देवाशीष भी तो सांड़ के साथ घूम रहा है



अभी हाल में ही एक पोस्‍ट पर श्री देवाशीष जी की श्री अरूण जी को समर्पित एक टिप्‍पणी पढ़ी और पुन: टिप्‍पणीकार उनकी टिप्‍पणी को पढ़ तो एक वाक्‍या याद आ गया सोचा कि आप सभी शेयर कर लिया जाये।क्‍योकि जब जब मै इस टिप्‍पणी को पढ़ता हूँ तो पेट दर्द करने लगात है।
जैसा कि श्री अरूण जी और श्री देवाशीष जी में काफी प्रेम भाव का रिस्‍ता है और यह बात हर किसी को पता ही है। कुछ दिनों इसी प्रेम के वशीभूत होकर श्री अरूण जी ने भी मेरे ब्‍लाग पर एक टिप्‍पणी की थी वह आज आपके सामने प्रस्‍तुत कर रहा हूँ -
अरुण ने कहा…
अरे वाह जी बधाई अब आप भी एक नंबर की दौड मे है..पर प्रथम पुरुष कहा है कही पेड़ की डाली पर कूद कूद कर मै नंबर एक हूँ का हल्ला काट रहा होगा ..? पर वो आपको प्रमाणित नही कर सकता. भाई आखिर बडे नामो की चमचा गिरी करने की कोशिश करना, और आप की सत्य बात को मानना दोनो अलग अलग बात है ना..? और सत्य से उसका जैसा नाता है वो सर्व विदित है..? वैसे उसे आजकल उसे फ़ोटो खिचाने और कूदने के लिये एक नकली सांड भी मिल गया है..हो सकता है वही वयस्त हो..:)  28 अगस्त, 2007 19:53
 चित्र श्री देवाशीष जी के सौजन्‍य सें

एक साँड से मुलाकात
चेतावनी- यह मेरी राय नही है, :-)

निवेदन ---- हम अपना सामूहिक ब्‍लाग महाशक्ति समूह 1 नवम्‍बर से प्रारम्‍भ कर रहे है। आपका हार्दिक स्‍वागत है।


Share:

ब्‍लागर पंचायत



आज से लगभग दो माह पूर्व रामचन्द्र मिश्र जी का इलाहाबाद आना हुआ था। उनसे पहले मिलने का वर्णन मै पहले ही कर चुका था। किन्तु उन्होंने एक ब्‍लागर पंचायत का में सचिव पंच का निमंत्रण मिला था सो उन्‍होने मुऐ फोन मिलाया और कहा कि इलाहाबाद में एक ब्‍लागर पंच सदस्य के रूप में कम पड़ रहा है अगर खाली हो तो आ जाओ। मैने भी अपने पारिवारिक विवरण देते हुए कहा कि मै घर में पूछ कर ही बता पाऊंगा कि खाली हूँ कि नही। क्योकि मै तो फ्री हूँ किन्तु घर में कोई मेरे कारण काम न रूके। उन्होंने भी हॉं मे हॉं मिलाते हुए कहा कि घर पहले जरूरी है।

करीब मैने भी एक घंटे बाद उन्हें फोन करके हॉं कह दिया, और नियत समय पर उनके घर पर पहुँच गया। फिर वहां से हम पहले यूनिवर्सिटी के विज्ञान संकाय पहुँचे, और वहॉं पर हमसे एक और ब्लॉगर श्री संतोष कुमार पाण्डेय जी से मुलाकात हुई जो इस पंचायत के उपाध्‍यक्ष भी थे। और वहां से हम मोटर साइकिल पर सवार होकर पहुँच संतोष जी के घर पर, फिर वहॉं एक और उदयीमान ब्‍लागर पहले से मौजूद से और उनसे हमारा परिचय हुआ, और उन्होंने हमारा चरण स्पर्श भी किया, इस सम्मान को पार कर रामचन्‍द्र भाई साहब का सीना चौड़ा हुआ कि लम्बा किन्तु मेरा जरूर चौड़ा हो गया था। ऐसा नही है कि मेरे लिये यह पैर छूने वाला सम्‍मान पहली बार मिला था किन्‍तु परिवार से बाहर यह पहली बार ही था। चूकिं मै अपने गॉंव के परिवार की दृष्टि में भाइयों में सबसे छोटा हूँ, और मेरे सबसे बड़े चचेरे भाई का तो स्‍वर्गवास चुका है जिनकी उम्र और मेरी उम्र में तीन गुने का अन्‍तर है, और परम्‍पराओं के की दृष्टि से 4 दर्जन से ज्‍यादा बच्‍चों का चाचा, बाबा, नाना आदि हँ, जिसमें से अधिक्‍तर में बच्‍चे मेरी उम्र से बडें है किन्‍तु प‍द की गरिमा के मुझे यह सम्‍मान मिलता रहता है किन्‍तु सबसे ज्‍यादा दिक्‍कत तब आती है जब कभी कोई मेरी उम्र से बड़ा मेरे पैर को छूता था। पर क्‍या कर सकता हूँ सिवाय हंसी और जुग जुग जियों और फलो फूलों के आशीर्वाद के अलावा। यह सम्‍स्‍या तो मुझे ब्‍लागिंग में भी आती है खैर अब मुद्दे पर आता हूँ, और इसकी चर्चा फिर करूँगा।










चित्र संतोष जी के सौजन्‍य से
चूंकि रामचंद्र जी ने मुझे निमंत्रण दिया था और पूरे कार्यक्रम की जानकारी से अनभिज्ञ रखा कि खाने को भी काफी आइटम रखा गया है, चूंकि अपने अदातानुसार मै जब कहीं जाता हूँ तो पेट की टंकी थोड़ा लोड करके ही चलता हूँ अगर खाने पर भी बुलाया गया हो तो भी, पता नहीं क्‍या दिक्‍कत हो और देर से भोजन मिलें और कहा भी गया है कि भूखे भजन न हो गोपाला, सो भोजन की सूचना नहीं थी तो हम सम्पूर्ण रूप से भोजन करके ही गये थे। फिर जब भोजन की बारी आई तो प्रथम काफी न नुकुर किया किंतु इतने अच्छे और भोजन को इनकार करना अन्न देवता का अपमान करना होता। फिर काफी सोच विचार कर भोजन लिया गया। वाकई भोजन काफी स्वादिष्ट था और संतोष जी की श्रीमती जी इसके लिये विशेष बधाई की पात्र थी। उनका पूरा परिवार हमसे और हम उनके परिवार सें मिलकर काफी प्रसन्न थें। खाने पर मेरे महाशक्ति होने प्रश्‍न चिन्ह उठाया गया कि शरीर से तो महाशक्ति नही दिखते हो ? पर मेरा कहना था कि शरीर से होना या न होना मायने नही रखता है बल्कि दृढ़ इच्छा शक्ति मायने रखती है। और खाने के समय यह निर्धारण हो भी गया। मुझसे कम भोजन लेने के बाद भी राम चन्द्र जी ने खाना छोड़ दिया, किन्तु मै खाना खा कर जाने के बाद भी पूरा खाना खाया क्योंकि मेरा मानना है कि खाना उतना ही लेना चाहिए जितना आप खा सके और खिलाने वाले को भी इतना देना चाहिए जितना कि खाने वाला खा सके। अन्न बर्बाद करना ठीक नहीं। फिर काफी देर तक हम लोगों फोटू खिचइया किया, और काफी बातें की। जान कर अच्छा लगा कि मेरे ब्लॉग को उनकी श्रीमती जी भी पढ़ती थी पर उन्होंने एक प्रश्‍न रखा कि घुघुती बासुती कौन है इसका जवाब मै नही दे सका। क्योंकि मैंने घुघुती जी के ब्लॉग को तो पढ़ा है किन्तु कभी विशेष बात व्यवहार नही हुआ।

उनके परिवार में मेरे स्वभाव के प्रति काफी चर्चा हुई, के इतना उग्र क्यों लिखते हो आदि आदि। और भी चर्चायें ओर प्रश्‍न उत्‍तरी हुई और एक दूसरे को बेहतर जानने का मौका मिला। फिर अचानक रामचन्‍द्र भाई ने कहा कि आपकी वो वीडियों वाली छत कहॉं है फिर उस छत पर हम लोग गये और वहॉं भी सूटिग की। किन्तु हमारी सूटिग से प्रकृति नाराज चल रही थी, और एक बहुत बड़ा मधुमक्‍खी का झुन्‍ड हमें नीचे उतरने पर मजबूर कर दिया। नीचे आने पर पता चला कि हमें ब्‍लागर पंचायत के अध्यक्ष अर्थात श्री ज्ञानदत्त जी के यहां भी जाना है। मैने और रामचंद्र जी ने उनके परिवार को धन्यवाद और नमस्कार कर ज्ञान जी के यहां चल दियें।

काफी मशक्‍कत के बाद हम श्री ज्ञान जी के यहां पहुंचे और उन्होंने हमारा गर्मजोशी के साथ स्वागत, दिल से सम्मान और आशीर्वाद दिया। फिर ज्ञान जी के साथ हमारी पंचायत करीब 20 मिनट की रही होगी। और इन बीच मिनट में हम लोगों ने काफी कुछ एक दूसरे के बारे में जाना और पहचाना भी, उम्र और तर्जुबे में काफी वरिष्ठ ज्ञान जी कतई ऐसे नहीं लगे कि वे एक बड़े अधिकारी है उन्होंने हमसे एक ब्लॉगर की तरह ही बर्ताव किया जैसे एक राजा एक राजा एक राजा के साथ करता है उसी स्टाइल में। सच कहूँ तो जब किसी अच्छे इंसान से मिलना होता है तो कोशिश करता हूँ कि कुछ अच्छे गुण सीख लिये जाये चाहे वह मेरा विरोधी ही क्यों न हो।

ज्ञान जी से मिलने पर मैने उनके उस साईट के बारे में पूछा जो मस्तिष्‍क के विषय पर बनने जा रही थी तो उन्‍होने निराशा भरे स्‍वरों में कहा कि लोग आगे नही आ रहे है, सबसे बड़ी समस्‍या है मैटर के हिन्‍दीकरण करनें की। और मेरे जान में यह समस्‍या कठिन भी है क्‍योकि किसी भी कथन का अनुवाद निश्चित रूप से उसी शैली में हो तभी उसका लक्ष्‍य पूरा होगा। जहाँ तक अगर टंकण में सहयोग कि बात पर मैने उन्‍हे पूरा सहयोग करने का वचन भी दिया, साथ ही साथ रामचन्‍द्र भाई ने भी अनुवाद में उनकी सहायता करने भरोसा दिया। निश्चित रूप से हमारी छुद्र सहायता के आश्‍वासन से उनके चेहरे पर मुसकान दिख रही थी। हॉं यह सही भी थी क्‍योकि जिस काम को आप अपना लक्ष्‍य और निष्‍ठ रहती है उसे करने में आप तन मन धन सब लगा देते है। मेरा सभी ब्‍लागर समुदाय से अनुरोध है कि इस मामले को गम्‍भीरता से लें, और उनके भगीरथी सहयोग करें। कुछ चर्चा हमारी पढ़ाई लिखाई पर भी हुई, कि क्‍या हो रहा है ?

इन्ही चर्चाओं के बीच कैसे 15-20 मिनट कैसे बीत गये पता ही नही चला। अंत में सभी से नमस्कार, चरण स्पर्श भी हुआ और हमने एक दूसरे से विदा लिया। आज इसे करीब 3 माह बाद लिख रहा हूँ मेरी स्‍मृति कितनी अच्छी है यह तो पंचायत के अन्‍य सदस्‍य ही बता सकते है। एक बात का जरूर दुख है कि एक दो ब्लॉगरों को छोड़कर जिससे भी मै मिला किसी ने कोई मिलन पोस्ट नहीं खैर मै तो लिखूँगा ही, चाहे साल भर ही लग जाये। :) अगर कुछ लिखने में गलती हुई होगी तो माफ कीजिएगा।


Share:

प्रत्‍यक्षा जी का जन्‍मदिन बार बार क्‍यो चला आता है ?





जन्‍मदिन भी बड़ा अजीब दिन है, हर साल मुँह उठाकर चला आता है। :) अभी अभी कुछ देर पहले अनूप जी की पोस्ट पढ़ी तो पता चला कि आज फिर से प्रत्‍यक्षा जी का जन्म दिन आ गया है। जबकि अभी पिछले ही साल अक्टूबर में हम सबने मिलकर प्रत्‍यक्षा जी का जन्मदिन मनाया था।

जन्मदिन भी बिन बुलाये मेहमान की तरह चला आता है और पूरे दिन अपनी मनमानी करता है, और फिर अगले दिन एक साल और गुजर जाने का एहसास करा कर चला जाता है कहता कि देख बन्‍दे तुझे पिछले साल कहा था कि अच्‍छे अच्‍छे काम करूँगा पर किया नही इस बार तो कर। यह संदेश देकर पुन: आ धमकाने की धमकी देकर कि रिपोर्ट कार्ड दे‍खूँगा, कहकर चला जाता है। :)

निश्चित रूप से प्रत्‍यक्षा जी सफल है और उनका रिपोर्ट कार्ड भी अच्‍छा, उन्‍हे चिन्तित होने की कोई आवश्यकता नही है। और इस बार की जन्मदिन की शुभकामना स्वीकार करें और अगले जन्मदिन की तैयारी शुरू कर दें। क्‍योकि पता नही ये प्रत्‍यक्षा जी का जन्मदिन बार बार क्यों चला आता है ? :)


कुछ स्माइली एक्‍सट्रा दे रहा हूँ लगा कर पढ़ लीजिएगा। :) :) :) :) :) :) :D :D :D ;) ;)



Share:

गांधी का अहं



 Mahatma Gandhi and Subhas Chandra Bose: A Clash of Ideology
भारतीय स्वतंत्रता के इतिहास में एक ऐसा समय भी आया जब गांधी जी को अपने अस्तित्व पर संकट नज़र आने लगा था। गांधी जी को एहसास होने लगा था कि अगर अब प्रतिरोध नहीं किया गया तो, “गांधी” से भी बड़ा कोई नाम सामने आ सकता है। जो स्वतंत्रता की लड़ाई “गांधी” नाम की धुरी पर लड़ा जा रहा था, वह युद्ध कहीं किसी और के नाम से प्रारम्भ न हो जाये। वह धुरी गांधी जी को नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के रूप में स्पष्ट दिखाई दे रहा था। यह एक ऐसा नाम था जो गांधी जी को ज्यादा उभरता हुआ दिखाई दे रहा था। देश की सामान्य जनता सुभाष बाबू में अपना भावी नेता देख रही थी। सुभाष बाबू की लोकप्रियता दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ रही थी। जो परिस्थितियां गांधी जी ने अपने अरमानों को पूरा करने के‍ लिये तैयार की वह सुभाष चन्द्र बोस के सक्रिय रूप से सामने आने पर मिट्टी में मिलती दिख रही थी। गांधीजी को डर था कि जिस प्रकार यह व्यक्ति अपने प्रभावों में वृद्धि कर रहा है वह गांधी और नेहरू के प्रभाव को भारतीय परिदृश्य से खत्म कर सकता है। इन दोनों की भूमिका सामान्य स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की भांति होने जा रही थी। गांधी और नेहरू की कुटिल बुद्धि तथा अंग्रेजों की चतुराई को यह कदापि सुखद न था। इस भावी परिणाम से भयभीत हो नेता जी को न केवल कांग्रेस से दूर किया गया बल्कि समाज में फैल रहे उनके नाम को समाप्त करने का प्रयास किया गया। यह व्यवहार केवल नेता जी के साथ ही नहीं हर उस स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के साथ किया गया जो गांधी जी के अनर्गल प्रलापों का विरोधी था और उनकी चाटुकारिता करना पसंद नहीं करता था तथा देश की आज़ादी के लिये जिसके मन में स्पष्ट विचार थे।
Funny Mahatma Gandhi by endarte on DeviantArt

गांधी और सुभाष का स्वतंत्रता संग्राम में आने में एक समानता थी कि दोनों को ही इसकी प्रेरणा विदेश में प्राप्त हुई। किन्तु दोनों की प्रेरणा स्रोत में काफी अंतर था। गांधी जी को इसकी प्रेरणा तब मिली जब दक्षिण अफ्रीका में अंग्रेजों द्वारा लात मार कर ट्रेन से उतार दिया गया, और गांधी जी को लगा कि मैं एक कोट पैंट पहने व्यक्ति के साथ यह कैसा व्यवहार किया जा रहा है? अंग्रेजों द्वारा लात मारने घटना गांधी जी को महान बनाने में सर्व प्रमुख थी। अगर गांधी जी के जीवन में यह घटना न घटित हुई होती तो वह न तो स्वतंत्रता के प्रति को ललक होती, और न ही आज राष्‍ट्रपिता का तमका लिये न बैठे होते, न ही उनकी गांधीगिरी अस्तित्व में हो।
Why is Netaji Subhas Chandra Bose called Netaji?
वही सुभाष चन्द्र बोस इंग्लैंड में भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Civil Service) की परीक्षा के दौरान देश में घट रहे जलियावाला बाग काण्ड, रोलेट एक्ट, तथा कांग्रेस के द्वारा इन घटनाओं के परिपेक्ष में असहयोग आंदोलन जैसी घटनाओं प्रभावित हो उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में आना उचित समझा। उनके जहान में देश के प्रति प्रेम और इसकी स्वतंत्रता के भाव का संचार हो गया। उन्होंने भारतीय प्रशासनिक परीक्षा चौथे स्थान पर रह कर पास की थी। ऊँचा रैंक था, ऊँचा वेतन और किसी राजा से भी बढ़कर मान सम्मान एवं सुख सुविधाएं उन्हें सहज प्राप्त थी। सुभाष बाबू किसी अंग्रेज ने छुआ तक नहीं था। किन्तु भारत माँ की करुण पुकार ने उन्हें देश भक्ति के लिए प्रेरित किया। उन्होंने समस्त सुख सुविधाओं से त्यागपत्र दे दिया। त्यागपत्र में कहा- “मै नही समझता कि कोई व्यक्ति अंग्रेजी राज के प्रति निष्ठावान भी रहे तथा अपने देश की मन, आत्मा तथा ईमानदारी से सेवा करें, ऐसा संभव नही।” 
नेता जी विदेश से लौटते ही देश की सेवा में लग गये और जब 1925 ई. को कलकत्ता नगर निगम में स्वराज दल को बहुमत मिला तो उन्होंने निगम के प्रमुख के पद पर रहते हुए अनेक महत्वपूर्ण काम किये।
1928 मे जब कलकत्ता में भारत के लिये स्वशासी राज्य पद की मांग के मुख्य प्रस्ताव को महात्मा गांधी ने प्रस्तावित किया। तो सुभाष बाबू ने उसमें एक संशोधन प्रस्तुत किया, जिसमें पूर्ण स्वराज की मांग की गई। गांधीजी पूर्ण स्वराज रूपी संशोधन से काफी खिन्न हुए, उन्होंने धमकी दिया कि यदि संशोधित प्रस्ताव पारित हुआ तो वे सभा से बाहर चले जायेगे। गांधी जी के समर्थकों ने इसे गांधी जी की प्रतिष्ठा से जोड़ दिया, क्योंकि अगर गांधी की हार होती है तो निश्चित रूप से समर्थकों की महत्वाकांक्षाओं को झटका लगता, क्योंकि गांधी के बिना वे अपंग थे। समर्थकों की न कोई सोच थी और न ही सामान्य जनों के विचारों से उनका कोई सरोकार था। सिर्फ और सिर्फ महत्वाकांक्षा ही उनके स्वतंत्रता संग्राम का आधार थी। यही उनके संग्राम सेनानी होने के कारण थे। गांधी जी की इस प्रतिष्ठा की लड़ाई में अंग्रेज सरकार की पौबारा हो रही थी। सुभाष बाबू का संशोधित प्रस्ताव 973 के मुकाबले 1350 मतो से गिर गया। गांधी की आंधी के आगे सुभाष बाबू को 973 वोट प्राप्त होना एक महत्‍व पूर्ण घटना थी। यहीं पर गांधी जी का स्वराष्ट्र से बड़ा हो गया। गांधी जी के अहं के आगे उन्ही का सत्‍य, अहिंसा, और आर्शीवचन पाखंड साबित हुआ और जिस लाठी सहारे वह चलते थे वही लाठी कांग्रेसियों के गुंडई प्रमुख अस्त्र बन गई। कांग्रेसियों द्वारा गांधी जी के नाम को अस्त्र बना अपना मनमाना काम करवाया, और इस कुकृत्य में गांधी जी पूर्ण सहयोगी रहे। इसका फायदा मिला सिर्फ और सिर्फ अंग्रेजी साम्राज्य को।


Share:

ये इण्डिया कम्‍यूनिटी है या पाकिस्‍तान PPP



मै कुछ दिनों से असक्रिय रहा, इसी बीच मुझे इण्डिया कम्युनिटी से बिना कारण बताए बाहर कर दिया गया। साथ ही साथ मैंने गांधी विषय एक प्रश्न को भी इस मंच से निकाल दिया गया। जो कि पूर्णात: गलत है। यह काम कम से कम इण्डिया कम्युनिटी का नही ही हो सकता है, सही आज अनुभव हुआ कि इंडिया में भी एक पाकिस्तान रहता है। अगर गांधी विषयक प्रश्‍न के कारण मुझे निकाला गया है तो यह और भी गलत कृत्‍य है। कयोकि मै एक स्‍वथ्‍य चर्चा चाह रहा था, और चर्चा वैसी ही चल रही थी।गांधी विषयक यह प्रश्न केवल आज का युवा मन टटोलने की कोशिस भर था। अगर स्वस्थ चर्चा होती है तो इसमें कम्‍यूनिटी ऑनर या मॉडरेटर को क्या आपत्ति हो सकती है? आज के दौर मे जब राम पर प्रश्न उठाया जा रहा है तो गांधी पर चर्चा से परहेज क्यों ? यह प्रश्‍न उठाने का मुख्‍य वह मुझे आपने ब्‍लाग http://pramendra.blogspot.com/ पर गांधी विषयक लेख http://pramendra.blogspot.com/2007/10/blog-post.html के लिये था। गांधी के ऊपर सच्‍चाई भरा लेख जल्‍द ही मै इसकी अगली कड़ी लेकर आने वाला हूँ। वैसे यह प्रश्‍न केवल एक इस ही कम्‍यूनिटी में नही रखा गया था। और आज भी सभी जगह चचाऐं हो रही है।



अगर मेरा यह प्रश्न इस कम्युनिटी में गलत था, तो मै स्वयं इस कम्‍यूनिटी में नहीं रहना चाहूँगा। पर मै अपनी पूरी बात जरूर रखूँगा। किंतु मुझे अपनी बात रखें बिना यहां से हटाना कायरता होगी। अगर यही कारण है मुझे हटाने कि तो मै स्‍वंय अपनी बात रख कर, 7 दिनों के भीतर इस कम्‍यूनिटी को छोड़ दूंगा। मुझे ऐसी छुई मुई कम्युनिटी का सदस्य कहलाने में शर्म आती है। सही एक बात तो है इस कम्युनिटी का नाम भारत नहीं रखा इण्डिया रखा है क्योंकि ऐसी घटिया अल्‍प विकसित सोच अंग्रेजों के इंडिया की ही हो सकती है।


जय हिन्‍द जय भारत



Share:

बोध कथा- ध्या‍न और सेवा



भारत के महान संत, संत ज्ञानेश्वर की जयंती। Sant Gyaneshwar


एक बार ज्ञानेश्‍वर महाराज सुब‍‍ह-सुबह‍ नदी तट पर टहलने निकले। उन्होंने देखा कि एक लड़का नदी में गोते खा रहा है। नजदीक ही, एक सन्यासी ऑखें मूँदे बैठा था। ज्ञानेश्वर महाराज तुरंत नदी में कूदे, डूबते लड़के को बाहर निकाला और फिर सन्यासी को पुकारा। संन्यासी ने आँखें खोलीं तो ज्ञानेश्वर जी बोले- क्या आपका ध्यान लगता है? संन्यासी ने उत्तर दिया- ध्यान तो नहीं लगता, मन इधर-उधर भागता है। ज्ञानेश्वर जी ने फिर पूछा लड़का डूब रहा था, क्या आपको दिखाई नहीं दिया? उत्तर मिला- देखा तो था लेकिन मैं ध्यान कर रहा था। ज्ञानेश्वर समझाया- आप ध्यान में कैसे सफल हो सकते है? प्रभु ने आपको किसी का सेवा करने का मौका दिया था, और यही आपका कर्तव्य भी था। यदि आप पालन करते तो ध्यान में भी मन लगता। प्रभु की सृष्टि, प्रभु का बगीचा बिगड़ रहा है1 बगीचे का आनन्द लेना है, तो बगीचे का सँवरना सीखे।

यदि आपका पड़ोसी भूखा सो रहा है और आप पूजा पाठ करने में मस्त है, तो यह मत सोचिये कि आपके द्वारा शुभ कार्य हो रहा है क्योंकि भूखा व्‍यक्ति उसी की छवि है, जिसे पूजा-पाठ करके आप प्रसन्न करना या रिझाना चाहते है। क्या वह सर्व व्यापक नही है? ईश्‍वर द्वारा सृजित किसी भी जीव व संरचना की उपेक्षा करके प्रभु भजन करने से प्रभु कभी प्रसन्न नहीं होगे।

प्रेरक प्रसंग, बोध कथा


Share:

मेरियन जोंस



मेरियन जोंस Marion Jones

अर्श से फर्श की कहावत तो हम सबने सुनी ही है। कुछ दिनों पूर्व यह कहावत चरितार्थ भी हो गई। विश्‍व रेस ट्रैक की महारानी कही जाने वाली मेरियन जोंस ने अपने पूरे करियर में प्रतिबंधित दवाओं के सेवन की बात स्वीकार ली, और खेल से संन्यास ले लिया। मैरियन की यह स्‍वीकारोक्ति निश्चित रूप में मेरे जैसे लाखों, प्रशंसकों को एक सदमा तो जरूर पहुचाया है। सबसे अधिक खिन्नता यह सोच कर होती है कि रेस कोर्स में हम जिस खिलाड़ी का सर्मथन कर रहे थे वह विश्वासघाती खिलाड़ी निकली। खैर मारियन ने सिडनी ओलम्पिक के 7 साल बाद मारियन ने यह स्वीकार किया वह अपने कृत्य के लिए दोषी है।


प्रतिबंधित दवा का सेवन करने की बात स्वीकार करने के बाद मारियन ने संन्यास लेने के बाद 2000 के सिडनी ओलंपिक में जीते सभी पांच पदक यूनाइटेड स्टेट ओलंपिक कमेटी को वापस लौटा दिए। इसके साथ ही साथ कमेटी ने जोंस से बोनस व इनाम के रूप में मिले एक लाख अमेरिकी डॉलर भी लौटाने को कहा है, जो नैतिक रूप से सही भी है क्योंकि वह गलती स्वीकार कर लेने के बाद किसी भी प्रकार से पुरस्कार की हकदार नही रह जाती है। अब मेरियन जोंस द्वारा लौटाये गये पदक उनके सही हकदारों को लौटा दिया जायेगा।


अमेरिका की फर्राटा धावक मैरियन जोंस ने 2000 के सिडनी ओलंपिक खेलों से पहले स्टेरॉयड का सेवन किया था, उसने सिडनी ओलंपिक में तीन स्वर्ण सहित पांच पदक जीते थे। जोंस ने 1999 की शुरुआत से लगभग दो वर्ष तक बे एरिया लेबोरेटरी कोऑपरेटिव (बालको) द्वारा उत्पादित ‘द क्लीयर’ नाम के स्टेरॉयड का सेवन किया था। इसी प्रतिबंधित दवा के सेवन के मामले में उन्हें दोषी पाया गया था।

अब मैरियन की सफलता कहा जाये या धोखाधड़ी, उन्होंने 2000 सिडनी ओलंपिक में 100, 200 व 4 गुणा 400 मीटर में स्वर्ण और 4 गुणा 100 मीटर दौड़ व लांग जंप का कार्य तथा 1997 की वर्ल्ड कप चैंपियनशिप में दो, 1999 में सेविले और 2001 में एडमंटन में एक-एक स्वर्ण पदक जीते थे। निश्चित रूप से गोल्‍डन गर्ल कहलाने वाली जोंस ने अपने कुकृत्‍यों के कारण अपना नाम खराब कर लिया है। क्योंकि खेल में खेल भावना अहम होती है न कि जीत-हार किंतु मेरियन ने खेल भावना को अपमानित किया है।


Share:

पिछले 10 दिनों में तीन विवादित पोस्‍टें




आज काफी दिनों बाद कुछ लिख रहा हूँ, आज लिखने का कोई मूड नहीं था किन्तु सच कहूँ तो लिखने के लिये मजबूर होना पड़ा। इस माह मैंने कुल 3 या

4 पोस्टें की थी और उसमें से भी 2/3 से ज्यादा विवादित निकल गई। :) पहली तो महात्मा गांधी पर एक सर्वेक्षण का था। दूसरी एक कविता थी और तीसरी एक चित्र। अर्थात तीनों कैटगरी में मुझे विवादित का ठप्पा लगा दिया गया।


महात्मा गांधी के ऊपर किया पोल पर पोस्ट , मन का टोह लेने भर का प्रयास था। ऐसा नहीं है कि मुझे केवल मेरे ब्‍लाग पर ही लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा है बल्कि कई स्‍थानों पर गांधी विषयक चर्चा के लिये भी आमंत्रित किया गया। गांधी विषयक चर्चा फिर कभी करूँगा, क्योंकि यह कोई विषय नही बल्कि एक जन सामान्य का विचार है। इस पोस्ट पर मुझे दो जगह लिंक(ज्ञान जी और टिप्पणीकार भाई के पास ) भी किया गया किन्तु निराशा हुई कि कुछ खास गरमा गर्मी नहीं हुई। किसी ने मेरे बारे में टिप्पणी ही नहीं की, कि इसने यह काम अच्छा नहीं किया है। :)


दूसरी एक कविता थी, उसके बारे में ज्यादा चर्चा करना पसंद नही करूँगा, क्योंकि वह विषय समाप्त हो गया है। पर इसने भी ज्यादा व्यथित किया था।


और और तीसरी घटना आज की ही है, निश्चित रूप मुझे सबसे ज्यादा प्रभावित करती है, जिस ब्लॉग को मै अपना कूड़ा घर समझता था, और समझता था कि कुछ युवा ही देखते होंगे किन्तु पहली बार एहसास हुआ कि ऐसा नहीं है। चूंकि मैं अपने इस( महाशक्ति) ब्लॉग पर किसी भी प्रकार की आपत्ति जनक चित्र या सामग्री प्रकाशित नहीं करना चाहता था, क्योंकि यह मेरा व्यक्तिगत के साथ सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला ब्लॉग है, और इसे हर वर्ग के पाठक पढ़ते है, इसी उद्देश्य से मैने टाईम लॉस का निर्माण किया था। वैसे मैने कुछ चित्रों को हटा दिया है। वैसे पहली बार एहसास हुआ कि मजाक/ हास्य भी, गंभीर रूप ले लेता है :)


आज सागर भाई कई दिनों बाद दर्शन हुए, और उन्होंने भी मेरी निंदा की, उनसे पहले मोहिन्दर जी कर चुके थे। अच्छा लगता है कि कोई गलती करने पर एहसास दिलाने वाला होता है कभी कभी तो ऐसा लगता कि जो हम करते है वह हमें सही लगता है किन्तु बाद में किसी के बताने पर लगता है गलत है।
गिर कर उठना ही, व्यक्ति के व्यवहारिक जीवन का नियम है। सही है चर्चाओं का दौर चलता रहेगा, फिर मिलेंगे। :)


Share:

क्‍या गांधी को राष्‍ट्रपिता का दर्जा दिया जाना उचित है?





सर्वप्रथम महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के जन्मदिवस की हार्दिक श्रद्धांजलि।



एक उद्देश्य लिये मैंने एक आरकुट के विभिन्न कम्‍युनिटियों में एक प्रश्न रखा कि "क्या गांधी को राष्ट्रपिता का दर्जा दिया जाना उचित है?"


इस प्रश्न को डालने के बाद जब 24 घण्टे पर जब इसका उत्तर जानने के लिए गया तो करीब 10 कम्युनिटी में मैंने इस प्रश्न को रखा था। कुल 92 लोगों ने मतदान में हिस्सा लिया। जिसमें 33 लोग महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता मानते है किन्तु 59 लोग महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता मानने से इनकार करते है। इसमें सभी प्रकार की कम्‍युनिटी को शामिल किया गया है। भगवान, हिन्दू, खेल, फिल्मी हस्ती, उत्तराखंड आदि थी।



चूकि सीमित समय में यह प्रश्न किया गया था और जल्दी ही परिणाम सामने भी ले आया गया इस कारण काफी लोगों की राय अभी बाकी होगी। पर बात निश्चित है कि आज की पीढ़ी खुले विचारों की है और वह किसी भी निर्णय पर खुली बहस चाहती है चाहे वह गांधी ही क्यों न हो।


Share: