कुछ बात मुसलमानों के प्रति



मुस्लिम कत्तई बुरे नहीं है.. मेरे भी कुछ अच्छे दोस्त है.. कही न कही कोई कमी रही उसे हमें विचार करना चाहिए.. मगर के प्रश्न ये की मुस्लिमो के अन्दर इतना ही प्यार था तो भारत विभाजन की नीव क्यों रखी गयी... ? 
मुस्लिम इतने ही प्रेमी जीव है तो भारत, पाकिस्तान और बाग्लादेश में सामान अनुपात में हिन्दू और मुस्लिम रहते थे, आज ये अनुपात पाकिस्तान और बाग्लादेश में क्यों नहीं बचा रहा जहाँ मुस्लिम बहुसंख्यक है? 
रेल को रफ़्तार में चलने के लिए दोनों पटरी को मजबूत होना जरूरी है और यही भारत में है जो मुस्लिम फल-फूल रहे है वरन ये जीव प्रेमी कौम जिस देश में बहुत संख्यक हुई है वहां इसने अल्पसंख्को का भक्षण किया है.. 
http://fellowshipofminds.files.wordpress.com/2011/12/peaceful_islam.jpg
इसका मूल कारण है मदरसे की शिक्षा जहाँ यही पढाया जाता है कि इसे मारो तो ख़ुदा जन्नत देगा, जन्नत में मजे के लिए 72 हूर मिलेगी, और भारत के नेता वोट के लिए 72 हूरो के पास जाने वाले पढाई पर रोक लगा ही नहीं सकते वास्तव में दक्षिण एशिया के मुस्लिम दोयम दर्जे के मुस्लिम है जो आज तक दकियानूसी में जी रहे है.. 
वास्तव में जिन्ह मुस्लिमो में उच्च शिक्षा पायी है वो देशहित की भावना के साथ रह रहे है, मेरे फेसबुक अकाउंट और मेरे रियल लाइफ में ऐसे उच्च विचारो वाले मुस्लिम है, मुझे उनका मित्र होने का गर्व भी है.. जो एक सच्चे मुस्लिम होने के साथ साथ सच्चे भारतीय भी है..


Share:

No comments: