छडि़काऐं



(1)
न तुम पास आती हो,
जाने क्‍यूँ घबराती हो।
वफा करते है तुमसे,
नफा पाने के ख‍ातिर। 
..................................
(2)
जानम तेरी प्‍यार में,
हम पागल हो गयें।
घर मे जब मार पड़ी
तो हम घायल हो गये।
...................................
(3)
खूसट सा चेहरा तेरा,
गिल्‍ली सी मुँस्‍कान है।
रंग तेरा देखा कर,
अंधा भी हैरान है।
...............................
(4)
पानी सी जिन्‍दगी,
रवानी सी जिन्‍दगी।
ठोकरों के पल्‍लवन से,
बढ़ती है बंदगी।
..........................
(5)
कह-कसाने वो लगा,
और मेरी जिंदगी।
रास्ते मेरे खोये हुऐ,
मंजिलों को ढ़ँडते।
..................................
(6)
तेरे गीतों में न राग है,
न तेरे बोलों में साज है।
प्रिये अब तुम मत बोलो,
तेरी कर्कस आवाज है।
......................................... 
रचनाकार------- प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह, तारा चन्‍द्र गुप्‍त, राजकुमार


Share:

3 comments:

संजय तिवारी said...

यह अंधे ने चेहरा देखा कैसे?

Udan Tashtari said...

तेरे गीतों में न राग है,
न तेरे बोलों में साज है।
प्रिये अब तुम मत बोलो,
तेरी कर्कस आवाज है।


--मुस्कराये. :) ये वाली इस संयुक्त प्रयास में किसने लिखी है?

Sagar Chand Nahar said...

शीर्षक सुधार लें छड़िकाएं नहीं क्षणिकायें सही शब्द होना चाहिये।
वैसे आप अक्सर ण को ड़ लिखते हैं, जैसे टिप्प्णी को टिप्पड़ी!