भेड़ाघाट और दुर्घटना के लिये याद रहेगा जबलपुर का तीसरा दिन



जबलपुर की यात्रा के दो सस्‍मरणों (जबलपुर की यात्रा - प्रथम दिनजबलपुर में दूसरा दिन - महेन्‍द्र, सलिल व ब्‍लागर मीट)को तो आपने पढ़ा ही होगा। आज मै भेड़ाघाट जा रहा हूँ , मेरी तनिक भी इच्‍छा नही है किन्‍तु सुपारी दी थी तो जाना पड़ेगा ही। जबलपुर की मीट में ही श्री गिरीश बिल्‍लोरे जी ने मुझे भेड़ाघाट घुमाने की सुपारी ले ली थी और उन्‍होने इसे अगले दिन पूरा करने के लिये एक अपरण कर्ता को मय कार के साथ भेज दिया। उसने बताया कि आपको खुफिया जगह ले जाया जा रहा है। मैने पूछा आपके सरगना (गिरीश जी)वहाँ होगे कि नही ? उत्‍तर मिला नही। फिर क्‍या था फोन मिलाया और शिकायत दर्ज की, तो अपनी व्‍यस्‍तता को बताई जो जायज थी।





मुझे और ताराचंद्र को उस गाड़ी चालक ने पूरी सहुलियत के साथ घुमाया, बहुत कम पैदल चलवाया। बहुत कम समय में बहुत ही यादगार स्‍मृति मेरे मन में बन गई। कुछ देन में कुछ खरीददारी भी किया किया। चलते वक्‍त नजदीक के एक होटल मे जलपान भी किया। कुछ देर में वाहन चालक ने हमें अपने गन्‍तव्‍य स्‍थान हरिभूमि पर पहुँचा दिया। कुछ देर में मित्र तारा अपने आफिस का काम देख कर मुझे आराम करने के लिये घर छोड आये। शाम 4-5 बजे तक वो फिर आते है और मुझे अपने साथ हरिभूमि के दफ्तर में अपनी कुछ मित्रों से मिलवाया। काफी देर तक मुलाकात बातचीत का दौर चला । मुझे लगा कि मै आफिस के काम में बाधा पहुँच रहा हूँ तो सभी से अनुमति घूमने निकल पडा।


शाम का समय था कहाँ कहाँ घूमा मुझे पता नही था, तीन दिनो बाद पहली बार जबलपुर में सायबर कैफे दिखा। जैसे ही मै बैठा वैसे ही श्री गिरीश जी का फोन आया, कि मै हरिभूमि पर आपका इंतजार कर रहा हूँ। मुश्लिक से 5 मिनट भी न हुये थे, दाम पूछा तो 10 रूपये बताया देकर चलता बना। 5 मिनट में हरिभूमि पहुँच गया, श्री गिरीश जी के साथ चौराहे की चाय की चुस्‍की हुयी और और खबर सुनाई दी कि कही हेलीकाप्‍टर गिर पड़ा है। हरिभूमि से ज्‍यादा तेज गिरीश जी का नेटवर्क था जो इस खबर की पुष्टि की । इसी चर्चा के बीच बहुत तेज आंधी पानी भी आ गया, और हम जल्‍दी से गाड़ी में बैठकर श्री गिरीश जी के आवास पहुँच गये।

जलपान के साथ विभिन्‍न मुद्दे पर गरम चर्चा भी हुई, 2006 से लेकर वर्तमान चिट्ठाकारी पर चर्चा भी की गई, और भविष्‍य की संकल्‍पनाओं की आधारशिला भी रखा गया। कुछ बातो पर मुझे जबलपुर के उन ब्‍लागरो से कभी कुछ कहना चाहूँगा, जो मुझे अत्‍मीय मान देते है, समय अपने पर वह मै करूँगा। करीब रात्रि 10.30 भोजन के बाद हम सभी परिवार जनो से आ‍शीर्वाद ले विदा हुये। श्री गिरीश जी व परिवार से जो प्‍यार मिल उसके लिये धन्‍यवाद या आभार व्‍यक्‍त करना, उस स्‍वर्णिम पल का अपमान करना ही होगा, इन तीन दिनो में मुझे अपने परिवार की स्‍मृति तो थी किन्‍तु सभी की छवि जबलपुर के ब्‍लागरों मे दिख रही थी।

रात्रि के समय में जबलपुर की तुलना किसी दुल्‍हन से करना गलत न होगा। मै जबलपुर की छटा पर से निगाह हटा नही पा रहा था, मै उसे देख ही रहा था चौरारे पर एक तीव्र गति सी आती हुई फोरविलर के कारण कि गाड़ी असन्‍तुलित हो गई और हम गिर पड़े। जबलपुर के लोगो का प्‍यार और भगवान हमारे साथ थे इस कारण ज्‍यादा कुछ नही हुआ, हमारे मित्र ताराचंद्र आगाह थे इसलिये बिल्‍कुल सुरक्षित थे, थोड़ा गाड़ी डैमेज हो गई थी, मै शहर के नजरे लेने में व्‍यस्‍त और इसका खामियाजा मुझे भुगतना पड़ा, इस कारण मुझे सड़क पर ही घुटना टेकना पड़ा और नतीजा यह हुआ कि पैट भी फट गई और घुटना भी छिल गया (दर्जी की दया से पैंट रफू और डाक्‍टर की दया चोट दोनो जल्‍दी ही बिदा हो गये, पर पैंट मे भी दाग है और पैर में भी जो जबलपुर की याद दिलाता रहेगा ) । ताराचंद्र ने पूछा चोट तो नही लगी, मैने कहा नही, थोड़ा गाड़ी धीरे चलाया करो, दुर्घटना सिर्फ हमारी गलती से ही नही होती है। हम चल दिये मुझे घर पहुँच तारा चन्‍द्र जी अपने ऑफिस चले गये।

सुबह जब तारा चन्‍द्र उठे मेरी पैंट और चोट देखी जो उन्‍हे फील हुया, कुछ गलती जरूर हुई थी। यही फील करवाना मेरा मकसद भी था, क्‍योकि मेरा मानना है कि दुर्घटना अपनी गलती से नही होती है पर अपनी सावधानी से टाली जा सकती है। आगे की चर्चा अगले पोस्‍ट में ये यादगार अन्तिम दिन था क्‍योकि मुझे इस दिन एक नया परिवार मिला।


Share:

मदद के लिये आभार, आखिर हल मिल ही गया



पिछले कुछ दिनो से मेरा ब्‍लाग एक अजीब सी समस्‍या से जूझ रहा था, उस समस्‍या के निजाद के लिये ब्‍लाग समूह से मदद मॉंगी थी। पोस्‍ट लिखता था पोस्‍ट मेन पेज पर तो दिखती थी किन्‍तु पोस्‍ट के रूप में नही दिख रही थी। परसो मै और जीतू भाई काफी देर तक इस समस्‍या पर विचार करते रहे किन्‍तु समास्‍या का समाधान हो ही नही रहा था,जीतू भाई भी अपना अमूल्‍य समय निकाल कर मेरी सहाया करने में लगे थे।
मेरा ब्‍लाग दो जगहो पर रिडाईरेक्‍ट हो रहा था, जो एक तकनीकि कमी थी, अन्‍तोगत्‍वा जीतू भाई के अनुसार मैने अगले दिन फिर से काम प्रारम्‍भ किया। काम मे लगा ही था कि श्री विजय तिवारी किसलय जी से सुखद बात हुई उनके बात करने के बाद तो मन प्रसन्‍न हो हो गया। उनसे बात समाप्‍त हुई ही और जैसे फिर ब्‍लाग में हाथ लगाया अपने आप समस्‍या समाप्‍त हो गई।
मुझे एहसास हुआ कि किसी काम की सफलता के पीछे मेहनत के साथ-साथ सही समय का हो भी आवाश्‍यक होता है।


Share: