श्री शिबपञ्चाक्षरस्तोत्रम् - Shree Shiva Panchakshari Stotra



नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय  भस्भाङ्गराय महेश्वराय ।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय  तस्मै न काराय नमः शिवाय ॥१॥

Nagendraharaya Trilochanaya, Bhasmangaragaya Maheshvaraya
Nityaya Shuddhaya Digambaraya, Tasmai Nakaraya Namah Shivaya .

Salutations to Shiva, who wears the king of snakes as a garland, the three-eyed god, whose body is smeared with ashes, the great lord, the eternal and pure one, who wears the directions as his garment, and who is represented by the syllable “na ”  

मन्दाकिनीसलिलचन्दनचर्चिताय  नन्दीश्वरप्रमथनाथमहेश्वराय ।
मन्दारपुष्पबहुपुष्पसुपूजिताय  तस्मै म काराय नमः शिवाय ॥२॥

Mandakini salila chandana charchitaya, Nandishvara pramathanatha Maheshvaraya
Mandarapushpa bahupushhpa supujitaya, Tasmai Makaraya Namah Shivaya .

I bow to Shiva, who has been worshipped with water from the Ganga (Mandakini) and anointed with sandalwood paste, the lord of Nandi, the lord of the host of goblins and ghosts, the great lord, who is worshiped with Mandara and many other kinds of flowers, and who is represented by the syllable “ma. ”


शिवाय गौरीवदनाब्जवृन्दसूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय ।
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्जाय  तस्मै शि काराय नमः शिवाय ॥३॥

Shivaya Gauri vadanabjavrunda, Suryaya Dakshadhvara Nashakaya
Shrinilakanthaya Vrushhadhvajaya, Tasmai Shikaraya Namah Shivaya

Salutations to shiva, who is all-auspiciousness, who is the sun that causes the lotus face of Gauri (Parvati) to blossom, who is the destroyer of the yajna of Daksha, whose throat is blue (Nilakantha), whose flag bears the emblem of the bull, and who is represented by the syllable “shi” 

वसिष्टकुम्भोद्भवगौतमार्यमुनीन्द्रदेवार्चितशेखराय ।
चन्द्रार्कवैश्वानरलोचनाय  तस्मै व काराय नमः शिवाय ॥४॥

Vasishhtha kumbhodbhava gautamarya, Munindra devarchita shekharaya
Chandrarkavaishvanara lochanaya, Tasmai Vakaraya Namah Shivaya .

Vasishhtha, Agastya, Gautama, and other venerable sages, and Indra and other gods have worshipped the head of (Shiva’s linga). I bow to that Shiva whose three eyes are the moon, sun and fire, and who is represented by the syllable “va”
यक्षस्वरुपाय जटाधराय  पिनाकहस्ताय सनातनाय ।
दिव्याय देवाय दिगम्बराय  तस्मै य काराय नमः शिवाय ॥५॥

Yakshasvarupaya Jatadharaya, Pinakahastaya Sanatanaya
Divyaya Devaya Digambaraya, Tasmai Yakaraya Namah Shivaya

salutations to Shiva, who bears the form of a Yaksha, who has matted hair on his head, who bears the Pinaka bow in his hand, the primeval lord, the brilliant god, who is digambara (naked), and who is represented by the syllable “ya. ” 



पञ्चाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेच्छिवसन्निधौ ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते ॥६॥

Panchaksharamidam Punyam Yah Pathechchhivasannidhau.
Shivalokamavapnoti Shivena Saha Modate

.Anyone who recites this sacred five-syllable mantra, (Namah Shivaya) near the Shiva (linga), attains the abode of Shiva and rejoices there with Shiva.

श्रीमच्छङ्कराचार्यविरचितं शिबपञ्चाक्षरस्तोत्रम् शुभम् ॥
Bhole nath, Pashupati Nath, Mahadev, bhubaneshwro, sada shiva, with naag, ling and Nandi, picture taken by Prabhu Bhakta Maharaj Ji
Kailash Pati Bhole Nath
Shiva linga with shukra and yoni, Sadashiva, Kailash pati Bhole Nath Mahadev, picture taken by Prabhu Bhakta Maharaj ji
Shiva Linga
Doleshwor mahadev, near Kathmandu, Nepal, claimed to be the head of Kedar Nath of uttrakhanda and approved by the current Shankaracharya. Photograph taken by Prabhu Bhakta Maharaj Ji
Head of Kedar Nath Mahadev at Kathmandu, Nepal



Rudra, Shiva, Srimad Shankraracharya krit, शिबपञ्चाक्षरस्तोत्र, श्रीमच्छङ्कराचार्यविरचित,


Share:

महिलाओ के प्रति हिंसा



कुछ माह पूर्व उत्तर प्रदेश की न्‍यायिक राजधानी इलाहाबाद मे मुख्‍यमंत्री मायावती का संघन दौरा होता है उसी मे एक महिला मुख्‍यमंत्री के पैरो मे गिर कर कहती है कि, हमार बलात्‍कार हुआ है और न्‍याय नाही मिला। मुख्‍यमंत्री के समक्ष यह महिला अपनी व्‍यथा बता पाने मे सफल हुई और इसका परिणाम हुआ कि डीजीपी शाम तक उक्त बलात्कार की जॉच करने स्‍वयं पहुँचे। आज महिलाओ के प्रति अपराध मे सर्वप्रथम सूची मे बलात्‍कार की घटना आती है, इस अपराधिक घटना के बाद बलात्कार पीडित महिला को न्‍याय की आस मे अपना आत्‍मसम्‍मान तक छोड़ना पड़ता है, तब पर भी वर्तमान प्रशासनिक व्‍यवस्‍था में न्‍याय की कोई गांरटी नही होती।
हाल के दिनो बलात्‍कार की घटनओ मे बेतहाशा वृद्धि हुई है।बलात्‍कार की घटनाऍं दिल्‍ली-मुम्‍बई जैसे बड़े नगरो को सीमाओ को तोड़ते हुई इलाहाबाद जैसे मझोले तथा बांदा, रायबरेली और और औरैया जैसे छोटे शहरो मे पैर पसार चुकी है। बांदा मे जिस प्रकार सत्‍ता पक्ष का विधायक बलात्कार करता है और उल्‍टे बलात्‍कार पीडिता को चोरी के फर्जी मामले मे फंसाकर जेल मे डाल दिया जाता है, उक्त घटनाऍं यह सो‍चने पर मजबूर करती है आज भी भारत की शासन व्‍यवस्‍था कानून पर नही प्रभावी तत्‍वो के प्रभाव पर चलती है। भले ही बाद मे इलाहाबाद हाई कोर्ट ने उक्त घटना को स्‍वसंज्ञान मे लिया और शीलू की रिहायी को आदेश देती है। शीलू जैसे हजारो मामलो मे से कुछ ही मामलो मे त्‍वरित प्रक्रिया देखने को मिलती है, जहाँ मीडिया की सक्रियता पर ही प्रशासन चेतता है।
मैने देश के विभिन्‍न शहरो की कुछ‍ दिनो की खबरो पर गौर किया तो मेरठ मे दो नाबालिग किशोरियों के साथ बलात्‍कार, आगरा मे नाबालिग लडकी के साथ सामूहिक बलात्कार, रायबरेली मे बलात्कार के आरोप में किशोर गिरफ्तार किया गया, फतेहपुर व उन्नाव में बलात्कार का प्रयास युवको को गिरफ्तार किया गया। इस प्रकार की न जाने कितनी घटनाऍ पूरे देश मे घट रही है जिनसे तो कुछ ही सामने आ पाती है और बहुत सी लोक-लाज और दंबगो के प्रभाव से उभारी जाती है और न ही उभरने दिया जाता है। न्‍याय की देरी और न्‍यायिक व्‍यवस्‍था की लचर व्‍यवस्‍था के कारण आज भी भारतीय परिवेश मे बलात्‍कार की घटनाओ को दबा ले जाना उचित माना जाता है।
आखिर कब तक हम सामाजिक डर से ऐसे अपराधो को सहते चले आयेगे? जब सामाजिक डर से अपराध करने की प्रवृत्ति मे कोई कमी नही आती तो अपराध के को सहने की प्रवृत्ति क्‍यो? क्‍या यह वही भारत है जहाँ 'नारी सर्वत्र पूज्यते' की आवधारणा विद्यामन रही है? किन्‍तु वर्तमान समय मे भारतीय संस्कृति का जिस प्रकार ह्रास किया जा रहा है उसी का परिणाम है कि बलात्कार की घटनाऍं घटित हो रही है। इसका मूल कारण है कि आज पारिवारिक मूल्‍य टूट रहे है, मार्यादा-लोक-लाज और मर्यादा की सीमा रेखा को लांघा जा रहा है। यह सो‍चनीय विषय है कि जिस उम्र मे युवाओ को अपने कॅरियर और एजूकेशन की ओर सोचना चाहिये वो इस उम्र मे बलात्‍कार जैसे कृत्‍य कर रहे होते है। कभी भी बलात्‍कार जैसी घटनाओ को रोकने के लिये कोई उपाय क्‍यो नही सोचा गया? इस पर हमें विचार करना होगा क्‍योकि अगर हम आज के समय मे इस विषय पर विचार न किया गया तो हमारे देश मे अमेरिका से भी भीभत्‍स रूप देखने को को मिलेगा। सन 1990 ई. की FBI रिपोर्ट से पता चलता है कि अमेरिका में उस साल 1,02555 बलात्कार की घटनाएँ दर्ज की गयी रिपोर्ट में यह बात भी बताई गयी है कि इस तरह की कुल घटनाओं में से केवल 16 प्रतिशत ही प्रकाश में आ पाई हैं इस प्रकार 1990 ई. की बलात्कार की घटना का सही अंदाज़ा लगाने के लिए उपरोक्त संख्या को 6.25 गुना करके जो योग सामने आता है वह है 6,40,968 इस पूरी संख्या को 365 दिनों में बनता जाये तो प्रतिदिन के लिहाज से 1756 संख्या सामने आती है। अगर हम भारत से अमेरिका की तुलना करें तो जनसंख्‍या के मामले में हम उससे 6 गुणा अधिक होते है, यदि हम प‍ाश्‍चात संस्‍कृति का अनुकारण करते रहे तो भारत मे भी 10 हजार प्रति दिन बलात्‍कार की घटनाऍं दर्ज होगी। यह भी विचारणीय बात है राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा जारी रिपोर्ट भारत में अपराध (2009) के मुताबिक लड़कियों के साथ उनके ही रिश्तेदारों द्वारा बलात्कार किए जाने की घटना में तीस प्रतिशत का इजाफा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2009 में जहां इस तरह के 404 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2008 में इस तरह के 309 मामले दर्ज किए गए थे और इनमें पिछले साल के मुकाबले 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इसके साथ ही 21,397 बलात्कार की घटनाओं में 94.9 प्रतिशत मामलों में पीड़ित लड़की उस व्यक्ति से परिचित थी। इससे साफ स्‍पष्‍ट होता है कि हम नैतिक पथभ्रष्ठता की ओर उन्मुख हो रहे है। उक्त रिपोर्ट की बाते उजागर करती है कि भारतीयों मे जो पारिवारिक रिश्‍तो की मर्यादा जो महिलाओ को सुरक्षा प्रदान करती थी उसे पाश्‍चात्‍य संस्‍कृति की आड़ मे हम तार-तार करते जा रहे है।
 
आज नेता नगरी मे बलात्‍कार की सजा क्‍या हो इस विषय पर विचार किया जा रहा है, नेता विपक्ष सुषमा स्‍वाराज ने फांसी की सजा चाहती है किन्‍तु क्‍या इससे बलात्‍कार की घटनाऍं कम हुई है ? बलात्‍कार के बाद हत्‍या के अपराध मे अन्तिम बार धनंजय चटर्जी को फाँसी दी गई, उसके बाद भी बलात्‍कार के बाद हत्‍या के मामलो मे कोई कमी नही आयी। हम यह क्‍यो विचार नही करते है कि बलात्‍कार की घटना कम हो या बिल्‍कुल न हो। ऐसा नही है कि हम बलात्‍कार की प्रवृत्ति पर रोक नही लगा सकते है दिक्कत ये है कि हम इस विषय पर सोचते नही है। वकाई आज अगर अगर कोई शक्ति है जो बलात्‍कार की घटनाओं पर अंकुश लगा सकता है तो भारतीय परम्‍परा को जीवित रखना, नौनिहालो को सेक्‍स शिक्षा देने के बजाय ऐसी शिक्षा प्रदान करता जिससे वो बलात्‍कार की पथ जाने के बजाय संस्‍कार के पथ पर जाये।


Share:

अच्युताष्टकम् - Achyutastakam



Narayan, Vishnu, Krishna, Balkrishna, Krishna with Flute, Achyutam Keshavam RamNarayanam Krishna damodaram vasudevam Harim
जय श्री कृष्ण
अच्युतं केशवं रामनारायणं  कृष्णदामोदरं वासुदेवं हरिम् ।
श्रीधरं माधवं गोपिकावल्लभं  जानकीनायकं रामचन्द्रं भजे ॥

अच्युतं केशवं सत्यभामाधवं  माधवं श्रीधरं राधिकाराधितम् ।
इन्दिरामन्दिरं चेतसा सुन्दरं  देवकी नन्दनं नन्दजं सन्दधे ॥

विष्णवे जिष्णवे शङ्खिने चक्रिणे  रुक्मणीरागिणे जानकी जानये ।
वल्लवीवल्वभायार्चितायात्मने  कंशविध्वंसिने वंशिने ते नमः ॥

कृष्ण गोविन्द हे राम नारायण  श्रीपते वासुदेवाजित  श्रीनिधे ।
अच्युतानन्त हे माधवाधोक्षज  द्वारकानायक द्रौपदीरक्षक ॥

राक्षसक्षोभितः सीतया शोभितो  दण्डकरण्यभूपुण्यताकारणः ।
लक्ष्मणेनान्वितो वानरैः सेवितो  ऽगस्त्यसम्पूजितो राघवः पातु माम् ॥

धेनुकारिष्टकानिष्टकृद्द्वेषिहा  केशिहा कंसह्रद्वंशिकावादकः ।
पूतनाकोपकः सूरजाखेलनो  बालगोपालकः पातु मां सर्वदा ॥

विद्युदुद्योतवत्प्रस्फुरद्वाससं  प्रावृडम्भोदवत्प्रोल्लसद्विग्रहम् ।
वन्यया मालया शोभितोरःस्थलं  लोहिताङ्घ्रिद्वयं वारिजाक्षं भजे ॥

कुञ्चितैः कुन्तलैर्भ्राजमानाननं  रत्नमौलिं लसत्कुण्डलं गण्डयोः ।
हारकेयूरकं कङ्कणप्रोज्ज्वलं  किङ्किणी मञ्जुलं श्यामलं तं भजे ॥

अच्युतस्याष्टकं यः पठेदिष्टदं  प्रेमतः प्रत्यहं पूरुषः सस्पृहम् ।
वृत्ततः सुन्दरं कर्तृविश्वम्भरस्तस्य वश्यो हरिर्जायते सत्वरम् ॥


श्रीमच्छङ्कराचार्यकृतमच्युताष्टकं शुभम् ।

Achyutam Keshavam, Narayan, Bal Krishna, with mother



Achyutastakam in English and Unicode Sanskrit
Achyutham Kesavam Rama-Narayanam
Krishna-Damodaram Vasudevam Harim;
Shreedharam Madhavam Gopikavallabham
Janakee-Nayakam Ramachandram Bhaje[1]

Achyutham Keshavam Satyabhamadhavam
Madhavam Shreedharam Radhikaradhakam;
Indiramandiram Chetasa Sundaram
Devakee-Nandanam Nandajam Sandadhe[2]

Vishnave Jishnave Shakhine Chakrine
Rukmineeragine Janakeejanaye;
Vallaveevallabha Yarchitayatmane
Kamsavidhvamsine Vamshine Te Namah[3]

Krishna Govinda he Rama Narayana
Shreepate Vasudevajite Shreenidhe;
Achyutanata he Madhavadhokshaja
Dvarakanayaka Draupadee-Rakshakaa[4]

Rakshasakshobhitah Seetayah Shobhito
Dandakaranya Bhoopunyata Karanah;
Lakshmanenanvito Vanariah Sevito
Gastyasampoojito Raghavah Patumam[5]

Dhenukarishtaka Nishtakriddveshinam
Keshiha Kamsahridvamshiko vadakah;
Poothanakopakah Soorajakhelano
Bala-Gopalakah Patu mam Sarvada[6]

Vidyududyotavan Prasphuradvasasam
Pravridambhodavat Prollasavigraham;
Vanyaya Malaya Shobitorasthalam
Lohitanghridvayam Varijaksham Bhaje[7]

Kunchitaih Kuntalairbhrajamananam
Ratnamaulim Lasatkundalam Gandayoh;
Harakeyoorakam Kankanaprojjvalam
Kinkineemanjulam Shyamalam Tam Bhaje[8]

Achyuta syastakam Yah Pathedistadam
Prematah Pratyaham Purusah Saspruham;
Vrittatah Sundaram Kartrivisvambharas
Tasya Vasyo Harirjayate Satvaram[9]

Achyutastakam  Meaning 
(pronounced Acyutāṣṭakam)

I adore Rāmacandra, Who is infallible, Who is Keśava, Rāma, Nārāyaṇa, Kṛṣṇa, Dāmodara, Vāsudeva, Hari, Śrīdhara, Mādhava, Who is dear to Gopikā, and Who is the consort of Jānakī.[1]

I offer a salute with my hands together to Keśava, Who is infallible, Who is the consort of Satyabhāmā (as Kṛṣṇa), Mādhava, Śrīdhara, Who is longed-for by Rādhikā, Who is the temple of Lakṣmī (Indirā), Who is beautiful by thought, Who is dear to Devakī, and Who is dear to all.[2]

Salutations for Viṣṇu, Who conquers everyone, Who holds a conch-shell and a discus, Who is dear to Rukmiṇī (Kṛṣṇa), Who is the consort of Jānakī (Rāma), Who is dear to cowherdesses, Who is offered [in sacrifices], Who is the Ātman (soul), Who destroyed Kaṁsa, and Who plays the flute.[3]

O Kṛṣṇa! O Govinda! O Rāma! O Nārāyaṇa, Who is the consort of Lakṣmī! O Vāsudeva, Who attained the treasure of Lakṣmī! O Acyuta, Who is immeasurable! O Mādhava, O Adhokṣaja, Who is the leader of Dvārikā, and Who is the protector of Draupadī!1[4]

May Rāghava — Who upsetted the demons, Who adorned Sītā, Who is Danḍaka-forest purification cause, Who is accompanied by Lakṣmaṇa, Who was served by monkeys, and Who is revered by Sage Agastya — protect me.[5]

May Baby Gopāla (Kṛṣṇa) — Who was unfavorable to Dhenukāsura and Ariṣṭāsura, Who destroyed Keśī, Who killed Kaṁsa, Who plays the flute, and Who got angry on Pūtanā2 — always protect me.[6]

I sing praise of Acyuta, Who is adorned by a lightening like shining yellow robe, Whose body is resplendent like a cloud of the rainy-season, Who is adorned by a wild-flower garland at His chest, Whose twin-feet are of copper-red color, and Who has lotus-like eyes.[7]

I sing praise of that Śyāma, Whose face is adorned by falling locks of curly tresses, Who has jewels at forehead, Who has shining ear-rings on the cheeks, Who is adorned with a Keyūra (flower) garland, Who has a resplendent bracelet, and Who has a melodious anklet.[8]

Poet: Ādi Śaṅkara
Book: Bṛhatstotraratnākaraḥ
Translation by Animesh Kumar

Achyut, Keshav, Krishna, Narayan, Srimad Shankraracharya krit, Vishnu, अच्युताष्टकम्, श्रीमच्छङ्कराचार्यविरचित, 


Share:

सूर्याष्टकम् - Suryastakam




सूर्य भगवान
साम्ब उवाच -
आदिदेव नमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर ।
दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तु ते ॥१॥
Bhāskara, Ādideva (the primodial Lord), bless me! prostration unto thou, O Divākara (The deity responsible for the creation of Day), O Prabhākara(the deity responsible for ushering light unto the world), prostrations unto to thou.

सप्ताश्व रथमारूढं प्रचण्डं कश्यपात्मजम् ।
श्वेत पद्माधरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥२॥

The Sun God (Sūrya) seated on a chariot drawn by seven horses, the resplendent one, the son of Kaśyapa, holding a lotus in the hand, unto Him I prostrate.

लोहितं रथमारूढं सर्वलोकपितामहम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥३॥
Seated on a red chariot, the father of the whole world, the annihilator of deadly sins, unto him I prostrate.

त्रैगुण्यश्च महाशूरं ब्रह्माविष्णु महेश्वरम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥४॥

The one who assumes the form of Sattva, Rajas and Tamas, and also the form(s) of Brahmā, ViṢṇu and Maheśvara, the great warrior, remover of deadly sins, unto that Sun God, I prostrate.

बृह्मितं तेजःपुञ्जञ्च वायुराकाशमेव च ।
प्रभुत्वं सर्वलोकानां तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥५॥

The Omni-present and luminous Lord of the whole Universe, unto that Sun God, I prostrate.

बन्धूकपुष्पसङ्काशं हारकुण्डलभूषितम् ।
एकचक्रधरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥६॥

Sūryadeva of red complexion like that of the Bandhūka tree, adorning a garland around His neck, Earrings on his ear, holding the divine discus (cakra) in the shape of time, unto Him, I prostrate.

तं सूर्यं लोककर्तारं महा तेजः प्रदीपनम् ।
महापाप हरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥७॥

The supreme ruler of all the worlds, the administrator, of all deadly sins, unto that Sun God I prostrate.

तं सूर्यं जगतां नाथं ज्ञानप्रकाशमोक्षदम् ।
महापापहरं देवं तं सूर्यं प्रणमाम्यहम् ॥८॥

I prostrate the Lord of The world, the bestower of liberation through the effulgent rays of knowledge and the destroyer of great sins.

श्री शिवप्रोक्तं सूर्याष्टकमं शुभम्।





सूर्यनारायण भगवान

Surya is the visible form of God that one can see every day. Furthermore, Surya is regarded as the form of Shiva by Shaivites as Astamurti and Vishnu by Vaishnavas as Surya Narayana.
Other names of Surya are

Vishnu, Vivasvān (Sanskrit root: Vivasvat, विवस्वत्)
Ravi रवी (lit. "the Fire Bird"),
Aditya आदित्य(lit. the son of Aditi),
Pusha (the best Purifier),
Divakar दिवाकर (the maker of the day),
Savita सविता(the vivifier),
Arka अर्क (the ray),
Mitra मीत्र (friend),
Bhanu भानु(light),
Bhaskar भाष्कर (maker of Light), and
Grahapati ग्रहपती(the Lord of Grahas)
Astamurti, Narayan, Shivaprokta, Sun, Surya Narayan, Surya stotra, सूर्याष्टकम्,


Share:

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बात



संघ के बारे में तरह-तरह के विचार प्रस्तुत किए गए है लेकिन अधिकांश पूर्वाग्रह से प्रेरित कहे जा सकते है। आखिर कोई यह समझने का प्रयास क्यों नहीं करता कि क्या कारण है कि संघ विचार परिवार तमाम अवरोधों के बावजूद बढता ही जा रहा है। संघ ने विचार की धरातल पर जहां सभी वादों- समाजवाद, साम्यवाद, नक्सलवाद को पटखनी दी हैं वहीं राजनीतिक क्षेत्र में भी कांग्रेस के वर्चस्व को तोड़ा है। पहले भारतीय राजनीति गैर कांग्रेसवाद के आधार पर चलती थी अब यह गैर भाजपावाद हो गया है। संघ के सभी आनुषांगिक संगठन आज अपने-अपने क्षेत्र के क्रमांक एक पर है। भारतीय मजदूर संघ, विद्यार्थी परिषद्, विद्या भारती, स्वदेशी जागरण मंच, भाजपा, विश्व हिन्दू परिषद् आदि...सेवा के क्षेत्र में वनवासी कल्याण आश्रम, सेवा भारती की सक्रियता प्रशंसनीय है। इस पर बहस होनी चाहिए कि कांग्रेस और वामपंथ का आधार क्यों सिकुड़ रहा है और संघ भाजपा के प्रति जन-समर्थन क्यों बढ़ रहा हैं। पिछले पंजाब और उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में माकपा-भाकपा और माले का खाता क्यों नहीं खुल पाया। कांग्रेस पिछले कई चुनावों से लगातार पराजय का मुंह क्यों देख रही है। देश की जनता अब समझदार हो गई है। वह देखती है कि कौन उसके लिए ईमानदारीपूर्वक काम कर रहा है और कौन केवल एयरकंडीशन कमरों में बैठकर महज जुगाली कर रहा है। समाजसेवा के नाम पर कांग्रेस-वामपंथियों की क्या उपलब्धि है। इस बात में दम है कि 'अंधेरे की शिकायत करते रहने से कहीं बेहतर है एक दिया जलाना'।
हम देखते हैं कि 1885 में स्थापित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस जहां आंतरिक कलह और परिवारवाद के कारण दिन-प्रतिदिन सिकुड़ती जा रही है, वहीं 1925 में दुनिया को लाल झंडे तले लाने के सपने के साथ शुरू हुआ भारतीय कम्युनिस्ट आंदोलन आज दर्जनों गुटों में बंट कर अंतिम सांसें ले रहा है। इनके विपरीत 1925 में ही स्थापित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ दिनोंदिन आगे बढ़ रहा है।
आज यदि गांधी के विचार-स्वदेशी, ग्राम-पुनर्रचना, रामराज्य-को कोई कार्यान्वित कर रहा है तो वह संघ ही है। महात्मा गांधी का संघ के बारे में कहना था- 'आपके शिविर में अनुशासन, अस्पृश्यता का पूर्ण रूप से अभाव और कठोर, सादगीपूर्ण जीवन देखकर काफी प्रभावित हुआ' (16.09.1947, भंगी कॉलोनी, दिल्ली)।
आज विभिन्न क्षेत्रों में संघ से प्रेरित 35 अखिल भारतीय संगठन कार्यरत हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य, वैकल्पिक रोजगार के क्षेत्र में लगभग 30 हजार सेवा कार्य चल रहे हैं। राष्ट्र के सम्मुख जब भी संकट या प्राकृतिक विपदाएं आई हैं, संघ के स्वयंसेवकों ने सबसे पहले घटना-स्थल पर पहुंच कर अपनी सेवाएं प्रस्तुत की हैं।
संघ में बौध्दिक और प्रत्यक्ष समाज कार्य दोनों समान हैं। संघ का कार्य वातानुकूलित कक्षों में महज सेमिनार आयोजित करने या मुट्ठियां भींचकर अनर्गल मुर्दाबाद-जिंदाबाद के नारों से नहीं चलता है। राष्ट्र की सेवा के लिए अपना सर्वस्व होम कर देने की प्रेरणा से आज हजारों की संख्या में युवक पंचतारा सुविधाओं की बजाय गांवों में जाकर कार्य कर रहे हैं। संघ के पास बरगलाने के लिए कोई प्रतीक नहीं है और न कोई काल्पनिक राष्ट्र है। संघ के स्वयंसेवक इन पंक्तियों में विश्वास करते हैं-'एक भूमि, एक संस्कृति, एक हृदय, एक राष्ट्र और क्या चाहिए वतन के लिए?'
संघ धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव नहीं करता। इसके तीसरे सरसंघचालक बाला साहब देवरस ने उद्धोष किया कि 'अस्पृश्यता यदि पाप नहीं है तो कुछ भी पाप नहीं है।' बाबा साहब भीमराव आंबेडकर का कहना था- 'अपने पास के स्वयंसेवकों की जाति को जानने की उत्सुकता तक नहीं रखकर, परिपूर्ण समानता और भ्रातृत्व के साथ यहां व्यवहार करने वाले स्वयंसेवकों को देखकर मुझे आश्चर्य होता है' (मई, 1939, संघ शिविर, पुणे)।
संघ की दिनोंदिन बढ़ती ताकत और सर्वस्वीकार्यता देखकर उसके विरोधी मनगढ़ंत आरोप लगाकर संघ की छवि को विकृत करने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन हमें स्वामी विवेकानंद का वचन अच्छी तरह याद है: 'हर एक बड़े काम को चार अवस्थाओं से गुजरना पड़ता है: उपेक्षा, उपहास, विरोध और अंत में विजय।' इसी विजय को अपनी नियति मानकर संघ समाज-कार्य में जुटा हुआ है। (संकलन)


Share: