दर्द-ए-पेशावर : 32 लोगों की मौत



  • सेक्युलर रुदालियाँ आज हैरान है कि रोये तो किसके लिए ?
  • अभी अभी गगन भेदी आकाश्वानी हुई, आतकवादियो का कोई धर्म नही होता
  • 26/11 और 16/12, तब धरती हमारी थी हथियार तुम्हारे थे, आज धरती भी तुम्हारी है हथियार भी तुम्हारे है, हमे दुख कल भी था आज भी है
  • मैंने मारे खुदा के बन्दे यूँ ही क्योकि खुदा उनको मुस्कराने वजह देता है..
  • ख़ुदा गज़ब तेरे कारनामे कि आज काफ़िर भी मुसलमानों के बच्चो के लिए रो रहे है..
  • मैं बड़ा होकर सभी आंतकवादियों को मार दूंगा। उन्होंने मेरे भाई को मार डाला। मैं उन्हें बख्शूंगा नहीं, एक-एक को मार डालूंगा।
  • मेरे बेटे को नकली बंदूक से भी डर लगता था, असली बंदूक देखकर उस पर क्या गुजरी होगी।
  • मैं बड़ा होकर सभी आंतकवादियों को मार दूंगा। उन्होंने मेरे भाई को मार डाला। मैं उन्हें बख्शूंगा नहीं, एक-एक को मार डालूंगा।
  • एक बच्चे को पाल-पोसकर बड़ा करने में 20 साल लगते हैं, उन्हें मारने में दो सेकंड्स भी नहीं लगे।


Share:

No comments: