नववर्ष के प्रथम शाम - एक यादगार वार्तालाप



सर्वप्रथम लोचको तथा आलोचको को नववर्ष की बहुत बहुत बधाई व शुभकामनाऍं, नवरात्रि के प्रथम दिन की संध्‍या पर नीशू तिवारी का फोन आया। बड़ी गर्म जोशी के साथ जयरमी हुई बधाईयों को आदान प्रदान हुआ और चर्चाओ और परिचर्चाओ को दौर भी शुरू हुई। हमारे और नीशू के बीच अत्‍यधिक आत्‍मीय सम्‍बन्ध होने के कारण्‍ा हम सभी विषयों पर खुल कर चर्चा करने है। यह जरूर खेद जनक रहा कि वर्ष 2010 की जुलाई मे मेरे दिल्‍ली मे रहने पर वह व मिथलेश जी दिल्‍ली मे मिलने नही आये और उस समय न मिल पाने का कारण मुझे दिसम्‍बर 2010 मे मिथलेश जी के साथ लखनऊ मे उनके आवास पर ठहरने पर पता चला, कारण मुझे जैसे पता चला वैसे ही मिथलेश जी जितनी फजीहत किया वो मिथलेश जी ही बता सकते है। फिर नीशू जी की बात आई उनका उनका फोन काफी समय से नही मिल रहा था और मैने मिथलेश जी से कहा कि नीशू जी से जैसे भी हो सूचित करे कि मेरे से बात हो, नीशू जी का 5-6 घन्‍टे के अंदर फोन आ गया। बात करते हुये पता चला कि एक दो दिन मे इलाहाबाद मे आ रहे है तो दिल्‍ली मे न मिलने के कारण पर इलाहाबाद मे ही चर्चा होगी, जब इलाहाबाद आये नीशू तो जब दिल्‍ली का जिक्र मैने किया तो वो भी मुँह बना कर रह गये और और मैने कहा कि अब कोई भी बात कभी होगी आप मेरे से जिक्र जरूर करोगे।

इसी तर्ज पर नीशू जी न कहा प्रमेन्‍द्र भाई मै चाह रहा हूँ कि आप दो तीन महीने के अंदर जबलपुर घूम जाइये मिलने का बड़ा मन कर रहा है और मैने और तारा जी ने मुम्‍बई जाने का प्‍लान बनाया है, हाल मे ही जबलपुर से मुम्‍बई के लिये हवाई सेवा भी प्रारम्‍भ हुई है। मैने बीच मे ही बात काटते हुये कहा कि भाई दिसम्‍बर मे लखनऊ से लौटा हूँ, जनवरी मे ही आवाश्‍यक काम से के लिये आगरा जाने के लिये घर मे अनुमति लेनी है और फरवरी मे फिर से ही अन्‍य आवाश्‍यक काम से मुरैना जाने के लिये लेनी होगी। और अब आप भी प्रवास के लिये कह रहे हो यदि ऐसा ही चलता रहा तो हमारे लिये स्‍थाई आवास की व्यवस्‍था आपको करनी पड़ेगी और रही वायुयान की यात्रा का प्रश्‍न तो मुझे ऐसा लगता है कि जिस दिन मै यात्रा करूँगा और वो उड़ेगा तो.......... इस बात से ही मै सहम जा रहा हूँ। नीशू जी ने कहा प्रमेन्‍द्र भाई ऐसा कुछ नही होगा, आप कार्यक्रम तो बनाइये।

अभी अभी प्रात: नवभारत पर एक खबर (स्‍क्रीन शॉट) देखा तो इसके बाद क्‍या कहा जाये - :)



Share:

3 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

और कहीं कुछ भी हो, आपको शुभकामनायें।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

क्या आगाज़ है..

shalini kaushik said...

happy new year-2011..sath hi lekh achcha laga.ek shayar ke shabd likh rahi hoon dhyan den aur derna chhoden-
maut ka ek din muayyan hai,
neend kyon rat bhar nahi aati...
abhi gulab vatika me ek parivar rat ko sota rah gaya aur seema par baithe jawan apni service poori kar ghar bhi lautte hain isliye darna chhod kar yatra karen..