एक मैच में सर्वाधिक ऐस, फिर भी न जीती रेस



विम्‍बलडन (Wimbledon) का महासमर आज से शुरू हो रहा है। नाडाल के हटने के बाद सबकी निगाहें अब विम्‍बलडन के सरताज रोजर फेडरर पर ही रहेगी। आज टेनिस (Tennis) के बारें में पढ़ रहा था तो एक बहुत ही रोचक तथ्‍य सामने आया मै पढ़ और देख दोनो श्रेणियों से दंग था। आज मै क्रोशिया के इवो कार्लोविक (Ivo Karlovic) के बारें में पढ़ रहा था। यह दुनिया का एक मात्र पहला खिलाड़ी है जिसने किसी मैंच में 50 से अधिक ऐश (Ace) लगाये है और यह कारनामा यह दो बार कर चुके है किन्‍तु र्दुभाग्‍य है कि दोनो ही मैचों में इस खिलाड़ी को हार का समाना करना पड़ा था।
 
इवो कार्लोविक ने 2009 के रोलैंड गर्रोस (Roland Garros) के कोर्ट पर पहले राउन्‍ड में आस्‍ट्रेलिया के लिटेन हेविट (Lleyton Hewitt) के खिलाफ 5 सेटों के मुकाबले में 55 ऐश जमाये थे जबकि पहली बार 2005 बिम्‍बल्‍डन के कोर्ट पर 51 ऐश लगा चुके है। इसे इत्‍फाक कहे गया दुर्भाग्‍य कि दोनो ही मैंचो में इस क्रोशियाई खिलाड़ी को पराजय का समाना करना पड़ा। इवो कार्लोविक एक जुझारू खिलाड़ी है जो कुछ ही दिन ही पूर्व रोजर फेडरर (Roger Federer) को हरा चुके है।

इवो कार्लोविक एक सामान्‍य सा खिलाड़ी कोई बड़ी उपलब्धि नही किन्‍तु किसी पूर्व नम्‍बर एक खिलाड़ी के विरूद्ध 54 ऐश वकई मेरी नज़र में तो एक बड़ी उपलब्धी तो है। वर्तमान विम्‍बडन में 22वीं वरीयता प्राप्‍त इवो कार्लोविक से काफी चमत्‍कार की आशा की जा सकती है, अगर फिर से 50 से ज्‍यादा ऐश एक ही मैच में देखने को मिले तो वकाई एक अनोखा मैंच होगा।


Share:

3 comments:

venus kesari said...

54 ऐश वकई मेरी नज़र में तो एक बड़ी उपलब्धी तो है।
प्रमेन्द्र भाई ये ऐश क्या होता है ?

वीनस केसरी

Udan Tashtari said...

तुम्हारे बहाने कुछ टेनिस जान जाते हैं.

पन्चायती said...

Good , keep it up.