सबका होल निचोड़ - क्‍योकि इन बंदरों का रंग भागवा न हो कर लाल था



गुजरात चुनाव में बहुतों ने बहुत कुछ बोल लिया है और मैने लगभग सभी को पढ़ा और सुना, किन्‍तु एक गन्‍दी बदबू लगभग सभी जगह पढने और सुनने को मिली कि हिटलर मोदी, साम्‍प्रदायिक मोदी। आज मुझे यह कहने में संकोच नही है कि पत्रकारिका की लगाम आज विदेशी ताकतो के हाथों गिरवी रखी जा चुकी है, और मीडिया भी विदेशी जुब़ान बोलने लगी है। यह मोदी का विरोध नही हो रहा है बल्कि राष्‍ट्रीयता का विरोध है। गुजराज चुनाव के दौरान काग्रेस बैकफुट पर रही और पत्रकारिता मुख्‍य विपक्षी दल के भूमिका में थी। कुछ ने मोदी को हिन्‍दुवादी कहा मै भी कहता हूँ किन्तु एक बात यह जरूर कहना चहूँगा कि सरकारे जो बनती है उनका कोई धर्म नही होता है अगर सरकारो हिन्दू या ..... का नाम दिया तो यह देश के व्‍यवस्‍था का अपमान है।

गुजराज में मोदी की जीत ने न सिर्फ भाजपा में जीतने का जज्‍बा दिखाया अपितु 2009 के आम चुनाव में भाजपा को मुख्‍य संघर्ष में भी ले आई। मेरे विचार से आज में आज अगर कोई लोकनायक नेता है तो सिर्फ मोदी ही है। जिस प्रकार काग्रेस के केन्द्रिय मंत्री दिनिशा पटेल को को 85 हजार से ज्‍यादा मतो से हराया यह कोई आम बात नही है वास्‍तव में यह लोक नायक के दर्जे को दर्शाता है। मोदी के नेतृत्‍व में भारतीय जनता पार्टी ने दर्शा दिया कि हमारे पास भी एक पश्चिम बंगाल है जो सुशासन के बल पर भाजपा का अभेद दुर्ग बना हुआ है।

मै गुजरात और बंगाल की तुलना नही करूँगा क्‍योकि वे तुलनीय है भी नही। क्‍योकि एक ओर जहॉं सूरज उदित होता है तो दूसरी ओर अस्‍त होता है। आज बंगाल इसलिए नही रो रहा है कि वहॉं संसाधनों की कमी है इसलिये रो है कि वहॉं कि सरकार और मुख्‍यामंत्री निकम्‍मा है। आज मोदी के व्‍यक्तित्‍व के आगे हिन्‍दु और मुस्लिम दोनो प्रभावित है। जबकि बुद्धदेब की सरकार के गुर्गो ने ही नंदीग्राम के महिलाओं के साथ र्दुव्‍यवहार किया। ग़र मुसलमान मरता है तो देश का कुठित मानसिकता का एक बुद्धिजीवी कीड़ा रेगने लगता है तो यह भूल जाता है कि देश के इतिहास में दंगे पहली बार नही हुऐ, और यह जरूर हुआ है कि दंगो के बाद देश में पहली बार शान्ति जरूर हुई है। 84 के दंगे की विभीषिका आज भी जनता को याद है। किस प्रकार सिखों को काग्रेसियों ने चुन चुन कर मारा था। आज एक सिख प्रधानमंत्री ही दंगों के सरगना जगदीश टइटलर को अपने मंत्रीमंडल में जगह दियें हुऐ है। क्‍यो‍ नही काग्रेस से प्रश्‍न किया जाता कि क्‍यो बचा रही है अपराधियों को? यह प्रदेश प्रश्‍न पूछने वाला देश में को‍ई मीडिया नही है क्‍योकि विदेशी ताकतो के हाथ बिकी हुई है। नंदीग्राम में हिन्‍दु भी मारे गये और मुस्लिम भी, किन्‍तु देश के धर्मनिपेक्ष में अंधे बुद्धिजीवियों को यह नही दिखा क्‍यो ? क्‍योकि इन बंदरों का रंग भागवा न हो कर लाल था, यह हनुमान को नही लेनिन को पूजते है। 

इधर एक लेख और देखने को मिला नरेंद्र मोदी की जीत और बेनज़ीर भुट्टो की हत्या एक ही जैसा दु:खद प्रसंग है! क्‍योकि इसमें पढ़ने लायक कुछ भी नही था। यह एक हास्‍यस्‍पद प्रसंग ही कहा जायेगा कि आज देश के विचारको में यह मत है। जिस प्रदेश की जनता ने मोदी को 48% वोट दे कर जिताती है उस जनता को ही जनता, गुनहगार मानती है। देश के आम चुनाव में काग्रेस 145 सीट लेकर जीत जाती है और भाजपा 138 सीट लेकर हारा माना जाता है तो यह देश का र्दुभाग्‍य ही है।

गुजरात की हार में न तो महारानी का कोई जिम्‍मेदारी थी न युवराज की, बस जिम्‍मेदारी थी स्‍थानीय टट्टूओं की, अगर यह जीत होती तो सारा श्रेय मैडम को जाता, हार हुई तो टट्टूओं की। और टट्टू जन कर भी क्‍या सकते है? अपनी जिम्‍मेदारी लेने से मैडम की नजरों में कद ऊचा होगा, और जनता तो एक रखैल है जिससे तो समय पर ही काम पड़ेगा। यह कहना गलत न होगा कि काग्रेसी नेताओं का मैडम जी के साथ हिन्‍दू विवाह है और जनता के साथ मुस्लिम विवाह :) 

गुजरात के बाद हिमाचल प्रदेश में भी भारतीय जनता पार्टी 2/3 बहुमत की ओर है अब यह कहना गलत होगा कि गुजरात जी एक तुक्‍का थी। गुजरात के बाद हिमाचल में हार की जिम्‍मेदारी किसकी होगी, जल्‍द की काग्रेस के पार्टी प्रवक्‍ता घोषणा करेगें। खैद वामपंथियों और छद्म पत्रकारों के सीने पर जरूर सॉप लोट जायेगा। और अब नरेन्‍द्र मोदी को उनकी जीत पर अपनी सर्वजनकि पहली बधाई देता हूँ।


Share:

4 comments:

अरुण said...

काहे गुस्सा दिखा रहे हो भाइ..जश्न मनाओ कि आज भी युवराज और महारानी की ऐसी तैसी करदी हिमांचल वासियो ने...:)

संजय बेंगाणी said...

टेंशन फ्री रहनेका जी. खिसियाई बिल्ली खम्बा तो नौचेगी ही ना.

Shiv Kumar Mishra said...

आपका की पोस्ट शानदार है. औरों ने क्या कहा, इसका कोई ख़ास महत्व है. भगवान् ने मुंह दिया लेकिन ढक्कन नहीं बनाया. इसलिए मुंह खोला और भक्क से बोला..

CHITARANSH said...

very good posting.....hail mr. modi.
we won in himachal today....next year it'll be mp,cg,rajastha,karnataka...
long live hinduism..JAI SHREE RAM...