पेट्रोल की कीमतें एकदम से कम क्यों न किया जाए !



पेट्रोल की कीमतें एकदम से कम क्यों न किया जाए !
मेरे एक मित्र ने प्रश्न किया कि 145 डालर प्रति बैरल तो पेट्रोल 71 रु लीटर अब 45 डालर प्रति बैरल तो पेट्रोल 61 रु क्यों भाई ??? मेरे भी मन में यह बात आई कि इस कीमत पर पेट्रोल की कीमत यह होनी चाहिए.
डीमांड और सप्लाई पर कीमत निर्धारित होती है, आज की डेट में पेट्रोल की कीमत कम क्यों हुई यह देखने की जरूरत है, विश्व के सबसे बड़े तेल आयातक देश अमेरिका ने तेल आयात करना बंद कर दिया है.. क्योकि उसने बालू और पत्थर से तेल निकलने की तकनीकी विकसित की है.. जिसमे उसे 60 से 70 डालर प्रति बैरल तेल पड़ रहा है.. जब अमेरिका को इस तकनीक से 115 की अपेक्षा 60 से 70 डालर प्रति बैरल तेल मिल रहा है तो वह ओपेक देशो से क्यों तेल आयात करेंगा.. मगर ज्यादा दिन तक तेल की कीमत 50 डालर प्रति बैरल रही तो अमेरका को अपने निर्णय पर विचार कर तेल फिर से आयात करने के विषय पर सोचना होगा क्योकि खुद की तकनीकी से तेल उसे 20 डालर प्रति बैरल तक महगा पड़ रहा है.
ओपेक की नीतियों के हिसाब से अभी निर्धरित उत्पादन कम नहीं किया जा सकता और ईरान और सऊदी अरब के अपने कारण है जो तेल का उत्पादन कम नही हो रहा है और कीमते गिर रही है. अगर भारत में भी कीमते एका एक गिरेगी तो खपत आत्याधिक होगी और अत्यधिक आयत भी करना पड़ेगा और जब आयत बढेगा तो निश्चित रूप से तेल की कीमते अपने आप बढ़ेगी.. तेल की कीमते गिरनी चहिये पर नीतियों के हिसाब से दीर्घ कालिक सोच के साथ हमें चलना होगा.
अगर आज भारत में तेल की कीमते कम होगी तो महगाई कम नहीं होने वाली, किन्तु वैश्विक नीतियों के यदि फिर से पेट्रोल व डीजल की कीमते बढ़ी तो महगाई का स्तर फिर से काफी बढेगा जिसका बोझ सिर्फ आम जनता पर ही पड़ेगा जैसा कि सामान्य उदाहरण के तौर पर इलाहबाद में ऑटोरिक्शा का किराया तेल की कीमतों के बढ़ने पर दूरी के हिसाब से 1 से 5 रूपये की वृद्धि हुई किन्तु तेल की कीमते 10 रूपये कम होने पर किराया बिल्कुल भी कम नहीं हुआ. इसी प्रकार दाम कम होने पर किराये में कोई कमी नहीं आएगी अपितु कभी कीमत बढ़ी तो किराये जरूर बढ़ेगे और इससे महगाई भी..


Share:

No comments: