प्रकृति का पर्व: नागपंचमी



श्रावण मास की शुक्लपक्ष की पँचमी तिथि नागों को समर्पित है। श्रीमद्भागवद गीता के 10वें अध्याय के 29वें श्लोक में भगवान स्वयं कहते हैं-अनंतश्चास्मि नागानां वरूणो यादसामहम्। अर्थात् मैं नागों में शेषनाग और जलचरों का अधिपति वरूण हूँ। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार शेषनाग समस्त नागों के राजा और हजारों फनों से युक्त हैं वे स्वयं श्रीहरि की शैया बनकर सदैव उनकी सेवा में रत रहते हैं।
 शास्त्रानुसार नागों की उत्पत्ति महर्षि कश्यप की पत्नी कद्रू से हुई है, नागों का मूल निवास स्थान पाताल लोक को माना गया है। पुराणों में नागों की राजधानी भोगवतीपुर विख्यात है। नागकन्याओं का सौंदर्य किसी भी अप्सरा से कमतर नहीं है और योगसाधना में भी ‘कुण्डलिनी शक्ति’ को सर्पिणी का ही रूप बताया गया है। हमारे देश में नागों की पूजा देवता के रूप में किए जाने की पुरान परम्परा है। इसका पता पौराणिक ग्रंथों के अतिरिक्त पुरानी सभ्यताओं के अवशेषों से भी लगता है। इससे स्पष्ट होता है कि भारतीय समाज में नागों को सदैव ही आदरणीय और पूजनीय स्थान प्राप्त है। सनातन ग्रंथों की मान्यता है कि भगवान के नाम का स्मरण करते समय नागों की नामावली का पाठ करना विषनाशक और सर्वर्त्र विजय दिलाने वाला होता है। नागों के प्रमुख नौ नाम नवनाग देवता कहलाते हैं:-अनंत वासुकिं शेष पद्मनाभ च कंबलम्। शंखपालं धृतराष्ट्रं तक्षकं कालियं तथा।।

नागपँचमी का पर्व मनाने के संबंध में एक प्राचीन कथा मिलती है, जिसके अनुसार एक बार नागों ने अपनी माता कद्रू की आज्ञा की अवहेलना की इससे क्रोधित होकर नागमाता ने उन्हें यह श्राप दे दिया कि ‘जब राजा जन्मेजय नाग-यज्ञ करेंगे तो उसकी अग्नि में तुम सब जलकर भस्म हो जाओगे।’ तब नागों ने ब्रह्माजी से श्राप से मुक्त होने का उपाय पूछा। ब्रह्माजी बोले- यायावर वंश में उत्पन्न तपस्वी जरत्कारू तुम्हारे बहनोई होंगे और उनका पुत्र आस्तिक तुम्हारी रक्षा करेगा। इस तरह से ब्रह्माजी ने यह वरदान नागों को शुक्लपक्ष की पँचमी को ही दिया था। इसी तिथि में आस्तीक मुनि ने नागों का परिरक्षण किया था। नागों को संरक्षित करने के प्रयास से आरंभ हुई नागपँचमी आज भी पूर्ण प्रासंगिक है आज भी नागों सहित अन्य सर्पों को बचाने की आवश्यकता है। इसका कारण भी है क्योंकि सर्प हमारे पर्यावरण संतुलन के लिए परमावश्यक जीव हैं और हमारी कृषि के लिए भी ये बहुउपयोगी हैं ये चूहों और कीटपतंगों से फसलों की रक्षा करते हैं।
नागपंचमी नागदेवता की पूजा का मुख्य पर्व है। पंचमी तिथि को नागपंचमी का त्योहार नागदेवता को ही समर्पित है। इस त्योहार पर व्रतपूर्वक नागदेव का पूजन किया जाता है। नागदेव की जाति सर्प है, जोकि भगवान् विष्णु की शय्या के रूप में हैं, भगवान् भोलेशंकर के गले की शोभा है, गणेश दुर्गा आदि देव देवियों के आभूषण स्वरूप हैं। सर्प जाति बहुत ही निडर होती है तथा बिना किसी दोष के कुछ भी नही करती कहा गया है कि- सिंहानां महती निद्रा सर्पाणां च महद्भयम्। ब्राह्मणानां न चैकत्वं तस्माद् जीवन्ति जन्तवः।।
अर्थात् सिंहो को बहुत नींद आती है तथा सर्पों को बहुत भय रहता है तथा ब्राह्मणों में एकता नही है। इसलिए सभी जीव-जन्तु इस धरातल पर जी रहे हैं। श्रीमद्देवीभागवत् महापुराण में नागपँचमी की कथा इस प्रकार से है। इस कथा को कहने वाले सुमंत मुनि तथा सुनने वाले पाण्डव वंश के राजा शतानीक थे- देवताओं और असुरों द्वारा समुन्द्रमँथन से प्राप्त चैदह रत्नों में से उच्चैःश्रवा नामक अश्व आकाश मार्ग से जा रहा था। तभी उस अश्व पर नागमाता कद्रू तथा विमाता विनता की दृष्टि पड़ी दोनों में वार्ता हुई कि-बताओ बहन इस अश्व के बाल किस रंग के हैं। विमाता विनता ने कहा स्वेत तथा नागमाता कद्रू ने उसे चितकबरे रंग का बतलाया, फिर तो अपनी-अपनी बात पर अड़ गई और दोनों माताओं में शर्त लग गई कि एक दूसरे की बात असिद्ध होने पर जिसकी भी बात सिद्ध होगी तो वह दूसरी की दासी बन जाएगी। नागमाता कद्रू ने सभी नागों को आज्ञा दी कि सभी सर्प केश सदृश बनकर उस अश्व के शरीर में प्रवेश करो। किन्तु नागों ने असमर्थता प्रकट कर उनकी आज्ञा का पालन नही किया तभी माता कद्रू ने उन सर्पों को श्राप दे दिया कि पांडववंश के राजा जब अपने पिता की मृत्यु के बदले में नागयज्ञ करेंगे तब उस यज्ञ में तुम सभी सर्प आहुति के रूप में उस अग्नि में प्रवेश करोगे। इस श्राप से भयाक्राँत सभी सर्प वासुकि सर्प के नेतृत्व में ब्रह्माजी के पास गए और इससे निवारण का उपाय पूछा। ब्रह्माजी ने उन्हें उपाय बताते हुए कहा-यायावर वंश में उत्पन्न तपस्वी जरत्कारू को अपना बहनोई बनाओ तथा उसके संयोग से उत्पन्न आस्तिक ही तुम्हारी रक्षा करेगा। ब्रह्माजी ने सर्पों को यह युक्ति पँचमी तिथि को बताई थी अतएव तब से इस तिथि पर आस्तिक मुनि द्वारा नागों का परिक्षण और तभी से नागपँचमी पर्व मनाया जाता है।
हमारे ऋषि-मुनियों द्वारा नागोपासना के अनेक व्रत पूजन विधानों को बताया गया है। नागों को अत्यंत प्रसन्न करने वाली इस श्रावणशुक्ल की पँचमी पर उनको गोदुग्ध से स्नान व पारणादि कराया जाता है। व्रत के साथ एक ही बार भोजन करने का नियम है। पूजन के समय पृथ्वी पर नागों का चित्रांकन कर सवर्ण, रजत, काष्ठ या फिर मृत्तिका से नाग बनाकर पुष्प, धूप, गन्धादि से पूजन करना चाहिए। नागपूजन में निम्न मंत्रों को पढ़कर नागों को प्रणाम किया जाता है- सर्वें नागाः प्रीयन्तां मे ये केचित् पृथिवीतले। ये च हेलिमरीचिस्था येऽन्तरे दिविसंस्थिता।। ये नदीषु महानागा ये सरस्वतिगामिनः। ये च वापीडागेषु तेषु सर्वेषु वै नमः।।
अर्थात् जो नाग पृथ्वी आकाश, स्वर्ग, सूर्य की किरणों, सरोवरों, वापी, कूप तथा तालाबादि में वास करते हैं वे हम सब पर प्रसन्ना हों, हम उनको शत्शत् नमन करते हैं। नागपूजन वनसम्प्रदायों में भारत के विभिन्न पहाड़ी क्षेत्रों में एवं राजस्थान के कई क्षेत्रों में बड़े ही सम्मान के साथ नागदेवता का पूजन किया जाता है। यथासंभव नागों को न मारने की परंपरा आज भी भारत में जीवित है क्योंकि भारतवर्ष के जनमानस का विचार ‘‘सर्वं खल्विदं ब्रह्म’’ इस उक्ति को ही सिद्ध करता है।

नागपंचमी पर कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए करें ये उपाय
जब किसी व्यक्ति की कुंडली में सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में आ जाते हैं, तो ऐसा माना जाता है कि उस व्यक्ति की कुंडली में काल सर्प योग बन गया है। यदि ऐसा होता है तो उस व्यक्ति के द्वारा की गई मेहनत का फल उसे नहीं मिल पाता है। इसी कारण से इस दोष का निवारण करना बहुत ज़रूरी होता है। नागपंचमी का पर्व कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए सबसे उत्तम माना जाता है। मान्यता है कि नागपंचमी के दिन मंदिरों में नाग देवता की पूजा करने से कालसर्प दोष खत्म हो जाता है। कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए नागपंचमी पर करें ये उपाय :
  1. नाग पंचमी के दिन भगवान शिव का अभिषेक करें और उन्‍हें चांदी के नाग और नागिन का जोड़ा अर्पित करें, इससे कालसर्प दोष से मुक्‍ति मिल सकती है।
  2. नाग पंचमी के दिन रुद्राभिषेक करने से भी कालसर्प दोष को कम किया जा सकता है।
  3. नव नाग स्तोत्र का 108 बार पाठ करें।
  4. अगर संभव हो तो किसी सपेरे से जीवित नाग और नागिन का जोड़ा खरीदें और उसे जंगल में मुक्त करवाएं।
  5. नागपंचमी के दिन बहते हुए जल में 11 नारियल प्रवाहित करें। इससे भी कालसर्प दोष खत्म होता है।
  6. नाग पंचमी के दिन पीपल के पेड़ के नीचे किसी बर्तन में दूध रखें।
इन मंत्रों का करें जाप: कालसर्प दोष से पीड़ित लोगों को नाग पंचमी के दिन नाग की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए। इसके अलावा नाग गायत्री मंत्र- ‘ॐ नवकुलाय विद्यमहे विषदंताय धीमहि तन्नो सर्प: प्रचोदयात्’ का जाप करें। इस दिन ‘ॐ नमः शिवाय’ और ‘ॐ नागदेवताय नम:’ मंत्र का 11 या 21 माला जाप करने से भी कालसर्प दूर होता है।
नागपंचमी पूजा विधि: घर के मुख्यद्वार के दोनों ओर नाग का चिंत्र बनाएं या उनकी प्रतिमा स्थापित करें। फिर धूप, दीपक, कच्चा दूध, खीर आदि से नाग देवता की पूजन करें। भोग में गेंहू, भूने हुए चने और जौं का इस्तेमाल करें। प्रसाद नागों को चढ़ाएं और लोगों को बांटें।

नागपंचमी में नागों की पूजा से संबंधित कई कथाएं
  1. दूध की कटोरी से नागिन हुई प्रसन्न -नागपंचमी की कई कथाओं में एक कथा आंध्रप्रदेश में काफी लोकप्रिय है। किसी समय एक किसान अपने दो पुत्रों और एक पुत्री के साथ रहता था। एक दिन खेतों में हल चलाते समय किसान के हल के नीचे आने से नाग के तीन बच्चे मर गए। नाग के मर जाने पर नागिन ने रोना शुरू कर दिया और उसने अपने बच्चों के हत्यारे से बदला लेने का प्रण किया। रात में नागिन ने किसान व उसकी पत्नी सहित उसके दोनों लड़कों को डस लिया। अगले दिन प्रात: किसान की पुत्री को डसने के लिये नागिन फिर चली तो किसान की कन्या ने उसके सामने दूध से भरा कटोरा रख दिया। और नागिन से हाथ जोड़कर क्षमा मांगने लगी। नागिन ने प्रसन्न होकर उसके माता-पिता व दोनों भाइयों को पुन: जीवित कर दिया। कहते हैं कि उस दिन श्रावण मास की पंचमी तिथि थी। उस दिन से नागों के कोप से बचने के लिये नागों की पूजा की जाती है और नाग -पंचमी का पर्व मनाया जाता है।
  2. नाग भाई ने दिए बहन को उपहार -एक धनवान सेठ के छोटे बेटे की पत्नी रूपवान होने के साथ ही बहुत बुद्धिमान भी थी। उसका कोई भाई नहीं था। एक दिन सेठ की बहुएं घर लीपने के लिए जंगल से मिट्टी खोद रही थीं तभी वहां एक नाग निकला। बड़ी बहू उसे खुरपी से मारने लगी तो छोटी बहू ने कहा ‘सांप को मत मारो’। यह सुनकर बड़ी बहू ने रुक गई। जाते-जाते छोटी बहू सांप से थोड़ी देर में लौटने का वादा कर गई। मगर बाद में वह घर के कामकाज में फंसकर वहां जाना भूल गई। दूसरे दिन जब उसे अपना वादा याद आया तो वह दौड़कर वहां पहुंची जहां सांप बैठा था और कहा, ‘सांप भैया प्रणाम!’ सांप ने कहा कि आज से मैं तेरा भाई हुआ, तुम्हें जो कुछ चाहिए मुझसे मांग लो। छोटी बहू ने कहा, ‘तुम मेरे भाई बन गये यही मेरे लिए बहुत बड़ा उपहार है।’ कुछ समय बाद सांप मनुष्य रूप में छोटी बहू के घर आया और कहा कि मैं दूर के रिश्ते का भाई हूं और इसे मायके ले जाना चाहता हूं। ससुराल वालों ने उसे जाने दिया। विदाई में सांप भाई ने अपनी बहन को बहुत गहने और धन दिये। इन उपहारों की चर्चा राजा तक पहुंच गयी। रानी को छोटी बहू का हार बहुत पसंद आया और उसने वह हार रख लिया। रानी ने जैसे ही हार पहना वह सांप में बदल गया। राजा को बहुत क्रोध आया मगर छोटी बहू ने राजा को समझाया कि अगर कोई दूसरा यह हार पहनेगा तो यह सांप बन जाएगा। तब राजा ने उसे क्षमा कर दिया और साथ में धन देकर विदा किया। जिस दिन छोटी बहू ने सांप की जान बचायी थी उस दिन सावन कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि थी इसलिए उस दिन से नाग पंचमी का त्योहार मनाया जाता है।
  3. नाग की पूजा से मिला संतान सुख -नाग पंचमी से संबंधित एक अन्य कथा के अनुसार एक राजा के सात पुत्र थे। सभी का विवाह हो चुका था। उनमें से छ: पुत्रों के यहां संतान का जन्म हो चुका था। राजा के सातवें पुत्र के घर संतान का जन्म नहीं हुआ था। संतानहीन होने के कारण उन दोनों को घर और समाज में तानों का सामना करना पड़ता था। समाज की बातों से उसकी पत्नी परेशान हो चुकी थी। परन्तु पति यही कहकर समझाता था, कि संतान होना या न होना तो ईश्वर के हाथ है। इसी प्रकार उनकी जिन्दगी संतान की प्रतीक्षा में गुजर रहे थे। एक दिन श्रवण मास की पंचमी तिथि के दिन रात में राजा की छोटी बहू ने सपने में पांच सांप देखे। उनमें से एक सांप ने कहा कि, पुत्री तुम संतान के लिए क्यों दुःखी होती हो, हमारी पूजा करो तुम्हारे घर संतान का जन्म होगा। प्रात: उसने यह स्वप्न अपने पति को सुनाया, पति ने कहा कि जैसे स्वप्न में देखा है, उसी के अनुसार नागों का पूजन करो। उसने उस दिन व्रत कर नागों का पूजन किया, और कुछ समय बाद उनके घर में संतान का जन्म हुआ।


Share:

कोई टिप्पणी नहीं: