सफलता की सीढ़ी है- दृढ़ संकल्प



एक कक्षा में ऐसा विद्यार्थी था, जो मासिक परीक्षा में मुश्किल से उत्तीर्ण होता था। वार्षिक परीक्षा में जब उसे सर्वप्रथम स्थान मिला, तब लोग आश्चर्य चकित रह गए कि इतना अयोग्य विद्यार्थी प्रथम कैसे आया? जरूर इसने नकल की होगी।
इस प्रकरण की छान-बीन करने के लिए कालेज ने एक जांच समिति नियुक्त की। समिति द्वारा उस विद्यार्थी की मौखिक परीक्षा में भी उसने बहुत अच्छे अंक प्राप्त किए थे।अब पूरे कालेज में उसकी ही चर्चा थी। एक मित्र के पूछने पर अपनी गौरवपूर्ण सफलता का रहस्य बताते हुए उस विद्यार्थी ने कहा- ‘‘मैंने संकल्प कर लिया था कि मैं वार्षिक परीक्षा में अवश्य सर्वप्रथम स्थान प्राप्त करूंगा।मैंने जी लगाकर मेहनत की, कठिनाईयों से निराश नहीं हुआ और मनोयोग पूर्वक अपने अध्ययन में जुटा रहा। मेरी सफलता मेरे दृढ़ संकल्प का ही परिणाम है।’’
वास्तव में सच्चाई यही है निरन्तर प्रयत्न और परिश्रम जिनका मूल मंत्र होता है, उनके लिए कुछ भी असंभव नहीं होता, यदि हम जीवन में अपना लक्ष्य प्राप्त करना चाहते है, अपनी मंजिल पाना चाहते हैं तो संकल्पशील होना आवश्यक है।


Share: