कितना जरूरी है न्‍यायपालिका पर प्रहार ?



आज कल न्यायालय पर कई प्रकारों के आरोप लगाये जा रहे है कि न्यायपालिका गऊ नहीं है, न्यायपालिका दूध की धुली नहीं है। निश्चित रूप से यह प्रश्न उठाये जाने जायज है किन्तु आज हमारा संविधान हमें इस बात की अनुमति नहीं देता है कि हम इस प्रकार के प्रश्न न्यायपालिका से कर सके।

हाल के दिनों में देखा जाता है कि कितने सार्थक तथ्यों को वकीलों द्वारा रखने के पश्चात भी माननीय लोग अपने आतार्किक फैसलों से कई जिन्दगी को तार-तार कर देते है। यहीं तक कि कुछ माननीय अधिवक्ताओं की बात सुनने को ही तैयार नहीं होते है। निश्चित रूप से यह व्यवस्था को बदलना होगा कि सही तथ्यों को सुना जाना चाहिए और भारतीय संविधान में जिस प्रकार की पारदर्शी न्याय की इच्छा की गई थी उसके स्वरूप को भी बरकरार किया जाना चाहिए।

हाल के मिड डे प्रकरण ने पूरे मीडिया जगत को हिला कर रख दिया, मीडिया ने क्या सही किया मैं यह नहीं जानता किन्तु इतना जानता हूँ कि अभी संविधान ने न्यायालय पर टिप्पणी का हक नहीं देता है। शायद इसलिये कि देश का सबसे निचला वर्ग का विश्वास इस पर न टूट जाये। जजों के फैसले को भी एक दायरे में लाना चाहिए, मैं यह नहीं कहता हूँ कि हर न्याय गलत होता है किन्तु कभी-कभी न्यायमूर्तियों द्वारा अहम के कारण यह फैसले विरोध में हो जाते है। माननीयों द्वारा अहं के प्रश्न पर न्याय की समीक्षा जरूरी होती है। न्याय के पैमाने पर आज यह जरूरी है कि न्याय की समीक्षा हो, किन्तु यह भी आवश्यक है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम किसी नागरिकों द्वारा खुले आम माननीयों को भी बदनाम न किया जाये। क्योंकि कभी-कभी नादानी में इतने कठोर शब्दों का प्रयोग न्यायाधीशों पर पत्रकारों द्वारा कर दिये जाते है जो निश्चित रूप से गलत होता है। निश्चित रूप से पत्रकार मिड डे मामले में नैतिक रूप से सही हो किन्तु संवैधानिक रूप से वे गलत है। भारत की प्रणाली नैतिक मूल्यों से नहीं संवैधानिक रूप से चलती है।

मेरे ख्याल से सभी राज्यों में एक अवकाश प्राप्त न्यायमूर्तियों की ऐसी कमेटी होनी चाहिए जो वर्तमान माननीयों की फैसले को थोपे जाने से रोका जा सके। क्योंकि कभी-कभी न्याय प्राप्तकर्ता इतना गरीब होता है कि धन के आभाव में वह सर्वोच्च न्यायालय नहीं जा सकता है। पर इतना तो जरूर सत्य है कि भारत का संविधान और न ही न न्यायपालिका अपने ऊपर आक्षेप करने की अनुमति देता है।


Share:

महान भारतीय अमर शहीद स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह पर निबंध



बड़ी खुशनसीब होगी वह कोख और गर्व से चौडा हो गया होगा उस बाप का सीना जिस दिन देश की आजादी के खातिर उसका लाल फांसी चढ़ गया था। हॉं आज उसी माँ-बाप के लाल भगत सिंह का जन्म दिवस है। आज देश भगत सिंह के जन्मदिन की सौवीं वर्षगांठ मना रहा है।
भगत सिंह - महान क्रांतिकारी और राष्ट्र पुरुष महान भारतीय अमर शहीद स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह पर निबंध
भगत सिंह - महान क्रांतिकारी और राष्ट्र पुरुष
भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर 1907 में एक देश भक्त क्रान्तिकारी परिवार में हुआ था। सही कह गया कि शेर कर घर शेर ही जन्म लेता है। इनका परिवार सिख पंथ के होने बाद भी आर्यसमाजी था और स्वामी दयानंद की शिक्षा इनके परिवाद में कूट-कूट कर भरी हुई थी। एक आर्यसमाजी परिवेश में बड़े होने के कारण भगत सिंह पर भी इसका प्रभाव पड़ा और वे भी जाति भेद से ऊपर उठ गए । ९वीं तक की पढ़ाई के बाद इन्होंने पढ़ाई छोड़ दी । और यह वही काला दिन था जब देश में जलियावाला हत्या कांड हुआ था। इस घटना सम्पूर्ण देश के साथ-साथ इस 12 वर्षीय बालक के हृदय में अंग्रेजों के दिलों में नफरत कूट-कूट कर भर दी। जहां प्रारम्भ में भगत सिंह क्रान्तिकारी प्रभाव को ठीक नहीं मानते थे वही इस घटना ने उन्हें देश की आजादी के सेनानियों में अग्रिम पंक्ति में लाकर खड़ा कर रही है।
यही नहीं लाला लाजपत राय पर पड़ी एक-एक लाठी, उस समय के युवा मन पर पडे हजार घावों से ज्यादा दर्द दे रहे थे। भगत सिंह, चन्‍द्रशेखर आजाद, बटुकेश्‍वर दत्‍त और राजगुरू ने पुलिस सुपरिंटेंडेंट सैंडर्स की हत्या का व्यूह रचना की और भगत सिंह और राजगुरू के गोलियों के वार से वह सैंडर्स गॉड को प्यारा हो गया।

निश्चित रूप से भगत सिंह और उनके साथियों में जोश और जवानी चरम सीमा पर थी। राष्ट्रीय विधान सभा में बम फेंकने के बाद चाहते तो भाग सकते थे किन्तु भारत माता की जय बोलते हुए फाँसी की बेदी पर चढ़ना मंजूर किया और 23 मार्च 1931 हंसते हुए निम्न गीत गाते हुए निकले और भारत माता की जय बोलते हुए फाँसी पर चढ़ गये।

भगत सिंह और उनके मित्रों की शहादत को आज ही नहीं तत्कालीन मीडिया और युवा ने गांधी के अंग्रेज परस्ती गांधीवाद पर देशभक्ततों का तमाचा बताया था। दक्षिण भारत में पेरियार ने उनके लेख मैं नास्तिक क्यों हूँ पर अपने साप्ताहिक पत्र कुडई आरसु में के २२-२९ मार्च, १९३१ के अंक में तमिल में संपादकीय लिखा । इसमें भगत सिंह की प्रशंसा की गई थी तथा उनकी शहादत को गांधीवाद के पर विजय के रूप में देखा गया था । तत्कालीन गांधीगीरी वाली मानसिकता आज के भारत सरकार में विद्यमान है, गांधी का भारत रत्न इसलिये नहीं दिया गया कि राष्‍ट्रपिता का दर्जा भारत रत्न से बढकर है। किन्‍तु आज भी यह यक्ष प्रश्न है कि अनेकों स्‍वतंत्रता संग्राम सेनानी आज इस सम्मान से वंचित क्यों है जबकि यह सम्मान आज केवल गांधी नेहरू खानदान की शोभा ही बढ़ा रहा है। पिछले तीन साल से यह सम्मान को नहीं दिया गया था सरकार चाहती तो यह सम्मान सेनानियों को दिया जा सकता था।

इतना तो तय है कि अंग्रेजों द्वारा बनाई गई कांग्रेस और अंग्रेजों में कोई फर्क नहीं है। न वह सेनानियों का सम्मान करते थे और न ही कांग्रेस, खैर यह तो विवाद का प्रश्न है किन्तु आज इस पावन अवसर पर शहीद भगत सिंह को सच्चे दिल से नमन करना और उनके आदशों ही उनको असली भारत रत्न दिया जाना होगा।

भगतसिंह की साहस का परिचय इस गीत से मिलता है जो उन्होंने अपने छोटे भाई कुलतार को ३ मार्च को लिखा था-
उसे यह फिक्र है हर दम तर्ज़-ए-ज़फ़ा (अन्याय) क्या है
हमें यह शौक है देखें सितम की इंतहा क्या है
दहर (दुनिया) से क्यों ख़फ़ा रहें,
चर्ख (आसमान) से क्यों ग़िला करें
सारा जहां अदु (दुश्मन) सही, आओ मुक़ाबला करें ।

भगत सिंह की चार असली तस्वीरें

अप्रैल 1919, अमृतसर : उम्र 12, जलियांवाला की मिट्टी लेने आए
अप्रैल 1919, अमृतसर : उम्र 12, जलियांवाला की मिट्टी लेने आए

पहला और सबसे दुर्लभ फोटो। ऐतिहासिक महत्व का भी। तब वे सिर्फ 12 साल के थे। यह जलियांवाला बाग नरसंहार के कुछ घंटों के बाद का है, जब भगत सिंह का परिवार लायलपुर से अमृतसर आया और शहीदों की रक्तरंजित मिट्टी लेकर गया। तभी इस इंकलाबी परिवार ने फोटो खिंचवाई थी। भगत सिंह के चाचा अजीत सिंह गदर पार्टी के लीडर थे और उन दिनों ‘देश निकाला’ भुगत रहे थे।

1923 लाहौर कालेज : उम्र 16, लाहौर कालेज में कलाकार बने थे भगत सिंह
1923 लाहौर कॉलेज : उम्र 16, लाहौर कालेज में कलाकार बने थे भगत सिंह
भगत नेशनल कालेज लाहौर में पढ़ते थे। एक नाटक से पहले खींचे गए ग्रुप फोटो से यह कटिंग ली गई है। पांच फुट दस इंच के भगत सिंह नाटकों में अभिनय करने के अलावा फिल्में देखने के भी शौकीन थे। अंग्रेज अफसर जॉन सैंडर्स को मारने से पहले भी उन्होंने ‘अंकल टॉम्स केबिन’ फिल्म देखी थी। यह अमेरिकी लेखक हैरियर बीचर स्टो के गुलामी के खिलाफ लिखे गए एक नॉवल पर आधारित थी।

मई 1927, लाहौर: 20 साल, झूठे केस में पहली बार गिरफ्तार
मई 1927, लाहौर : 20 साल, झूठे केस में पहली बार गिरफ्तार
यह फोटो लाहौर रेलवे पुलिस स्टेशन का है। उन्हें 29 मई 1927 को पहली बार अरेस्ट किया गया। अक्टूबर1926 में दशहरा जुलूस पर बम फेंकने का आरोप था। वैसे पुलिस ने खुद ही ये बम फिंकवाए थे। इस फोटो में सीआईडी के डीएसपी गोपाल सिंह पन्नू उनसे पूछताछ कर रहे हैं। भगत को 4 जुलाई को 60 हजार की बेल पर छोड़ा गया।

फिरोजपुर, अप्रैल 1929 : 22 साल, बम कांड से पहले वेश बदला
फिरोजपुर, अप्रैल 1929 : 22 साल, बम कांड से पहले वेश बदला
सबसे लोकप्रिय छवि। 29 अप्रैल 1929 को असेंबली में बम फेंकने से पहले वे फणींद्रनाथ घोष से मिलने बिहार गए। घोष ने ही पहचान बदलने को कहा। शहीद के भांजे प्रो. जगमोहन सिंह बताते हैं- भगत ने फिरोजपुर के शाह गंज मोहल्ले के तूड़ी बाजार में वतन के नाम केश कुर्बान किए। वहीं, गज्जू नाई ब्रिटिश सरकार का गवाह नंबर-295 बना।

असेम्बली में बम फेंकने के बाद 6 जून सन् 1928 को दिल्ली के सेशन जज मि. लियोनाई मिडिल्टन की अदालत में दिया गया सरदार भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त का ऐतिहासिक बयान
हमारे ऊपर गंभीर आरोप लगाये गये हैं। इसलिए यह आवश्यक है कि हम अपनी सफ़ाई में कुछ शब्द कहें। हमारे कथित अपराध के संबंध में निम्नलिखित प्रश्न उठते हैं: (1) क्या वास्तव में असेम्बली में बम फेंके गये थे, यदि हां तो क्यों? (2) नीचे की अदालत में हमारे ऊपर जो आरोप लगाये गये हैं, वह सही हैं या ग़लत?
पहले प्रश्न के पहले भाग के लिए हमारा उत्तर स्वीकारात्मक है, लेकिन तथाकथित चश्मदीद गवाहों ने इस मामले में जो गवाही दी, वह सरासर झूठ है। चूंकि हम बम फेंकने से इनकार नहीं कर रहे हैं, इसलिए यहां इन गवाहों के बयानों की सच्चाई की परख भी हो जानी चाहिए। उदाहरण के लिए हम यहां बतला देना चाहते हैं कि सार्जेंट टेरी का यह कहना कि उन्होंने हममें से एक के पास से पिस्तौल बरामद की, एक सफ़ेद झूठ मात्र है। क्योंकि जब हमने अपने आप को पुलिस के हाथों सौंपा तो हम में से किसी के पास कोई पिस्तौल न थी। जिन गवाहों ने कहा है कि उन्होंने हमें बम फेंकते देखा था, वे झूठ बोलते हैं। न्याय तथा निष्कपट व्यवहार को सर्वोपरि मानने वाले लोगों को इन झूठी बातों से एक सबक लेना चाहिये।
पहले प्रश्न के दूसरे हिस्से का उत्तर देने के लिए हमें इस बमकांड जैसी ऐतिहासिक घटना के कुछ विस्तार में जाना पड़ेगा। हमने वह काम किस अभिप्राय से तथा किन परिस्थितियों के बीच किया, इसकी पूरी एवं खुली सफ़ाई आवश्यक है।
जेल में हमारे पास कुछ पुलिस अधिकारी आये थे। उन्होंने हमें बतलाया कि लार्ड इर्विन ने इस घटना के बाद ही असेम्बली के दोनों सदनों के सम्मिलित अधिवेशन में कहा है कि ‘यह विद्रोह किसी व्यक्ति विशेष के खि़लाफ़ नहीं, वरन संपूर्ण शासन व्यवस्था के विरुद्ध था।’ यह सुनकर हमने तुरंत भांप लिया कि लोगों ने हमारे उद्देश्य को सही तौर पर समझ लिया है।
मानवता को प्यार करने में हम किसी से भी पीछे नहीं हैं। हमें किसी से व्यक्तिगत द्वेष नहीं है और हम प्राणि मात्र को हमेशा आदर की निगाह से देखते आये हैं। हम न तो बर्बरतापूर्ण उपद्रव करने वाले देश के कलंक हैं, जैसा कि सोशलिस्ट कहलाने वाले दीवान चमनलाल ने कहा है, और न ही हम पागल हैं, जैसा कि लाहौर के ‘ट्रिब्यून’ तथा कुछ अन्य समाचार पत्रों ने सिद्ध करने का प्रयास किया है। हम तो केवल अपने देश के इतिहास, उसकी मौजूदा परिस्थिति तथा अन्य मानवोचित आकांक्षाओं के मननशील विद्यार्थी होने का विनम्रतापूर्वक दावा कर सकते हैं। हमें ढोंग तथा पाखंड से नफ़रत है।
यह काम हमने किसी व्यक्तिगत स्वार्थ अथवा विद्वेष की भावना से नहीं किया है। हमारा उद्देश्य केवल उस शासन-व्यवस्था के विरुद्ध प्रतिवाद प्रकट करना था जिसके हर एक काम से उसकी अयोग्यता ही नहीं, वरन अपकार करने की उसकी असीम क्षमता भी प्रकट होती है। इस विषय पर हमने जितना विचार किया, उतना ही हमें इस बात का दृढ़ विश्वास होता गया कि वह केवल संसार के सामने भारत की लज्जाजनक तथा असहाय अवस्था का ढिंढोरा पीटने के लिए ही क़ायम है और वह गैरजिम्मेदार तथा निरंकुश शासन का प्रतीक है।
जनता के प्रतिनिधियों ने कितनी ही बार राष्ट्रीय मांगो को सरकार के सामने रखा, परंतु उसने उन मांगो की सर्वथा अवहेलना करके हर बार उन्हें रद्दी की टोकरी में डाल दिया। सदन द्वारा पास किये गये गंभीर प्रस्तावों को भारत की तथाकथित पार्लियामेंट के सामने ही तिरस्कार पूर्वक पैरों तले रौंदा गया है।
दमनकारी तथा निरंकुश कानूनों को समाप्त करने की मांग करने वाले प्रस्तावों को हमेशा अवज्ञा की दृष्टि से ही देखा गया है और जनता द्वारा निर्वाचित सदस्यों ने सरकार के जिन कानूनों तथा प्रस्तावों को अवांछित एवं अवैधानिक बताकर रद्द कर दिया था, उन्हें केवल कलम हिलाकर ही सरकार ने लागू कर लिया है।
संक्षेप में, बहुत कुछ सोचने के बाद भी एक ऐसी संस्था के अस्तित्व का औचित्य हमारी समझ में नहीं आ सका जो बावजूद उस तमाम शान-ओ-शौकत के, जिसका आधार भारत के करोड़ों मेहनतकशों की गाढ़ी कमाई है, केवल मात्र दिल को बहलाने वाली थोथी, दिखावटी और शरारतों से भरी हुई एक संस्था है। हम सार्वजनिक नेताओं की मनोवृत्ति को समझ पाने में भी असमर्थ हैं। हमारी समझ में नहीं आता कि हमारे नेतागण भारत की असहाय परतंत्रता की खिल्ली उड़ाने वाले इतने स्पष्ट एवं पूर्व नियोजित प्रदर्शनों पर सार्वजनिक संपत्ति एवं समय बरबाद करने में सहायक क्यों बनते हैं?
हम इन्हीं प्रश्नों तथा मज़दूर आंदोलनों के नेताओं की धरपकड़ पर विचार कर ही रहे थे कि सरकार ट्रेड डिस्प्यूट बिल लेकर सामने आयी। हम इसी संबंध में असेम्बली की कार्यवाही देखने गये। वहां मारा यह विश्वास और भी दृढ़ हो गया कि भारत की लाखों मेहनतकश जनता एक ऐसी संस्था से किसी बात की भी आशा नहीं कर सकती जो भारत के बेबस मेहनतकशों की दासता तथा शोषकों की गलाघोंटू शक्ति का हित चाहती है।
अंत में, वह कानून जिसे हम बर्बर एवं अमानवीय समझते हैं, देश के प्रतिनिधियों के सरों पर पटक दिया गया और इस प्रकार करोड़ों संघर्ष रत भूखे मज़दूरों को प्राथमिक अधिकारों से भी वंचित कर दिया गया और उनके हाथों से उनकी आर्थिक मुक्ति का एकमात्र हथियार भी छीन लिया गया। जिस किसी ने भी कमरतोड़ परिश्रम करने वाले मूल मेहनतकशों की हालत पर हमारी तरह सोचा है, वह शायद स्थिर मन से यह सब नहीं देख सकेगा। बलिदान के बकरों की भांति शोषकों, और सबसे बड़ा शोषक स्वयं सरकार है, की बलिवेदी पर आये दिन होने वाली मज़दूरों की इन मूक कुर्बानियों को देख कर जिस किसी का दिल रोता है, वह अपनी आत्मा की चीत्कार की उपेक्षा नहीं कर सकता।
गवर्नर जनरल की कार्यकारिणी-समिति के भूतपूर्व सदस्य स्वर्गीय श्री एस. आर. दास ने अपने प्रसिद्ध पत्र में अपने पुत्र को लिखा था कि इंग्लैंड की स्वप्न निद्रा भंग करने के लिए बम का प्रयोग आवश्यक है। श्री दास के इन्हीं शब्दों को सामने रखकर हमने असेंबली भवन में बम फेंके थे। हमने वह काम मज़दूरों की तरफ से प्रतिरोध प्रदर्शित करने के लिए किया था। उन असहाय मज़दूरों के पास अपने मर्मांतक क्लेशों को व्यक्त करने का और कोई साधन भी तो नहीं था। हमारा एकमात्र उद्देश्य था, ‘बहरे को सुनाना’ और उन पीडि़तों की मांगों पर ध्यान न देने वाली सरकार को समय रहते चेतावनी देना। हमारी ही तरह दूसरों की भी परोक्ष धारणा है कि प्रशांत सागर रूपी भारतीय मानवता की ऊपरी शांति किसी भी समय फूट पड़ने वाले एक भीषण तूफ़ान का द्योतक है। हमने तो उन लोगों के लिए सिर्फ़ ख़तरे की घंटी बजायी है, जो आने वाले भयानक ख़तरे की परवाह किये बग़ैर तेज़ रफ़्तार से आगे की तरफ भागे जा रहे हैं। हम लोगों को सिर्फ़ यह बतला देना चाहते हैं कि ‘काल्पनिक अहिंसा’ का युग अब समाप्त हो चुका है और आज की उठती हुई नयी पीढ़ी को उसकी व्यर्थता में किसी भी प्रकार का संदेह नहीं रह गया है।
मानवता के प्रति हार्दिक सद्भाव तथा अमिट प्रेम रखने के कारण उसे व्यर्थ के रक्तपात से बचाने के लिए हमने चेतावनी देने के इस उपाय का सहारा लिया है और उस आने वाले रक्तपात को हम ही नहीं, लाखों आदमी आगे से ही देख रहे हैं। ऊपर हमने ‘काल्पनिक अहिंसा’ शब्द का प्रयोग किया है। यहां पर उसकी व्याख्या कर देना भी आवश्यक है। आक्रमण-उद्देश्य से जब बल का प्रयोग होता है तो उसे हिंसा कहते हैं, और नैतिक दृष्टिकोण से उसे उचित नहीं कहा जा सकता। लेकिन जब उसका उपयोग किसी वैध आदर्श के लिए किया जाता है तो उसका नैतिक औचित्य भी होता है। किसी हालत में बल प्रयोग नहीं होना चाहिये, यह विचार काल्पनिक और अव्यावहारिक है। इधर देश में जो नया आंदोलन तेज़ी के साथ उठ रहा है, और उसकी पूर्व सूचना हम दे चुके हैं, वह गुरु गोविन्द सिंह, शिवाजी, कमाल पाशा, वाशिंगटन, ग़ैरीवाल्डी और लेनिन के आदर्शों से ही प्रस्फुटित है और उन्हीं के पद चिद्दों पर चल रहा है। चूंकि भारत की विदेशी सरकार तथा हमारे राष्ट्रीय नेतागण दोनों ही इस आंदोलन की ओर से उदासीन लगते हैं और जान बूझकर उसकी पुकार की ओर से अपने कान बंद करने का प्रयत्न कर रहे हैं, अतः हमने अपना कर्तव्य समझा कि हम एक ऐसी चेतावनी दें जिसकी अवहेलना न की जा सके। अभी तक हमने इस घटना के मूल उद्देश्य पर ही प्रकाश डाला है। अब हम अपना अभिप्राय भी स्पष्ट कर देना चाहते हैं।
यह बतलाने की आवश्यकता नहीं है कि इस घटना के सिलसिले में मामूली चोटें खाने वाले व्यक्तियों तथा असेम्बली के किसी अन्य व्यक्ति के प्रति हमारे दिलों में कोई वैयक्तिक भावना नहीं थी। इसके विपरीत हम एक बार फिर स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि हम मानव जीवन को अकथनीय पवित्रता प्रदान करते हैं और किसी अन्य व्यक्ति को चोट पहुंचाने के बजाय हम मानव जाति की सेवा में हंसते-हंसते अपने प्राण विसर्जित कर देंगे। हम साम्राज्य शाही की सेना के भाड़े के सैनिकों जैसे नहीं हैं जिनका नर हत्या ही काम होता है। हम मानव जीवन का आदर करते हैं और बराबर उसकी रक्षा का प्रयत्न करते हैं। इसके बाद भी हम स्वीकार करते हैं कि हमने जान-बूझकर असेम्बली भवन में बम फेंका। घटनाएं स्वयं हमारे अभिप्राय पर प्रकाश डालती हैं और हमारे इरादों की परख हमारे काम के परिणाम के आधार पर होनी चाहिए, न कि अटकल एवं मनगढ़ंत परिस्थितियों के आधार पर। सरकारी विशेषज्ञ की गवाही के विरुद्ध हमें यह कहना है कि असेम्बली भवन में फेंके गये बमों से वहां की एक ख़ाली बेंच को ही नुकसान पहुंचा और लगभग आधा दर्जन लोगों को मामूली सी खरोंचें भर आयीं। सरकारी वैज्ञानिकों ने कहा है कि बम बड़े ज़ोरदार थे और उनसे अधिक नुकसान नहीं हुआ, इसे एक अनहोनी घटना ही कहना चाहिये। लेकिन हमारे विचार से उन्हें वैज्ञानिक ढंग से बनाया ही ऐसा गया था। पहले तो दोनों बम बेंचों तथा डेस्कों की ख़ाली जगह में गिरे थे। दूसरे उनके फूटने की जगह से दो फीट पर बैठे हुए लोगों को भी, जिनमें मि. पी. आर. राउ, मि. शंकर राव तथा सर जार्ज शुस्टर के नाम उल्लेखनीय हैं, या तो बिलकुल ही चोटें न आयीं या मामूली मात्र आयीं। अगर उन बमों में ज़ोरदार पोटेशियम क्लोरेट और पिक्रिक एसिड भरा होता जैसा कि सरकारी विशेषज्ञ ने कहा है, तो उन बमों ने उस लकड़ी के घेरे को तोड़कर कुछ गज की दूरी पर खड़े हुए लोगों तक को उड़ा दिया होता और यदि उनमें कोई और भी शक्तिशाली विस्फोटक भरा होता तो निश्चय ही वे असेंबली के अधिकांश सदस्यों को उड़ा देने में समर्थ होते। यही नहीं, यदि हम चाहते तो उन्हें सरकारी कक्ष में फेंक सकते थे जो कि विशिष्ट व्यक्तियों से खचाखच भरा था। या फिर उससे सर जान साइमन को अपना निशाना बना सकते थे जिसके अभागे कमीशन ने प्रत्येक विचारशील व्यक्ति के दिल में उसकी ओर से गहरी नफरत पैदा कर दी थी और जो उस समय असेम्बली की अध्यक्ष दीर्घा में बैठा था। लेकिन इस तरह का हमारा कोई इरादा न था और उन बमों ने उतना ही काम किया जितने के लिये उन्हें तैयार किया गया था। यदि उससे कोई अनहोनी घटना हुई तो यही कि वे निशाने पर अर्थात निरापद स्थान पर गिरे। इसके बाद हमने इस कार्य का दंड भोगने के लिए अपने आप को जान-बूझकर पुलिस के हाथों समर्पित कर दिया। हम साम्राज्यवादी शोषकों को यह बतला देना चाहते थे कि मुट्ठी भर आदमियों को मारकर किसी आदर्श को समाप्त नहीं किया जा सकता और न ही दो नगण्य व्यक्तियों को कुचल कर राष्ट्र को दबाया जा सकता है। हम इतिहास के इस सबक पर ज़ोर देना चाहते थे कि परिचय पत्र या परिचय चिद्द तथा वैस्टाइल (फ्रान्स की कुख्यात जेल जहां राजनैतिक बंदियों को घोर यातनाएं दी जाती थीं) फ्रांस के क्रांतिकारी आंदोलन को कुचलने में समर्थ नहीं हुए थे, फांसी के फंदे और साइबेरिया की खानें रूसी क्रांति की आग को बुझा नहीं पायी थीं। तो फिर क्या अध्यादेश और सेफ़्टी बिल्स भारत में आज़ादी की लौ को बुझा सकेंगे? षडयन्त्रों का पता लगाकर या गढ़े हुए षडयंत्रों द्वारा नौजवानों को सज़ा देकर या एक महान आदर्श के स्वप्न से प्रेरित नवयुवकों को जेलों में ठूंस कर क्या क्रांति का अभियान रोका जा सकता है? हां, सामयिक चेतावनी से, बशर्ते कि उसकी उपेक्षा न की जाये, लोगों की जानें बचायी जा सकती हैं और व्यर्थ की मुसीबतों से उनकी रक्षा की जा सकती है। आगाही देने का यह भार अपने ऊपर लेकर हमने अपना कर्तव्य पूरा किया है। क्रांति के लिए खूनी लड़ाइयां अनिवार्य नहीं हैं और न ही उसमें व्यक्तिगत प्रतिहिंसा के लिए स्थान है। वह बम और पिस्तौल का संप्रदाय नहीं है। क्रांति से हमारा अभिप्राय है, अन्याय पर आधारित मौजूदा समाज-व्यवस्था में आमूल परिवर्तन।
समाज का प्रमुख अंग होते हुए भी मज़दूरों को आज उनके प्राथमिक अधिकार से वंचित रखा जा रहा है और उसकी गाढ़ी कमाई का सारा धन शोषक पूंजीपति हड़प जाते हैं। दूसरों के अन्नदाता किसान आज अपने परिवार सहित दाने-दाने के लिए मुहताज हैं। दुनिया भर के बाज़ारों को कपड़ा मुहैया करने वाला बुनकर अपने तथा अपने बच्चों के तन ढंकने भर को भी कपड़ा नहीं पा रहा है। सुंदर महलों का निर्माण करने वाले राजगीर, लोहार तथा बढ़ई स्वयं गंदे बाड़ों में रह कर ही अपनी जीवन लीला समाप्त कर जाते हैं। इसके विपरीत समाज के जोंक शोषक पूंजीपति ज़रा-ज़रा सी बातों के लिए लाखों का वारा न्यारा कर देते हैं।
यह भयानक असमानता और जबरदस्ती लादा गया भेदभाव दुनिया को एक बहुत बड़ी उथल-पुथल की ओर लिये जा रहा है। यह स्थिति अधिक दिनों तक क़ायम नहीं रह सकती। स्पष्ट है कि आज का धनिक समाज एक भयानक ज्वालामुखी के मुंह पर बैठकर रंगरलियां मना रहा है और शोषकों के मासूम बच्चे तथा करोड़ों शोषित जनता एक भयानक खड्ड के कगार पर चल रहे हैं।
सभ्यता का यह प्रसार यदि समय रहते संभाला न गया तो शीघ्र ही चरचराकर बैठ जायेगा। देश को एक अमूल परिवर्तन की आवश्यकता है और जो लोग इस बात को महसूस करते हैं, उनका कर्त्तव्य है कि साम्यवादी सिद्धांतों पर समाज का पुनर्निर्माण करें। जब तक यह नहीं किया जाता और मनुष्य द्वारा मनुष्य का तथा एक राष्ट्र द्वारा दूसरे राष्ट्र का शोषण, जो साम्राज्य शाही नाम से विख्यात है, समाप्त नहीं कर दिया जाता, तब तक मानवता को क्लेशों से छुटकारा मिलना असंभव है और तब तक युद्धों को समाप्त कर विश्व-शांति के युग का प्रादुर्भाव करने की सारी बातें महज़ ढोंग के अतिरिक्त और कुछ भी नहीं हैं। क्रांति से हमारा मतलब अंततोगत्वा एक ऐसी समाज-व्यवस्था की स्थापना से है, जो इस प्रकार के संकटों से बरी होगी और जिसमें सर्व हारा वर्ग का आधिपत्य सर्वमान्य होगा और जिसके फलस्वरूप स्थापित होने वाला विश्व-संघ पीडि़त मानवता को पूंजीवाद के बंधनों से और साम्राज्यवादी युद्ध की तबाही से छुटकारा दिलाने में समर्थ हो सकेगा।
यह है हमारा आदर्श और इसी आदर्श से प्रेरणा लेकर हमने एक सही तथा पुरज़ोर चेतावनी दी है। लेकिन अगर हमारी इस चेतावनी पर ध्यान नहीं दिया गया और वर्तमान शासन व्यवस्था उठती हुई जनशक्ति के मार्ग में रोड़े अटकाने से बाज़ न आयी तो क्रांति के इस आदर्श की पूर्ति के लिए एक भयंकर युद्ध का छिड़ना अनिवार्य है। सभी बाधाओं को रौंद कर आगे बढ़ते हुए उस युद्ध के फलस्वरूप सर्वहारा-वर्ग के अधिनायक-तंत्र की स्थापना होगी। यह अधिनायक तंत्र क्रांति के आदर्शों के लिए मार्ग प्रस्तुत करेगा। क्रांति मानव जाति का जन्मजात अधिकार है जिसका अपहरण नहीं किया जा सकता। स्वतंत्रता प्रत्येक मनुष्य का जन्मसिद्ध अधिकार है। श्रमिक वर्ग ही समाज का वास्तविक पोषक है। जनता की सर्वोपरि सत्ता की स्थापना श्रमिक वर्ग का अंतिम लक्ष्य है। इन आदर्शों के लिए और इस विश्वास के लिए हमें जो भी दंड दिया जायेगा, हम उसका सहर्ष स्वागत करेंगे। क्रांति की इस पूजावेदी पर हम अपना यौवन नैवेद्य के रूप में लाये हैं क्योंकि ऐसे महान आदर्श के लिए बड़े से बड़ा त्याग भी कम है। हम संतुष्ट हैं और क्रांति के आगमन की उत्सुकता पूर्वक प्रतीक्षा कर रहे हैं।
इंक़लाब! जि़ंदाबाद!
हाईकोर्ट में जस्टिस फोर्ड और जस्टिस एडीसन के समक्ष दिया गया
माई लार्ड, हम न वकील हैं, न अंग्रेज़ी के विशेषज्ञ और न हमारे पास डिग्रियां हैं, इसलिए हमसे शानदार भाषणों की आशा न की जाये। हमारी प्रार्थना है कि हमारे बयान की भाषा-संबंधी त्रुटियों पर ध्यान न देते हुए उसके वास्तविक अर्थ को समझने का प्रयत्न किया जाये। दूसरे तमाम मुद्दों को अपने वकीलों पर छोड़ते हुए मैं स्वयं एक मुद्दे पर अपने विचार प्रकट करूंगा। यह मुद्दा इस मुक़दमे में बहुत महत्वपूर्ण है। मुद्दा यह है कि हमारी नीयत क्या थी और हम किस हद तक अपराधी हैं?
यह बड़ा पेचीदा मामला है, इसलिए कोई भी व्यक्ति आपकी सेवा में विचारों के विकास की वह ऊंचाई प्रस्तुत नहीं कर सकता, जिसके प्रभाव में हम एक ख़ास ढंग से सोचने और व्यवहार करने लगे थे। हम चाहते हैं कि इसे दृष्टि में रखते हुए ही हमारी नीयत और अपराध का अनुमान लगाया जाये। प्रसिद्ध कानून-विशारद सालोमन के अनुसार किसी भी व्यक्ति को, उसके अपराधी उद्देश्यों को जाने बिना उस समय तक सज़ा नहीं मिलनी चाहिए, जब तक उसका कानून-विरोधी आचरण सिद्ध न हो। सेशन जज की अदालत में हमने जो लिखित बयान दिया था, वह हमारे उद्देश्य की व्याख्या करता था और इस रूप में हमारी नीयत की व्याख्या करता था। लेकिन सेशन जज महोदय ने कलम की एक ही नोंक से यह कहकर कि ‘आमतौर पर अपराध को व्यवहार में लाने वाली बात कानून के कार्य को प्रभावित नहीं करती और इस देश में कानूनी व्याख्याओं में कभी-कभार उद्देश्य और नीयत की चर्चा होती है’, हमारी सब कोशिशें बेकार कर दीं।
माई लार्ड, इन परिस्थितियों में सुयोग्य सेशन जज के लिए उचित था कि या तो अपराध का अनुमान परिणाम से लगाते या हमारे बयान की मदद से मनोवैज्ञानिक पहलू का फैसला करते, पर उन्होंने इन दोनों में से एक से भी काम न लिया।
पहली बात यह है कि असेम्बली में हमने जो दो बम फेंके, उनसे किसी भी व्यक्ति की शारीरिक या आर्थिक हानि नहीं हुई। इस दृष्टिकोण से जो सज़ा हमें दी गयी है, यह कठोरतम ही नहीं है, बदला लेने की भावना वाली भी है। यदि दूसरे दृष्टिकोण से देखा जाये, तो जब तक अभियुक्त की मनोभावना का पता न लगाया जाये, उसके असली उद्देश्य का पता ही नहीं चल सकता। यदि उद्देश्य को पूरी तरह भुला दिया जाय, तो किसी भी व्यक्ति के साथ न्याय नहीं हो सकता, क्योंकि उद्देश्य को नज़रों में न रखने पर संसार के बड़े-बड़े सेनापति साधारण हत्यारे नज़र आयेंगे, सरकारी कर वसूल करने वाले अधिकारी चोर-जालसाज़ दिखायी देंगे और न्यायाधीशों पर भी क़त्ल करने का अभियोग लगेगा। इस तरह तो समाज व्यवस्था और सभ्यता, खून-ख़राबा, चोरी और जालसाजी बनकर रह जायेगी। यदि उद्देश्य की उपेक्षा की जाये, तो किसी हुकूमत को क्या अधिकार है कि समाज के व्यक्तियों से न्याय करने को कहे? उद्देश्य की उपेक्षा की जाये तो हर धर्म प्रचारक झूठ का प्रचारक दिखायी देगा और हरेक पैगंबर पर अभियोग लगेगा कि उसने करोड़ों भोले और अनजान लोगों को गुमराह किया। यदि उद्देश्य को भुला दिया जाये, तो हजरत ईसा मसीह गड़बड़ कराने वाले, शांति भंग करने वाले, विद्रोह का प्रचार करने वाले दिखायी देंगे और कानून के शब्दों में ‘ख़तरनाक व्यक्तित्व’ माने जायेंगे! लेकिन हम उनकी पूजा करते हैं, उनका हमारे दिलों में बेहद आदर है, उनकी मूर्ति हमारे दिलों में आध्यात्मिकता का स्पंदन पैदा करती है। यह क्यों? यह इसलिए कि उनके प्रयत्नों का प्रेरक एक ऊंचे दर्जे का उद्देश्य था। उस युग के शासकों ने उनके उद्देश्यों को नहीं पहचाना, उन्होंने उनके बाहरी व्यवहार को ही देखा, लेकिन उस समय से लेकर इस समय तक उन्नीस शताब्दियां बीत चुकी हैं। क्या हमने तब से लेकर अब तक कोई तरक्की नहीं की? क्या हम ऐसी ग़लतियां दुहरायेंगे? अगर ऐसा हो तो इंसानियत की कुर्बानियां, महान शहीदों के प्रयत्न बेकार रहे और आज भी हम उसी स्थान पर हैं, जहां आज से बीस शताब्दियां पहले थे।
कानूनी दृष्टि से उद्देश्य का प्रश्न ख़ास महत्व रखता है। जनरल डायर का उदाहरण लीजिए, उन्होंने गोली चलायी और सैकड़ों निरपराध और शस्त्रहीन व्यक्तियों को मार डाला, लेकिन फौजी अदालत ने उन्हें गोली का निशाना बनाने के हुक़्म की जगह लाखों रुपये इनाम दिये। एक और उदाहरण पर ध्यान दीजिए, श्री खड्ग बहादुर सिंह ने, जो एक नौजवान गोरखा हैं, कलकत्ता में एक अमीर मारवाड़ी को छुरे से मार डाला। यदि उद्देश्य को एक तरफ रख दिया जाये, तो खड्ग बहादुर सिंह को मौत की सज़ा मिलनी चाहिए थी, लेकिन उसे कुछ वर्षों की सज़ा दी गयी और अवधि से बहुत पहले ही मुक्त कर दिया गया।
क्या कानून में कोई दरार रखनी थी जो उसे मौत की सज़ा नहीं दी गयी? या उसके विरुद्ध हत्या का अभियोग सिद्ध न हुआ? उसने भी हमारी तरह अपना अपराध स्वीकार किया था, लेकिन उसका जीवन बच गया और वह स्वतंत्र है। मैं पूछता हूं, उसे फांसी की सज़ा क्यों नहीं दी गयी? उसका कार्य नपा तुला था। उसने पेचीदा ढंग की तैयारी की थी। उद्देश्य की दृष्टि से उसका कार्य हमारे कार्य की अपेक्षा ज़्यादा घातक और संगीन था। उसे इसलिए बहुत ही नर्म सज़ा मिली, क्योंकि उसका मक़सद नेक था। उसने समाज की एक ऐसी जोंक से छुटकारा दिलाया जिसने कई एक सुंदर लड़कियों का ख़ून चूस लिया था। श्री खड्ग बहादुर को महज कानून की प्रतिष्ठा रखने के लिए कुछ वर्षों की सज़ा दी गयी। यह इस सिद्धांत की अवहेलना है कि-‘कानून आदमियों के लिए है, आदमी कानून के लिए नहीं है।’ इस स्थिति में क्या कारण है कि हमें भी वे रियायतें न दी जायें, जो श्री खड्ग बहादुर सिंह को मिली थीं, क्योंकि उसे नर्म सज़ा देते समय उसका उद्देश्य दृष्टि में रखा गया था, अन्यथा कोई भी व्यक्ति जो किसी दूसरे को क़त्ल करता है, फांसी की सज़ा से नहीं बच सकता। क्या इसलिए हमें आम कानूनी अधिकार नहीं मिल रहा है कि हमारा कार्य हुकूमत के विरुद्ध था या इसलिए कि इस कार्य का राजनीतिक महत्व है?
माई लार्ड, मुझे यह कहने की आज्ञा दी जाये कि जो हुकूमत इन कमीनी हरकतों का सहारा लेती है, जो हुकूमत व्यक्ति के कुदरती अधिकार छीनती है, उसे बने रहने का हक़ नहीं। अगर वह कायम है तो आराजी तौर पर और हज़ारों बेगुनाहों का खून उसकी गरदन पर है। यदि कानून उद्देश्य नहीं देखता, तो न्याय नहीं हो सकता और न ही स्थायी शांति स्थापित हो सकती है। आटे में संखिया मिलाना जुर्म नहीं, बशर्ते कि उसका उद्देश्य चूहों को मारना हो, लेकिन यदि उससे किसी आदमी को मार दिया जाये, तो वह क़त्ल का अपराधी बन सकता है। लिहाज़ा ऐसे कानूनों को, जो दलील पर आधारित नहीं और न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध हैं, समाप्त कर देना चाहिए। ऐसे ही न्याय विरोधी कानूनों के विरुद्ध बड़े-बड़े श्रेष्ठ बुद्धिजीवियों ने विद्रोह किया है।
हमारे मुक़दमे के तथ्य बिलकुल सरल हैं। 8 अप्रैल 1929 को हमने सेन्ट्रल असेम्बली में दो बम फेंके। उनके धमाके से चंद लोगों को खरोंचें आयीं। चैम्बर में हंगामा हुआ, सैकड़ों दर्शक और सदस्य बाहर निकल गये। कुछ देर बाद खा़मोशी छा गयी। मैं और साथी बी. के. दत्त खा़मोशी के साथ दर्शक गैलरी में बैठे रहे और हमने स्वयं अपने को गिरफ़्तारी के लिए प्रस्तुत किया। हमें गिरफ़्तार कर लिया गया। अभियोग लगाये गये और हत्या करने के अपराध में सज़ा दी गयी। सेशन जज ने स्वीकार किया कि यदि हम भागना चाहते तो भाग सकते थे। हमने अपना अपराध स्वीकार किया और अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए बयान दिया। हमें सज़ा का भय नहीं है, लेकिन हम नहीं चाहते कि हमें ग़लत समझा जाये। हमारे बयान से कुछ पैराग्राफ़ काट दिये गये हैं। यह वास्तविक स्थिति की दृष्टि से हानिकारक है।
समग्र रूप से हमारे वक्तव्य के अध्ययन से साफ़ प्रकट होता है कि हमारे दृष्टिकोण से हमारा देश एक नाजुक दौर से गुज़र रहा है। इस दशा में काफ़ी ऊंची आवाज़ में चेतावनी देने की ज़रूरत थी और हमने अपने विचारों के अनुसार चेतावनी दी है। संभव है, हम ग़लती पर हों, हमारे सोचने का ढंग जज महोदय के सोचने के ढंग से भिन्न हो, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि हमें अपने विचार प्रकट करने की इजाज़त न दी जाये और ग़लत बातें हमारे साथ जोड़ी जायें। ‘इंक़लाब जि़ंदाबाद’ और ‘साम्राज्यवाद मुर्दाबाद’ के संबंध में हमने जो व्याख्या अपने बयान में दी है, उसे उड़ा दिया गया है, हालांकि यह हमारे उद्देश्य का ख़ास भाग है। ‘इंक़लाब जि़ंदाबाद’ से हमारा वह उद्देश्य नहीं था जो आमतौर पर ग़लत अर्थ में समझा जाता है। पिस्तौल और बम इंक़लाब नहीं लाते, बल्कि इंक़लाब की तलवार विचारों की सान पर तेज़ होती है और यही चीज़ थी जिसे हम प्रकट करना चाहते थे। हमारे इंक़लाब का अर्थ पूंजीवाद और पूंजीवादी युद्धों की मुसीबतों का अंत करना है। मुख्य उद्देश्य और उसे प्राप्त करने की प्रक्रिया को समझे बिना किसी के संबंध में निर्णय देना उचित नहीं है। ग़लत बातें हमारे साथ जोड़ना साफ-साफ़ अन्याय है।
यह चेतावनी बहुत आवश्यक थी। बेचैनी रोज़-रोज़ बढ़ रही है। यदि उचित इलाज न किया गया, तो रोग ख़तरनाक रूप ले लेगा। कोई भी मानवीय शक्ति इसकी रोकथाम न कर सकेगी। अब विश्वास है कि यदि सत्ताधारी शक्तियां ठीक समय पर सही कार्यवाही करतीं, तो फ्रांस और रूस की खूनी क्रांतियां न होतीं। दुनिया की कई बड़ी-बड़ी हुकूमतें विचारों के तूफान को रोकते हुए खून-ख़राबी के वातावरण में डूब गयीं। सत्ताधारी लोग परिस्थितियों के प्रवाह को बदल सकते हैं। हम चेतावनी देना चाहते थे। यदि हम कुछ व्यक्तियों की हत्या करने के इच्छुक होते, तो हम अपने मुख्य उद्देश्य में असफल हो जाते।
माई लार्ड, इस नीयत, भावना और उद्देश्य को दृष्टि में रखते हुए हमने कार्रवाई की और इस कार्रवाई के परिणाम हमारे बयान का समर्थन करते हैं। एक और नुक़्ता स्पष्ट करना आवश्यक है। यदि हमें बमों की ताक़त के संबंध में कोई ज्ञान न होता, तो हम पंडित मोतीलाल नेहरू, श्री जयकर, श्री जिन्ना जैसे सम्माननीय राष्ट्रीय व्यक्तियों की उपस्थिति में क्यों बम फेंकते? हम नेताओं के जीवन को किस तरह ख़तरे में डाल सकते थे? हम पाग़ल तो नहीं हैं और अगर पाग़ल होते, तो जेल में बंद करने के बजाय हमें पाग़लख़ाने में बंद किया जाता। बमों के संबंध में हमें निश्चित जानकारी थी। उसी के कारण ऐसा साहस किया। जिन बेंचों पर लोग बैठे थे, उन पर बम न फेंकना निहायत मुश्किल काम था। अगर बम फेंकने वाले सही दिमाग के न होते तो बम ख़ाली जगह की बजाय बेंचों पर गिरते। मैं तो कहूंगा कि ख़ाली जगह के चुनाव के लिए जो हिम्मत हमने दिखाई, उसके लिए हमें इनाम मिलना चाहिए। इन हालतों में, माई लार्ड, हम सोचते हैं, हमें ठीक तरह नहीं समझा गया। आपकी सेवा में हम सज़ाओं की कमी कराने नहीं आये बल्कि अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए आये हैं। हम तो चाहते हैं कि न तो हमसे अनुचित व्यवहार किया जाय और न ही हमारे संबंध में अनुचित राय दी जाये। सज़ा का सवाल हमारे लिये गौण है।


Share:

चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जायें हम दोनों



महेन्‍द्र कपूर जी की आवाज में जादू है। पता नहीं क्यों जब मैं उनके गीत सुना हूँ तो भाव विभोर हो जाता हूँ। अब यह ही एक गीत लीजिए जिसमें उनकी दिलकश आवाज न जाने क्यों इस गीत को बार-बार सुनने को मजबूर करती है। वैसे इस गीत के गीतकार श्री शाहिर लुधियानवी की भी तारीफ करनी होगी कि इन्होंने बेहतरीन शब्दों के जाल से बुना है इसे -
चलो इक बार फिर से, अजनबी बन जाएं हम दोनों
चलो इक बार फिर से ...
न मैं तुमसे कोई उम्मीद रखूँ दिलनवाज़ी की
न तुम मेरी तरफ़ देखो गलत अंदाज़ नज़रों से
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाये मेरी बातों से
न ज़ाहिर हो तुम्हारी कश्म-कश का राज़ नज़रों से
चलो इक बार फिर से ...
तुम्हें भी कोई उलझन रोकती है पेशकदमी से
मुझे भी लोग कहते हैं कि ये जलवे पराए हैं
मेरे हमराह भी रुसवाइयां हैं मेरे माझी की - २
तुम्हारे साथ भी गुज़री हुई रातों के साये हैं
चलो इक बार फिर से ...
तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन - २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा
चलो इक बार फिर से ...
 
इस गीत को जितना अच्छा लुधियानवी जी ने बुना है, तो रवि जी ने संगीत से सजाया है और महेन्‍द्र जी ने अपने आवाज से इस गीत को जिन्‍दा किया है। इस गीत की सभी पंक्तियां मुझे बहुत अच्छी लगी पर

तार्रुफ़ रोग हो जाये तो उसको भूलना बेहतर
ताल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन - २
उसे एक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा


Share:

पंगेबाज पर ताला और ब्‍लागवाणी का टूलबार



पिछले तीन माह में ब्‍लागवाणी ने आपने सेवाओं में लगातार वृद्धि करती रही है। हाल में ही ब्‍लागवाणी के द्वारा मराठी ब्‍लालों का नया एग्रीगेटर बनाया गया जो हिन्‍दी एग्रीगेटर के बाद एक महत्‍वपूर्ण कार्य था। आज ही ब्‍लागवाणी पर जाना हुआ और देखा तो ब्‍लागवाणी के सर्चटूलबार के बारे में पता चला। आश्चर्य की सीमा तो तब और पार कर गई जब देखा तो इसके निर्माण कर्ता अरूण अरोड़ा जी है जो लगता है आज कल पंगेबाजी छोड़कर औजार सृजन में लग गये है। क्‍योकि मैने सुबह उनको अपने एक ब्‍लाग के लेख में लिंक किया था। तब लिंक पर क्लिक किया तो पता चला कि शायद नारद से प्रेरित होकर आपने ब्‍लाग में ताला (पासवर्ड प्रोटेक्‍ट) लगा दिया है। थोड़ा मन व्‍यथित भी हुआ और उनका हाल चाल पता करने के लिये फोन करने लगा, पर यहॉं भी तकनीकि ने मेरा साथ नही दिया और मेरा नम्‍बर उनके मोबाइल में सेव हो ने के कारण उन्‍होने फोन नही उठाया, मै भी कम खुराफाती नही था और खुराफात सूझा और मै पीसीओं फोन की ओर चल दिया, और नम्‍बर डायल करने लगा पर वे सचमुच पंगेबाज निकले और उन्‍होने एक भी फोन रीसिव नही किया लगता है इलाहाबाद का एसटीडी कोड पता कर रखा है। अब उन्‍होने फोन क्‍यो नही उठाया यह तो वे ही जाने किन्‍तु मेरी उन्‍हे उनकी कृति की बधाई देने की हसरत दिल में दबी रह गई। ( मेन मकसद तो ताले का था, कही ताले के अन्‍दर कुछ......) वैसे मैने बधाई की ईमेल डाल दी है, उनका जवाब पेन्डिग है। वे मेरे से ही असन्‍तुष्‍ट है या किसी और से यह तो पता नही ? किन्‍तु जब से अपने लेख में लिंक किया है जब से ब्‍लाग दिखना बन्‍द है। किसी को कोई खबर हो तो भाई मेरी बधाई उन तक पहुँचा दीजिऐगा। :)
उनके द्वारा बनाया गया टूलबार निश्चित रूप से हम जैसे कम जानकार के लिये प्रेरक है कि बिना जानकारी के कुछ करने की इच्‍छा के कारण कुछ भी असम्‍भव नही है। मुझे याद है कि जब मै उनके ब्‍लाग पर अतिथि के रूप में साज सज्‍जा किया करता था तो वे मुझ जैसे अल्‍पज्ञानी से काफी कुछ सीखने की इच्‍छा रखते थे। यहॉं तक कि मेरे निर्देशन मे उन्‍होने अपने ब्‍लाग पर काउन्‍टर, ब्‍लागों के लिंक, फोटों आदि लगाया था। अपने से बडें को सिखाकर मेरा भी सीना गर्व और अभिमान से चौड़ा रहा था। किन्‍तु धीरे धीरे उन्‍होने कार्टून से लेकर टूलबार के क्षेत्र में हाथ अजमा रहे है, इससे ज्‍यादा मुझे खुशी और क्‍या होगी क्‍योकि एक शिक्षक के लिये उसके शिष्‍य को आगे बढते देखते हुऐ और अच्‍छा क्‍या हो सकता था। मै उनके कम्प्‍युटर ब्‍लागिंग का प्रथम गुरू रहा हूँ। :)
आज मुझे खुशी हो रही है कि वे टूल जैसे औजारों के निर्माण कर सार्थक काम कर रहे है। कहीं ताले के पीछे विरोधियों को पटखनी देने के लिये ब्‍लागिंग पहलवानी के नये पैतरे तो नही सीख रहे है। :) मै तो बच के रहना चाहूँगा आज लिंक देकर और यह कहकर अच्‍छा नही किया कि उन्‍होने मुझसे बात नही किया। मै सदा सर्वदा किसी भी प्रकार के ताले के पीछे कोई काम करने का विरोध करूँगा चाहे वो जो हो। जो भी काम हो उसमें पारदर्शिता होनी चाहिऐ।
अरूण जी ने जैसा टूलाबार बनाया है निश्चित रूप से एक ब्‍लागर के तौर पर उनकी उपलब्धी है। अरूण जी के द्वारा टूलबार काम से स्‍पष्‍ट हो गया कि वे सार्थक कार्य में ही भाग ले रहे है। और हर व्‍यक्ति को अपने सार्थक कार्य में ही रूचि लेनी चाहिए। आज एक और टूलबार के बारे में पढ़ था काफी अच्‍छा लगा था मन में आया कि क्‍यो‍ न अरूण को गुस्‍से को शान्‍त करने के लिये इसकी व्‍याख्‍या ही कर दी जाये कि यह कैसे काम करता है।
ब्‍लागवाणी के लिये अरूण जी द्वारा बनाया गया यह टूलबार किसी अन्‍य ब्‍लागरों की तुलना में सरल है सुविधालब्‍ध है। इस टूलबार को हम कई भागों में बांट सकते है। जैसे ब्‍लागवाणी, हिन्‍दी चिटठे, समाचार, ब्‍लागवाणी पर हाल के चिट्ठे, हिन्‍दी टंकड़ टूल, रेडियों आदि प्रमुख है।
1. ब्‍लागवाणी पर- इस टूलबार पर हम सम्‍पूर्ण ब्‍लागवाणी का दर्शन कर सकते है। जैसे मुख्‍य पन्‍ना, झटपट नजर, ज्‍यादा पढे गये लेख, ज्‍यादा पंसद किये गये लेख, टूलबार का लिंक तथा साइट सुझाऐ जैसी सुविधाऐ है।













2. कम्‍प्‍युटिंग पर- इस पर विभिन्‍न टाइपिंग टूल का लिंक दिया गया है जिस पर सिर्फ एक क्लिक से पहुँच सकते है। कैफे हिन्‍दी टाइपिंग टूल, इण्डिक आईएमई, बारहा, हिन्‍दी कलम, युनीनागरी जैसे लिंक दिये गये है।








3. खबरे इस शीर्षक के अन्‍तर्गत हिन्‍दी जाल पर उपलब्‍ध सम्‍पूर्ण हिन्‍दी समाचार पत्रों का लिंक दिया गया है। अर्थात अब खबरों के लिंक के लिये भटकने की जरूरत नही होगी।













4. नई प्रविष्टियॉं - इस श्रेणी में टूल पर ही ब्‍लावाणी पर उपलब्‍ध सारी अनपढ़ी पोस्‍टो को देखा और बिना ब्‍लागवाणी पर गये उसे खोला जा सकता है।










5. रेडियों - इस भाग में नेट पर उपलब्‍ध समस्‍त आनलाईन रेडिया कार्यक्रम प्रसरित करने वाले चैनल उपलब्‍ध है।













6. वेबजाल - इसमें नेट पर उपलब्‍ध कुछ अच्‍छी पत्रिकाओं व ब्‍लागों के अलावां सांसद जी जैसे लिंक मौजूद है। इस पर मेरा ब्‍लाग भी दिख रहा है। पर क्‍या मेरा ब्‍लाग इस लायक है कि इतने अच्‍छों ब्‍लागों के साथ मेरे ब्‍लाग का नाम जोडा गया है?
सच कहूँ तो मुझे इस टूलबार की सादगी बहुत अच्‍छी लगी मेन मेन्‍यु में ज्‍यादा बोझ नही दिया गया है। और व्‍यवस्थित रूप से एक श्रेणी के रूप रखा गया है। मेरा मानना है कि अभी इसमें कुछ कमियां है जो सुधार की जाने योग्‍य है। प्रथम कि इसका सम्‍पूर्ण हिन्‍दी करण किया जाये, दूसरा यह कि अनावश्‍यक लिंकों को हटा दिया जाये जैसे मौसम की जानकारी। एक और काम किया जा सकता है एक साथ सम्‍पूर्ण हिन्‍दी ब्‍लागों को लिंक भी कहीं इस ब्‍लाग या ब्‍लागवाणी पर दिया जाना चाहिए। निश्चित रूप से इसमें नित सुधार होते रहेगें। अरूण जी एक नि‍वेदन है, कि आप अपने ब्‍लाग का ताला हटा दीजिए, आप नही जानते कि कितने पाठको नाराज करना ठीक नही। :) आपको अपनी अनुपम कृति के लिये बधाई।

ब्‍लागवाणी टूलवार डाऊनलोड कीजिए मजे जीजिऐ -

फायरफाक्‍स

इन्‍टरनेट एक्‍सप्लोरर


Share:

दिल्‍ली यात्रा - बिना लंका काण्‍ड के रामायण भी अधूरी ही रहेगी



मै पिछली बारके यात्रा वृ‍तान्‍त में शैलेश जी के घर पर था और मैन कहा था कि मै अगले हिस्‍से में इण्डिया गेट का वर्णन करूँगा। यह पढाव इतना कष्‍टकारी और अकेलापन महसूस करायेगा मैने सोचा भी नही था। सुना था कि दिल्‍ली वालों के पास दिल होता है किन्‍तु शायद यूपी की मिलावट के कारण वह दिल चोट पहुँचाने वाला निकला। मैने सोचा था कि मै अपनी यात्रा वृतान्‍त के इस भाग को नही लिखूँगा किन्‍तु बाद में लगा कि बिना लंका काण्‍ड के रामायण भी अधूरी ही रहेगी। आईये फिर चलते है इण्डिया गेट।

लगभग 4 बजे 20-25 किमी की यात्रा समाप्‍त करने के बाद हमने कुछ देर आराम किया। तभी अनुमान हुआ कि शैलेश के यहॉं ठहरे अन्‍य बन्‍धु इण्डिया गेट की ओर भ्रमण करने का कार्यक्रम बना रहे है। तभी शैलेश जी ने प्रस्‍ताव रखा कि आप भी जाना चाहते हो तो घूम आइये। हमें क्‍या था घूमने आये ही थे तो राजी हो गये। किन्‍तु जिनते विश्‍वास के साथ शैलेश जी ने हमें जाने के लिये उत्‍साहित किया था उतने उत्‍साह में ले जाने वाले नही थे। और वे लोग हमें लिये बिना चले भी गये और हम दोनों कमरे पर ही रह गये। यहीं से पराये शहर में अपनेपन की कमी या फिर कहें कि स्‍पष्‍ट अलगाव दिखने लगा था फिर क्‍या था मै और तारा चन्‍द्र ने हार नही मानी और शैलेश जी रूट मार्ग की जानकारी लेकर चल दिया भ्रमण करने भारत-द्वार का। कमरे से निकलने पर पैर में दोपहर का थकान का अनुभव हो रहा था किन्‍तु चेहरें पर इसकी छवि जरा भी नही दिख रही थी, शायद यह दिल्‍ली भ्रमण की समय की कमी के कारण ही था। हम लोग बस स्‍टैड पर पहुँच गये जहॉं से हमें इण्डिया गेट के लिये जाना था।

वहॉं पर हमसे पहले शैलेश जी के कमरे से निकली टोली मौजूद थी हमारे बीच किसी प्रकार की कोई बातचीत नही हुई, और मैने भी करना उचित नही समझा क्‍योकि मुझे अनुभव हो गया था कि जब कोई हमें साथ ले जाने को तैयार नही है तो उनके व्‍यक्तिगत यात्रा को क्‍यों कवाब में हड्डी बन कर खराब किया जाये। जैसा कि मैने फोन पर आलोक जी से रात्रि 8:30 इण्डिया गेट पर मिलने का समय दिया था। इसलिये हम लोगों ने बस पर ही योजना बना लिया था कि हम पहले राष्‍ट्रपति भवन की ओर जायेगें फिर लगभग 8 बजे रात्रि राष्‍ट्रपति भवन से इण्डिया गेट की ओर वापसी करेंगे। ताकि आलोक जी से मुलाकात हो सकें। बस की योजनाऐं योजनाऐ ही रह गई और लगभग 6 बजे हम लोग कृर्षि भवन पर उतर चुकें थे और राष्‍ट्रपति भवन की ओर जाने लगे, वह मंडली भी हम लोगों के बाद उतरी तथा सडक पार कर इण्डिया गेट की ओर जाने लगी, तभी तारा चन्‍द्र ने मुझसे कहा कि वह लोग हमे बुला रहे है। मै भी वापस इण्डिया गेट की ओर चलने लगा तब तक ट्रफिक चालू हो चुका था जिस कारण हम पार करने में 3-4 मिनट का समय लग गया था। और वे लोग हमारा इन्‍तजार किये बिना ही चल दिये और जब हम सड़क पार किया तो वे लोग भरी भीड़ में लगभग 200 मीटर से अधिक दूरी पर थे। फिर मुझे उनकी बेरूखी का अनुभव हो गया था। फिर हमने अपना रास्‍ता अपना लिया टहलते हुऐ हम लगभग 7:30 बजे इण्डिया गेट पर पहुँच गये थे। वहॉं का नाजरा बहुत ही मनमो‍हक था एक बिना उत्‍सव का जनसैलाब देखकर मन में अतीव प्रसन्‍नता हो रही थी। पर कहीं से दिल में एक सिकन थी इतने लोगों को अपने परिवार के साथ देख अपने आप अकेले होने का, पर क्‍या कर सकता था। बस याद करके ही रहा गया। फिर मैने अपने घर पर फोन मिलाया और सभी से बातें की और अभी तक जितना भी इण्डिया गेट पर देखा सबको बताया भी, एक प्रकार से फोन पर मै लाइव कमेन्‍ट्री कर रहा था। घर पर बात कर थोड़ा सूकून का अनुभव कर रहा था। जब मै यह सब करने में व्‍यस्‍त था तो तारा चन्‍द्र जी एक मीडिया चैनल के खुलासे का वर्णन का दर्शन कर रहे थें।

फिर पल पल का समय भारी पढ रहा था। मैने पिछले आधे घन्‍टे में आलोक जी को दर्जनों काल की कब आ रहे है। इस दौर मे मैने अरूण जी से बात करने की कोशिस की तो भी निराशा हुई उन्‍होने फोन उठाया और कहा प्रमेन्‍द्र भाई भाई मै अभी मै वि‍शेष मीटिंग में हूँ बाद में काल कीजिऐगा। उनकी यह बात अकेले कचोटते मन पर एक और प्रहार करती है। लगभग 8:30 आलोक जी का कॉल आया और मैने उसे काट कर तुरन्‍त कॉल बैक किया क्‍योकि मुझे रीसिविंग करने पर ज्‍यादा पैसा देना पर रहा था। मुझे यह कॉल एक विशेष पर की खुशी दे गई, आलोक जी का उत्‍तर था कि मै आ गया हूँ। मै ठेठ पूर्वी उत्‍तर प्रदेश की भाषा का प्रयोग कर जिससे वहॉं के लोगों के चेहरे पर मेरी वजह से थोडा़ मुस्‍कान भी दिखी। आलोक जी ने कहॉं भाई आप कहॉं है? मै उत्‍तर दूँ भी तो क्‍या? इनती बड़ी भीड़ मे एक दूसरें को खोजना कठिन काम था, वो भी तब जब आप एक दूसरे के चेहरे से वाकिफ न हो। फिर मैने तपाक से जवाब दिया कि भाई जो तीन ठौ झन्‍डवा दिख रहा है ठीक वही के सामने मिलते थे। मैने तारा चन्‍द्र को बुलाया जो मीडिया में दिलचस्‍पी ले रहे थे। और झन्‍डे की ओर चल दिये जहॉं पर पहले से मौजूद आलोक जी ने जय श्री राम शब्‍द के उद्धोष के साथ गले मिल कर एक दूसरे का अभिवादन किया।

अब तक यह यह वाक्‍या मुझे काफी कुछ सिखा चुका था, शायद कुछ ज्‍यादा ही, वो था अपने और पराये में फर्क। जिनके साथ मै था वह बात न मिली जो एक पल में मिले आलोक जी से मिली। मै कह सकता था कि वक्‍त ने भी हमें सब रंग दिखाये। मेरी इस पहली यात्रा में मेरा मेरे साथ मेरा मित्र( तारा और आलोक) न रहा होता तो मै तो इस यात्रा से टूट ही गया होता। जो भी मेरे साथ वाक्‍या हुआ मैने यह सब किसी से कहना उचित नही समझा। मै घर से इतनी दूर अपनत्‍व पाने के लिये गया था न किसी बौरहे पागल की तरह घूमने। अब मुझे लग रहा है कि इस पोस्‍ट में बहुत कुछ ज्‍यादा लिख गया हूँ वह सब जो मैने उस दौर में महसूस किया था, दिल चाह रहा था कि इसी पोस्‍ट में आलोक जी के सा‍थ घूमने का भी वर्णन कर दूँ। पर इतना अधिक हो जायेगा तो मजा नही आयेगी। तो ठीक है अगली कड़ी में मै आपको बाताऊँगा कि रात्रि 8:30 से 11:00 बजे तक हमने क्या किया ? यह सब अगली कड़ी में।


Share:

टेनिस (Tennis) की शब्‍दावली



टेनिस का शुमार फ़ुटबाल के बाद दुनिया के सबसे लोकप्रिय खेलों में होता है और इसमें नाम के साथ साथ पैसा भी काफ़ी है। सानिया मिर्ज़ा पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं जो ‘सीडेड’ खिलाड़ियों की सूची में आई हैं। इस से पहले पुरुषों के मुक़ाबले में भारत के रमेश कृष्णन को 23वीं रैंकिंग प्राप्त हो चुकी हैं। तो आइए देखते हैं टेनिस के मैदान से हमारी झोली में कितने बॉल, अरे नहीं शब्द गिरते हैं।

सिंगल्स (Singles) का अर्थ है वह खेल जिस में सिर्फ़ दो खिलाड़ी हों और एक दूसरे के आमने-सामने हों।

डबल्स (Doubles) जिसमें चार खिलाड़ी हों और दो दो की जोड़ी में एक दूसरे के मुक़ाबले में खड़े हों।
मिक्स्ड डबल्स (Mixed Doubles) इसमें भी चार खिलाड़ी होते हैं और दो दो की जोड़ी में होते हैं लेकिन प्रत्येक जोड़ी में से एक महिला और एक पुरूष होते हैं।

रैंकिंग (Ranking) वरीयता क्रम कहलाता है, इसे अमीन सायानी के शब्दों में पायेदान भी कह सकते हैं यानि किसी खिलाड़ी की रैंकिंग एक है तो इसका अर्थ है वह चोटी का नंबर एक खिलाड़ी है। टेनिस के टूर्नामेंट में मुक़ाबला आम तौर पर वरीयता के हिसाब से रखा जाता है, यानी प्रारंभ में ही उच्च कोटि के खिलाड़ियों को आपस में नहीं टकराया जाता, इस से खेल के मज़े में कमी आने का ख़तरा रहता है।

सीडेड (Seeded) उन वरीयता प्राप्त खिलाड़ियों को कहते हैं जिन्हें टूर्नामेंट के शुरू में आपस में नहीं खिलाया जाता है. इसकी संख्या टूर्नामेंट के हिसाब से बदलती रहती है।

ग्रांड स्लैम (Grand slam) टेनिस के चार बड़े टूर्नामेंट ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट कहलाते हैं। ये हैं- ऑस्ट्रेलियन ओपन, फ्रेंच ओपन, विंबलडन और यूएस ओपन हैं।

सर्विस (Service) का अर्थ है टेनिस का खेल शुरू करने के लिए गेंद का फेंकना, जिसकी सर्विस होती है उसके गेम जीतने की अधिक उम्मीद होती है।

सर्विस ब्रेक (Service Break) इसका अर्थ यह हुआ कि जो सर्विस कर रहा था वह नहीं जीत पाया और उसका विरोधी जीत गया. जीतने के लिए प्रतिद्वंदी की सर्विस को ब्रेक करना ज़रूरी है।

सर्व (Serve) एक खिलाड़ी का खेल शुरू करने के लिए बाल रैकेट से मार कर दूसरे के पाले में भेजना।

सर्वर (Server) वह खिलाड़ी जो खेल शुरू करने के लिए रैकेट से मारकर दूसरे के पाले में गेंद भेजता है।

रिसीवर (Receiver) वह खिलाड़ी जिसके पाले में बाल आए और वह उसे वापस पहले के पाले में भेजे।

बॉल बॉय या गर्ल (Ball boy/girl ) वह लड़का या लड़की जो जाल के किनारे या किसी कोने में रहता है और दौड़ दौड़ कर गेंद इकठ्ठा करके खिलाड़ी को देता है।

कोर्ट (Court) यानी टेनिस का मैदान जिसके अंदर गेंद रखी जाती है।

एंड्स (Ends) छोर या दोनों ओर का पाला जहाँ से खेल शुरू किया जाता है।

बेस लाइन (Baseline) वह लकीर जो टेनिस के मैदान के दोनों सिरों को बताता हो जिसके बाहर गेंद जाने से प्वाइंट बन जाता है।

नेट (Net) जाल जो टेनिस कोर्ट के बीच में कोर्ट को बराबर विभाजित करता है।

साइड लाइन्स (Sideline) टेनिस कोर्ट के दाएं और बाएं दोनों ओर खिंची हुई लकीर।

बाउन्स (Bounce) जब गेंद टप्पा खा कर उछलती है उसे बाउन्स कहते हैं।

बॉल चेन्ज (Ball change) गेंद में जब उछाल कम हो जाती है तो गेंद बदली जाती है जैसा क्रिकेट में गेद पुरानी हो जाती है या उसकी शक्ल बदल जाती है तो उसे बदल दिया जाता।

सर्विस बॉक्स (Service box) वह आयताकार स्थान जहां एक खिलाड़ी सर्विस करते हुए गेंद को टप्पा खिलाता है।

गेम (Game) उसे कहते हैं जब कोई खिलाड़ी पहले चार प्वाइंट जीत जाता है पहला और दूसरा प्वाइंट 15-15 का होता जब कि तीसरा 10 का और चौथे का मतलब किसी एक की सर्विस में जीत।

सेट (Set) जो खिलाड़ी आम तौर पर छह गेम पहले जीत जाता है वह सेट जीत जाता है यानी गेम के समूह को सेट कहते हैं।

मैच (Match) आम तौर पर पुरुषों के मुक़ाबले में जो खेलाड़ी तीन सेट पहले जीत जाता है वह मैच जीत जाता है और महिला वर्ग में जो खिलाड़ी पहले दो सेट जीत जाती है वह मैच जीत जाती है।

ड्यूस (Deuce) जब गेम के अंदर दोनों प्रतिद्वंद्वी 40-40 अंक पर पहुंच जाते हैं तो उस बराबरी को ड्यूस कहते हैं।

ऐडवांटेज (Advantage) जब बराबरी यानी ड्यूस हो जाता है और जो खिलाड़ी पहली सर्विस पर जीत हासिल करता है वह गेम जीतने के लाभ यानी ऐडवांटेज में चला जाता है, अगर वह अगली सर्विस भी जीत लेता है तो गेम पर उसका क़ब्ज़ा हो जाता है नहीं तो फिर से ड्यूस हो जाता है।

टाइब्रेकर (Tiebreak) जब दोनों प्रतिद्वंद्वी 6-6 गेम जीत लेते है तो टाइब्रेकर पर जीत का फ़ैसला होता है। इसमें जो खिलाड़ी सात प्वाइंट पहले अर्जित कर लेता वह सेट जीत जाता है। अगर दोनो खिलाड़ी फिर से 6-6 प्वाइंट हासिल करते हैं तो फिर जो खिलाड़ी लगातार दो प्वाइंट हासिल करता है वह सेट जीत जाता है।

लव (Love) गेम या सेट की शुरूआत में शून्य प्वाइंट।

मैच प्वाइंट (Match point) वह अंतिम अंक जिसके जीतने के बाद कोई खिलाड़ी मैच जीत ले इसी प्रकार गेम प्वांइट और सेट प्वाइंट भी होता है।

ऑल (All) का अर्थ है बराबर. मिसाल के तौर पर 15 ऑल या 30 ऑल का मतलब हुआ दोनों खिलाड़ियों का 15 या 30 अंक है।

फ़ॉल्ट (Fault ) ग़लती यानी सर्विस करने में गेंद जाल से टकरा जाए या सर्विस बॉक्स से बाहर टप्पा खाए तो फ़ॉल्ट कहलाता है।

फ़ुट फ़ाल्ट (Foot fault) जब खिलाड़ी सर्विस करते समय बॉल को मारने से पहले बेस लाइन या बीच की लाइन को छू जाए तो फ़ुटफॉल्ट कहते हैं।

डबल फ़ॉल्ट (Double Fault ) अगर दोबार लेट हो जाता है तो उसे डबल फ़ाल्ट कहते हैं और प्रतिद्वंद्वी को प्वाइंट मिल जाता है।

लेट (Let) जब सर्विस की जाए और गेंद जाल को छूकर सर्विस बॉक्स में गिरे उसे लेट कहा जाता है ऐसी स्थिति में फिर से सर्विस करनी पड़ती है।

एस (Ace) यानी ऐसी सर्विस जिसमें इतनी गती हो या इतना कोण बन रहा हो जिस पर प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी अपना रैकेट लगाने में भी असमर्थ रहे।

डाउन-द-लाइन (Down-the-line) वह शॉट जिस में गेंद किनारे वाली रेखा के साथ साथ गुज़रता हुआ किनारे ही गिरे।

ड्राइव (Drive) एक तेज़ी से खेला गया सीधा शॉट जो प्रतिद्वंद्वी के सामने से गुज़र जाए।

ड्रॉप शॉट (Drop shot) हलके से खेला गया शॉट जो जाल के पार गिरे और प्रतिद्वंद्वी उस तक न पहुंच सके।

ग्राउंड स्ट्रोक (Ground stroke) टप्पा खाने के बाद गेंद जब उछले उस पर लगाया जाने वाला शॉट।

हाफ़-वॉली (Half-volley) गेंद के टप्पा खाते ही लगाया जाने वाला शॉट।

लॉब (Lob) ऐसा शॉट जिसे प्रतिद्वंद्वी के ऊपर से कोर्ट के पिछले हिस्से में उठा कर रखा जाए।

रैली (Rally) दोनों खिलाड़ियों के बीच शॉट लगाने का मुक़ाबला जब तक कि प्वाइंट अर्जित न कर लिया जाए।

स्मैश (Smash) आम तौर पर बिना टप्पा खाए सिर से ऊपर वाली गेंद को पूरी ताक़त से मारना स्मैश कहलाता है।

बैक हैंड (Backhand) जिस हाथ में रैकेट हो उसकी उलटी दिशा में आने वाली गेंदे पीछे मुड़ते हुए लागए जाने वाले शॉट को बैक हैंड शॉट कहते हैं। महिलाओं में जर्मनी की स्टेफ़ी ग्राफ़ को इस शॉट का माहिर कहा जाता था।

फ़ोर-हैंड (Forehand) जिस हाथ में रैकेट हो उसी तरफ़ से लगाए जाने वाले शाट को फ़ोरहैंड शॉट कहते हैं। सानिया मिर्ज़ा, मारिया शारापोवा वग़ैरह अच्छा फ़ोर-हैंड शॉट लगाती है।

टेनिस की और भी ढेर सारी शब्दावली है लेकिन उनका प्रयोग कम ही होता ह। सानिया मिर्ज़ा ने मार्टिना हिंगिस को हराकर एक अप-सेट किया है उम्मीद की जाती है कि उनकी रैंकिंग और भी बेहतर होगी लेकिन पहले बीस में आने के लिए बड़े टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।




Share:

mobile se test post



aaj pahali baar mobile se post kar raha hun. socha n tha ki ho payega. :)


Share:

श्री राम तथा श्री कृष्ण के युगों की प्रामाणिकता



राम विरोधी संकीर्ण विचारकों  के मुंह पर प्रामाणिक तमाचा
करोड़ों लोगों के आस्था केंद्र प्रभु श्रीराम के अस्तित्व को केन्द्र की कांग्रेस सरकार नकारने पर तुली हुई है, उसकी आंख खोलने के लिए यह सबूत काफ़ी है कि भगवान राम की जन्म तिथि तक की पुष्टि नासा के प्लेनेटेरियम सॉफ़्टवेयर ने कर दी है। भारतीय राजस्व सेवा की वरिष्ठ अधिकारी व नागपुर स्थित प्रत्यक्ष कर अकादमी की महानिदेशक सरोज बाला की नई पुस्तक "श्री राम तथा श्री कृष्ण के युगों की प्रामाणिकता" में यह खुलासा हुआ है। "नवभारत" को सुश्री सरोज बाला ने जो स्वयं एक विदुषी है,अपनी पुस्तक की प्रति उपलब्ध कराई है। कई दशकों से इस विषय पर अनुसंधान कर रही बाला ने चर्चा के दौरान कहा कि धार्मिक आधार की बजाय उन्होंने इसकी पुष्टि के लिए वैज्ञानिक आधार का चयन किया,जिससे यह बताया जा सके कि राम और कृष्ण के युग में जो कुछ भी हमारे पौराणिक ग्रंथों में उल्लिखित है,वह सब कुछ सही है। सरोज बाला ने दावा किया कि विश्वकर्मा के बलवान पुत्र कांतिमान कपि श्रेष्ठ नल ने समुद्र में 100 योजन लंबा पुल तैयार किया था। यह पुल श्रीराम द्वारा तीन दिन की खोजबीन के बाद चुने हुए समुद्र के उस भाग पर बनवाया गया जहां पानी कम गहरा था तथा जलमग्न भूमार्ग पहले से ही उपलब्ध था। बाला ने कहा कि यह विवाद ही व्यर्थ है कि रामसेतु मानव निर्मित है या नही, क्योकि यह पुल जलमग्न द्वीपों, पर्वतों तथा बरेतियों को जोड़कर प्राकृतिक मार्ग के उपर से बनवाया गया था। बाला की पुस्तक में दावा है कि वास्तव में समुद्र के बीचोबीच भारत और श्रीलंका को जोड़ने वाला यह भू मार्ग श्रीराम के युग(7000 वर्ष पूर्व) से पहले भी विद्यमान था और ईसापूर्व 11000 ईस्वी से इस भू मार्ग के अस्तित्व के प्रमाण हैं। कई दस्तावेज़ों को अनुसार 400 वर्ष पूर्व तक इस रामसेतु का भारत और श्रीलंका के बीच आवागमन के लिए प्रयोग किया जाता था। कई भौगोलिक, भू तात्विक तथा ऐतिहासिक प्रमाणों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि इस पुल के आसपास कई सभ्य बस्तियां बसी थी। उदाहरणतः चोल राजाओं की राजधानी "पूम्पूहार" भी अब जलमग्न हो चुकी है। 1803 में मद्रास प्रेसिडेंसी के अंग्रेजी सरकार द्वारा जारी गैजेट में लिखा गया है कि 15वीं शताब्दी के मध्य तक रामसेतु का प्रयोग तमिलनाडू से लंका जाने के लिए किया जाता था,परंतु बाद में एक भयंकर तूफ़ान में इस पुल का एक बड़ा भाग समुद्र में डूब गया। श्रीराम की कहानी पहली बार महर्षि वाल्मीकि ने लिखी थी। वाल्मीकि रामायण श्रीराम के सिंहासन रूढ़ होने के बाद लिखी गई। महर्षि वाल्मीकि एक महान खगोलविद थे। उन्होंने राम के जीवन में घटित घटनाओं से संबंधित तत्कालीन ग्रह नक्षत्र और राशियों की स्थितियों का वर्णन किया। बाला ने कहा कि यह कहने की आवश्यकता नहीं कि ग्रहों-नक्षत्रों को स्थिति की पुनरावृत्ति हजारों वर्षों बाद भी नहीं होती। उन्होंने कहा कि रामायण में उल्लिखित तिथियों की पुष्टि प्लैनेटेरियम सॉफ़्टवेयर के माध्यम से की जा सकती है। भारती राजस्व सेवा में कार्यरत पुष्कर भटनागर ने अमेरिका के प्लैनेटेरियम गोल्ड ( फ़ॉगवेयर पब्लिशिंग का) नामक सॉफ़्टवेयर प्राप्त किया,जिससे सूर्य-चंद्रमा के ग्रहण की तिथियां तथा अन्य ग्रहों की स्थितियां जानी जा सकती हैं। इसके द्वारा भटनागर ने वाल्मीकि रामायण मे वर्णित खगोलीय स्थितियों के आधार पर आधुनिक अंग्रेजी कैलेंडर की तारीखें निकाली है। इस प्रकार भटनागर ने श्रीराम के जन्म से लेकर वापस अयोध्या आने तक की घटनाओं का पता लगाया। भटनागर की पुस्तक "डेटिंग दि एरा ऑफ़ लार्ड राम" में वर्णित महत्वपूर्ण उदाहरण बाला ने अपनी पुस्तक में दिए हैं। उसके अनुसार ही श्रीराम का जन्म 10जनवरी 5114ई पू को हुआ था। श्रीराम विश्वामित्र की यज्ञ रक्षा के लिए 5101 ईसा पूर्व में गए थे। उस समय श्रीराम 13वर्ष के थे और यही तड़ाका वध का भी वर्ष है। श्रीराम का राज्याभिषेक उनके 25वें जन्मदिवस 5089 ई पू पर नियत किया गया था। जब राम 25 वर्ष के थे तब ही वे 14वर्ष (5114-5089ई पू) के लिए वनवास गए थे। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के सॉफ़्टवेयर के मुताबिक राम ने रावण का वध 5076 ई पू में किया था। राम ने अपना वनवास 2 जनवरी 5075 ई पू को पूर्ण किया और यह दिन चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष में नवमी ही था। इस प्रकार जब श्री राम अयोध्या लौटे तो वे 39 वर्ष के थे।

श्रीराम जन्म के ग्रह योग का नक्शा
1- सूर्य मेष राशि में
2- शनि तुला में
3- बृहस्पति कर्क में
4- शुक्र मीन में
5- मंगल मकर में
6- चैत्र माह, शुक्ल पक्ष
7- चंद्रमा पुनर्वसु के निकट
8- कर्क राशि
9- नवमीं को दोपहर
10- समय करीब 12 बजे

जब उपर्युक्त खगोलीय स्थिति को कंप्यूटर मे एंटर किया गया तो प्लैनेटेरियम सॉफ़्टवेयर के माध्यम से यह पता चला कि प्रभु राम की डेट ऑफ़ बर्थ (जन्मतिथि) 10जनवरी 5114 ई पू है।


Share:

छडि़काऐं



(1)
न तुम पास आती हो,
जाने क्‍यूँ घबराती हो।
वफा करते है तुमसे,
नफा पाने के ख‍ातिर। 
..................................
(2)
जानम तेरी प्‍यार में,
हम पागल हो गयें।
घर मे जब मार पड़ी
तो हम घायल हो गये।
...................................
(3)
खूसट सा चेहरा तेरा,
गिल्‍ली सी मुँस्‍कान है।
रंग तेरा देखा कर,
अंधा भी हैरान है।
...............................
(4)
पानी सी जिन्‍दगी,
रवानी सी जिन्‍दगी।
ठोकरों के पल्‍लवन से,
बढ़ती है बंदगी।
..........................
(5)
कह-कसाने वो लगा,
और मेरी जिंदगी।
रास्ते मेरे खोये हुऐ,
मंजिलों को ढ़ँडते।
..................................
(6)
तेरे गीतों में न राग है,
न तेरे बोलों में साज है।
प्रिये अब तुम मत बोलो,
तेरी कर्कस आवाज है।
......................................... 
रचनाकार------- प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह, तारा चन्‍द्र गुप्‍त, राजकुमार


Share:

दिल्‍ली यात्रा - खूब चले पैदल



आज काफी दिनों बाद दिल्‍ली यात्रा गाथा लिखने को समय मिल ही गया। मैने अनिल जी और सुरेन्‍द्र सुमन पर पिछली बात को छोड़ा था। अब उसके आगे ले चलता हूँ। दिल्‍ली स्‍टेशन पर हम काफी देर से अनिल जी का इन्‍तजार कर रहे थे। तभ वे दिख जाते है और परिचया-परिचयी होती है। फिर मैने अपनी एक बात अनिल भाई को बताया कि मेरे एक मित्र प्‍लेटफार्म नम्‍बर एक 7:30 पर मिलने को कहा है। अगर उनसे मिलना हो जाये तो अच्‍छा होगा। अनिल जी ने तुरन्‍त हाँ कर दिया। और मुझे आभास हुआ कि मेरी हर सार्थक बात में उनकी हॉं थी। फिर काँफी खोजतें खोजते सुमन भाई मिल ही गये। फिर हम लोगों से कृर्षि भवन तक के लिये एक बस पकड़ी, गौरेतलब की वह ब्‍लू लाइन ही थी। मै सोच में पढ गया कई यह टक्‍कर मार वाहन हमारी फोटो न खिचवा दें और हम पेपर और टीवी पर न दिखने लगें। :) पर अफशोश की ऐसा हुआ नही :(
बस में मै और सुमन जी साथ साथ से और हमारी बातें खत्‍म होने का नाम ही नही ले रही थी। पर उनके साथ मेरा सफर सिर्फ कृर्षि भवन तक ही था। काफी बाते अधूरी रह गई। सच में हम दोनों को इस बात का दु:ख है। फिर हम लोग कृर्षि भवन पहुँच गये और उससे पहले बात करते हुऐ सैन्‍य भवन उघोग भवन रेलभवन सहित अनेको मंत्रालयों को देखा। फिर कृर्षि भवन से हम लोगों ने जिया सराय के लिये बस पकड़ी तो रास्‍ते में राष्‍ट्रपति भवन और इण्डिया गेट भी दिखा। फिर इग्‍लैण्‍ड, फ्रांस, अमेरिका, पकिस्‍तान सहित अनेक राष्‍ट्रों के दूतावास को भी देखा यह निश्चित रूप से एक अच्‍छा पल था। यह सब देखते हुऐ अनिल जी से बात हुई। तो पता चला कि वह वही अनिल है जिनसे मैने इलाहाबाद में फोन पर बात की थी पर मिलना नही हो सका था।
अनिल जी के साथ मै और तारा चन्‍द्र शैलेश जी के यहॉं पहुँचे लगभग नौ बजे के आस पास तब तक और मित्रों का अगमन हो रहा था। लगभग 1 बजे के आस पास मुझे लगा कि हमारे पास समय कम है कुछ दिल्‍ली विलली घूम लिया जाना चाहिए। फिर क्‍या था हम लोग निकल दिऐ आईआईटी गेट के सामने वाली सड़क की ओर ग्रीन पार्क/ गार्डेन की ओर वहॉं जाकर पता चला न यहॉं ग्रीन है न ही गार्डेन। फिर क्‍या था मैने कुछ लोगों से पूछा कि आईआईटी गेट जाने का रास्‍ता तो उन्‍होने बताया कि जैसे आये हो वैसे ही चले जाओं। पर मुझे यह ठीक नही लग रहा था कि जिस रास्‍ते से चप्‍पल चटकाते हुऐ आया हूँ फिर से उसी रास्‍ते को नापू फिर हम लोग विपरीत रास्‍ते पर निकट दिया गया। फिर हम लोग सफदरगंज पहॅचे और देना बैंक के एटीएम और उनकी सुख सुविधाओं का उपभोग किया। फिर हमें एक बड़ा सा पार्क दिखा जिसे लोग हिरण पार्क कहते थे। मुझे यह अनुमान हो गया कि यह वही पार्क हो सकता है जो हमने आई आई टी गेट पर देखा था। हम अपने अनुमान के निकट थे जब हमने पार्क में प्रवेश किया और लोगो से आईआईटी गेट के बारे में पूछा तो हम सही थे और उनके द्वारा बताया गया आप हिरण पार्क में है आगे जाने पर आप रोज गार्डेन में पहुँच जायेगें। हमारी जान में जान आई हम लगभग 20 किमी पैदल का चक्‍कर लगा चुके थे। किन्‍तु तारा चन्‍द्र की मजाकिया बातों से थकान का अनुभव नही हुआ। रोज गार्डेन के प्रेमी जोडों को देख कर एक अच्‍छी गजल तारा चन्‍द्र सुना रहे थे। अचनक गेट से बाहर हम पहुँच गये। फिर हमें मजिंल मिल गई थी। लगभग पॉंच बजे को आस-पास हमें शैलेश जी के निवास पर पहुँचे जहॉ वह अकेले हमारे आने का इन्‍तजार कर रहे थे।
यहॉं तक का वृत्‍त समाप्‍त होता है। आगे की कड़ी में मै आपको इण्डिया गेट और अपने एक अन्‍य प्रिय मित्र आलोक जी के साथ बिताये गये पलो का वर्णन करूँगा। क्‍योकि यह ही वह पल था जब मेरे लिये सबसे ज्‍यादा खुशी और दु:ख के थे।


Share:

औकात में रहे मीडिया और उनके नुमाइन्‍दे



आज दिल्ली उच्च न्‍यायालय ने अपने महत्‍वपूर्ण फैसले में साफ कर दिया कि न्‍यायधीशो पर आधारहीन टिप्‍पणियॉं बर्दाश्‍त नही की जायेगीं। न्यायालय की एक खंडपीठ ने अपने आदेश में कहा है कि अदालत की अवमानना का दोषी ठहराने के लिए पर्याप्त सामग्री उपलब्ध है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक आदेश में एक लक्ष्मण रेखा खींच रखी है, जिसका प्रकाशक ने उल्लंघन किया है। न्यायाधीश आर. एस. सोढ़ी और न्यायाधीश बी. एन. चक्रवर्ती की खंडपीठ ने सजा सुनाने के लिए 21 सितम्बर की तारीख तय की और मिड डे सम्पादक एम. के. तयाल, प्रकाशक, एस. के. अख्तर, स्थानीय सम्पादक वितुषा ओबेराय और कार्टूनिस्ट इरफान को उस दिन व्यक्तिगत रूप से अदालत में उपस्थित रहने का आदेश दिया। अदालत ने अखबार में छपी रिपोर्ट पर संज्ञान लेते हुए यह कार्रवाई की। अखबारों में एक तात्कालीन मुख्य न्यायाधीश सभरवाल पर आरोप लगाया था कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान राजधानी में सीलिंग के मामले में कुछ ऐसे निर्णय दिए, जिससे उनका बेटा लाभांवित होता था।
मिड डे ने 18 और 19 मई 2007 के अंक में वाई. के. सभरवाल द्वारा सीलिंग पर दिए गए आदेशों पर सवाल उठाए थे। अखबार का कहना था कि दिल्ली में बड़े पैमाने पर सीलिंग होने से सभरवाल के बेटों को फायदा हुआ। वे चीफ जस्टिस के सरकारी बंगले से बिजनेसचला रहे थे। सुनवाई के दौरान अखबार अपनी स्टोरी पर कायम रहा। अखबार का कहना था कि उसने सचाई बयान की है। मिड डे के वकील शांति भूषण ने कहा कि अखबार द्वारा प्रकाशित तथ्यों से साफ है कि चीफ जस्टिस के बेटों को सीलिंग से फायदा हुआ।
अदालत का यह फैसला निश्चित रूप से अधुनिक अंधी पत्रकारिता को उसकी औकात बता रहा है कि पत्रकार जगत जिस अपने आपको लोकतंत्र का चौथा स्‍तभ मनाता है, वह उसकी भूल है। इस देश के सविंधान में चौथे स्‍तम्‍भ की कोई उल्‍लेख नही है। पत्रकार अपने आपकों लोकतंत्र के चौथे स्‍तम्‍भ होने के मद में अपने पत्रकारिता की पढ़ाई के दौरान पढ़ाऐ गये पाठों को भूल जाते है। कि पत्रकारों को नि‍ष्‍पक्षता बरतनी चाहिए और कम से कम बिना साक्ष्‍यों के संवैधानिक पदों पर आसीन (राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, न्‍यायधीश व राज्‍यपाल) के खिलाफ बयानबाजी से बचना चाहिए।
हाल में कुछ माह पहले हिन्‍दी ब्‍लागिंग में भी इस प्रकार का प्रकरण देखने को मिला था जिसमें इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय के मा. न्‍यायमूर्ति श्री एसएन श्रीवास्‍तव को एक सम्‍मानित टीवी चैनल की महिला पत्रकार आरफा ख़ानम शेरवानी द्वारा कुछ लोगों शह पर किसी पार्टी का एजेन्‍ट, मानसिक रूप से असंतुलित, सरकारी वेतन भोगी, बेटे को पेट्रोल पम्‍प दिया गया इसलिये दबाव में आकर फैसला दिया गया तथा आनेक प्रकार के अशोभ‍नीय शब्‍दों का प्रयोग किया गया। जो निश्चित रूप से न्‍यायलय की अवमानना के दायरे में आता है। जब यह बातें जिम्‍मेदार पत्रकार के जुब़ान से निकलती है तो सही में कष्‍ट होता है कि यह समान आज की चकाचौंध में अपनी मूल उद्देश्‍यों से भटक रहा गया है।
हिन्‍दी ब्‍लाग समुदाय की यह घटना श्री सब्‍बारवाल के उपर लगाये गये अरोपों से भी गम्‍भीर है क्‍योकि न सिर्फ न्‍यायधीश पर आक्षेप है बल्कि महौतरमा के द्वारा सम्‍पूर्ण न्‍यायालय तथा न्‍यायधीशों को न सिर्फ गाली दी गयी अपितु भारत के सविधान में वर्णित न्‍यायधीशों के अधिकार और सम्‍मान को चुनौती दी गई थी। भारत के सविधान में साफ वर्णित है कि न्‍यायधीश न तो सरकारी मुलाजिम है और न ही सरकार का वेतन भोगी। पत्रकार समुदाय द्वारा संज्ञानता में यह कदम उठाना निश्चित रूप से महँगा पड़ सकता है, क्‍योकि मीड डे की जगह मौहतरमा का नाम भी हो सकता था।
निश्चित रूप से उच्‍च न्‍यायालय का यह फैसला पत्रकारों के मुँह पर तमाचा है जो मीडिया को दम्‍भ पर गलत काम को बड़ावा देती है। संवैधिनिक पदों पर आक्षेप पर आदालत का यह निर्णय सराहनीय है। न्‍यायालय का यह आदेश अपने आपको चौथा स्‍तम्‍भ मनने वाली बड़बोली मीडिया और पत्रकारों के लिये सीख भी।


Share:

इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय - गीता हो राष्‍ट्रीय ग्रन्‍थ और मदिंरों और हिन्‍दुओं का संगरक्षण दे सरकार



इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपने ताजे फैसले में कहा कि मंदिर या कोई भी धार्मिक संस्था की संपत्ति जिला न्यायाधीश की पूर्व अनुमति के बगैर बेची नहीं जा सकती, ऐसी बिक्री शून्य व अवैध मानी जायेगी तथा राज्य सरकार को निर्देश जारी किया कि एक तदर्थ बोर्ड का गठन किया जाये, तब तक के लिये कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के अवकाश प्राप्त न्यायमूर्ति आर एम सहाय की अध्यक्षता में तदर्थ बोर्ड गठित करने के साथ ही सरकार को निर्देश दिया है कि वह मंदिरों व धार्मिक संस्थाओं की रक्षा के लिए विशेष पुलिस बल बनाये और यह कार्यवाही तीन माह में पूरी कर दी जाये।
Allahabad High Court Building Allahabad High Court
Allahabad High Court Building at Allahabad
माननीय न्यायमूर्ति ने 104 पृष्ठ का निर्णय में इतिहास के साक्ष्य प्रकट करते हुए कहा कि विगत 1300 वर्षों से लगातार सांप्रदायिक एवं समाज विरोधी तत्वों द्वारा हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त किया जा रहा है इस प्रकार के प्रकरणों से सीख लेते हुए राज्य का यह दायित्व है कि वह हिन्दू मंदिरों व धार्मिक संस्थाओं को संरक्षण प्रदान करें और इसके लिए अलग से पुलिस बल या स्पेशल सेल गठित किया जाये।
न्यायालय ने धार्मिक स्वतंत्रता से सम्बन्धित संविधान की अनुच्छेद 25 व 26 का जिक्र करते हुए कहा कि हिन्दुओं को भी धार्मिक आजादी का पूर्ण संरक्षण मिलना चाहिए क्योंकि आजादी के बाद से कुछ विशेष सम्प्रदाय के व्यक्तियों की जनसंख्या पूरे भारत के कुछ जिले/मोहल्लों में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है और इसके फल स्वरूप हिन्दू जनसंख्या अपनी सुरक्षा के लिये अपनी जमीन व मंदिर की संपत्ति बेचकर सुरक्षित हिन्दू बहुल क्षेत्रों में बस रहे है।

न्यायालय ने राज्य को निर्देशित किया कि मंदिरों की सुरक्षा के लिए कानून बनाये ताकि समाज विरोधी सांप्रदायिक तत्वों के मंदिरों पर हमले की प्रवृत्ति पर रोक लगायी जा सके। इसी के साथ न्यायालय ने तिल भांडेश्वर वाराणसी स्थित श्री सालिग्राम शिला गोपाल ठाकुर की प्रतिमा पुनस्र्थापित कर रखरखाव का निर्देश दिया है और राज्य सरकार को निर्देश दिया है कि वह मंदिर के सेवाइती को पूर्ण सहयोग प्रदान करें ताकि मंदिर में राग, भोग व पूजा शांतिपूर्ण ढंग से चलती रहे। एक संप्रदाय की बढ़ती आबादी व तनाव के चलते मंदिर बेचकर उसे इलाहाबाद लाया जा रहा था। इस मामले में न्यायालय ने अधीनस्थ न्यायालय के आदेश को रद कर दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति एसएन श्रीवास्तव ने गोपाल ठाकुर मंदिर के सेवाइत श्यामल राजन मुखर्जी की याचिका को स्वीकार करते हुए दिया है।

न्यायालय ने हिन्दू मंदिरों की देखरेख व सुरक्षा के लिए राज्य सरकार को हिन्दू मंदिरों का बोर्ड गठित करने को भी कहा, जो मंदिरों का पंजीकरण, रखरखाव व प्रबंधन का काम देखेगा इसके सदस्य सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति गिरधर मालवीय तथा प्रमुख सचिव धर्मादा उप्र सरकार सदस्य सचिव होंगे। माननीय न्यायालय ने तदर्थ बोर्ड से कहा कि मामले की जॉच कर चार माह में राज्य सरकार को रिर्पोट सौंप दें। और राज्‍य सरकार को भी आदेश दिया कि वह किसी को भी मंदिरों या धार्मिक संस्थाओं, मठ आदि की संपत्ति बेचने की अनुमति न दे जब तक कि जिला न्यायाधीश की अनुमति न प्राप्त कर ली गई हो एक अन्य मामले में माननीय न्यायमूर्ति श्री श्रीवास्तव ने फैसला देते हुए कहा कि राष्ट्रीय ध्वज, राष्ट्र गान , राष्ट्रीय पक्षी और राष्ट्रीय पुष्प के समान भगवद् गीता को राष्ट्रीय धर्मशास्त्र घोषित किया जाना चाहिए। जस्टिस श्रीवास्तव ने वाराणसी के गोपाल ठाकुर मंदिर के पुजारी श्यामल राजन मुखर्जी की याचिका पर फैसला देते हुए कहा कि देश की आजादी के आंदोलन की प्रेरणा स्रोत रही भगवद् गीता भारतीय जीवन पद्धति है। उन्होंने कहा कि इसलिए संविधान के अनुच्छेद 51(ए) के तहत देश के प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है कि वह इसके आदर्शों पर अमल करें और इस राष्ट्रीय धरोहर की रक्षा करें।

न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि भगवद् गीता के उपदेश किसी खास संप्रदाय की नहीं है बल्कि सभी संप्रदायों की गाइडिंग फोर्स है। गीता के उपदेश बिना परिणाम की परवाह किए धर्म के लिए संघर्ष करने की प्रेरणा देते हैं। यह भारत का धर्मशास्त्र है जिसे संप्रदायों के बीच जकड़ा नहीं जा सकता। न्यायमूर्ति एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि संविधान के मूल कर्तव्यों के तहत राज्य का यह दायित्व है कि भगवद् गीता को राष्ट्रीय धर्मशास्त्र की मान्यता दे।

न्यायालय ने यह भी कहा कि भारत में जन्मे सभी सम्प्रदाय, सिख, जैन, बौद्ध आदि हिंदुत्व का हिस्सा है जो भी व्यक्ति ईसाई, पारसी, मुस्लिम, यहूदी नहीं है वह हिन्दू हैं और भारतीय संविधान के अनुच्छेद 25 व 26 के तहत अन्य धर्मों के अनुयायियों की तरह हिन्दुओं को भी अपने सम्प्रदायों का संरक्षण प्राप्त करने का हक है। न्यायालय ने कहा है कि भगवत गीता हमारे नैतिक एवं सामाजिक मूल्यों की संवाहक है यह हिन्दू धर्म के हर सम्प्रदाय का प्रतिनिधित्व करती है इस लिए प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है कि वह इसके आदर्शों को अमल में लाये। माननीय न्यायमूर्ति के इन फैसलों से इस अल्पसंख्यकों की वास्तविकता स्पष्ट करती है वरन इलाहाबाद और आगरा की घटनाओं के बाद हुई हिंसा से इनकी कट्टरता भी प्रकट करती है। इसके पूर्व में भी माननीय न्यायमूर्ति ने मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं का जो फैसला दिया था वह गलत नहीं था। क्योंकि आज वे संख्या में भले हिन्दुओं से कम है किन्तु आज जिन इलाकों में वे हिन्दुओं से संख्या बल में ज्यादा है वहां पर हिन्दुओं का सर्वाधिक अहित हुआ है। आगरा में ट्रक के टक्कर के परिणाम हिन्दुओं की दुकानों को लूट कर किया गया इलाहाबाद के करेली की अफवाह के परिणाम स्वरूप हिन्दू बस्ती की तरफ हमले की योजना रची गई अगर कर्फ्यू न लगा होता तो शायद वस्तुस्थिति कुछ और होती तथा इसके साथ ही साथ कर्फ्यू के कारण कई परिवारों के भोजन नसीब नहीं हुआ। वास्तव आज न्यायालय के निर्णय समाज और सरकार को वास्तविकता का शीशा दिखा रहा है। जो सरकार आज अल्पसंख्यकवाद का ढोंग रच रही है उसे वास्तविकता के आगे जागना होगा।

माननीय न्यायमूर्ति जी को उनके फैसले तथा स्वर्णिम कार्यकाल के लिये हार्दिक शुभकामनाएं।


Share:

आँसू



आज आपके समाने प्रस्‍तुत है अतिथि योगेन्‍द्र प्रताप सिंह ''विपिन'' जो इलाहाबाद वि‍श्‍वविद्यालय के बीए प्रथम वर्ष के छात्र है, और अपनी रचना आँसू को लेकर उपस्थित हुऐ है। जो इन्‍होनें अपनी स्‍नातक की पाठ्य में बबाणभट्ट की रचना अ‍ॉंसू पढने के बाद मन में आये भावों के द्वारा सृजित की है।
ज़ुदाई के व़क्‍त में धार आँसुओं की है,
हर खुशी हर ग़म में बहार आँसुओं की है।
देखें हमने है जि़न्‍दगी के फ़साने,
यहॉं खुशी और प्‍यार का दीदार आँसुओं में है।
कुऑं है, दरिया है या है नदी
हमने देखा समंदर संसार का आँसुओं में है।
आखि़र रिश्‍ता क्‍या है दिल का ऑंखों से,
जो आता इतना प्‍यार आँसुओं में है।
कौन कहता है कि बहता है ऑंसुँओं में ग़म,
हर मरने वाले का मिलता प्‍यार आँसुओं में है।
देख आँसुओं का ये आल़म-ए-मोहब्‍बत,
मेरा दिल कुर्बान हजार बार आँसुओं पे है।


Share:

रत्‍नों में सौन्‍दर्य ही नही, स्‍वस्‍थ और समृद्धि भी



मानव जीवन के इतिहास में खोजों का बहुत महत्‍वपूर्ण स्‍थान रहा है। प्राचीन काल से लेकर आज तक मनुष्‍य अपनी खोजों के विख्‍यात रहा है। मनुष्‍य के खोजों की कड़ी में रत्‍नों की खोज का भी महत्‍वपूर्ण स्‍थान रहा है। प्राचीनकाल में मनुष्‍य अपनी दुविधा और बाधाओं से ग्रसित रहा है और इन दुविधा और बाधाओं से मुक्ति पाने के लिये रत्‍नों का प्रयोग किया करता था।
लग्नानुसार सभी रत्नों से शुभाशुभ विचार

मनुष्‍यों तथा ऋषियों ने इस धरा पर जो भी सबसे उपयुक्‍त सामग्री पायी उसे रत्‍न की संज्ञा दिया। रत्‍न शब्‍द का प्रथम प्रमाण ऋग्‍वेद के श्‍लोक में मिलती है। जहाँ पर अग्नि को रत्‍न की संज्ञा देते हुऐ कहा गया था- अग्निमीहे सुरोहितम् यज्ञस्‍य देवमृत्विजम् होतारं रत्‍नधातमम्। देवासुर संग्राम के कारण का मुख्‍य लक्ष्‍य रत्‍नों की प्राप्ति ही थी। क्‍योकि इन रत्‍नों का प्रयोग भी स्‍वयं लाभ प्राप्‍त करना था। क्‍याकि देव हो या दानव सभी समुद्र से निकले रत्‍नों को प्राप्‍त कर शक्तिशाली, विजयी और अमर होना चाहते थे। जैसा कि पहले भी उल्‍लेख किया है कि रत्‍नों से तत्‍पर्य केवल हीरा, मोती पन्‍ना मूँगा से न होकर इस विश्‍व कि सर्वश्रेष्‍ठ कृति से है। समुद्र मंथन से निकले कौत्‍सुभ मणि को भगवान विष्‍णु ने हृदय में धारण किया था। भारतीय परिवेश में रत्‍न न केवल सौन्‍दर्य का प्रतीक है वरन यह चिकित्‍सा पद्धति का भी अंग है। जिसका उल्‍लेख आयुर्वेद की प्रसिद्ध पु‍स्‍तक चरक संहिता में हुआ है। आयुर्वेद के अनुसार रोगनाश करने की जितनी क्षमता औषधि सेवन में है उसी के समान रत्न्‍ा का धारण करने भी है। भले ही आज के वैज्ञानिक इस बात को न माने किन्‍तु आचार्य दण्‍डी रत्न की विशेषता बताते हुऐ कहते है- अचिन्‍त्‍यों ही मणिमत्रौषधीनां प्रभावा:
रत्‍नों में सौन्‍दर्य ही नही, स्‍वस्‍थ और समृद्धि भी
भारतीय मनीषी रत्‍नों के चमत्‍कृत प्रभावों से प्रभावित थे तथा उन्‍होने रत्‍नों से सम्‍बन्धित ज्ञान को विभिन्‍न वेदों, पुराणों व उपनिषदों अ‍ादि में संकलित किया। विद्धानों ने यह भी बताया कि अगर रत्‍नों से लाभ है तो रत्‍नों के प्रयोग से हानि भी। किसी भी रत्‍न का मूल्‍य का अनुमान उसकी दुर्लभता से होती है। जो रत्‍न जितना दुर्लभ है वह उतना ही मूल्‍यवान होता है पर किसी रत्‍न के दुर्लभ व मूल्‍यवान होने से यह तय नही हो जाता कि वह उतना ही लाभकारी भी होगा।
अथर्ववेद में मणि का उल्‍लेख करते हुए बताया गया है कि रत्‍नों के धारण करने से ही इन्‍द्र की उन्‍नति हुई और उसे इन्‍द्र पद प्राप्‍त हुआ-
अभीवर्तेन मणिना येनेन्‍द्रो अभिवावृधे।
तेनास्‍मान् ब्राह्मणस्‍पतोभि राष्‍ट्राय वर्धय।।
हमारे धर्म ग्रन्‍थों में रत्‍नों के महत्‍व पर कुशलता पूर्वक प्रकाश डाला गया है तथा यह बताने का प्रयास किया गया कि रत्‍नों के प्रयोग से हम अपनी जीवन शैली को किस प्रकार शान्तिमय बना सकते है। रत्‍नों के नामकरण पर रसेन्‍द्र विज्ञान कहा गया है- रमन्‍तेsस्मिन्‍नतीप जना इति रत्‍ननिरूक्ति अर्थात लोग इसमें ज्‍यादा रमते है इस कारण इसे रत्‍न की संज्ञा दी गई है।
रत्‍नचौर्यनिन्‍दा प्रकरण में मनुस्मृति प्रकाश डालते हुऐ कहती है कि-
मणि मुक्‍ताप्रवालानां ताम्रस्‍य रजतस्‍य च।
अय: कास्‍योंपलाना़ञ्च द्वादशाहं कणन्‍नता।।
अर्थात मणि, मोती, मूँगा, तांबा, चॉंदी, लोहा, कांसा व पत्‍थर अ‍ादि के चुराने का प्राश्‍चित केवल अन्‍न का कण ही खाने पर होता है।
मानव जीवन के साथ-साथ मणि व रत्‍नों में भी संस्‍कार की बात परिलक्षित होती है। संस्‍कारित मणि वह है तो शाण पर चढ़ाकर घिसने पर प्राप्‍त हो। बिना शाण पर चढ़ी मणि संस्‍कारित नही होती है। यहॉं पर संस्‍कार से तात्‍पर्य मणि के गुणवत्‍ता से है। इसके बारे में कहा गया है कि - शाणाश्‍मकषणै: काष्‍णर्यमाकरोत्‍थं मणेरिव।सुभाषितरत्‍नभंडार में भी रत्‍न की संस्‍कारित व असंस्‍कारित होने की बात कहते हुऐ कहा गया है कि जो मणि सीधे खान से प्राप्त होती है वह शुद्ध नही होती है उसमें शुद्धता शाण पर चढ़ने पर ही आती है।
निश्चित रूप से भारतीय शास्‍त्रों और परम्‍परा में रत्‍नों का महत्‍व है, रत्‍न न के वह सौन्‍दर्य का प्रतीक बना बल्कि स्‍वस्‍थ और समृद्धि का प्रतीक भी सदियों से बना है।
माणिक्य और स्वास्थ्य (Ruby and Health)

जन्म कुंडली में जो ग्रह शुभ हो लेकिन वह स्वयं अशुभ, पापी व क्रूर ग्रहों से पीडत होकर कमजोर हो तो उसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए उससे सम्बन्धी रत्न किसी योग्य ज्योतिषी की सलाह पर पहनना चाहिए ! यहाँ दो बातें ध्यान रखनी चाहिए- पहली बात रत्न वही धारण करना चाहिए जो लग्न को नुकसान ना पहुचाये अर्थात लग्न से मित्रवत (स्थिति व पंचधा मैत्री) होना चाहिए और दूसरी बात ध्यान देने की है की सूर्य और चन्द्रमा को छोडकर शेष ग्रह २-२ राशियों के स्वामी है, जिससे यदि कोई ग्रह एक शुभ और एक अशुभ भाव का स्वामी हो तो उसे प्रभावी बनाने से दोनों भावों के फलों में वृद्धि होगी इस कारण से ऐसे ग्रह का रत्न धारण बहुत ही विचार से करना चाहिए !सभी लग्न में कुछ ग्रहों के रत्नों को मोटे तौर पे त्याग दिया जाता है और कुछ ग्रहों के रत्नों को उपयोग में लेते है ! लग्नों की स्थिति अनुसार सभी का फल निम्नलिखित है !


मेष लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
पंचमेश, त्रिकोणेश, योगकारक
अतीव शुभ
चंद्र  मोती
चतुर्थेश, केन्द्रेश, मित्र, तटस्थ
सम*
मंगल  मूंगा
लग्नेश, अष्टमेश
शुभ#
बुध  पन्ना
पराक्रमेश, षष्ठेश, अकारक, शत्रु
अशुभ
गुरु  पुखराज
भाग्येश, व्ययेश, त्रिकोणेश, मित्र
सम
शुक्र  हीरा
मारकेश, केन्द्रेश, शत्रु
अशुभ
शनि  नीलम
आयेश, केन्द्रेश, बाधक
सम


  • *केंद्र के ग्रह अपनी शुभता या अशुभता या छोड देते है ! यदि दो राशियों के स्वामी है तो अपनी दूसरी राशि का फल करते है !
  • # लग्नेश पर अष्टमेश होने का दोष नहीं लगता है !

वृष लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
केन्द्रेश, सुखेश, शत्रु, तटस्थ
सम
चंद्र  मोती
तृतीयेश, पराक्रमेश
अशुभ
मंगल  मूंगा
सप्तमेश, मारकेश, व्ययेश
अशुभ
बुध  पन्ना
पंचमेश, त्रिकोणेश, धनेश
शुभ
गुरु  पुखराज
अष्टमेश, आयेश, बाधक
अशुभ
शुक्र  हीरा
लग्नेश, षष्ठेश
शुभ
शनि  नीलम
भाग्येश, कर्मेश, योगकारक
शुभ



मिथुन लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
अकारक, पराक्रमेश
अशुभ
चंद्र  मोती
धनेश, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
षष्ठेश, एकादशेश, अकारक
अशुभ
बुध  पन्ना
लग्नेश, चतुर्थेश, योगकारक
शुभ
गुरु  पुखराज
सप्तमेश, कर्मेश, बाधक, मारक
अशुभ
शुक्र  हीरा
त्रिकोणेश, व्ययेश, मित्र
शुभ
शनि  नीलम
भाग्येश, अष्टमेश
सम



कर्क लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
धनेश, मित्र, सामान्य मारक
सम
चंद्र  मोती
लग्नेश, कारक
शुभ
मंगल  मूंगा
योगकारक, त्रिकोणेश, कर्मेश
अतीव शुभ
बुध  पन्ना
अकारक, पराक्रमेश, व्ययेश
अशुभ
गुरु  पुखराज
षष्ठेश, भाग्येश, तटस्थ
सम
शुक्र  हीरा
बाधक, केन्द्रेश, आयेश
अशुभ
शनि  नीलम
मारकेश, अष्टमेश
अशुभ



सिंह लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
लग्नेश, कारक
शुभ
चंद्र  मोती
व्ययेश, मित्र, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
योगकारक, त्रिकोणेश, केन्द्रेश
शुभ
बुध  पन्ना
मारक, आयेश, एकादशेश
अशुभ
गुरु  पुखराज
पंचमेश, अष्टमेश, तटस्थ
सम
शुक्र  हीरा
केन्द्रेश, तृतीयेश
अशुभ
शनि  नीलम
अकारक, मारक, षष्ठेश
अशुभ


कन्या लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
व्ययेश
अशुभ
चंद्र  मोती
आयेश, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
अकारक, अष्टमेश, तृतीयेश
अशुभ
बुध  पन्ना
योगकारक, लग्नेश
अतीव शुभ
गुरु  पुखराज
बाधक, केन्द्रेश
अशुभ
शुक्र  हीरा
भाग्येश, धनेश, मारकेश
सम
शनि  नीलम
त्रिकोणेश, षष्ठेश, मित्र
शुभ


तुला लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
लाभेश, बाधक, शत्रु
अशुभ
चंद्र  मोती
कर्मेश, केन्द्रेश, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
मारकेश, धनेश
अशुभ
बुध  पन्ना
त्रिकोणेश, व्ययेश, मित्र
सम
गुरु  पुखराज
अकारक, त्रिषडायेश, शत्रु
अशुभ
शुक्र  हीरा
लग्नेश, षष्ठेश, कारक
शुभ
शनि  नीलम
योगकारक, त्रिकोणेश
अतीव शुभ



वृश्चिक लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
कर्मेश, मित्र, कारक
अतीव शुभ
चंद्र  मोती
भाग्येश, योगकारक, बाधक
सम  
मंगल  मूंगा
लग्नेश, कारक, षष्ठेश
शुभ
बुध  पन्ना
अकारक, अष्टमेश
अशुभ
गुरु  पुखराज
धनेश, पंचमेश, मारक, तटस्थ
सम
शुक्र  हीरा
सप्तमेश, मारकेश, व्ययेश
अशुभ
शनि  नीलम
तृतीयेश, केन्द्रेश
अशुभ



धनु लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
त्रिकोणेश, भाग्येश
अतीव शुभ
चंद्र  मोती
अष्टमेश, मित्र, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
पंचमेश, व्ययेश
सम
बुध  पन्ना
बाधक, मारक, केन्द्रेश
अशुभ
गुरु  पुखराज
त्रिकोणेश, लग्नेश, सुखेश
शुभ
शुक्र  हीरा
अकारक, त्रिषडायेश
अशुभ
शनि  नीलम
मारक, पराक्रमेश, शत्रु
अशुभ



मकर लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
अष्टमेश, तटस्थ
सम
चंद्र  मोती
सप्तमेश, केंद्रश, तटस्थ
सम
मंगल  मूंगा
बाधक, सुखेश
अशुभ
बुध  पन्ना
भाग्येश, षष्ठेश
सम
गुरु  पुखराज
अकारक, व्ययेश
अशुभ
शुक्र  हीरा
योगकारक, कर्मेश, मित्र
अतीव शुभ
शनि  नीलम
लग्नेश, धनेश, कारक
शुभ



कुंभ लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
सप्तमेश, तटस्थ
सम
चंद्र  मोती
षष्ठेश, अकारक
अशुभ
मंगल  मूंगा
केन्द्रेश, तृतीयेश, शत्रु
अशुभ
बुध  पन्ना
पंचमेश, अष्टमेश
सम
गुरु  पुखराज
मारक, एकादशेश
अशुभ
शुक्र  हीरा
योगकारक, सुखेश, भाग्येश
अतीव शुभ
शनि  नीलम
कारक, लग्नेश, व्ययेश
शुभ

  

मीन लग्न :

ग्रह  रत्न
स्थिति विशेष
फल
सूर्य - माणिक्य
षष्ठेश, तटस्थ
सम
चंद्र  मोती
पंचमेश, कारक
शुभ
मंगल  मूंगा
भाग्येश, धनेश, मारक
सम
बुध  पन्ना
बाधक, मारक, चतुर्थेश
अशुभ
गुरु  पुखराज
योगकारक, लग्नेश, कारक
अतीव शुभ
शुक्र  हीरा
अकारक, अष्टमेश, पराक्रमेश
अशुभ
शनि  नीलम
लाभेश, व्ययेश
अशुभ


Share: