कैसे होगा कल्‍याण का कल्‍याण



आज जिस प्रकार अमर सिंह, मुलायम का कल्‍याण करने में लगे है उसी का अनुकरण मुलायम कल्‍याण का कल्‍याण कर रहे है। अखिरकार सपा की राह का अनुकरण करते हुये, कल्‍याण अपनी राजनैतिक जीवन की सबसे बड़ी भूल कर डाली है। कल्‍याण ने उत्‍तर प्रदेश में तो राज किया ही था किन्‍तु उनका वास्‍तविक राज जनता की दिलो पर करना था वो हिन्‍दू जनता जिसने उन्‍हे एक मुद्दे पर बहुमत की सरकार दी।

आज कल्‍याण कह रहे है, कि बाबरी ढ़ॉचा गिरना उनके लिये शर्म की बात है, शर्म की यह बात है कि आज उन्‍हे यह बायान देते हुये चुल्‍लु भर पानी डुब मरना चाहिये था। कल्‍याण की फितरत गिरगिट से भी गिरी हुई है, वह भी रंग बदलता है अपने स्‍वाभाव के कारण, किन्‍तु कल्‍याण ने तो सारी हद ही पार कर डाली। कल्‍याण अपने सबसे बुरे दिनो से गुजर रहे है, देखना है कि मुलायम कितना कल्‍याण कर पाते है।


Share:

12 comments:

विशाल कुमार मिश्रा said...

कल्‍याण सिंह ने जो किया उनकी सात नस्‍ले उसे याद रखेगी, कम से कम उनका नाम स्‍वर्ण अक्षरों से लिखा जाना चाहिये था जो उन्‍होने गोबर से लीप दिया।

Anonymous said...

"klyan singh lodh" ne pahle kushum rai se sambandh banaye ab ve mulayam aur amar ke sath "Dostana" (GAY) riste nibha rahe hai. budhuti me to bivi bhi sath nahi hai. na mulayam ki na kalyan ki hi ;)

ज्ञानदत्त । GD Pandey said...

और कितने कल्याण बचे हैं भाजपा में?

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

कृपया आडवानी जी से कहलवाइए की अयोध्या विध्वंस गौरवान्वित करने योग्य कार्य था .

राज भाटिय़ा said...

नारायण नारायण ....

विनय said...

बहुत बढ़िया

संजय बेंगाणी said...

धृतराष्ट्र की तरह मति मारी गई है. बोले तो कल्याण के राम मर गए है (आत्मा मर गई है).

डॉ .अनुराग said...

सब राजनीति है भाई...

Arvind Mishra said...

कल्याण का कल्याण हो चुका ! राम और रहीम दोनों गये ! न खुदा ही मिला न विसाले सनम ना इधर के रहे ना उधर के रहे !

rs00033@gmail.com said...

ब्लॉग पर पधारे और इतनी
खूबसूरत टिपण्णी की .
दिल से बहुत-२ धन्यवाद्.

बवाल said...

कैसे होगा कल्याण का कल्याण ?
हो जाएगा भैया नहीं तो अपन तो करवा ही देंगे याने कि जनता। हा हा ।

चन्दन चौहान said...

मै भी आपका सर्मथन करता हू