी की भेंट हुई। उनका परिचय जानने के बाद वह उन दोनों को कंधे पर बैठाकर सुग्रीव के पास ले गए। सुग्रीव के बारे में जानकर श्रीराम ने उन्हें मदद का भरोसा दिया और सुग्रीव ने भी सीताजी को ढूंढने में मदद करने का वादा किया। श्रीराम ने अपने वादे के अनुसार एक ही तीर में बाली का अंत कर दिया और सुग्रीव फिर से किष्किन्धा नगरी में लौट आए। उसके बाद सुग्रीव का आदेश पाकर प्रमुख वानर दल सीताजी की खोज में सब दिशाओं में चल दिए।
 
श्रीराम जी ने हनुमानजी से कहा कि मैं आपकी वीरता से परिचित हूं और मुझे विश्वास है कि आप अपने लक्ष्य में कामयाब होंगे। इसके बाद श्रीराम जी ने हनुमानजी को अपनी एक अंगूठी दी जिस पर उनका नाम लिखा हुआ था। सीताजी का पता मिलने के बाद जब हनुमान जी लंका में पहुंचे तो उन्होंने माता सीता से भेंटकर उन्हें श्रीराम का संदेश दिया और लंका की पूरी वाटिका उजाड़ने के बाद लंका में आग भी लगा दी। इसके बाद सीताजी को मुक्त कराने के लिए जो युद्ध हुआ उसमें हनुमानजी ने महती भूमिका निभाई।हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाता है इसके पीछे भी एक कथा है- एक बार हनुमान जी ने सीता माता की मांग में सिंदूर लगा देखकर आश्चर्य से पूछा कि हे माता! आपने यह लाल द्रव्य मस्तक में क्यों लगाया हुआ है? इस पर सीता माता ने ब्रम्हचारी हनुमान की इस सीधी-सादी बात पर प्रसन्न होकर कहा कि पुत्र इसे लगाने से मेरे स्वामी की दीर्घायु होती है।
 
इस पर हनुमान जी ने सोचा कि यदि उंगली भर सिंदूर लगाने से स्वामी दीर्घायु होते हैं तो क्यों ने पूरे बदन पर सिंदूर लगाकर उन्हें अजर अमर कर दूं। उन्होंने ऐसा ही किया और ऐसा करके वह जैसे ही सभागार में पहुंचे, भगवान श्रीराम उन्हें देखकर मुस्कुराए और उन पर काफी प्रसन्न हुए। तभी से हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाने लगा।


Share:

आज राष्ट्रीय शर्म दिवस है



आज भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का सबसे काला दिन है। आज एक विदेशी देश की सरपरस्‍ती जाताने के लिये भारत सरकार क्‍या क्‍या दमन के तरीके अपना रही है। जिस मशाल का प्रर्दशन जनता न देख सके वैसे आयोजन से क्‍या लाभ? यह कहना गलत न होगा कि आज देश में विदेशी सत्‍ता की बू की झलक आ ही गई है।

आज मुझे मनमोहन नीत सरकार को, चीनी सरकार का ऐजेंट कहने में जरा भी हिचक नही है। एक तरफ तिब्‍बती जनता का दमन किया जा रहा है वही भारतीय सरकार चीन के जश्‍न में जाम पे जाम लिये जा रही है। आज की सत्‍ता की घिनौनी हरकत ने पूरे देश को शर्मसार कर दिया है। एक पराये देश की दमन कारी नीति के सर्मथन में पूरी दिल्‍ली को कफ्यू ग्रस्‍त जैसा महौल कर दिया है। देश के गृहमंत्रालय भी ''चीनी मेहरिया'' (मशाल) के दर्शन कोई नागरिक न कर ले इस लिये, सभी सरकारी इमारतों की राजपथ की ओर खुलने वाली खिड़कियां व दरवाजे बंद रहेंगे। पीएमओ, वित्त मंत्रालय और गृह मंत्रालय भी राजपथ पर हैं इसलिए यह नियम उन पर भी लागू होगा।

कितनी शर्म की बात है कि यह प्रधानमंत्री कार्यालय से भी इस मशाल को दूर रखा गया, शायद सोनिया-मनमोहन सरकार को अपने कार्यालय पर ही भरोसा नही है। इस र्निलज्‍ज सरकार में कम से थोड़ा तो पानी रहा नही तो राष्‍ट्रपति भवन को भी न छोड़ते।

कई सितारों ने इस मशाल दौड़ का बहिष्‍कार किया वे बधाई के पात्र है सबसे अधिक भूटिया जिन्‍होने सरकार की नीति ही नही सरकारी नुमाइन्‍दों के मुँह पर खीच खीच के तमाचे मारे है। भूटिया स्‍पष्‍टता से कहा कि तिब्‍बती दमन के अपराधी के उत्‍सव में मै भाग नही लूँगा। भूटिया का कहना स्‍वाभाविक है वह सिक्किम से जुडे है जिसे चीन अपना अंग मानता है।

हमारी सरकार एक औरत के छत्रछाया में चूडि़यॉं पहन के बैठी है। इसके मंत्री अरूणाचल जाते है तो सिर्फ यह घोषण करने की ''अरूणाचल भारत का अभिन्‍न अंग है।'' अरूणाचल तो भारत का अंग है ही उसे बताने की क्‍या जरूरत है। मै सच में एक बात कहना चहाता हूँ कि अगर ऐसे मंत्री की सुरक्षा न हो तो अरूणाचल ही नही पूरे भारत में जूतियाये जाये। भारत का अंग वास्‍तव में सिक्किम और अरूणाचल तब होगे कि वहाँ पर कुछ काम हो। किन्‍तु काम के नाम पर इन ''नमक चोरों'' की जेब खाली हो जाती है। आज भी देश के दोनो प्रदेश रेल यातायात से अछूते है। क्‍या संसाधनों की कमी के बल पर भारत के अंग बनाये रखेगें? 
चीन की मशाल न‍िकली जरूर है, इसमें तिब्‍बत का शौर्य जगेगा तो भारत का शर्म।


Share:

इलाहाबाद चिट्ठकार मिलन - ब्‍लागरों बारात की तैयारी करो लड़का तैयार है



 इलाहाबाद में आयोजित होने वाली पहली बहुपक्षीय चिट्ठाकार मिलना कार्यक्रम दूसरी बार टलने की सम्‍भावनाओं के मध्‍य अन्‍तोगत्‍वा आयोजित हो ही गई। कई दिनों पूर्व में श्रीराम चन्‍द्र मिश्र जी ने इलाहाबाद के सभी चिट्ठाकारों से मिलने का कार्यक्रम रखना चाह रहे थे। मै तो यह कार्यक्रम होली के मध्‍य अथवा बाद ही रखने का इच्‍छुक था किन्‍तु कार्यक्रम नही बन सका। मेरी कार्यक्रम 10 के बाद रखने की योजना बनी किन्‍तु इसके लिये मै तैयार नही था क्‍योकि मेरी विधि की परीक्षा की तारीख घोषित हो चुकी थी। पर जल्‍द ही वह तारीख स्‍थगित होने के बाद फिर आयोजन की आशा जगी। और कार्यक्रम बन ही गया। 
सभी की राय जानकर पहली तिथि 12/4 फिर रामचन्‍द्र जी ने इसे बदलावाकर 13/4 की तेज दुपहरिया में कर दिया। मुझे इतनी तेज धूप में आयोजन का कोई औचित्‍य नही समझ नही आ रहा था किन्‍तु मेहमानों के बात सिरोधर्य कर आयोजक का कर्तव्‍य था। 13 की सुबह मैने चुंतन जी फोन लगया, किन्‍तु उन्‍होने अपनी धर्मपत्‍नी की गम्‍भीर बीमारी को बताया तो मन काफी दुखित हुआ और बस मन से यही निकला कि आप अपनी पत्नी की सेवा में लगे रहे ओर ईश्वर जल्‍दी उन्‍हे ठीक करें। उक्‍त बात फिर रामचन्‍द्र जी को बताई तो उन्‍होने बताया कि ज्ञान जी इसी कारण ज्ञान जी भी नही आ पायेगें। अन्‍त में कार्यक्रम को स्‍थगित कर फिर 14 की बात समाने आ गई कि 14 को हर्षवर्धन जी आ रहे है उन्‍हे भी शामिल कर लेते है। पर मै इस स्थिति में नही था क्‍योकि मेरे पास समय का आभाव था ही साथ साथ मैने अपने महाशक्ति समूह को पहले से बुला लिया था। मेरा यही उत्‍तर था कि मैने हर्ष जी को मेल कर दिया है कि उनके आने पर उनसे मिलने का कार्यक्रम पुन: तय हो जायेगा किन्तु बार बार कार्यक्रम रद्द करना ठीक नही है। और फिर 11 बजे मिलने का कार्यक्रम तय हो गया। 
जो भी पूर्व की योजना थी उसके अनुसार ताराचन्‍द्र जी 11.10 बजे तक आ चुके थे। और उसके बाद करीब 11.20 पर रामचन्‍द्र जी का भी आगमन हो गया। जब फिर पेशे से अधिवक्‍ता श्री देवेन्‍द्र प्रताप सिंह और मानवेन्‍द्र भी हाजिर हो गये। उसके बाद करीब 12.30 पर राजकुमार और शिव भी उपस्थित हए। इस प्रकार महाशक्ति समूह के आधा दर्जन ब्‍लागर और रामचन्‍द्र मिश्र जी के मध्‍य विभिन्‍न विषयों पर काफी गरमारम वार्तालाप का आयोजन हुआ। कई प्रश्‍नों का आदान प्रदान हुआ। 
रामचन्‍द्र जी ने सबको अपने अपने व्‍यक्तिगत ब्‍लागर पर लिखने को सलाह दिया किन्‍तु तारा चन्‍द्र जी ने प्रतिउत्‍तर में कहा कि हम एक है और महाशक्ति समूह में लिखने को तत्‍पर है। हमारा अपना ब्‍लाग भी है किन्‍तु महाशक्ति समूह के साथ खुश है। काफी वरिष्‍ठ ब्‍लागरों की चर्चा भी आयोजित हुई। हिन्‍दी ब्‍लागगिंग के भविष्‍य और महाशक्ति के अगले कार्यक्रम पर भी चर्चा हई। ताराचन्‍द्र जी ने बताया कि हम केवल ब्‍लागिंग ही नही समाज के अन्‍य सरोकारों से जुड़े हुऐ है चिट्ठकारी तो एक माध्‍यम है और उसे महाशक्ति की ओर से प्रमेन्‍द्र सम्‍हाल रहे है। साथ ही साथ विभिन्‍न प्रकार के आयोजनों के जरिये महाशक्ति स्‍थानीय मीडिया की सुर्खियों में रहती है। 
अन्‍त में इस ब्‍लागर मीट के आयोजन के तीन घो‍षणाएँ गई। प्रथम यह कि हमारें राजकुमार अब नौकारी पेशा व्‍यक्ति हो गये है अर्थात उन्‍हे भारतीय रेलवे में जगह मिल गई है। कुछ दिनों से वे ज्‍वाईनिग के चक्‍कर लगा रहे है, कुछ आवाश्‍यक कागजों के लिये उनका इलाहाबाद मात्र 12 घन्‍टे के लिये इलाहबाद आना हुआ था और इसी 12 घन्‍टे में मेरे विशेष अनुरोध पर करीब 3 अमूल्‍य घन्‍टे हमारे साथ रहे। राजकुमार का नौकरी में आना हमारी युवा मंडली के लिये विशेष गौरव की बात है। यह इसलिये भी यह हमें एहसास दिलाता है कि अब महाशक्ति स्‍था‍यित्‍व की ओर बढ़ रही है। दूसरी घोषणा महाशक्ति के तकनीकि विशेषज्ञ श्री मानवेन्‍द्र प्रताप सिंह जी ने कि वह यह कि हमें गूगल की तरफ से आवाश्‍यक पिन मिल गया है। यह पिन हमारे लिये सिर दर्द बना हुआ था यह एक ऐसी हड्डी थी जो न निगला जा सकता था न उगला। इस पिन प्राप्ति के बाद अब हमारे 234 अमेरिकी डालर (13 अप्रेल तक) प्राप्‍त होने की काफी आशा हो गई है। चलते चलते मिश्र जी को अपने आवास का अवलोकन करवाया। उसी अवलोकर के दौरान उन्‍होने अपने कैमरे में '' 45 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान पर ब्‍लागरमीट आयोजन का सक्ष्‍य दर्ज किया। :) तीसरी घोषणा स्‍वयं राम चन्‍द्र मिश्र ने की कि जो अभी कॉल आया था वह लड़की वालों का था और मेरी शादी के लिये कार्यक्रम तय कर रहे है। तीनों घोषणा में सबसे ज्‍यादा ताली रामचन्‍द्र जी की इस घोषणा ने बटोरी। :) तो क्‍या आप बरात के लिये तैयार है? 
कहने को बहुत कुछ है किन्‍तु कहने का समय नही है जल्‍द ही फिर आपके सम्‍मुख उपस्थित रहूँगा। 
जय श्रीराम
चित्र यहॉं है - 45 डिग्री सेल्सियस तापमान के मध्‍य चित्र में इलाहाबाद ब्‍लागर मीट सौजन्‍य से श्री रामचन्द्र मिश्र


Share:

इलाहाबाद चिट्ठाकार मिलन में संशोधन



कल हुई घोषणा के बाद रामचन्‍द्र जी से कल बात हुई तो उन्‍होने बातया कि माता जी का फोन आया था और शनिवार को सब लोग मैहर देवी जी का दर्शन करने जा रहे है, इसलिये आम सहमति से कार्यक्रम में संशोधन किया जा रहा है। कार्यक्रम, समय और स्‍थान सभी वही है किन्‍तु दिन अब श्‍ानिवार की जगह रविवार हो गया है।

कार्यक्रम पूर्ण विवरण

प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह (महाशक्ति)
कार्यक्रम स्‍थल - 198 लूकरगंज(निकट मदनानी अस्‍पताल के पास) इलाहाबाद-01
समय - दोपहर 11 बजे से 1 बजे तक  (आम सहमति से कार्यक्रम तब तक चले)
दिन/दिनॉंक - रविवार/13.04.2008


Share:

इलाहाबाद चिट्ठाकार मिलन कार्यक्रम का आमंत्रण



इलाहाबाद चिट्ठाकार मिलन कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार हो गई है। मेरे निवास स्‍थल पर दिनॉंक 12/4/2008 को 11 बजे से 1 बजे तक का समय निर्धारण है। जो भी चिट्ठाकार बन्‍धु इलाहाबाद में रहते है और उनकी जानकारी मुझे थी मैने उन्‍हे व्‍यक्तिगत तौर पर आमंत्रित कर लिया। जिन्‍ह बन्‍धु या भगिनियों के बारे में मुझे जानकारी नही है, उन्‍हे क्षमा चाह कर, खुले निमंत्रण के द्वारा आमत्रित करता हूँ।

इस चिट्ठाकार मिलन कार्यक्रम के लिये, इलाहाबाद और आस-पास के ब्‍लागर बन्‍धु भी आंमत्रित है। इस कार्यक्रम के लिये इच्‍छुक चिट्ठकार बन्‍धु दिनॉंक 11/4/2008 की शाम 7 बजे तक मुझे इस नम्‍बर पर या रामचन्‍द्र मिश्र जी को (9919824795) पर सूचित करने का कष्‍ट कीजिए।

अभी तक इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिये निम्‍न नाम अनुमति प्रदान कर चुके है - सर्वश्री ज्ञानदत्‍त पान्‍डेय, श्री संतोष कुमार पान्‍डेय, श्री राम चन्‍द्र मिश्र, श्री देवेन्‍द्र प्रताप सिंह, श्री मानवेन्‍द्र प्रताप सिंह, श्री ताराचन्‍द्र गुप्‍ता, श्री शिवकुमार गुप्‍ता एवं मै स्‍वयं।


Share:

भारतीय मुस्लिम नेतृत्‍व - भय बिन प्रीत न होत गुंसाई



यह मुस्लिम नेता रोषपूर्वक अपने को सौ प्रतिशत भारतीय होने का दावा करते है। साथ ही साथ काश्‍मीर पर पाकिस्‍तान के दावे के पक्ष में तर्क देते सुने जाते है। आसाम में पाकिस्‍तानी काश्‍मीर घुसपैठियों को भारतीय मुसलमान मुस्लिम सिद्ध करते दिखाई देते है। कहने को उनका हिन्‍दुओं से कोई मनोमालिन्‍य नही किन्‍तु साथ ही साथ यह फतवा भी जारी करते है कि नेहरू के मृत्‍योंपरानत उनके शव के पास कुरान का पाठ इस्‍लाम के विरूद्ध है क्‍योकि काफिर के शव पर कुरान नही पढ़ी जा सकती। वह जाकिर हुसैन को भारत का राष्‍ट्रपति तो देखना चाहते है किन्‍तु अच्‍छा मुसलमान होने के नाते उनके हिन्‍दु में शपथ और शंकराचार्य से आशीर्वाद लेने प आपत्ति करते है। 
 
प्रस्‍तुत वाक्‍य हामिद दलवई के है जो मुस्लिम पालिटिक्‍स इन सेक्‍युलन इंडिया, पृ. 47 से उद्धत है। इस वाक्‍य से मु‍सलिम नेतृत्‍व की का सही रूप सामने दिखता है। जो नेहरू की मृत्‍यु से लेकर आज तक की सत्‍ता सर्घष में हावी है। यह कांग्रेस उसी म‍ुसलिम कौम को उठाने का असफल प्रयास कर रही है जो अपनी रूढि़ विचारों से कभी नही उठ सकती है। सोनिया को लगता है कि वह 18 प्रतिशत मुसलमानों के बल पर वह चुनाव जीत लेगी तो यह उनकी सबसे बड़ी राजनैतिक अ‍परपिक्‍वता की निशानी है, वह दिन दूर नही जब राष्‍ट्रवाद का स्‍वाभिमान जागृत होगा और देश में राष्‍ट्रवाद के नेतृत्‍व की सरकार आयेगी। और तब देश में न सिर्फ मुसलमान उन्‍नति करेगा अपितु पूरा देश उन्‍नति करेगा। जरूरत है उग्रता को सोंटा दिखने और सही मार्ग पर ले चलने की। क्‍योकि कहा गया है - भय बिन प्रीत न होत गुंसाई।


Share:

गूगल पर प्रतिबन्‍ध तो नही लग गया है ?



आज इलाहाबाद में मध्‍य दोपहरियॉं के बाद से गूगल, जीमेल, आरकुट, ब्‍लागर, ब्‍लागवाणी सहित अनेकों साईट को झटका लग गया है। आज दोपहर में बहुत तेज आँधी आई और पानी भी बरसा और इन साईटों पर काफी असर पड़ा। यह प्रभाव सिर्फ इलाहाबाद भर में था या विश्‍वव्‍यापी असर था यह अभी जानकारी नही मिल पाई है। अभी रात 9 बजे रामचन्‍द्र मिश्र जी से पूछा कि क्‍या हाल-चाल है गूगल के? तो उत्‍तर बदहाली के ही मिले ओर पता चला कि याहू भी संकट में है। काफी साईटे काफी तीव्रता से खुल रही है, किन्‍तु कुछ साईटों का न खुलना समस्‍या का विषय है। कहीं यह गूगल समूह पर प्रतिबन्‍ध तो नही ?

अभी के लिये इतना ही ..............

यह पोस्‍ट ब्‍लाग राईटर से कर रहा हूँ, पता नही होती है कि भी नही ?
Technorati : गूगल पर प्रतिबन्‍ध तो नही लग गया है


Share:

सेक्स न सिर्फ आनंददायक है वरन उत्साहवर्धक और स्वास्थ्य वर्धक भी है



अनुसंधानों द्वारा यह साबित हो चुका है कि सेक्स स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। यह अनेक बीमारियों का ऐसा इलाज है जो न सिर्फ आनंददायक है वरन उत्साहवर्धक भी है। इससे विभिन्न तरीकों से लाभ पहुंच सकता है।
सेक्स न सिर्फ आनंददायक है वरन उत्साहवर्धक और स्वास्थ्य वर्धक भी  है

सेक्स से आयु बढ़ती है: जो लोग नियमित रूप से सहवास करते हैं और जिनके मन में इसको लेकर किसी तरह की आशंकाएं नहीं हैं, वे उन लोगों की अपेक्षा ज्यादा लंबी आयु पाते हैं जो महीने में एक बार सेक्स क्रिया करते हैं।

सेक्स से युवा लगते हैं:  ऐसे दंपति जो हफ्ते में तीन बार सेक्स क्रिया करते हैं, वे उन लोगों की अपेक्षा ज्यादा युवा लगते हैं जो कभी-कभी इसे करते हैं या बिलकुल ही नहीं करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस प्रक्रिया में जो ऊर्जा लगती है उससे ऑक्सीजन का स्तर बढ़ता है, रक्त प्रवाह का संचार त्वचा में प्रवाहित होता है और त्वचा की नई कोशिकाएं बनती हैं। इससे त्वचा में एक आभा उत्पन्न होती है, वह चमकने लगता है। इसके अतिरिक्त ऐसी महिलाएं जिनको मेनोपॉज हो चुका है अगर सहवास क्रिया करती रहती हैं, उन्हें गर्मी या पसीना आने की शिकायत नहीं रहती है। न ही ऐसी महिलाओं पर आयु का ज्यादा प्रभाव पड़ता है।

सेक्स से मजबूत होती हैं हड्डियां:  'इंक्रीज योर सेक्स ड्राइव' के लेखक डॉ. सराह ब्रीवर के अनुसार, 'नियमित रूप से सहवास करने से एस्ट्रोजन लेवल बढ़ जाता है जिससे महिलाएं ओस्टियोपॉरिसिस या हड्डियों के रोग से पीडि़त नहीं होती हैं।'

सेक्स से सुखद नींद:  सेक्स के दौरान ऑक्सीटॉसिन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है जिसका इतना सुखद असर पड़ता है कि आप चैन की नींद सो जाती हैं। पुरुषों पर इसका ज्यादा प्रभाव पड़ता है इसीलिए वे सहवास क्रिया के बाद बात करने के बजाय सोना पसंद करते हैं।

सेक्स से तनाव खत्म हो जाता है: सेक्स क्रिया के दौरान एंड्रोफस नामक एक हार्मोन शरीर से निकलता है जिसके कारण आप तनावमुक्त महसूस करती हैं। उस दौरान फिनीलेथलमाइन रसायन का स्त्राव होता है जिससे स्वस्थ होने की भावना उत्पन्न होती है। प्यार भरे रिश्ते में की गई सहवास क्रिया मन में एक उत्साह भर देती है कि कोई आपको प्यार करता है, आपकी परवाह करता है। आप ज्यादा समय खुश रहती हैं। खुशी ही तनावमुक्त रहने का सबसे कारगर उपाय है। मैक्स हेल्थ केयर सेंटर की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. नीलांजना के अनुसार, 'सेक्स के दौरान चूंकि एक निश्चिंतता होती है इसलिए पति-पत्‍‌नी दोनों ही तनावमुक्त महसूस करते हैं। हृदय गति बढ़ने से शरीर और मन में एक स्फूर्ति महसूस होती है।'

सेक्स दर्द निवारक भी है : एंड्रोफिंस हार्मोन प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में कार्य करता है। बढ़ते हुए एस्ट्रोजन स्तर से प्री-मेन्सट्रुअल सिंड्रोम और मासिक स्त्राव के समय होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है। इससे अनियमित मासिक चक्र भी नियमित हो जाता है। अध्ययनों से पता लगा है कि सहवास करने से आर्थराइटिस से पीडि़त महिलाओं को भी आराम मिलता है। इससे होने वाली अनुभूति से सिरदर्द और माइग्रेन तक दूर हो जाता है। इसलिए अगली बार सिरदर्द होने का बहाना बनाकर इससे बचने की कोशिश न करें। सर्दी-जुखाम भी इससे दूर हो जाता है।

सेक्स से शक्ति बढ़ती है: ऑर्गेज्म के दौरान ताजा खून सारे शरीर में फैल जाता है, यहां तक कि दिमाग में भी। इससे उस क्षेत्र में रक्त संचार बढ़ जाता है। सर्वेक्षणों से पता चला है कि इससे मस्तिष्क की कार्यक्षमता बढ़ने से वह ज्यादा कठिन काम कर सकता है। विभिन्न हार्मोन मानसिक शक्ति में बढ़ोतरी करते हैं।

सेक्स व्यायाम भी है: एक तरफ जहां व्यायाम करने से आपके सेक्स जीवन में सुधार आता है वहीं यह खुद एक प्रभावशाली व्यायाम है। सेक्स मांसपेशियों की टोनिंग करने में मदद करता है। तीस मिनट की सेक्स प्रक्रिया के दौरान एक आम व्यक्ति की करीब दो सौ कैलोरी खर्च होती हैं। यानी अगर आप प्रतिदिन इसे करते हैं तो हर दो हफ्ते बाद आपका आधा किलो वजन घट सकता है। अगर आप एक साल तक हफ्ते में तीन बार इसे करते हैं तो यह दो सौ किलोमीटर दौड़ने के बराबर होता है।

सेक्स हृदय रोग से बचाव: हृदय रोग विशेषज्ञ मानते हैं कि हफ्ते में तीन बार कम से कम बीस मिनट तक सेक्स क्रिया करने से हार्ट अटैक होने का खतरा कम हो जाता है। इससे हृदय गति में भी सुधार होता है। अपोलो अस्पताल की मनोवैज्ञानिक डॉ. एकता सोनी के अनुसार, 'जब मानसिक स्थिति ठीक रहती है तो व्यक्ति सकारात्मक दिशा में सोचता है। पति-पत्‍‌नी को जब यह महसूस होता है कि दोनों को एक-दूसरे की जरूरत है तो वे डिप्रेशन के शिकार नहीं होते। इससे निजी संबंध भी पुख्ता होते हैं।'

सैक्स फीलगुड का अहसास कराए : सेक्स  सामान्य तंदुरूस्ती को बढ़ाता है और आपके आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ा देता है। निरर्थक सेक्स प्यार भरे सेक्स  की तरह कारगर नहीं होता। अध्ययनों से पता चला है कि शादीशुदा या एक दूसरे के प्रति वफादार जोड़े बेहतर संतु‍ष्ट जीवन बिताते हैं। आपसी वफादारी और घनिष्ठता से आपको भावनात्मक सुरक्षा का अहसास होता है और आंतरिक खुशियां मिलती हैं। प्यार भरे इन क्षणों के दौरान आपको अपने साथी के लिए प्यार और महत्वपूर्ण होने का अहसास आपकी आत्म-प्रतिष्ठा को भी बढ़ा देता है।
सेक्स-एक रिश्ते मज़बूत बनाने वाला अनुभव : आपको प्यार करने वाले जोड़ीदार (पार्टनर) की निकटता और चरमसुख की ओर बढ़ने का आनंद दोनों मिलकर "प्यार के हॉर्मोन" ऑक्सीटोसिन का स्तर बढ़ा देते हैं जिससे आपसी सम्बन्ध और रिश्ते मज़बूत होते हैं। अच्छे  सेक्स से लम्बे समय के रिश्तों में महबूती आती हैं ।


Share:

हिन्‍दू विवाह



हिन्‍दू विवाह एक संस्‍कार हुआ करता था किन्‍तु भारत सरकार के द्वारा हिन्‍दू‍ विवाह अधिनियम, 1955 के अनुसार अब न यह संस्‍कार है और न ही संविदा। अपितु यह दोनो का समन्‍वय हो गया है। भारत सरकार के इस अधिनियम से निश्चित रूप से हिन्‍दू भावाओं को आधात पहुँचा है क्‍योकि यह हिन्‍दू धर्म की मूल भावानाओं का अतिक्रमण करता है तथा संविधान की मूल भावनाओं का उल्‍लंघन करता है।

हिन्‍दू विवाह जहॉ जन्‍मजन्‍मान्‍तर का संबध माना जाता था इसे एक खेल का रूप दे दिया गया है तथा हिन्‍दुओं की प्रचीन पद्धति को न्‍यायालय को मुहाने पर खड़ा कर दिया गया, जिसे परमात्‍मा भी भेद नही सकते थे। महाभारत में स्‍त्री पुरूष का अर्ध भाग है तथा पुरूष बिना स्‍त्री के पूर्णत: प्राप्‍त नही कर सकता है। धर्म के लिये पुरूष तथा उपयोगी होता है जबकि उसके साथ उसकी धर्म प‍त्‍नी साथ हो, अन्‍यथा पुरूष कितना भी शक्तिशाली क्‍यो न हो वह धर्मिक आयोजनों का पात्र नही हो सकता है। 

रामायण में भगवान राम भी सीता आभाव में धर्मिक आयोजन के योग्‍य नही हु‍ऐ थे। रामायण कहती है कि पत्नी को पति की आत्‍मा का स्‍वरूप माना गया है। पति अपनी पत्नि भरणपोषण कर्ता तथा रक्षक है।

हिन्दू विवाह एक ऐसा बंधन है जिसमें जो शरीर एकनिष्‍ठ हो जाते है, किन्‍तु वर्तमान कानून हिन्‍दू विवाह की ऐसी तैसी कर दिया है। हिन्‍दू विवाह को संस्‍कार से ज्‍यादा संविदात्‍मक रूप प्रदान कर दिया है जो हिन्‍दू विवाह के स्‍वरूप को नष्‍ट करता है। हिन्‍दू विवाह में कन्‍यादान पिता के रूप में दिया गया सर्वोच्‍च दान होता है इसके जैसा कोई अन्‍य दान नही है।

विवाह के पुश्‍चात एक युवक और एक युवती अपना वर्तमान अस्तित्‍व को छोड़कर नर और नारी को ग्रहण करते है। हिन्‍दू विवाह एक बंधन है न की अनुबंध, विवाह वह पारलौकिक गांठ है जो जीवन ही नही मृत्‍यु पर्यन्‍त ईश्‍वर भी नही मिटा सकता है किन्‍तु भारत के कुछ बुद्धि जीवियों ने हिन्‍दू विवाह की रेड़ मार कर रख दी है इसको जितना पतित कर सकते थे करने की कोशिश की है। भगवान मनु कहते है कि पति और पत्नि का मिलन जीवन का नही अपितु मृत्‍यु के पश्चात अन्‍य जन्‍मों में भी य सम्‍बन्‍ध बरकरार रहता है। हिन्‍दू विवाह पद्धिति में तलाक और Divorce शब्‍द का उल्‍लेख नही मिलता है जहॉं तक विवाह विच्‍छेन का सम्‍बन्‍ध है तो उसे शब्‍द संधि द्वारा बनाया गया। अत: हिन्‍दु विवाह अपने आप में कभी खत्‍म होने वाला सम्‍बन्‍ध नही है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार मानव जीवन को चार आश्रमों (ब्रम्हचर्य आश्रम, गृहस्थ आश्रम, सन्यास आश्रम तथा वानप्रस्थ आश्रम) में विभक्त किया गया है और गृहस्थ आश्रम के लिये पाणिग्रहण संस्कार अर्थात् विवाह नितांत आवश्यक है। हिंदू विवाह में शारीरिक संम्बंध केवल वंश वृद्धि के उद्देश्य से ही होता है।

वयस्‍कता प्राप्‍त करने पर,संतानों को मनमानी करने का फैसला निश्चित रूप से हिन्‍दू ही नही अपितु पूर भरतीय समाज के लिये गलत था। क्‍या मात्र 18 वर्ष की सीमा पार करने पर ही पिछले 18 वर्षो के संबध की तिलाजंली देने के लिये पर्याप्‍त है? है

1914 के गोपाल कृष्‍ण बनाम वैंकटसर में मद्रान उच्‍च न्‍यायाल ने हिन्‍दु विवाह को स्‍पष्‍ट करते हुये कहा कि हिन्‍दू विधि में विवाह को उन दस संस्‍कारों में एक प्रधान संस्‍कार माना गया है जो शरीर को उसके वंशानुगत दोषों से मुक्‍त करता है।

इस प्रकार हम देखेगें तो पायेगें कि हिन्‍दू विवाह का उद्देश्‍य न तो शारीरिक काम वासना को तृप्‍त करना है वरन धार्मिक उद्देश्‍यों की पूर्ति करना है। आज हिन्‍दू विवाह को कुछ अधिनियमों ने संविदात्मक रूप प्रदान कर दिया है तो हिन्‍दू विवाह के उद्देश्‍यों को छति पहुँचाता है।

अभी बातें खत्‍म नही हुई और बहुत कुछ लिखना और कहना बाकी है। समय मिलने पर इस संदर्भ में बाते रखूँगा।


Share: