पैमाने पर दोहरे मापदंड कितने सही ?



आज ठहलते-घूमते डाक्‍टर कविता वाचक्नवी के एक ब्‍लाग बालसभा पर पहुँचना हुआ। उनका एक लेख मेरे एक लेख को लेकर लिखा गया था। लेखो पर प्रतिक्रियात्‍मक लेख प्राप्‍त होना बहुत कम लोगो को नसीब होता है। मेरे पिछले लेख पिता बच्‍चे को मार दे तो यह भी मीडिया की खबर होती है मैने सम्‍पूर्ण बाते इकोनामिक्‍स टाईम्स से साभार लिया था। सिर्फ मैने इतना अपनने मन से लिखा था। नोट : इस पोस्‍ट को बाल हिंसा के सर्मथन के रूप में न देखा जाये, हमें न पता था कि पुत्र और पिता के रिश्‍तो में मीडिया भूमिका अहम हो जायेगी। जो भी इस पोस्‍ट को पढ़ रहा होगा, कभी न कभी वह अपने पिता-माता-भाई से मार न खाया हो। अगर खाया भी होगा तो शायद ही आज उस मार की किसी को खुन्‍नस होगी ?

मै मारपीट तथा हिंसा वृत्ति का सर्मथन नही कर रहा किन्‍तु एक यर्थात बात सामने रखना चाह रहा था। आज अगर उस लड़के की पी‍टाई हुई तो सिर्फ मीडिया के कारण। क्‍योकि उसने मीडिया के सम्‍मुख आने का मना कर रहा था। कविता जी के ब्‍लाग पर भी एक टिप्‍पणी पढ़ने को मिली वह भी मजेदार थी। यहॉं मजा लेना मेरा मकसद नही था। बात को हकीकत तक ले जाना था। आज देश में बच्‍चो के साथ क्‍या क्‍या हो रहा है उससे किसी को सरोकार नही होता, किन्‍तु वही अगर किसी सेलिब्रेटी के बच्‍चे या सेलिब्रि‍टी बच्‍चे की बात आती है तो पूरा मीडिया झूम उठता है। आखिर समान्‍य बच्‍चे की चिन्‍ता मीडिया को क्‍यो नही होती है ? क्‍योकि उससे मीडिया को पब्लिसिटी जो नही मिलती है। 

उस लेख से मेरा तात्‍पर्य यही था कि पिता-पुत्र का कोई रिस्‍ता दुश्‍मनी का नही होता जो तत्‍काल में मीडिया ने उस मामले में प्रस्‍तुत किया था। आज बाल श्रम की बात होती है तो फिल्‍मो और टेलीविजन पर काम करने वाले बच्‍चो पर यह क्‍यो लागू नही होता है? आखिर इन बच्‍चो को मीडिया को भी कमाना रहता है। बालिका बधू के हर एपिसोड की कहानी हर न्‍यूज चैलन पर प्रकाशित होती है और तो और उनके इंटरव्‍यूह का भी घंटो लाईव प्रसारण किया जाता है। क्‍या सिर्फ होटल और घर में काम करने वाले बच्‍चो के लिये ही बाल श्रम कानून है। मीडिया और व्‍यवहारिकता में इसकी दोहरी नीतियो का विश्‍लेषण होना चाहिये। भावुक होना ही नही जागृत होना भी जरूरी है।


Share:

3 comments:

डॉ .अनुराग said...

निसंदेह यहाँ मामला दूसरा है.वैसे भी भारत में बाल शोषण मामले में कानून ओर कानून का पालन करने वाले दोनों ढीले है ..यहाँ अभी भी कितने छोटू ढाबो या दुकानों पे अपनी जिंदगी घिसट रहे है

राज भाटिय़ा said...

मै किसी खामंखा की बहस मै नही पडना चाहता, कोकि मेरे पास इतना समय भी नही , ओर यहां मै दुशमनी करने या खुन्नश निकालने नही आता, आप के लेख के हिसाब से, ओर हालात देख कर लगा कि शायद उस बच्चे के पिता को गुस्सा आया ( किसी ही बात पर) ओर उस ने दो चार थपाड मार दिये, यह बिलकुल साधारण सी बात है, जो प्यार करेगा, वो गुस्सा भी करेगा, फ़िर वो उस लडके का बाप है, हम से ज्यादा उसे बच्चा प्यार है, अब अगर मैडिया वाले उस बच्चे को उकसायेगे, उस के बाप को दुनिया भर मे जलील करेगे, तो क्या बच्चे को दुसरा बाप ला देगे?, या फ़िर उस बच्चे को बाप का प्यार दे देगे?, अगर हा तो चाय की दुकानो पर कितने छोटू काम करते है, घरो मे कितने छोटू मशीन से भी ज्यादा काम करते है,शायद इन लोगो के घरो मे भी कोई ना कोई छोटू जरुर होगा....
धन्यवाद

रविकांत पाण्डेय said...

दंड द्वारा किसी का भला करना या सुधार करना मूलतः पाशविक प्रवृत्ति है। मार खाकर बच्चे सुधरते नहीं बल्कि उनकी उनकी इम्युनिटि और बढ़ती जाती है। काश कि सभी पिता यह समझ पाते।