What An Idea एडसेंस प्रकाशकों के लिये गुड न्‍यूज़ बचेगे हजारो रूपये



आज Google Adsense (गूगल एडसेंस) के आधिकारिक ब्‍लाग पर जाना हुआ। वहाँ पर गूगल ने भारत में अपने मुद्रा भुगतान के सम्‍बन्‍ध में अपनी प्रवृष्टि जारी किया है। जैसा कि आपको पता होगा कि Google Adsense भारत में भुगतान साधारण वितरण व Standard Delivery पद्धति से करता था। जहाँ साधारण वितरण के लिये कोई शुल्‍क नही लिया जाता था वही Standard Delivery के लिये DHL Courier का प्रयोग करता था जिसके लिये 25 डालर पहले से काट लेता था।
 
वर्तमान समय में गूगल ने अपनी सुविधाओं में वृद्धि करते हुये, Blue Dart courier के द्वारा बिना एक भी पैसा लिये आपके चेको का भुगतान किया जायेगा। निश्चित रूप से भारत में Google Adsense के द्वारा उठाया जाने वाला एक बेहतर कदम है। भारत के सम्‍बन्‍ध में गूगल के इस कदम से Google Adsense कमाई करने वालो के 25 डालर तो बचेगे। अब तो कमाई करने वालो के मन में इस बात को भी प्रोत्‍साहन मिलेगा कि गूगल जल्‍द ही भारत के इन्‍टर नेट की भूमिका को नजर आदंज नही करेगा। जैसा कि पूर्व में भारत से पहले इंडोनेशिया छोटे देश में Electronic Clearing Service (ECS) शुरू करने पर भारतीय ब्‍लागरों ने रोष व्‍यक्‍त किया था। अब भारतीय ब्‍लागर भी आने वाले कुछ महीनो मे Electronic Clearing Service (ECS) के द्वारा सीधे भुगतान प्राप्‍त करने का स्‍वप्‍न देख सकते है और जल्‍द ही यह स्‍वप्‍न साकार भी होगा।
 
चलते चलते - चुनावी महासमर समाप्‍त हो चुका है। मतगणना की समाप्‍ति के साथ ही मेरी परीक्षा की तिथियाँ भी शुरू हो रही है। एक महान सेक्‍यूलर ब्‍लागर फिर सनक गया है, सनक उनकी आदतो में सुमार है, उसे सिर्फ ''मै'' का भ्रम है, उसके इस ''मै'' के भ्रम को कई बार तोड़ा था और फिर तोड़ूँगा, मै सलाह दूँगा धमंड और शक्ति का बेअर्थ प्रदर्शन ठीक नही। वो बार बार अपनी शक्ति के प्रदर्शन के पागलपन में मधुमक्‍खी के छत्‍ते पर ईट मार रहा है, अभी मधुमक्‍खी व्‍यस्‍त है , मामला बाद मे देखा जायेगा।


Share:

साईकिल कमल संवाद



हमारे एक बहुत ही अच्‍छे मित्र(अभी नाम नही लूँगा) है, बहुत मुद्दो पर हम मतैक्‍य है सिवाय पार्टियों की के , इसके सिवाय लगभग हम बहुत बातों पर सहमत रहते है। यह हमारे मित्र इलाहाबाद विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति के सिरमौर है। इनमे वह क्षमता है जो अभी से ही दिखती है, अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्‍व के साथ जलपान आदि कर चुके है। इनका भविष्‍य बहुत उज्‍जवल है, और मै इस भविष्‍य को और भी उज्‍जव होने की सदा कामना करता हूँ। ता‍कि कोई भी शीर्ष पर पहुँचे, मगर वक्‍त ऐसा आये कि हमारी सार्थक विचार धारा प्रभावी हो। हम अक्‍सर कुछ मुद्दो पर बात करते है आज ही अचानक आर्कुट पर उनसे बात हुई, मुझे लगा कि इसे शेयर किया जा सकता है। तो मै उसे प्रस्‍तुत कर रहा हूँ -
साईकिल का सारथी: namaskar..
भाजपा को वोट दे: नमस्‍कार मित्र केसे हे
साईकिल का सारथी: सब बढ़िया है...आपको ने बहुत वोट माँगा...
भाजपा को वोट दे: अभी भी मांग रहे है। और बताइये क्‍या चल रहा है।
साईकिल का सारथी: main bhi mang raha hun...bhai bs party ka anter hai....haaa haaaa
भाजपा को वोट दे: आप किंग मेकर हो सकते है, किंग नही किंग तो हम है हम। हा हा हा
साईकिल का सारथी: क्योंकि हम गरीबों ,नौजवानों,किसानो,बेरोजगारों,बुनकरों,मजदूरों की बात करतें हैं इसीलिए .....और आप लोग तो राजा हो ही...
भाजपा को वोट दे: सिर्फ बात ही करते है, काज के नाम पर अकाज करते है। काम तो हम करते है, गुजरात को देखिये, कम ही काम हुआ है, अब यही काम भारत में भी होगा।
साईकिल का सारथी: माँ के दो बेटों में खाने से लेकर रहने तक की लडाई लगा दी...विकास की बात करतें हैं...मौका मिले तो देश बाँट दें...
भाजपा को वोट दे: एक बार मौका मिला तो 45 साल के कांग्रेस के कंलक को धोया, पर आप जैसी कुछ पार्टियों ने हमारे 6-7 सीट ज्‍यादा काग्रेस को फिर से सत्‍ता में लाकर भारत माता के माथे पर कंलक लगाने के काबिल बना दिया। अगर 2004 मे कांग्रेस की सरकार न होती तो 2009 में अपनी अन्तिम सांसे गिन रही होती, और सत्‍ता का मुकाबला मेरे और आपमे होता, आपने ही मौका गवां दिया।
साईकिल का सारथी: जी यहाँ मैं मैं आपसे सहमत हूँ...पर मुझे लगता है की भारतमाता का सम्मान सभी को करना चाहिए...आप की पार्टी के बहुत सारे लोग दो भैएयों में वैमनष्यता का बीज बोते है...ये ठीक नहीं....यह भी तो कलंक है...
भाजपा को वोट दे:
कौने से भाई मित्र ? वह भाई जिसने अपनी चाचा की मृत्‍यु के बाद अपने अपनी चाची और भाई को बेदखल कर पूरे सम्‍पत्ति अपनी मॉं के साथ मालिक बन गया ? जिसने कभी सुध नही ली। उस वेवा की व्यथा को आप क्‍यो भूल जाते जिसके कारण उसे अपने जेठ के खिलाफ चुनाव लड़ना पड़ता है। उस पर परिवार ने कभी इन माँ बेटो को अपना माना ही नही।
भाजपा को वोट दे: (काफी देर तक अन्‍य बात नही आती है) अब मुझे जाना होगा, कुछ निमंत्रणों में जाना है। फिर मिलते है, जय श्रीराम
साईकिल का सारथी: same here..


Share: