महाशक्ति, ऐडसेंस और 163.83 डालर



अगरस्‍त 2007 में श्री रामचन्‍द्र मिश्र जी से मिलना हुआ था तो उन्‍होने मुझे बताया था कि उनके अब तक 70 से 75 डालर हो गये है। फिर उनके ही ब्‍लाग पर सू‍चना मिली की उनके 100 डालर अक्‍टूबर 2007 में पूरे हो गये थे और करीब 111 डालर का पहला चेक उन्‍हे प्राप्‍त हुआ था। इस बार होली पर श्री रामचन्‍द्र भाई साहब से पुन: मिलना हुआ तो जानकारी प्राप्‍त हुई कि उनके इसी माह पुन: शतक लगाने वालें है (सम्‍भवत: अब तक लग भी गया हो)

इस बाबत जब मै पहली बार राम चन्‍द्र भाई साहब से अगरस्‍त 2007 में पहली बार मिला था, तो उन्‍हे तो मैने उन्‍हे पहली बार बताया था कि नवम्‍बर 2006 से अगस्‍त 2007 तक 35 डालर जुटे है। उनसे फिर मुलाकात हुई और उन्‍होने अपनी प्रति बताई और मेरी प्रगति के बारे में पूछा। मैने उन्‍हे बताया कि मुझे फरवरी 2007 के पहले हफ्ते तक लगभग 86 डालर जुड चुकें है, और उसके बाद कि स्थिति मुझे ज्ञात नही है क्‍योकि यह एडसेंस एकाउन्‍ट में खाते से संचालित नही होता है यह मेरे बड़े भइया के खाते से चलता है, मेरा पहला खाता किन्‍्ही कारणों से बंद हो चुका है :)

रात्रि करीब 10.15 तक मै उनके घर से वापस आया और भइया से एडसेंस खाते के बारे में जानना चाहा। उन्‍होने कहा कि रात्रि काफी हो गई है कल देख लेना। पर मै कहाँ मानने वाला था और कम्‍प्‍युटर चालू कर दिया। भइया का खाता खुलते ही हमें गूगल की तरफ से होली का तौहफा मिल गया मै 86 डालर से सीधे 145 डालर पर पहुँच गया था। निश्चित रूप से होली पर इससे बड़ा उपहार क्‍या हो सकता था?

महीना खत्‍म होने के साथ-साथ (अभी 2 दिन बाकी है) 164 के आस पास पहुँच गया हूँ, सम्‍भव है कि अगले दो दिनों में 170 डालर तक पहुँच सकता है। किन्‍तु अभी तक यह कागजी खाना पूर्ति है क्‍योकि रामचन्‍द्र भाई साहब से पता चला कि 50 डालर के बाद अभी कोई पिन आना है वह अभी तक नही आया है। खैर देस सबेर आ जायेगा। :)

अभी इतना ही शेष फिर......


Share:

12 comments:

lovely kumari said...

kosish jari rkhiye,jldi hi bdotri hogi.




lovelykumari.wordpress.com

डॉ. राम चन्द्र मिश्र said...

बधाई हो! जल्दी से डॉलर मंगाओ और मिठाई खिलओ :)

संजय तिवारी said...

वैसे ब्लागर एक दूसरे के एडसैंस पर क्लिक करने का सेंस विकसति कर लें तो बहुतों का नेट खर्च निकल आएगा.

अच्छा है. बहुत अच्छा है. बहुत ही अच्छा है.

संजय बेंगाणी said...

आप द्वारा स्क्रीन शोट दिखाना व संजय तिवारीजी द्वारा जो टिप्पणी दी गई है दोनो ही नीति विरूद्ध है.

कमाई मुबारक हो....खुब कमाएं.

Sanjeet Tripathi said...

लख लख वधाइयां जी!!

mamta said...

बधाई हो।

Suresh Chiplunkar said...

पार्टी के लिये कब आऊँ? सूखी और गीली पार्टी अलग-अलग चाहिये :)

mahashakti said...

संजय भाई,
पूर्व के भाइयों द्वारा जिस प्रकार के प्रर्दशन किया गया वैसे मैने भी किया। क्‍योकि पहली बार रवि रतलामी जी ने अमित अग्रवाल के एक दिन में 1000 डालर की कमाई का प्रदर्शन किया था। और कुछ दिन पूर्व राम चन्‍्द्र भाई साहब ने। इसी का अनुकरण मैने भी किया। जो बातें मुझे छिपानी जरूरी लगी मैने छिपा दिया था।

वैसे मै चित्र हटा देता हँ,

संजय तिवारी जी कि टिप्‍पणी निश्चित रूप से ठीक नही है। क्‍योकि धोखें से बिजनेस नही खड़ा हो सकता है। एक दूसरे के कह कर क्लिक धोखा ही होता है।

mahashakti said...

आप सभी का आभार

Udan Tashtari said...

बहुत बहुत बधाई हो...मिठाई तो हम अब खायेंगे ही.

राज भाटिय़ा said...

बधाईयां,जी जब पार्टी करो तो मुझे भी बुला लेना,राम जी की माया हे

prithviraj bhoite said...

there r three enemies of our nation...
1)muslims
2)communists
3)most importantly...Hindus who bear shmeless activities of these basterds