हनुमान जयंती पर विशेष : राम काज करिबे को आतुर



हनुमान जयंती पर विशेष : राम काज करिबे को आतुर
एक बार भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्र तीनों भाइयों ने माता सीता जी से मिलकर विचार किया कि हनुमान जी हमें राम जी की सेवा करने का मौका ही नहीं देते, पूरी सेवा अकेले ही किया करते हैं। अतः अब रामजी की सेवा का पूरा काम हम ही करेगें, हनुमान जी के लिये कोई भी काम नहीं छोड़ेंगे। ऐसा विचार करके उन्होंने सेवा का पूरा काम आपस में बाँट लिया। जब हनुमान जी सेवा के लिये सामने आये, तब उनको रोक दिया और कहा कि आज से प्रभु की सेवा बाँट दी गयी है, आपके लिये कोई सेवा नहीं है। हनुमान जी ने देखा कि भगवान को जम्हाई आने पर चुटकी बजाने की सेवा किसीने भी नहीं ली है। अतः उन्होनें यही सेवा अपने हाथ में ले ली। यह सेवा किसी के ख्याल में नहीं आयी थी। हनुमान जी में प्रभु की सेवा करने की लगन थी। जिसमें लगन होती है, उसको कोई न कोई सेवा मिल ही जाती है। अब हनुमान जी दिन भर राम जी के सामने ही बैठे रहे और उनके मुख की तरफ देखते रहे क्योंकि रामजीको कब जम्हाई आ जाय जब रात हुई तब भी हनुमान जी उसी तरह बैठे रहे। भरत आदि सभी भाइयों ने हनुमान जी से कहा कि रात में आप यहाँ नहीं बैठ सकते, अब आप चले जायॅं। हनुमान जी बोले कैसे चला जाउॅं, रात को न जाने कब राम जी को जम्हाई आ जाय! जब बहुत आग्रह किया, तब हनुमान जी वहाँ से चले गये और छत पर जाकर बैठ गये। वहाँ बैठकर उन्होंने लगातार चुटकी बजाना शुरू का दिया, क्योंकि रामजी को न जाने कब जम्हाई आ जाय! यहाँ रामजी को ऐसी जम्हाई आयी कि उनका मुख खुला ही रह गया, बन्द हुआ ही नहीं! यह देखकर सीता जी बड़ी व्याकुल हो गयीं कि न जाने रामजी को क्या हो गया है! भरत आदि सभी भाई आ गये। वैद्यों को बुलाया गया तो वे भी कुछ कर ही नहीं सके। वशिष्ठ जी आये तो उनको आश्चर्य हुआ कि ऐसी चिन्ताजनक स्थिति में हनुमान जी दिखायी नहीं दे रहे है। और सब तो यहाँ है और हनुमान जी कहाँ है। खोज करने पर हनुमान जी छत पर बैठे चुटकी बजाते हुए मिले। उनको बुलाया गया और वे राम जी के पास आये तो चुटकी बजाना बन्द करते ही राम जी का मुख स्वाभाविक स्थिति में आ गया! अब सबकी समझ में आया कि यह सब लीला हनुमान जी के चुटकी बजाने के कारण ही थी। भगवान ने यह लीला इसलिये की थी कि जैसे भूखे को अन्न देना ही चाहिये, ऐसे ही सेवा के लिये आतुर हनुमान जी को सेवा का अवसर देना चाहिये, बन्द नहीं करना चाहिये। फिर भरत आदि भाइयों ने ऐसा आग्रह नहीं रखा।


Share:

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

समर्पण के स्रोतबिन्दु को शत शत नमन..