श्री हनुमान जी की आरती और चित्र



आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्टदलन रघुनाथ कला की।
जाके बल से गिरिवर कांपै। रोग दोष जाके निकट न झांपै।
अंजनिपुत्र महा बलदाई। संतन के प्रभु सदा सहाई।
दे बीरा रघुनाथ पठाये। लंका जारि सीय सुधि लाये।
लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई।
लंका जारि असुर संहारे। सीतारामजी के काज संवारे।
लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे। आनि सजीवन प्राण उबारे।
पैठि पताल तोरि जम कारे। अहिरावण की भुजा उखारे।
बायें भुजा असुरदल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे।
सुर नर मुनि आरती उतारे। जय जय जय हनुमान उचारे।
कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई।
जो हनुमान जी की आरती गावै। बसि बैकुण्ठ परम पद पावै।



















Share:

1 टिप्पणी:

Komunitas Youtuber Indonesia ने कहा…

To do Not Pressure OR Anything, But Have Ever This considered post there is statement PT Lampung Service this is a
Service HP Bandar Lampung whose looking to do day
Service iPhone Lampung to this looking then to out standing that is
Business Of Luxury Design I will try it.
Jasa Kursus Service HP They have jumping places and so that the device other kid's activity.Youtuber Lampung ,

Thanks ! Visit Back Subscribel Here ->Youtuber Lampung <-