शिक्षाप्रद बाल कहानी - बीरबल की खिचड़ी



एक बार  शहंशाह  अकबर  ने  घोषणा  की कि यदि कोई व्यक्ति सर्दी के मौसम में नर्मदा नदी के ठंडे पानी में घुटनों तक डूबा रहकर सारी  रात  गुज़ार  देगा  उसे  भारी  भरकम उपहारों से पुरस्कृत किया जाएगा।

एक गरीब धोबी ने अपनी गरीबी दूर करने के लिए सारी रात नदी में घुटने तक के पानी में खड़े रहकर ठिठुरते बिताई और जहाँपनाह से अपना ईनाम लेने पहुँचा।

बादशाह अकबर ने उससे पूछा, तुमने नदी में खड़े-खड़े ही कैसे सारी रात बिना सोए बिताई? तुम्हारे पास क्या सबूत है?

धोबी ने उत्तर दिया, जहाँपनाह, नदी के छोर से महल का एक कमरा नज़र आता है। मैं सारी महल के कमरे  में  जल  रहे  दीपक  को  देखता  रहा  और  इस  तरह  जागते  हुए  सारी  रात  नदी  के  शीतल  जल  में गुज़ारी।

तो, इसका मतलब यह हुआ कि तुम महल के दीये की गर्मी लेकर सारी रात पानी में खड़े रहे और ईनाम चाहते हो। सिपाहियों इसे जेल में बन्द कर दो-बादशाह ने क्रोधित होकर कहा।

बीरबल भी दरबार में था। उसे यह देख बुरा लगा कि बादशाह नाहक ही उस गरीब पर ज़ुल्म कर रहे हैं। बीरबल दूसरे दिन दरबार में हाजि़र नहीं हुए, जबिक उस दिन दरबार की एक आवश्यक बैठक थी। बादशाह ने एक खादिम को बीरबल को बुलाने भेजा। खादिम ने लौटकर जवाब दिया, बीरबल खिचड़ी पका रहे हैं और वह खिचड़ी पकते ही उसे खाकर आएँगे।

जब बीरबल बहुत देर बाद भी नहीं आए तो बादशाह को कुछ सन्देह हुआ। वे खुद तफ्तीश करने पहुँचे। बादशाह ने देखा कि एक बहुत लंबे से डंडे पर एक घड़ा बाँधकर उसे बहुत ऊँचा लटका दिया गया है और नीचे ज़रा-सी आग जल रही है। पास में बीरबल आराम से पेड़ की छाँव में लेटे हुए हैं।

बादशाह ने तमककर पूछा, यह क्या तमाशा है? क्या ऐसी भी खिचड़ी पकती है?

बीरबल ने कहा - माफ करें, जहाँपनाह, ज़रूर पकेगी। वैसी ही पकेगी जैसी की धोबी को महल के दीये की गरमी मिली थी।


बादशाह को बात समझ में आ गई। उन्होंने बीरबल को गले लगाया और धोबी को रिहा करने और उसे ईनाम देने का हुक्म दिया।

अन्य शिक्षाप्रद कहानियां 


Share:

No comments: