चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जायें हम दोनों



महेन्‍द्र कपूर जी की आवाज में जादू है। पता नही क्‍यो जब मै उनके गीत सुना हूँ तो भाव विभोर हो जाता हूँ। अब यह ही एक गीत लीजिऐ जिसमे उनकी दिलकश आवाज न जाने क्‍यो इस गीत को बार बार सुनने को मजबूर करती है। वैसे इस गीत के गीतकार श्री शाहिर लुधियानवी की भी तारीफ करनी होगी कि इन्‍होने बेहतरीन शब्‍दों के जाल से बुना है इसे -
चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जाएं हम दोनो
चलो इक बार फिर से ...
न मैं तुमसे कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो गलत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाये मेरी बातों से
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कश्म-कश का राज़ नज़रों से
चलो इक बार फिर से ...
तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेशकदमी से
मुझे भी लोग कहते हैं कि ये जलवे पराए हैं
मेरे हमराह भी रुसवाइयां हैं मेरे माझी की - २
तुम्हारे साथ भी गुज़री हुई रातों के साये हैं
चलो इक बार फिर से ...
तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन - २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा
चलो इक बार फिर से ...
इस गीत को जिनता अच्‍छा लुधियानवी जी ने बुना है, तो रवि जी ने संगीत से सजाया है और महेन्‍द्र जी ने अपने आवाज से इस गीत को जिन्‍दा किया है। इस गीत की सभी पक्तियॉं मुझे बहुत अच्‍छी लगी पर
तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन - २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा
को मुझे बहुत पंसद आई आप इस गाने को यहॉं पर से डाउनलोड कर सकते है। सुनकर बताइये कैसा लगा यह गीत।


Share:

3 comments:

राज यादव said...

अरे पर्मेंदर भैया ,कहा खो गए थे आप , सबसे पहले जय राम जी कि ...और इलाहबाद का कैसा मौसम है ...इलाहबाद कि बहुत याद आती है ,वो युनिवर्सिटी गेट के सामने वाली चाट के दुकान कि तो बहुत ही जयादा .इस बार तो बहुत धान्शु पोस्ट ले के आये हो ..मस्त लिखा है .....हमसे कौनो नाराज़गी है क्या ,जो आप हमारे ब्लोग पे नही आ रहे हो ,शायद मैं अच्छा नही लिख रह हूँगा ,अच्छा अब चलते है जय राम जी कि .
जल्दी ही आपके ब्लोग पे फिर आना होगा.

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा!!

न मैं तुमसे कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो गलत अंदाज़ नज़रों से


बढ़िया खोये!!

deepanjali said...

आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा.
ऎसेही लिखेते रहिये.
क्यों न आप अपना ब्लोग ब्लोगअड्डा में शामिल कर के अपने विचार ऒंर लोगों तक पहुंचाते.
जो हमे अच्छा लगे.
वो सबको पता चले.
ऎसा छोटासा प्रयास है.
हमारे इस प्रयास में.
आप भी शामिल हो जाइयॆ.
एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.