चोरी का माल



नेट पर घूमते घूमते एक लतीफा मिल गया, और कहावत भी है राम-राम जपना पराया माल अपना के तहत अपना बना के पेश कर रहा हूँ यदि इस लतीफें का कोई दावेदार हो तो टिप्‍पणी के माध्यम से आपत्ति और अपना नाम दर्ज करें- :) 
 
एक डॉक्टर के क्लिनिक के बाहर मरीजों की भीड लगी थी. जब कोइ आदमी आगे जाता, उसे लोग पकड के पीछे खींच लेते. एक आदमी कई बार आगे जाने की कोशिश किया पर उसे भी लोगों ने पीछे खींच लिया. 5-6 बार पीछे खींचे जाने के बाद वो आदमी चिल्लाया, सालों...लगे रहो लाईन में.....मै भी आज क्लिनिक नहीं खोलुंगा.........


Share:

7 comments:

अरुण said...

भाइ १४ को जरुर खोलना फ़ुरसतिया जी विदेशी ग्राहक लेकर आयेगे

mamta said...

मजा आया ।

sunita (shanoo) said...

हाँ ये मेरा हैं...लेकिन कोई बात नही आपने सुना दिया ना आपको दिया,अब सम्भाल कर रखियेगा...

हा हा हा वैसे अच्छा लगा...:)

सुनीता(शानू)

Udan Tashtari said...

बहुत नटखट चुटकुला सुनाते हो पढ़ाई के समय!! हा हा!! :)

mahashakti said...

आप सभी का धन्‍यवाद


सुनीता बहन आपका खास तौर पर धन्‍यवाद, कुछ और हो तो बताइयेगा चुराने में मजा आयेगा।

राजीव रंजन प्रसाद said...

:)

संजय बेंगाणी said...

चुटकुला और उससे भी ज्यादा बच्चे की नटखट हँसी पसन्द आयी.