टोपी वालो आतंक मचाओ सपा आपके साथ है..



साबरमती एक्सप्रेस की बोगी नंबर एस 6 को लगभग 1500 शांतिप्रिय समुदाय के लोगो ने घेर पर उसमें आग लगा दी. इस अग्निकांड में 60 से ज्यादा लोगों की मौत हुई, जिसमें अधिकांश महिलाएं और बच्चे थे. कोच को आग के हवाले करने वाले लोग इस बात से अच्छी तरह वाकिफ थे कि कोच एस 6 में कारसेवक और उनके परिवार वाले यात्रा कर रहे है. कोई हिंदू यात्री बोगी से बाहर ना निकल पाए इसीलिए योजना के अनुसार उन पर पत्थर भी बरसाए जाने लगे. इसीलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि इस घटना को एक सोची-समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया. गुजरात पुलिस ने भी अपनी जांच में ट्रेन जलाने की इस वारदात को आईएसआई की साजिश ही करार दिया था, जिसका मकसद हिन्दू कारसेवकों की हत्या कर राज्य में साम्प्रदायिक तनाव पैदा करना था.
हिन्दू कारसेवकों की हत्या कर राज्य में साम्प्रदायिक

हर क्रिया की प्रतिक्रिया होती ही है. गुजरात के कई शहरों में भड़के साम्प्रादायिक दंगे गोधरा की प्रतिक्रिया के रूप में सामने आए. इन दंगों का कारण कुछ और नहीं बल्कि साबरमती एक्सप्रेस में जिंदा जलाए गए कारसेवकों की मौत का बदला लेना था. विदेशी चरित्र वाली मीडिया तथा वोट की राजनीति करने वालों ने गोधरा कांड की प्रतिक्रिया के रूप में उभरे गुजरात दंगों के बाद हिंदुओं को पूरे विश्व में दंगाइयों के रूप में प्रस्तुत कर दिया. और उस पर तुर्रा ये कि दंगों की बात करते समय कहीं भी ये नहीं कहा गया कि इसके पीछे गोधरा का भीषण नरसंहार जिम्मेदार था.
साबरमती एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे निर्दोष और मासूम कारसेवक व उनके परिवार जिसमें छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल थे, को निर्मम तरीके से आग के हवाले करने वाले दंगाई मुसलमान ही थे. गोधरा नरसंहार पर किसी मिडिया या किसी राजनैतिक पार्टी ने मुस्लिमो पर निशाना नहीं साधा, लेकिन जब गोधरा नरसंहार की प्रतिक्रिया हुई तो मिडिया और सेक्युलर पार्टियों द्वारा प्रचारित किया गया कि गुजरात में हिंदुओं ने मुसलमान आबादी को अपना निशाना बनाया तो वैश्विक स्तर पर हिंदू धर्म के लोगों को एक कट्टर और क्रूर धर्म के रूप में प्रचारित किया गया.
टोपी वालो आतंक मचाओ सपा आपके साथ है..
पहले कहा जाता था कि आतकवाद का कोई धर्म नहीं होता और आज मुज्जफरनगर दंगो के के बाद कहा जा रहा है कि दंगो का कोई धर्म नहीं होता है, ये बाते वही लोग कह रहे है जो भगवा आतकवाद की बात करते है और गुजरात दंगो को हिंदु दंगा कहा गया था, आखिर आज पैमाने क्यों बदल रहे है क्योकि आज उत्तर प्रदेश में टोपी वालो की सरकार है? पंथ/धर्म निर्पेक्षता यह कहती है सभी वर्गों के लिए सामान व्यवहार हो किन्तु वोट की राजनीति सारे आकडे और पैमाने बदल रही है.
आज गोधरा पर बात करने की जरूरत मुझे आज इसलिए पड़ी क्योकि आज समय है की इन छद्म वोट लोभियों उनकी करतूतों का बात जनता के बीच ले जाया जा सके. क्योकि गृह मंत्रालय की रिपोर्ट कहती है कि अखिलेश सरकार के गठन के बाद सांप्रदायिक दंगो/झडपो का शतक लग चुका है और मुज्जफरनगर में चल रहे दंगो में सैकड़ो लोग जान-माल से हाथ धो चुके है. किन्तु आज न तो मिडिया और न ही सेक्युलर रुदालियो के आखो में आंसू है क्योकि ये दंगा शांतिप्रिय लोगो के नेतृत्व में सपा सरकार द्वारा प्रायोजित है. हज की रवानगी के साथ अखिलेश यादव की टोपी यही सन्देश देती है कि टोपी वालो आतंक मचाओ सपा आपके साथ है..


Share:

No comments: