भारत का संविधान - प्रस्तावना अथवा उद्देशिका



Preamble of the Indian Constitution
Preamble of Indian Constitution

"हम भारत के लोग, भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को:

सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए तथा उन सबमें व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखण्डता सुनिश्चित करनेवाली बंधुता बढाने के लिए

दृढ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज तारीख 26 नवंबर, 1949 ई0 (मिति मार्ग शीर्ष शुक्ल सप्तमी, सम्वत् दो हजार छह विक्रमी) को एतद द्वारा इस संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं।"
संविधान के उद्देश्यों को प्रकट करने हेतु प्राय: उनसे पहले एक प्रस्तावना प्रस्तुत की जाती है जिसे भारतीय संविधान की उद्देशिका भी कहा जाता है। भारतीय संविधान की प्रस्तावना अमेरिकी संविधान से प्रभावित तथा विश्व में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है। प्रस्तावना के माध्यम से भारतीय संविधान का सार, अपेक्षाएँ, उद्देश्य उसका लक्ष्य तथा दर्शन प्रकट होता है। प्रस्तावना यह घोषणा करती है कि संविधान अपनी शक्ति सीधे जनता से प्राप्त करता है इसी कारण यह 'हम भारत के लोग' - इस वाक्य से प्रारम्भ होती है।
Preamble to the Constitution of India

सुप्रीम कोर्ट द्वारा व्याख्या
संविधान में प्रस्तावना को तब जोड़ा गया था जब बाकी संविधान पहले ही लागू हो गया था। बेरूबरी यूनियन के मामले में (1960) सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा कि प्रस्तावना संविधान का हिस्सा नहीं है। हालांकि, यह स्वीकार किया गया कि यदि संविधान के किसी भी अनुच्छेद में एक शब्द अस्पष्ट है या उसके एक से अधिक अर्थ होते हैं तो प्रस्तावना को एक मार्गदर्शक सिद्धांत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
केहर सिंह बनाम भारत संघ के वाद में कहा गया था कि संविधान सभा भारतीय जनता का सीधा प्रतिनिधित्व नहीं करती अत: संविधान विधि की विशेष अनुकृपा प्राप्त नहीं कर सकता, परंतु न्यायालय ने इसे खारिज करते हुए संविधान को सर्वोपरि माना है जिस पर कोई प्रश्न नहीं उठाया जा सकता है।
केशवानंद भारती मामले (1973) में सुप्रीम कोर्ट ने अपने पहले के फैसले को पलट दिया और यह कहा कि प्रस्तावना संविधान का एक हिस्सा है और इसे संविधान के अनुच्छेद 368 के तहत संशोधित किया जा सकता है। एक बार फिर, भारतीय जीवन बीमा निगम के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा कि प्रस्तावना संविधान का एक हिस्सा है।
इस प्रकार स्वतंत्र भारत के संविधान की प्रस्तावना खूबसूरत शब्दों की भूमिका से बनी हुई है। इसमें बुनियादी आदर्श, उद्देश्य और दार्शनिक भारत के संविधान की अवधारणा शामिल है। ये संवैधानिक प्रावधानों के लिए तर्कसंगतता अथवा निष्पक्षता प्रदान करते हैं।
प्रस्तावना के मूल शब्दों की व्याख्या इस प्रकार है:  संप्रभुताप्रस्तावना यह दावा करती है कि भारत एक संप्रभु देश है। सम्प्रुभता शब्द का अर्थ है कि भारत किसी भी विदेशी और आंतरिक शक्ति के नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त सम्प्रुभता सम्पन्न राष्ट्र है। भारत की विधायिका को संविधान द्वारा तय की गयी कुछ सीमाओं के विषय में देश में कानून बनाने का अधिकार है। 
  1. समाजवादी -'समाजवादी' शब्द संविधान के 1976 में हुए 42 वें संशोधन अधिनियम द्वारा प्रस्तावना में जोड़ा गया। समाजवाद का अर्थ है समाजवादी की प्राप्ति लोकतांत्रिक तरीकों से होती है। भारत ने 'लोकतांत्रिक समाजवाद' को अपनाया है। लोकतांत्रिक समाजवाद एक मिश्रित अर्थव्यवस्था में विश्वास रखती है जहां निजी और सार्वजनिक दोनों क्षेत्र कंधे से कंधा मिलाकर सफर तय करते हैं। इसका लक्ष्य गरीबी, अज्ञानता, बीमारी और अवसर की असमानता को समाप्त करना है।
  2. धर्मनिरपेक्ष - 'धर्मनिरपेक्ष' शब्द संविधान के 1976 में हुए 42वें संशोधन अधिनियम द्वारा प्रस्तावना में जोड़ा गया। भारतीय संविधान में धर्मनिरपेक्ष शब्द का अर्थ है कि भारत में सभी धर्मों को राज्यों से समानता, सुरक्षा और समर्थन पाने का अधिकार है। संविधान के भाग III के अनुच्छेद 25 से 28 एक मौलिक अधिकार के रूप में धर्म की स्वतंत्रता को सुनिश्चत करता है।
  3. लोकतांत्रिक - लोकतांत्रिक शब्द का अर्थ है कि संविधान की स्थापना एक सरकार के रूप में होती है जिसे चुनाव के माध्यम से लोगों द्वारा निर्वाचित होकर अधिकार प्राप्त होते हैं। प्रस्तावना इस बात की पुष्टि करती हैं कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है, जिसका अर्थ है कि सर्वोच्च सत्ता लोगों के हाथ में है। लोकतंत्र शब्द का प्रयोग राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक लोकतंत्र के लिए प्रस्तावना के रूप में प्रयोग किया जाता है। सरकार के जिम्मेदार प्रतिनिधि, सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार, एक वोट एक मूल्य, स्वतंत्र न्यायपालिका आदि भारतीय लोकतंत्र की विशेषताएं हैं।
  4. गणराज्य - एक गणतंत्र अथवा गणराज्य में, राज्य का प्रमुख प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से लोगों द्वारा चुना जाता है। भारत के राष्ट्रपति को लोगों द्वारा परोक्ष रूप से चुना जाता है; जिसका अर्थ संसद औऱ राज्य विधानसभाओं में अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से है। इसके अलावा, एक गणतंत्र में, राजनीतिक संप्रभुता एक राजा की बजाय लोगों के हाथों में निहित होती है।
  5. न्याय - प्रस्तावना में न्याय शब्द को तीन अलग-अलग रूपों में समाविष्ट किया गया है- सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक, जिन्हें मौलिक और नीति निर्देशक सिद्धांतों के विभिन्न प्रावधानों के माध्यम से हासिल किया गया है। प्रस्तावना में सामाजिक न्याय का अर्थ संविधान द्वारा बराबर सामाजिक स्थिति के आधार पर एक अधिक न्यायसंगत समाज बनाने से है। आर्थिक न्याय का अर्थ समाज के अलग-अलग सदस्यों के बीच संपति के समान वितरण से है जिससे संपति कुछ हाथों में ही केंद्रित नहीं हो सके। राजनीतिक न्याय का अर्थ सभी नागरिकों को राजनीतिक भागीदारी में बराबरी के अधिकार से है। भारतीय संविधान प्रत्येक वोट के लिए सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार और समान मूल्य प्रदान करता है।
  6. स्वतंत्रता -स्वतंत्रता का तात्पर्य एक व्यक्ति जो मजबूरी के अभाव या गतिविधियों के वर्चस्व के कारण तानाशाही गुलामी, चाकरी, कारावास, तानाशाही आदि से मुक्त या स्वतंत्र कराना है।
  7. समानता -समानता का अभिप्राय समाज के किसी भी वर्ग के खिलाफ विशेषाधिकार या भेदभाव को समाप्त करने से है। संविधान की प्रस्तावना देश के सभी लोगों के लिए स्थिति और अवसरों की समानता प्रदान करती है। संविधान देश में सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक समानता प्रदान करने का प्रयास करता है।
  8. भाईचारा -भाईचारे का अर्थ बंधुत्व की भावना से है। संविधान की प्रस्तावना व्यक्ति और राष्ट्र की एकता और अखंडता की गरिमा को बनाये रखने के लिए लोगों के बीच भाईचारे को बढावा देती है।
प्रस्तावना में संशोधन
1976 में, 42 वें संविधान संशोधन अधिनियम (अभी तक केवल एक बार) द्वारा प्रस्तावना में संशोधन किया गया था जिसमें तीन नए शब्द- समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष और अखंडता को जोड़ा गया था। अदालत ने इस संशोधन को वैध ठहराया था।


Share:

श्री गणेश चालीसा एवं आरती Shri Ganesha Chalisa and Aarati



॥दोहा॥
जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।
विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥
जय जय जय गणपति गणराजू।
मंगल भरण करण शुभ काजू॥
Jai Shri Ganesha HD Wallpapers

॥चौपाई॥
जै गजबदन सदन सुखदाता। विश्व विनायक बुद्घि विधाता॥
वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन। तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन॥
राजत मणि मुक्तन उर माला। स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला॥
पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं। मोदक भोग सुगन्धित फूलं॥1॥

सुन्दर पीताम्बर तन साजित। चरण पादुका मुनि मन राजित॥
धनि शिवसुवन षडानन भ्राता। गौरी ललन विश्वविख्याता॥
ऋद्घिसिद्घि तव चंवर सुधारे। मूषक वाहन सोहत द्घारे॥
कहौ जन्म शुभकथा तुम्हारी। अति शुचि पावन मंगलकारी॥2॥

एक समय गिरिराज कुमारी। पुत्र हेतु तप कीन्हो भारी॥
भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा। तब पहुंच्यो तुम धरि द्घिज रुपा॥
अतिथि जानि कै गौरि सुखारी। बहुविधि सेवा करी तुम्हारी॥
अति प्रसन्न है तुम वर दीन्हा। मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा॥3॥

मिलहि पुत्र तुहि, बुद्घि विशाला। बिना गर्भ धारण, यहि काला॥
गणनायक, गुण ज्ञान निधाना। पूजित प्रथम, रुप भगवाना॥
अस कहि अन्तर्धान रुप है। पलना पर बालक स्वरुप है॥
बनि शिशु, रुदन जबहिं तुम ठाना। लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना॥4॥

सकल मगन, सुखमंगल गावहिं। नभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं॥
शम्भु, उमा, बहु दान लुटावहिं। सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं॥
लखि अति आनन्द मंगल साजा। देखन भी आये शनि राजा॥
निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं। बालक, देखन चाहत नाहीं॥5॥

गिरिजा कछु मन भेद बढ़ायो। उत्सव मोर, न शनि तुहि भायो॥
कहन लगे शनि, मन सकुचाई। का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई॥
नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ। शनि सों बालक देखन कहाऊ॥
पडतहिं, शनि दृग कोण प्रकाशा। बोलक सिर उड़ि गयो अकाशा॥6॥

गिरिजा गिरीं विकल है धरणी। सो दुख दशा गयो नहीं वरणी॥
हाहाकार मच्यो कैलाशा। शनि कीन्हो लखि सुत को नाशा॥
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो। काटि चक्र सो गज शिर लाये॥
बालक के धड़ ऊपर धारयो। प्राण, मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो॥7॥

नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे। प्रथम पूज्य बुद्घि निधि, वन दीन्हे॥
बुद्घ परीक्षा जब शिव कीन्हा। पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा॥
चले षडानन, भरमि भुलाई। रचे बैठ तुम बुद्घि उपाई॥
चरण मातुपितु के धर लीन्हें। तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें॥8॥

तुम्हरी महिमा बुद्घि बड़ाई। शेष सहसमुख सके न गाई॥
मैं मतिहीन मलीन दुखारी। करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी॥
भजत रामसुन्दर प्रभुदासा। जग प्रयाग, ककरा, दर्वासा॥
अब प्रभु दया दीन पर कीजै। अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै॥9॥
Lord-Ganesha-Wallpaper
॥दोहा॥
श्री गणेश यह चालीसा, पाठ करै कर ध्यान।
नित नव मंगल गृह बसै, लहे जगत सन्मान॥
सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश, ऋषि पंचमी दिनेश।
पूरण चालीसा भयो, मंगल मूर्ति गणेश॥

 

आरती श्री गणेश जी की 

 जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय...

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।
माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥ जय...

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥ जय...

हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ॥ जय...

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जाऊं बलिहारी॥ जय...


Share:

हिंदी के अशुद्ध शब्द और उनके शुद्ध शब्‍द



List of Hindi Shudh Ashudh Shabd

हिंदी शुद्ध अशुद्ध शब्द सूची (List of Hindi Shudh Ashudh Shabd)

शुद्ध / मानक- - - - -अशुद्ध / अमानक

  1. अनधिकार- - - - -अनाधिकार
  2. अधीन- - - - -आधीन
  3. अतिथि- - - - -अतिथी
  4. अफ़सोसनाक- - - - -अफ़सोसजनक
  5. अंतरराष्ट्रीय- - - - -अंतर्राष्ट्रीय
  6. अध्यात्म- - - - -आध्यात्म
  7. अत्यधिक- - - - -अत्याधिक
  8. अंत्येष्टि- - - - -अंत्येष्ठि
  9. अंतर्धान- - - - -अंतर्ध्यान
  10. अभीष्ट- - - - -अभीष्ठ
  11. अनुगृहीत- - - - -अनुग्रहीत
  12. अनजान- - - - -अंजान
  13. अंतरिक्ष- - - - -अंतरीक्ष
  14. अठखेलियाँ- - - - -अटखेलियाँ
  15. अधीक्षक- - - - -अधिक्षक
  16. अनिश्चित- - - - -अनिश्च्त
  17. अवयस्क- - - - -अवयस्क
  18. अवाम- - - - -आवाम
  19. अष्टांगयोग- - - - -अष्ठांगयोग
  20. असम- - - - -आसाम
  21. अंपायर- - - - -एंपायर
  22. असम्मानजनक- - - - -गैरसम्मानजनक


  1. आवश्यकता- - - - -अवश्यकता
  2. आटा- - - - -आँटा
  3. आशीर्वाद- - - - -आशिर्वाद
  4. आहार- - - - -अहार
  5. आरूढ़- - - - -आरुढ़
  6. आनुषंगिर- - - - -अनुषांगिर
  7. आस्तीन- - - - -अस्तीन
  8. आइए- - - - -आईए
  9. आइना- - - - -आईना
  10. आकंठ- - - - -आकंट
  11. आगामी- - - - -अगामी
  12. आधारित- - - - -अधारित
  13. आधिकारित- - - - -अधिकारित
  14. आध्यात्मिक- - - - -अध्यात्मिक
  15. आवारा- - - - -अवारा
  16. आतंकवादी- - - - -आंतकवादी
  17. आँसुओं- - - - -आँसूओं
  18. आडवाणी- - - - -आडवानी
  19. आर्द्रता- - - - -आर्दता
  20. आवंटन- - - - -आबंटन


  1. इनकार- - - - -इंकार
  2. इमारत- - - - -ईमारत
  3. इत्तफ़ाक़ / इत्तिफ़ाक़- - - - -अत्तेफ़ाक़
  4. इकट्ठा- - - - -इकठ्ठा
  5. इच्छा- - - - -ईच्छा
  6. इंग्लैंड- - - - -इंगलैंड
  7. इंजेक्शन- - - - -इंजैक्शन


  1. ईजाद- - - - -इजाद
  2. ईसाई- - - - -इसाई
  3. ईमानदारी- - - - -इमानदारी
  4. ईश्वर- - - - -इश्वर


  1. उज्ज्वल- - - - -उज्ज्वल
  2. उपजाऊ- - - - -उपजाउ
  3. उद्घाटन- - - - -उदघाटन
  4. उद्यत- - - - -उद्दत
  5. उनतीस- - - - -उंतीस
  6. उनचास- - - - -उनंचास
  7. उँगलियाँ- - - - -ऊँगलियाँ
  8. उपलक्ष्य- - - - -उपलक्ष


  1. ऊहापोह- - - - -उहापोह
  2. ऊधम- - - - -उधम
  3. ऊष्मा- - - - -उष्मा


  1. एकेडेमिक / अकादमिक- - - - -अकेडमिक
  2. एनकाउंटर / एनकाउण्टर- - - - -एनकाउन्टर
  3. एकत्र- - - - -एकत्रित
  4. एहसास- - - - -अहसास
  5. एजेंसी- - - - -एंजसी
  6. एहतियात- - - - -ऐहतियात
  7. ऐतिहासिक- - - - -एतिहासिक
  8. ऐक्ट- - - - -एक्ट
  9. ऐच्छिक- - - - -एच्छिक
  10. ऐंकर- - - - -एंकर


  1. कालिदास- - - - -कालीदास
  2. कोटि- - - - -कोटी
  3. क़ूवत- - - - -कूबत
  4. कीजिए- - - - -करीए
  5. कीजिएगा- - - - -करिएगा
  6. क्योंकि- - - - -क्योंकी
  7. काग़ज़ात- - - - -काग़ज़ातों
  8. कसौटी- - - - -कसोटी
  9. कठिनाइयाँ- - - - -कठिनाईयाँ
  10. केंद्रीय- - - - -केंद्रिय
  11. कुमुसिनी- - - - -कुमुदनी
  12. कैबिनेट- - - - -केबिनेट
  13. क़ाबिलियत- - - - -काबिलयत
  14. कारागृह- - - - -काराग्रह
  15. कार्रवाई- - - - -कार्यवाई
  16. कनिष्ठ- - - - -कनिष्ट
  17. कौआ- - - - -कौव्वा
  18. कृतकृत्य- - - - -कृत्यकृत्य
  19. कृपया- - - - -कृप्या
  20. कुआँ / कुँआ- - - - -कूआँ


  1. खरोंच- - - - -खरोच
  2. ख़बरनवीस- - - - -ख़बरनबीस
  3. ख़याल- - - - -ख्याल
  4. खटाई- - - - -खटायी
  5. खल्वाट- - - - -खलवाट
  6. ख़ूबानी- - - - -ख़ुबानी


  1. गीतांजलि- - - - -गीतांजली
  2. गुरु- - - - -गुरू
  3. गृहिणी- - - - -गृहणी
  4. गठजोड- - - - -गँठजोड
  5. गद्गद- - - - -गदगद
  6. गलघोंटू- - - - -गलाघोंटू
  7. गँवाना- - - - -गवाँना / गवाना


  1. घंटे / घण्टे- - - - -घन्टे
  2. घनिष्ठ- - - - -घनिष्ट
  3. घबराना- - - - -घबड़ाना
  4. घरौंदा- - - - -घरोंदा
  5. घूँट- - - - -घूट


  1. चेष्टा- - - - -चेष्ठा
  2. चित्त- - - - -चित
  3. चिह्न- - - - -चिन्ह
  4. चरागाह- - - - -चारागाह


  1. छिपकली- - - - -छिपकिली
  2. छुआछूत- - - - -छूआछूत
  3. छेड़छाड़- - - - -छेंड़छाड़ / छेड़छाँड़


  1. जीर्णोद्धार- - - - -जीर्णोंद्धार
  2. जाति- पाँति / जात - पाँत- - - - -जाँति- पाँति / जाति - पाति
  3. ज़रूरी- - - - -ज़रुरी
  4. जयंती- - - - -जयंति
  5. जवाब- - - - -जबाव
  6. ज्योत्स्ना- - - - -ज्योत्सना
  7. ज्योतिषी- - - - -ज्योतिषि
  8. जुआरी- - - - -जुआड़ी
  9. जूठा (खाना)- - - - -झूठा (खाना)


  1. झँपना- - - - -झपना
  2. झाग- - - - -झाँग
  3. झुँझलाना- - - - -झुझलाना
  4. झोंका- - - - -झोका
  5. झोंपडी- - - - -झौपड़ी


  1. टेलीविज़न- - - - -टेलिविज़न
  2. टिप्पणी- - - - -टिप्पड़ी


  1. डाकुओं- - - - -डाकूओं
  2. ड्राइवर- - - - -ड्राईवर


  1. ढाँकना- - - - -ढाँकना
  2. ढूँढ़ना- - - - -ढूँढना


  1. ताबूत- - - - -ताबुत
  2. तूफ़ान- - - - -तुफान
  3. तत्त्व- - - - -तत्व
  4. तात्कालिक- - - - -तत्कालिक
  5. तृतीय- - - - -त्रितीय
  6. त्रिकालदर्शी- - - - -तृकालदर्शी
  7. तुम्हें, तुमको- - - - -तुम्हारे को
  8. तत्त्वावधान- - - - -तत्वाधान
  9. तैंतीस- - - - -तैतीस
  10. तिनतरफ़ा- - - - -तीनतरफा
  11. तबीयत- - - - -तबियत
  12. तिथि- - - - -तिथी
  13. त्यौरी- - - - -त्योरी
  14. त्योहार- - - - -त्यौहार
  15. तिलिस्म- - - - -तिलस्म
  16. तुष्टीकरण- - - - -तुष्टिकरण


  1. थर्माकोल- - - - -थरमाकोल
  2. थीसीस- - - - -थिसिस
  3. थूकना- - - - -थुकना
  4. थ्योरी- - - - -थ्यौरी
  5. थ्रिलर- - - - -थ्रीलर
  6. थूत्कार- - - - -थुत्कार
  7. थेगली- - - - -थिगली


  1. दरियाई- - - - -दरियायी
  2. दूसरे- - - - -दुसरे
  3. द्वंद्व- - - - -द्वंद
  4. दंपति / दंपती- - - - -दंपत्ति
  5. दीवाली- - - - -दिवाली
  6. दयालु- - - - -दयालू
  7. दूल्हे- - - - -दुल्हे
  8. दायित्व- - - - -दायित्त्व
  9. दुरूह- - - - -दुरुह
  10. दुरवस्था- - - - -दुरावस्था
  11. दुरुपयोग- - - - -दुरुपयोग
  12. दुकानें- - - - -दुकाने
  13. द्रष्टा- - - - -दृष्टा
  14. दुनिया- - - - -दुनियाँ
  15. दृश्य- - - - -दृष्य
  16. दामाद- - - - -दमाद
  17. दाँवपेंच- - - - -दावपेच
  18. दवाइयाँ- - - - -दवाईयाँ
  19. दीवानगी- - - - -दिवानगी
  20. दस्तावेज़- - - - -दस्ताबेज
  21. दुपहिया- - - - -दोपहिया


  1. धकेला- - - - -ढकेला
  2. धुरंधर- - - - -धुरंदर
  3. धातुएँ- - - - -धातूएँ
  4. ध्रुपद- - - - -ध्रूपद
  5. धौंस- - - - -धौस
  6. धौंकनी- - - - -धौकनी


  1. नाकोदम- - - - -नाकोंदम
  2. नरक- - - - -नर्क
  3. नाकारा- - - - -नकारा
  4. नीरोग- - - - -निरोग
  5. नादान- - - - -नदान
  6. नाराज़- - - - -नराज
  7. निलंबित- - - - -निलंवित
  8. न्यायालय- - - - -न्यालय
  9. न्योछावर- - - - -न्यौछावर
  10. नक़द- - - - -नगद
  11. नूपुर- - - - -नुपुर
  12. नई- - - - -नयी
  13. नौकरी- - - - -नोकरी
  14. नि:शुल्क- - - - -निशुल्क
  15. नवाब- - - - -नबाब
  16. नेस्तनाबूद- - - - -नेस्तनाबूत
  17. नवरात्र- - - - -नवरात्री
  18. न्योता- - - - -न्यौता
  19. निर्माणाधीन- - - - -निर्माणधीन
  20. निरुपम- - - - -निरूपम
  21. नुकसानदेह- - - - -नुकसानदेय
  22. नौसिखिया- - - - -नौसीखिया


  1. पूर्णिमा- - - - -पुर्णिमा
  2. पूर्वार्ध (पूर्वार्द्ध)- - - - -पूर्वार्द
  3. पूर्ति- - - - -पूर्ती
  4. परिस्थिति- - - - -परिस्थित
  5. प्रतिनिधि- - - - -प्रतिनिध
  6. पुष्पांजलि- - - - -पुष्पांजली
  7. प्रौढ़- - - - -प्रोढ़
  8. पारलौकिक- - - - -परलौकिक
  9. पाजामा- - - - -पजामा
  10. पांडेय- - - - -पांडे
  11. पूछकर- - - - -पूँछकर
  12. प्रतीक्षा- - - - -प्रतिक्षा
  13. पाँचवाँ- - - - -पांचवा
  14. पीतांबर- - - - -पितांबर
  15. परखचे- - - - -परखच्चे
  16. पेचीदा- - - - -पेंचीदा
  17. प्राचीनतम- - - - -प्राचीनतम्
  18. पश्चात्ताप- - - - -पश्चाताप
  19. परिशिष्ट- - - - -परिशिष्ठ
  20. प्रविष्ट- - - - -प्रविष्ठ
  21. पुनरुत्थान- - - - -पुर्नुत्थान
  22. पक्षिगण- - - - -पक्षीगण
  23. पूजनीय- - - - -पूज्यनीय
  24. पूछना- - - - -पूँछना
  25. परिप्रेक्ष्य- - - - -परिपेक्ष्य
  26. पुनर्वास- - - - -पुर्नवास
  27. पड़ोस- - - - -पड़ौस
  28. प्रदर्शन- - - - -प्रर्दशन
  29. प्रदर्शनी- - - - -प्रदर्शिनी
  30. प्रामाणिक- - - - -प्रमाणिक
  31. प्रसंस्कृत- - - - -प्रसंस्करित
  32. पुनर्जन्म- - - - -पुर्नजन्म
  33. पुनर्मतदान- - - - -पुर्नमतदन


  1. फाँसी- - - - -फासी
  2. फुट- - - - -फिट
  3. फ़ज़ूल- - - - -बेफ़ज़ूल
  4. फ़ेहरिस्त- - - - -फेहरिश्त


  1. बाबत- - - - -बावत
  2. बरात- - - - -बारात
  3. बीमार- - - - -बिमार
  4. बरदाश्त- - - - -बर्दाश्त/बर्दास्त
  5. बादाम- - - - -बदाम
  6. बनिस्बत- - - - -बनिस्पत
  7. ब्राह्मण- - - - -ब्रह्मण
  8. बजाय- - - - -बजाए
  9. बहू- - - - -बहु
  10. ब्रह्म- - - - -ब्रम्ह
  11. बाज़ार- - - - -बज़ार
  12. बांग्ला (भाषा)- - - - -बंगला
  13. बाक़ायदा- - - - -बकायदा
  14. बढ़ोतरी- - - - -बढ़ौत्तरी
  15. बिस्वा- - - - -बिसवा
  16. बेईमान- - - - -बइमान
  17. बल्ब- - - - -बल्व
  18. बीवी (पत्नी)- - - - -बीबी
  19. बेचना- - - - -बेंचना
  20. बंदरबाँट- - - - -बंदरबाट


  1. भगवत्प्रेम- - - - -भागवत्प्रेम
  2. भालुओं- - - - -भालूओं
  3. भाषाएँ- - - - -भाषाऐं
  4. भागीदारी- - - - -भागेदारी
  5. भुखमरी- - - - -भूखमरी
  6. भौंक- - - - -भोंक
  7. भडकाऊ- - - - -भडकाऊँ
  8. भास्कर- - - - -भाष्कर
  9. भेड़- - - - -भेंड़


  1. महत्त्व- - - - -महत्व
  2. मालूम- - - - -मालुम
  3. महाबली- - - - -महाबलि
  4. मुनिनण- - - - -मुनीनण
  5. मुहूर्त- - - - -मुहूर्त्त
  6. मौलवी- - - - -मोलवी
  7. मुकदमे- - - - -मुकदमें
  8. मैथिली- - - - -मैथली
  9. मुकुंद- - - - -मुकंद
  10. मालिन- - - - -मालन
  11. मंजु- - - - -मंजू
  12. मंत्रिपरिषद- - - - -मंत्रीपरिषद
  13. मांस- - - - -माँस
  14. मिष्टान्न- - - - -मिष्ठान
  15. महँगा- - - - -मँहगा
  16. मंत्रोच्चार- - - - -मंत्रोचार
  17. महारत- - - - -महारथ
  18. मखौल- - - - -माखौल
  19. मुख़ालफ़त- - - - -मुखालिफत


  1. यानी- - - - -यानि
  2. यथेष्ट- - - - -यथेष्ठ
  3. यथोचित- - - - -यथोचित्
  4. यथावत्- - - - -यथावत
  5. योगिराज- - - - -योगीराज


  1. रुपये- - - - -रुपये/ रूपए
  2. रवींद्र- - - - -रबिंद्र
  3. रेणु- - - - -रेणू
  4. रूठ- - - - -रुठ
  5. रुपहला- - - - -रूपहला
  6. रणबाँकुरे- - - - -रणबाकुरे
  7. रासायनिक- - - - -रसायनिक
  8. राशिफल- - - - -राशीफल
  9. रेस्तराँ- - - - -रेस्तरा
  10. राष्ट्रीय- - - - -राष्ट्रिय
  11. रूखा- - - - -रुखा


  1. लक्षद्वीप- - - - -लक्षदीप
  2. लब्धप्रतिष्ठ- - - - -लब्धप्रतिष्ठित
  3. लैस- - - - -लैश
  4. लड़ाई- - - - -लड़ायी
  5. लिपि- - - - -लिपी
  6. लाखों- - - - -लाखो
  7. लहूलुहान- - - - -लहुलुहान
  8. लीवर- - - - -लिवर


  1. वरिष्ठ- - - - -वरिष्ट
  2. वरुण- - - - -वरूण
  3. वियतनाम- - - - -विएतनाम
  4. वानर- - - - -बानर
  5. वाल्मीकि- - - - -वाल्मीकी
  6. वधू- - - - -वधु
  7. वस्तुओं- - - - -वस्तूओं
  8. वेश्यागमन- - - - -वैश्यागमन
  9. विलास- - - - -बिलास
  10. विकराल- - - - -बिकराल
  11. व्यावसायिक- - - - -व्यवसायिक
  12. विजयी- - - - -विजई
  13. वापस- - - - -वापिस
  14. व्रज- - - - -वृज
  15. विरहिणी- - - - -विरहणी
  16. विहार- - - - -बिहार
  17. वियोग- - - - -बियोग
  18. वेशभूषा- - - - -वेषभूषा
  19. विश्वास- - - - -विस्वास
  20. विराजमान- - - - -विराजमान्


  1. शांति- - - - -शांती
  2. शिशु- - - - -शिशू
  3. शशिकांत- - - - -शशीकांत
  4. शंभु- - - - -शंभू
  5. श्मशान- - - - -शमशान
  6. शिविर- - - - -शिवर
  7. शिखर- - - - -शिखिर
  8. शांतिमय- - - - -शांतमय
  9. शय्या- - - - -शैया
  10. शुरुआत- - - - -शुरूआत

श्र

  1. श्रीमती- - - - -श्रीमति
  2. श्रृंगार- - - - -श्रृगांर


  1. षड्यंत्र- - - - -षड़यंत्र
  2. षष्टि- - - - -षष्ठ
  3. षष्टिपूर्ति- - - - -षष्ठिपूर्ति


  1. स्थिति- - - - -स्थिती
  2. स्थायी- - - - -स्थाई
  3. सुमेरु- - - - -सुमेरू
  4. संवर्धन/ संवर्द्धन- - - - -संवर्दन
  5. सन्न्यास- - - - -सन्न्यास
  6. सूची- - - - -सूचि
  7. सामान- - - - -समान
  8. संपत्ति- - - - -संपत्ती
  9. साप्ताहिक- - - - -सप्ताहिक
  10. सोचेंगे- - - - -सोचेंगें
  11. सांसारिक- - - - -संसारिक
  12. सिंहवाहिनी- - - - -सिंहवाहनी
  13. साहित्यिक- - - - -सात्यिक
  14. साधु- - - - -साधू
  15. स्वास्थ्य- - - - -स्वास्थ
  16. साइकिल- - - - -सायकिल
  17. सौंदर्य- - - - -सौंदर्यता
  18. स्वावलंबी- - - - -स्वालंबी
  19. सामर्थ्य- - - - -सामर्थ
  20. सशक्तीकरण- - - - -सशक्तिकरण
  21. स्वप्नद्रष्टा- - - - -स्वप्नदृष्टा
  22. सदृश- - - - -सदृश्य
  23. साइबर- - - - -साईबर
  24. सिंकाई- - - - -सिकाई
  25. सिरीज़- - - - -सीरीज़
  26. सुचारु- - - - -सुचारू
  27. सूबेदार- - - - -सुबेदार
  28. सूचीबद्ध- - - - -सूचिबद्ध
  29. संवाद- - - - -सम्वाद
  30. समाधि- - - - -समाधी
  31. सुनामी- - - - -सूनामी
  32. सुनसान- - - - -सूनसान
  33. सेवानिवृत्त- - - - -सेवानिवृत्त
  34. समलिंगी- - - - -समानलिंगी
  35. स्वावलंबन- - - - -स्वालंबन
  36. संग्रहीत- - - - -संग्रहित


  1. हिंदुओं- - - - -हिंदूओं
  2. हथिनी- - - - -हाथिनी
  3. हेरोइन- - - - -हरोईन
  4. हम पर- - - - -हमारे पर
  5. हेतु- - - - -हेतू
  6. हाउस- - - - -हाऊस
  7. हृदय- - - - -हृदय
  8. हिमाचल- - - - -हिमांचल
  9. हश्र (ह+श्+र)- - - - -हस्र

क्ष 

  1. क्षत्रिय- - - - -क्षत्रीय


Share:

वाक्यांश के लिए एक शब्द



अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (One Word Substitution)
वाक्यांश के लिए एक शब्द Vakyansh ke Liye ek Shabd
अच्छी रचना के लिए आवश्यक है कि कम से कम शब्दों में विचार प्रकट किए जाए। भाषा में यह सुविधा भी होनी चाहिए कि वक्ता या लेखक कम से कम शब्दों में अर्थात् संक्षेप में बोलकर या लिखकर विचार अभिव्यक्त कर सके। कम से कम शब्दों में अधिकाधिक अर्थ को प्रकट करने के लिए ‘वाक्यांश या शब्द–समूह के लिए एक शब्द’ का विस्तृत ज्ञान होना आवश्यक है। भाषा की सुदृढ़ता, भावों की गम्भीरता और चुस्त शैली के लिए यह आवश्यक है कि लेखक शब्दों (पदों) के प्रयोग में संयम से काम ले, ताकि वह विस्तृत विचारों या भावों को थोड़े-से-थोड़े शब्दों में व्यक्त कर सके। समास, तद्धित और कृदन्त वाक्यांश या वाक्य एक शब्द या पद के रूप में संक्षिप्त कसिये जा सकते है। ऐसी हालत में मूल वाक्यांश या वाक्य के शब्दों के अनुसार ही एक शब्द या पद का निर्माण होना चाहिए। वाक्यांश को संक्षेप में सामासिक पद का भी रूप दिया जाता है। कुछ ऐसे लाक्षणिक पद या शब्द भी है, जो अपने में पूरे एक वाक्य या वाक्यांश का अर्थ रखते है। भाषा में कई शब्दों के स्थान पर एक शब्द बोल कर हम भाषा को प्रभावशाली एवं आकर्षक बनाते है। यहाँ पर अनेक शब्दों के लिए एक शब्द के कुछ उदाहरण दिए जा रहे है:- 
वाक्यांश या शब्द-समूह शब्द
जो नेत्रों से दिखाई न दे अगोचर
जो इन्द्रियों से परे हो अगोचर
समाचार पत्र का मुख्य लेख अग्रलेख
जिसकी कल्पना न की जा सके अकल्पनीय
जो कहा न जा सके अकथनीय
आगे का विचार करने वाला अग्रसोची
जो सबके आगे रहता हो अग्रणी
जिसका ज्ञान इन्द्रियों के द्वारा न हो अगोचर
जो ख़ाली न जाये अचूक
जो अपने स्थान या स्थिति से अलग न किया जा सके अच्युत
जिसकी चिंता नहीं हो सकती अचिंत्य
हाथी को हाँकने वाला लोहे का हुक अंकुश
जो खाया न जा सके अखाद्य
जिसका जन्म पहले हुआ हो अग्रज
जो छूने योग्य न हो अछूत
जो छुआ न गया हो अछूता
जो बूढ़ा ना हो अजर
जिसका कोई शत्रु उत्पत्र न हुआ हो अजातशत्रु
जिसे जीता न जा सके अजेय
जो जाना ना गया हो अज्ञात
जो कुछ नहीं जानता हो अज्ञानी
जिसके कुल का पता ज्ञात न हो अज्ञातकुल
जिस हँसी से अट्टालिका तक हिल जाये अट्टहास
जो अपनी बात से न टले अटल
न टूटने वाला अटूट
जो अपनी जगह से न डिगे अडिग
आढ़त का व्यापार करने वाला आढ़तिया
पदार्थ का सबसे छोटा इन्द्रिय-ग्राह्य विभाग या मात्रा अणु
सीमा का अनुचित उल्लंघन अतिक्रमण
जिसके आने की तिथि ज्ञात न हो अतिथि
किसी कथा के अंतर्गत आने वाली दूसरी कथा अंत:कथा
जो सबके मन की जानता हो अन्तर्यामी
आवश्यकता से अधिक वर्षा अतिवृष्टि
किसी बात या कथन को बढ़ा-चढ़ा कर कहना अतिशयोक्ति
जो बीत गया है अतीत
इन्द्रियों की पहुँच से बाहर अतींद्रिय
जिसकी तुलना न की जा सके अतुलनीय
जो दबाया न जा सके अदम्य
जो देखा न जा सके अदृश्य
जिसके समान दूसरा न हो अद्वितीय
जो देखने योग्य न हो अदर्शनीय
जो पहले ना देखा गया हो अदृष्टपूर्व
धर्म या शास्त्र के विरुद्ध कार्य अधर्म
अधिकार या कब्ज़े में आया हुआ अधिकृत
सर्वाधिकार सम्पन्न शासक या अधिकारी अधिनायक
विधानमंडल द्वारा परित या स्वीकृत नियम अधिनियम
कर या शुल्क का वह अंश जो किसी कारणवश अधिक से अधिक लिया जाता है अधिभार
वह पत्र, जिसमें किसी को कोई काम करने का अधिकार दिया जाये अधिपत्र
किसी पक्ष का समर्थन करने वाला अधिवक्ता
वास्तविक मूल्य से अधिक लिया जाने वाला शुल्क अधिशुल्क
सरकार द्वारा प्रकाशित या सरकारी बजट में छपी सूचना अधिसूचना
किसी कार्यालय या विभाग का वह अधिकारी जो अपने अधीन कार्य करने वाले कर्मचारियों की निगरानी रखे अधीक्षक
किसी सभा, संस्था का प्रधान अध्यक्ष
नीचे की ओर मुख किये हुए अधोमुख
राज्य के अधिपति द्वारा जारी किया गया वह अधिकारिक आदेश जो किसी विशेष समय तक ही लागू हो अध्यादेश
वह स्त्री जिसका पति दूसरा विवाह कर ले अध्गूढ़ा
अन्य से सम्बंध न रखने वाला अनन्य
जिसका कोई दूसरा उपाय न हो अनन्योपाय
जिसका स्वामी न हो अनाथ
जिसका आदर न किया गया हो अनादृत
दूसरों के गुणों में दोष दूँढने की वृति का न होना अनसूया
जिसका वचन द्वारा वर्णन न किया जा सके अनिवर्चनीय
जिसका निवारण न किया जा सके अनिवार्य
बिना पलक गिराये हुए अनिमेष
जिसका उच्चारण न किया जा सके अनुच्चरित
जो परीक्षा में उत्तीर्ण न हुआ हो अनुत्तीर्ण
किसी कार्य के लिए दी जाने वाली सहायता अनुदान
जिसकी उपमा न दी जा सके अनुपम
जिसका अनुभव किया गया हो अनुभूत
किसी मत या प्रस्ताव का समर्थन करने की क्रिया अनुमोदन
किसी व्यक्ति या सिद्धांत का समर्थन करने वाला अनुयायी
एक भाषा की लिखी हुई बात को दूसरी भाषा में लिखना या कहना अनुवाद
परम्परा से चली आई हुई बात, उक्ति या कला अनुश्रुति
जिसका मन किसी दूसरी ओर हो अन्यमनस्यक/अनमना
जिसका कोई निश्चित घर न हो अनिकेत
नीचे की ओर लाना या खींचना अपकर्ष
जो पहले पढ़ा न गया हो अपठित
दोपहर के बाद का समय अपराह्न
शरीर के लिए जितना धन आवश्यक हो उससे अधिक न लेना अपरिग्रह
जो मापा न जा सके अपरिमेय
जिसके बिना कार्य न चल सके अपरिहार्य
जो आँखों के सामने न हो अप्रत्यक्ष/परोक्ष
जिसके पार न देखा जा सके अपारदर्शक/अपारदर्शी
जो पूरा या भरा हुआ न हो अपूर्ण
जिसकी अपेक्षा (उम्मीद) हो अपेक्षित
अभिनय करने वाला पुरुष अभिनेता
अभिनय करने वाली स्त्री अभिनेत्री
जो किसी की ओर मुँह किये हुए हो अभिमुख
जिस पर अभियोग लगाया गया हो अभियुक्त
जिसका जन्म उच्च कुल में हुआ हो अभिजात
किसी कार्य को बार-बार करना अभ्यास
भली प्रकार से सीखा हुआ अभ्यस्त
किसी वस्तु का भीतरी भाग अभ्यन्तर
किसी वस्तु को प्राप्त करने की तीव्र इच्छा अभीप्सा
जो कभी मृत्यु को प्राप्त न हो अमर
जो काव्य, संगीत आदि का रस न ले अरसिक
द्वार या आँगन के फर्श पर रंगों से चित्र बनाने या चौक पूरने की कला अल्पना
जो अल्प (कम) जानता हो अल्पज्ञ
जो इस लोक का न हो अलौकिक
जो कम बोलता हो अल्पभाषी
शरीर का कोई भाग अवयव
जिस पर विचार न किया गया हो अविचारित
सरकार द्वारा दूसरे देश की तुलना में अपने देश की मुद्रा का मूल्य कम कर देना अवमूल्यन
बिना वेतन के कार्य करने वाला अवैतनिक
जो साधा (ठीक किया) न जा सके असाध्य
जो शोक करने योग्य नहीं है अशोक्य
जो स्त्री (ऐसी पर्दानशीन है कि) सूर्य को भी न देख सके असूर्यम्पश्या
जिसका विभाजन न किया जा सके अविभाजित
अच्छा-बुरा समझने की शक्ति का अभाव अविवेक
जो विधान या नियम के विरुद्ध हो असंवैधानिक
जिसमें शक्ति नहीं है अशक्त
न हो सकने वाला अशक्य/असंभव
गुरु के समीप रहने वाला विद्यार्थी अंतेवासी
जिसका जन्म छोटी (अंत्य) जाति में हुआ हो अंत्यज
जिसका जन्म अनु (पीछे) हुआ हो अनुज
जो पहले कभी भी न हुआ हो अभूतपूर्व
जो बीत चुका है अतीत
जिसकी गहराई की थाह न लग सके अथाह
जो सदा से चलता आ रहा है अनवरत
जो आगे की न सोचता हो अदूरदर्शी
धरती और आकाश के बीच का स्थान अंतरिक्ष
जिस पर आक्रमण न किया गया हो अनाक्रान्त
जो जीता न जा सके अजेय
जिसके पास कुछ न हो अकिंचन
जो क़ानून के विरुद्ध हो अवैध
जो समय पर न हो असामयिक
अपने हिस्से या अंश के रूप में कुछ देना अंशदान
जिसमें कुछ करने की क्षमता न हो अक्षम
जो गिना न जा सके अनगिनत
जो कार्य रूप में न लाया जा सके अव्यावहारिक
जिसका खण्डन न हो सके अकाट्य
जिस पर मुक़दमा चल रहा हो अभियुक्त
जिसकी सीमा न हो असीम/असीमित
जो दिया न जा सके अदेय
अनुकरण करने योग्य अनुकरणीय
जो मानव के योग्य न हो अमानुषिक
जो बिना बुलाये आया हो अनाहूत
जिस पर कोई नियंत्रण न हो अनियंत्रित
जो शोक करने योग्य नहीं अशोक्य
फेंककर चलाया जाने वाला हथियार अस्त्र
किसी प्राणी को न मारना अहिंसा
अंडे से जन्म लेने वाला अंडज
महल का भीतरी भाग अंत:पुर
जिसे अधिकार दिया गया हो अधिकृत
जारी किया गया आधिकारिक आदेश अध्यादेश
वर्षा का अभाव अनावृष्टि
जिस पर निर्णय न हुआ हो अनिर्णीत
जिस पर अनुग्रह किया गया हो अनुग्रहीत
सीमा का उल्लंघन करना अतिक्रमण
जो पहले कभी नहीं सुना गया हो अश्रुतपूर्व
जिसमें सामर्थ्य नहीं है असमर्थ
जिसकी आशा न की जाये अप्रत्याशित
जिसे पढ़ा न जा सके अपाठ्य
जिसे भेदा (तोड़ा) न जो सके अभेद्य
आत्मा व परमात्मा का द्वैत (अलग-अलग होना) न मानने वाला अद्वैतवादी
अल्प (कम) वेतन भोगने वाला (पाने वाला) अल्पवेतनभोगी
अध्ययन (पढ़ना) प्राप्त करने वाला अध्यापक
आग से झुलसा हुआ अनलदग्ध
जहाँ गमन (जाया) न किया जा सके अगम्य
जो हिसाब-क़िताब की जाँच करता हो अंकेक्षक
जिसकी परिभाषा देना संभव न हो अपरिभाषित
जो पहले कभी घटित न हुआ हो अघटित
वह पत्र जिसमें किसी को कुछ करने का अधिकार दिया गया हो अधिपत्र
अपने प्राण आप लेने वाला आत्मघाती
पैर से लेकर सिर तक आपादमस्तक
ऐसा व्रत, जो मरने पर ही समाप्त हो आमरणव्रत
किसी पात्र आदि के अन्दर का स्थान, जिसमें कोई चीज़ आ सके आयतन
दूसरे के हित में अपने आप को संकट में डालना आत्मोत्सर्ग
अर्थ या धन से सम्बन्ध रखने वाला आर्थिक
वह स्त्री जिसका पति परदेश से लौटा हो आगतपतिका
वह स्त्री जिसका पति आने वाला है आगमिस्यतपतिका
किसी बात पर बार-बार ज़ोर देना आग्रह
वह जो अपने आचार से पवित्र है आचारपूत
सामाजिक एवं प्रशासनिक अनुशासन की अपने क्रूरता से उत्पन्न स्थिति आतंक
देश में विदेश से माल आने की क्रिया आयात
जो जन्म लेते ही गिर या मर गया है आदण्डपात
सर्वप्रथम मत को प्रवर्तित करने वाला आदिप्रवर्तक
आदि से अंत तक आद्योपांत
गुण-दोषों का विवेचन करने वाला आलोचक
जिसे आश्वासन दिया गया हो आश्वस्त
वह कवि जो तत्क्षण कविता कर सके आशुकवि
आयोजन करने वाला व्यक्ति आयोजक
धन से संबंध रखने वाला आर्थिक
जो आलोचना के योग्य हो आलोच्य
किसी अवधि से संबंध रखने वाला आवधिक
आशुलिपि जानने वाला लिपिक आशुलिपिक
किसी देश के वे निवासी जो पहले से वहाँ रहते रहे हैं आदिवासी
ईश्वर में विश्वास रखने वाला आस्तिक
जिसकी बाँहें जानु तक पहुँचती हों आजानुबाहु
आशा से अतीत  आशातीत
सेतुबंध रामेश्वरम से हिमालय तक आसेतु हिमालय
बालक से वृद्ध तक आबालवृद्ध
किसी चीज़ या बात की इच्छा रखने वाला इच्छुक
अपनी इच्छा के अनुसार काम करने वाला इच्छाकारी
किन्हीं घटनाओं का कालक्रम से किया गया वृत इतिवृत
इन्द्रियों को वश में करने वाला इन्द्रियजित
इन्द्रियों पर किया जाने वाला वश इंद्रियविग्रह
जो इन्द्रियों के ज्ञान के बाहर है इंद्रियातीत
इतिहास को जानने वाला इतिहासज्ञ
पूरब और उत्तर के बीच की दिशा ईशान
दूसरों की उन्नति को न देख सकना ईर्ष्या
किसी नई चीज़ को बनाना ईजाद, आविष्कार
जिसकी ईप्सा की गई हो ईप्सित
जो किसी नियम को न माने उच्छृंखल
किसी के बाद उसकी संपत्ति प्राप्त करने वाला उत्तराधिकारी
जिसने ऋण चुका दिया हो उऋण
जिसका हृदय उदार हो उदारहृदय
ऊपर कहा हुआ उपर्युक्त
जिसका उल्लेख किया गया हो उल्लिखित
जो धरती फोड़ कर जनमता है उद्‌भिज
जो उद्धार करता है उद्धारक
ऊपर आने वाला श्वास उच्छ्वास
खाने से बचा हुआ जूठा भोजन उच्छिष्ट
सूर्योदय से पहले का समय उषाकाल
जिसके विषय में उल्लेख करना आवश्यक हो उल्लेखनीय
जो भूमि उपजाऊ हो उर्वरा
वह व्यक्ति जो हाथ उठाए हो उर्ध्वबाहु
ऊपर की ओर बढ़ती हुई साँस उर्ध्वश्वास
जो छाती के बल चलता हो उदग
जिसकी उपमा दी जाये उपमेय
जिससे उपमा दी जाये उपमान
जिसका मन उदार हो उदारमना
जिस पर किसी काम का उत्तरदायित्व हो उत्तरदायी
वह वस्तु जिसका उत्पादन हुआ हो उत्पाद
सूर्य जिस पर्वत के पीछे निकलता है उदयाचल
जिस पर उपकार किया गया है उपकृत
पर्वत के पास की भूमि उपत्यका
जिस भूमि में कुछ पैदा न होता हो ऊसर
ऊपर की ओर जाने वाला ऊर्ध्वगामी
जिसका चित्त एक जगह स्थिर हो एकाग्रचित
जिस पर किसी अन्य का कुछ अधिकार न हो एकाधिकार
जो दिन में एक बार भोजन करता है एकाहारी
जिसका संबंध किसी एक देश से हो एकदेशीय
किसी एक पक्ष से संबंधित एकपक्षीय
इस लोक से सम्बंधित ऐहिक
इन्द्रजाल करने वाला ऐन्द्रजालिक
इंद्रियों से संबंधित ऐंद्रिक
इस लोक से संबंध रखने वाला ऐहलौकिक
इतिहास से संबंधित ऐतिहासिक
जो अपनी इच्छा पर निर्भर हो ऐच्छिक
परब्रह्म का सूचक 'ओं' शब्द ओंकार
जिसका उच्चारण ओष्ठ (ओंठ) से हो ओष्ठय
आड़ या परदे के लिये रथ या पालकी को ढकने वाला कपड़ा ओहार
सारे संसार के देशों की खेल प्रतियोगिताएँ ओलम्पिक
अपनी विवाहित पत्नी से उत्पन्न (पुत्र) औरस (पुत्र)
जिसका संबंध उपनिवेश या उपनिवेशों से हो औपनिवेशिक
उपचार या ऊपरी दिखावे के रूप में होने वाला औपचारिक
जिसका संबंध उपन्यास से हो औपन्यासिक
जो पुरुष कविता रचता है कवि
जो स्त्री कविता रचती है कवयित्री
जिसके पास करोड़ों रुपये हों करोड़पति
जिस लड़की का विवाह न हुआ हो कुमारी
किसी के उपकार को न मानने वाला कृतघ्न
जो कहा गया है कथित
जो कहने योग्य हो कथ्य/कथनीय
जो कान को कटु लगे कर्णकटु
कष्टों या काँटो से भरा हुआ कंटकाकीर्ण
अपने कर्तव्य का निर्णय न कर सकने वाला किंकर्तव्यविमूढ़
जो कटु बोलता है कटुभाषी
जो कष्ट को सहन कर सके कष्टसहिष्णु
जो काम से जी चुराता है कामचोर
जो कला जानता हो कलाविद्/कलाकार
जो अच्छे कुल में उत्पन्न हुआ हो कुलीन
बेलों आदि से घिरा हुआ सुरम्य स्थान कुंज
जो किये गये उपकारों को जानता (मानता) हो कृतज्ञ
जो कर्तव्य से च्युत हो गया है कर्तव्यच्युत
जिसे वाह्य जगत् का ज्ञान न हो कुपमण्डूक
किसी की कृपा से पूरी तरह संतुष्ट कृतार्थ
जिसकी बुद्धि कुश के उग्र (नोक) की तरह तेज़ हो कुशाग्रबुद्धि
जिसे क्रय किया गया हो क्रीत
वह नायिका जो कृष्ण पक्ष में अपने प्रेमी से मिलने जाती हो कृष्णाभिसारिका
जो कल्पना से परे हो कल्पनातीत
कारागार से संबंध रखने वाला कारागारिक
क्रम के अनुसार क्रमानुसार
किसी विचार/निर्णय को कार्यरूप देना कार्यांवयन
धन का देवता कुबेर
कुंती का पुत्र कौंतेय
राजनीतिज्ञों एवं राजदूतों की कला कूटनीति
क्षमा पाने योग्य क्षम्य
क्षण भर में नष्ट होने वाला क्षणभंगुर
जिसका हाथ बहुत तेज़ चलता हो क्षिप्रहस्त
भूख से व्याकुल क्षुधातुर
कार्य करने वाला व्यक्ति कार्यकर्ता
किन्हीं निश्चित कार्यों के लिए बनायी गयी समिति कार्यसमिति
पद, उम्र आदि के विचार से औरों से अपेक्षाकृत छोटा कनिष्ठ
ठीक अपने क्रम से आया हुआ क्रमागत
नियम विरुद्ध या निंदनीय कार्य करने वालों की सूची काली सूची (ब्लैक लिस्ट)
जो केंद्र की ओर उन्मुख होता हो केंद्राभिमुख
वह नायिका जिसका पति रात को किसी अन्य स्त्री के पास रहकर प्रात: उसके पास आता हो खंडिता
जो सदैव हाथ में खड्ग लिए रहता हो खड़गहस्त
खाने योग्य पदार्थ खाद्य
जिसका कोई हिस्सा टूटकर अलग हो गया हो खंडित
किसी के घर की होने वाली तलाशी खानातलाशी
ऐसा जो अंदर से ख़ाली हो खोखला
ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य या चंद्रमा का पूरा बिम्ब ढँक जाये खग्रास
पृथ्वी की वह शक्ति जो सभी चीज़ों की अपनी ओर खींचती हो गुरुत्वाकर्षण
जो कठिनाइयों से पचता है गरिष्ठ/गुरुपाक
प्राचीन आदर्श के अनुकूल चलने वाला गतानुगतिका
जो क़ानून के विरुद्ध है ग़ैरक़ानूनी
गंगा का पुत्र गांगेय
बहुत गप्पे हाँकने वाला गपोड़िया
जो गिरि (पहाड़) को धारण करता हो गिरधारी
गृह (घर) बसा कर रहने वाला गृहस्थ
रात और संध्या के बीच का समय गोधूलि
जो छिपाने योग्य हो गोपनीय
गगन (आकाश) चूमने वाला गगनचुम्बी
जो बीत चुका हो गत
जो इन्द्रियों के ज्ञान के बाहर है गोतीत
गणित शास्त्र के जानकार गणितज्ञ
जो गाँव से सम्बंधित हो ग्रामीण
वह नाटक जिसमें गीत अधिक हों गीतरूपक
बहुत-सी घटनाओं का सिलसिला घटनावली, घटनाक्रम
घास छीलने वाला घसियारा
जिसकी घोषणा की गयी हो घोषित
घूस लेना वाला/रिश्वत लेने वाला घूसखोर/रिश्वतखोर
घुलने योग्य पदार्थ घुलनशील
घृणा करने योग्य घृणास्पद
किसी के इर्द-गिर्द घेरा डालने की क्रिया घेराबन्दी
जो चिरकाल तक बना रहे चिरस्थायी
चेतन स्वरूप की माया चिद्विलास
बरसात की चार महीने चतुर्मास
चार वेदों को जानने वाला चतुर्वेदी
जो चक्र धारण करता है चक्रधर/चक्रधारी
जिसके चूड़ा पर पर चंद्र रहे चंद्रचूड़
जो चंद्र धारण करता हो चंद्रधारी
जिसके शिखर (सिर) पर चंद्र हो चंद्रशेखर
करने की इच्छा चिकीर्षा
जिसकी चिकित्सा की जा सके चिकित्स्य
चार राहों वाला चौराहा
किसी को सावधान करने के लिए कही जाने वाली बात चेतावनी
चौथे दिन आने वाला ज्वर चौथिया
चारों ओर की सीमा चौहद्दी
जिस पर चिन्ह लगाया गया हो चिह्नित
जो चर्चा का विषय हो चर्चित
किसी वस्तु का चौथा भाग चतुर्थांश
जो अपने स्थान से डिग गया हो च्युत
जिसका चिंतन किया जाना चाहिए चिंतनीय
रोगियों की चिकित्सा करने का स्थान चिकित्सालय
चूहे फँसाने का पिंजड़ा चूहेदानी
करुण स्वर में चिल्लाना चीत्कार
महीने के किसी पक्ष की चौथी तिथि चतुर्थी
जिसकी चार भुजाएँ हैं चतुर्भुज
जिसके हाथ में चक्र हो चक्रपाणि
जिसके चार पैर हों चतुष्पद
अधिक दिनों तक जीने वाला चिरंजीवी
छिपे वेश में रहना छद्मवेश
सेना के रहने का स्थान छावनी
छात्रों के रहने का स्थान छात्रावास
सहसा छिपकर आक्रमण करने वाला छापामार
दूसरों के दोषों को खोजना छिन्द्रोन्वेषण
दूसरों के दोषों को ढूँढ़ने वाला छिन्द्रांवेषी
किसी काम या व्यक्ति में छिद्र या दोष निकालने का कार्य छिन्द्रोन्वेषण
कर्मचारियों आदि को छाँटकर निकालने की क्रिया छँटनी
छ: महीने के समय से सम्बन्धित छमाही
इन्द्रियों को जीतने वाला जीतेन्द्रिय
जान से मारने की इच्छा जिघांसा
जीने की इच्छा जिजीविषा
जेठ का पुत्र जेठौत
जनता द्वारा संचालित शासन जनतंत्र
कुछ जानने या ज्ञान प्राप्त करने की चाह जिज्ञासा
किसी के सम्पूर्ण जीवन के कार्यों का विवरण जीवनचरित
जन्म से सौ वर्ष का समय जन्मशती
अन्न को पचाने वाली जठर (पेट) की अग्नि जठराग्नि
जो जरायु (गर्भ की थैली) से जनमता है जरायुज
जल में जन्म लेने वाला जलज
जल में रहने वाले जीव-जन्तु जलचर
जो यान जल में चलता हो जलयान
किसी भी बात को जानने की इच्छा जिज्ञासा
जो जन्म से अंधा हो जन्मांथ
जिसे जानना चाहिए ज्ञातव्य
ज्ञान देने वाला ज्ञानदा
जो जानने को उत्सुक है जिज्ञासु
जीतने की इच्छा जीगीषा
जोतने का काम जुताई
झमेला करने वाला झमेलिया
काँटेदार झाड़ियों का समूह झाड़झंखाड़
अपनी झक (धुन) में मस्त रहने वाला झक्की
वह कपड़ा जिससे कोई चीज़ झाड़ी जाये झाड़न
झीं-झीं की तेज़ आवाज़ करने वाला कीड़ा झींगुर
जिसके लम्बे-लम्बे बिखरे बाल हों झबरा
झूठ बोलने वाला झूठा
गातार घंटा बजने से होने वाला शब्द टनाटन
चारों ओर जल से घिरा हुआ भू-भाग टापू
सिक्के ढालने का कारखाना टकसाल
किसी ग्रंथ या रचना की टीका करने वाला टीकाकार
किराए पर चलने वाली मोटर गाड़ी टैक्सी
ठगों का मोदक/लड्डू जिसमें बेहोश करने वाली चीज़ मिली रहती है ठगमोदक/ठगलड्डू
मूल बातों को संक्षेप में लिखना टिप्पणी
टाइप करने की कला टंकण
ठन-ठन की अवाज़ ठनकार
दिन रात ठाढ़े (खड़े) रहने वाले साधु ठाढ़ेश्वरी
ठीका लेने वाला ठीकेदार
ठठेरे की बिल्ली जो ठक-ठक शब्द से न डरे ठठेरमंजारिका
ठूसकर भरा हुआ ठसाठस
ठक-ठक करके बर्तन बनाने वाला ठठेरा
डंडी मारने वाला डंडीमार
डाका मारने वाला डकैत
डफली बजाने वाला डफालची/डफाली
स्थल या जल का वह तंग या पतला भाग, जो स्थल या जल के दो बड़े खंडों को मिलाता है डमरूमध्य
बहुत डरने वाला डरपोक
पन्नों आदि को दूरस्थ स्थानों पर पहुँचाने वाली सेवा डाक सेवा
डाका मारने का काम डकैती
ड्योढ़ी पर रहने वाला पहरेदार ड्योढ़ीदार
ढीला होने का भाव ढिलाई
ढोंग रचने वाला ढोंगी
जिसमें ढाल हो ढालू/ढालवाँ
ढोलक बजाने वाला ढोलकिया
ढिंढोरा पीटने वाला ढिंढोरिया
ढालने का काम ढलाई
दैहिक, दैविक व भौतिक ताप या कष्ट त्रिताप
वात, पित्त व कफ त्रिदोष
तैरने की इच्छा तितीर्षा
विवाद या गुटबंदी से अलग रहने वाला तटस्थ/गुटनिरपेक्ष
कोई काम या पद छोड़ देने के लिये लिखा गया पत्र त्यागपत्र
तीन वेदों को जानने वाला त्रिवेदी
तीनों कालों को देखने वाला त्रिकालदर्शी
तीन कालों को जानने वाला त्रिकालज्ञ
जो तीन गुणों (सत्व, रज व तम) से परे हो त्रिगुणातीत
किसी पद अथवा सेवा से मुक्ति का पत्र त्यागपत्र
किसी भी पक्ष का समर्थन न करने वाला तटस्थ
ऐसा तर्क जो देखने पर ठीक प्रतीत होता हो, किंतु वैसा न हो तर्काभास
तीन कालों की बात जानने वाला त्रिकालज्ञ
ऋण के रूप में आर्थिक सहायता तकावी
एक व्यक्ति द्वारा चलायी जाने वाली शासन प्रणाली तानाशाही
चोरी छिपे चुंगी शुल्क आदि दिये बिना माल लाकर बेचने वाला तस्कर
जो तर्क के आधार पर सही सिद्ध हो तर्कसंगत
तर्क के द्वारा जो माना गया हो तर्कसम्मत
भौंहों के बीच का ऊपरी भाग त्रिकुटी
सत्व, रज व तम त्रिगण
आँवला, हर्र व बहेड़ा त्रिफला
तीन युगों में होने वाला त्रियुगी
तीन नदियों का संगम त्रिवेणी
तीन लोकों का समूह त्रिलोक
उसी समय का तत्कालीन
जिसे त्याग देना उचित हो त्याज्य
स्वर्गलोक, मृत्युलोक और पाताल लोक त्रिभुवन/त्रिलोक
शीतल, मंद व सुगंधित वायु त्रिविधवायु
जो तर्क योग्य हो तार्किक
जमी हुई गाढ़ी चीज़ की मोटी तह थक्का
चौपायों के बाँधने का स्थान थान
कुछ निश्चित लम्बाई का कपड़ा थान
पुलिस की बड़ी चौक थाना
थाने का प्रधान अधिकारी थानेदार
किसी के पास रखी हुई दूसरे की वस्तु थाती/धरोहर/अमानत
दाव (जंगल) में लगने वाली आग दावानल
जो द्वार का पालन (रक्षा) करता है द्वारपाल
दिन पर दिन दिनोंदिन
दो बार जन्म लेने वाला द्विज
जिसे समझना बहुत कठिन हो दुष्कर
जिसका दमन कठिन हो दुर्दम्य/दुर्दांत/दुर्धर्ष
जिसको प्राप्त करना बहुत कठिन हो दुर्लभ
जो मुश्किल से प्राप्त हो दुष्प्राप्य
अपने देश के साथ विश्वासघात करने वाला देशद्रोही
प्रतिदिन होने वाला दैनिक
तेज़ गति से चलने वाला द्रुतगामी/तीव्रगामी
जिसको रोकना या निवारण करना कठिन हो दुर्निवार
जिसे भेदना या तोड़ना कठिन हो दुर्भेद्य
जिसे सताया गया हो दलित
दो भाषाएँ बोलने वाला द्विभाषी
दो वेदों को जानने वाला द्विवेदी
जिसने गुरु से दीक्षा ली हो दीक्षित
जिसने किसी विषय में मन लगा लिया हो दत्तचित
एक राजनीतिक दल को छोडकर दूसरे दल में शामिल होने वाला दलबदलू
पति-पत्नी का जोड़ा दम्पति
गोद लिया हुआ पुत्र दत्तक (पुत्र)
जो दिया जा सके देय
स्त्री-पुरुष का जोड़ा/पति-पत्नी का जोड़ा दम्पति
दण्ड दिये जाने योग्य दण्डनीय
कपड़ा सीने का व्यवसाय करने वाला दर्जी
दस वर्षों का समय दशक
जिसके दस आनन (मुख) हों दशानन
जो दर्शन-शास्त्र का ज्ञाता हो दार्शनिक
देने की इच्छा दित्सा
अनुचित या बुरा आचरण करने वाला दुराचारी
बहुत दूर की बात पहले से ही सोच लेने वाला दूरदर्शी
आँख की बीमारी दृष्टिदोष
जो देखने योग्य हो द्रष्टव्य/दर्शनीय
जिसमें जाना या समझना कठिन हो दुर्गम
जिसको लाँघना कठिन हो दुर्लंध्य
पति के छोटे भाई की स्त्री देवरानी
दैव या प्रारब्ध सम्बन्धी बातें जानने वाला देवज्ञ
दिन के समय अपने प्रिय से मिलने जाने वाली नायिका दिवाभिसारिका
अपराध और उन पर दण्ड देने के नियम निर्धारित करने वाला प्रश्न दण्डसंहिता
अपने देश से प्यार करने वाला देशभक्त
नापाक इरादे से की जाने वाली मंत्रणा या साजिश दुरभिसंधि
जिस समय बड़ी मुश्किल से भिक्षा मिलती है दुर्भिक्ष
जो कठिनाइयों से पचता है दुष्पाच्य
अनुचित बात के लिये आग्रह दुराग्रह
जिस पर दिनांक (तारीख़ का अंक) लगाया गया हो दिनांकित
जो विलम्ब या टालमटोल से काम करे दीर्घसूत्री
दशरथ का पुत्र दाशरथि
देखने की इच्छा दिदृक्षा
विवाह के पश्चात् वधू का ससुराल में दूसरी बार आना द्विरागमन
सदा प्रसन्न रहने वाली या कला-प्रेमी नायक धीरललित
शक्तिशाली, दयालु और योद्धा नायक धीरोदात्त
धन देने वाला धनद
धर्म में रुचि रखने वाला धर्मात्मा
यात्रियों के लिए धर्मार्थ बना हुआ घर धर्मशाला
मछली पकड़ने या बेचने वाली जाति विशेष धीवर
हवा में मिली हुई धूल या भाप के कारण होने वाला अँधेरा धुंध
जो वस्तु दूसरे के यहाँ रखी हो धरोहर
ध्यान करने योग्य या लक्ष्य ध्येय
जिस पर लम्बी-लम्बी धारियाँ हों धारीदार
बहुत चंचल, दुष्ट और अपनी प्रशंसा करने वाला नायक धारोद्धत
जिसका कोई आश्रय न हो निराश्रय
निर्वाचन में अपना मत देने वाला निर्वाचक
जिसमें मल (गंदगी) न हो निर्मल
जिस स्थान पर अभिनेता अपना वेश-विन्यास करते हैं नेपथ्य
जो अपने लाभ या स्वार्थ का ध्यान न रखता हो नि:स्वार्थ
जो निंदा के योग्य हो निंदनीय
जो कामना रहित हो निष्काम
जो चिंता रहित हो निश्चिन्त
जिसका कोई आधार न हो निराधार
नया उदित होने वाला नवोदित
अभी-अभी जन्म लेने वाला नवजात
नदी से सींचा जाने वाला प्रदेश नदीमातृक
जिसका कोई आकार न हो निराकार
बिना पलक गिराये हुए निर्निमेष
जो अति (बहुत) लद्यु (छोटा) नहीं है नातिलद्यु
उच्च न्यायालय का न्यायाधीश न्यायमूर्ति
जो तेजहीन हो निस्तेज
जिसे कोई भय न हो निर्भय
जो एक अक्षर भी न जानता हो निरक्षर
जिसमें कोई दोष न हो निर्दोष
जिसकी उपमा न दी जा सके निरुपम
जिसके हृदय में ममता न हो निर्मम
जिसके हृदय में दया न हो निर्दय
जिसमें हानि या अनर्थ का भय न हो निरापद
जिसे कोई आकांक्षा न हो नि:स्पृह
नगर में रहने वाला नागरिक
जिसे देश से निकाला गया हो निर्वासित
जिसका मूल नहीं है निर्मूल
जिसका कोई अर्थ न हो निरर्थक
जो सत्व, रज और तम तीनों गुणों से परे हो निर्गुण
जो अति (बहुत) दीर्घ (बड़ा) नहीं है नातिदीर्घ
जो नृत्य करता है नृत्यकार/नर्तक
जिसमें तेज़ नहीं है निस्तेज
जो नीचे लिखा गया है निम्नलिखित
जिसके बारे में मतभेद न हो निर्विवाद
जिसके पास शक्ति न हो निर्बल
जिस पर किसी प्रकार का अंकुश (नियंत्रण) न हो निरंकुश
जो उत्तर न दे सके निरुत्तर
जो न्याय जानता है नैयायिक
शासकीय अधिकारियों का शासन नौकरशाही
नया-नया आया हुआ नवागन्तुक
नगर में जन्म लेने वाला नागरिक
जिसे ईश्वर पर विश्वास न हो नास्तिक
जिसके हृदय में पाप न हो निष्पाप
निशि में विचरण निशाचर
जिसे कोई भ्रम या संदेह न हो निर्भ्रांत
एक देश से माल दूसरे देश में जाने की क्रिया निर्यात
जिसका कोई शुल्क न लिया जाये नि:शुल्क
किसी के साथ सम्बन्ध न रखने वाला नि:संग
जिसके कोई संतान न हो नि:संतान
नाक से रक्त बहने का रोग नकसीर
नख से शिखा तक के सब अंग नखशिख
नष्ट होने वाला नश्वर
नभ (आकाश) में विचरण करने वाला नभचर/खेचर
अपने पद से हटाया हुआ पदच्युत
अपने को पंडित मानने वाला पंडितम्मन्य
पंडितों में पंडित पंडितरा
पथ का प्रदर्शन करने वाला पथ प्रदर्शक
जिसमें पाँच कोने हों पंचकोण
जो दृष्टि के क्षेत्र से परे हो परोक्ष
जो परायों का अर्थ (हित) चाहता है परमार्थी
जो अपने पथ से भटक गया हो पथभ्रष्ट
प्राण देने वाली औषधि प्राणदा
पाप या अपराध करने पर दोषमुक्त होने के लिए किया जाने वाला धार्मिक या शुभ कार्य प्रायश्चित
जो देखने में प्रिय हो प्रियदर्शी
जो प्रिय बोलता हो प्रियवादी
प्रिय बोलने वाली स्त्री प्रियंवदा
जो दूसरे के अधीन हो पराधीन
जो प्रशंसा के योग्य हो प्रशंसनीय
ऐतिहासिक युग के पूर्व का प्रागैतिहासिक
वह स्त्री जिसको पति ने त्याग (छोड़) दिया हो परित्यक्ता
जो दूसरों का भला चाहने वाला हो परार्थी
पानी में डूबकर चलने वाली नाव पनडुब्बी
जो दूसरों का उपकार करने वाला हो परोपकारी
जो उक्ति बार-बार कही जाये पुनरुक्ति
जो किसी का प्रतिनिधित्व (किसी की जगह काम) करता है प्रतिनिधि
वह शासन प्रणाली जिसमें जन साधारण का शासन हो प्रजातंत्र
जो शीघ्र किसी बात या युक्ति को सोच ले प्रत्युत्पन्नमति
शरीर के एक पार्श्व का लकवा पक्षाघात
अपने पति के प्रति अनन्य अनुराग रखने वाली स्त्री पतिव्रता
पिता की हत्या करने वाला पितृहंता
पिता का पिता पितामह
पिता के पिता का पिता प्रतितामह
जिसकी बाँहें अधिक लंबी हो प्रलंबबाहु
दूसरों के आश्रय में रहने वाला पराश्रयी
जो पृथ्वी से सम्बंधित हो पार्थिव
जिसके आर-पार देखा जा सके पारदर्शी
आटा पीसने वाली स्त्री पिसनहारी
पीने की इच्छा पिपासा
जो पिंड से जनमता है पिंडज
पिता से प्राप्त की हुई (सम्पत्ति) पैतृक
आँखों के समक्ष प्रत्यक्ष
जो अपनी मातृभूमि छोड़ विदेश में रहता हो प्रवासी
प्रयोग में लाने योग्य प्रयोजनीय
किसी टूटी-फूटी वस्तु का पुनर्निर्माण पुनर्निर्माण
जो पांचाल देश की हो पांचाली
पर्वत की कन्या पार्वती
कही हुई बात को बार-बार कहना पिष्टपेषण
बच्चे को जन्म देने वाली स्त्री प्रसूता
जो पहरा देने वाला हो प्रहरी
उपकार के प्रति किया गया उपकार प्रत्युपकार
किसी आरोप के उत्तर में किया जाने वाला आरोप प्रत्यारोप
लौटकर आया हुआ प्रत्यागत
वह नायिका जिसका पति विदेश जाने को हो प्रवत्स्यपतिका
वह स्त्री जिसका पति प्रोषित (परदेश गया) हो प्रोषितपतिका
जो पूछने योग्य हो प्रष्टव्य
वह जिससे प्रेम किया जाये प्रेमपात्र
समान रूप से आगे बढ़ने की चेष्टा प्रतिस्पर्द्धा
जिसमें प्रतिभा है प्रतिभावान
जो प्रणाम करने योग्य हो प्रणच्य
जो मुक़दमें का प्रतिवाद करे प्रतिवादी/मुद्दालेह
जो केवल फल खाकर निर्वाह करता हो फलाहारी
छत में टाँगने का शीशे का कमल या गिलास, जिसमें मोमबत्तियाँ जलती हों फानूस
फलने वाला या फल (ठीक परिणाम) देने वाला फलदायी
जुआ खेलने का स्थान फड़
आय से अधिक व्यर्थ खर्च करने वाला फ़िज़ूलखर्ची
घूम-फिरकर सौदा बेचने वाला फेरीवाला
जिस काग़ज़ पर मानचित्र, विवरण या कोष्ठक अंकित हो फलक
जिस स्थान पर बैठकर माल खरीदा और बेचा जाता हो फड़
वह पात्र जिसमें शोभा के लिए फूल लगाकर रखे जाते हैं फूलदान
जिसने बहुत कुछ देखा हो बहुदर्शी
बहुत-से रूप धारण करने वाला बहुरूपिया
बहुत-सी भाषाओं को बोलने वाला बहुभाषाभाषी
बहुत-सी भाषओं को जानने वाला बहुभाषाविद्
आधे से अधिक लोगों की सम्मिलित एक राय बहुमत
जिसके पास कोई रोज़गार न हो बेरोज़गार
जिस स्त्री के संतान पैदा न होती हो बाँझ
छोटे कद का आदमी बौना
भोजन करने की इच्छा बुभुक्षा
किसी देवता पर चढ़ाने के लिए मारा जाने वाला पशु बलि
जल में लगने वाली आग बड़वाग्नि
जो बहुत कुछ जानता हो बहुज्ञ
जिसने बहुत कुछ सुन रखा हो बहुश्रुत
जिसकी जीविका बुद्धि के बल पर चलती हो बुद्धिजीवी
जो बुद्धि द्वारा जाना जा सके बोधगम्य
बहुत बोलने वाला बहुभाषी
वह शास्त्र जिसमें पृथ्वी के स्वरूप का वर्णन हो भूगोल
वे बातें जो पुस्तक के आरंभ में लिखी जायें भूमिका/प्राक्कथन
जो पूर्व में था या हुआ पर अभी नहीं है भूतपूर्व
दीवार पर बने हुए चित्र भित्तिचित्र
भूतों का ईश्वर भूतेश
जो भू धारण करता है भूधर
(किसी पद पर) जो पहले रहा हो भूतपूर्व
जिसका हृदय भग्न हो भग्नहृदय
भविष्य में होने वाला भावी
जो भाग्य का धनी हो भाग्यवान्
जो पृथ्वी के गर्भ (भीतर) के हाल/शास्त्र जानता हो भूगर्भवेत्ता/भूगर्भशास्त्री
मरने की इच्छा मुमूर्षा
मुँह पर निकलने वाली फुंसियाँ मुँहासे
देवताओं पर चढ़ाने हेतु बनाया गया दही, घी, जल, चीनी और शहद का मिश्रण मधुपर्क
किसी मत को मानने वाला मतानुयायी
मनन करने योग्य मननीय
कम खर्च करने वाला मितव्ययी
एक महीने में होने वाला मासिक
माता की हत्या करने वाला मातृहंता/मातृघाती
जिसे मोक्ष की कामना हो मुमुक्षु
भेड़ का बच्चा मेमना
किसी विषय पर दूसरे से मत न मिलना मतभेद
चुनाव में अपना मत देने की क्रिया मतदान
मनपसंद या नामांकित मनोनीत
वह स्थिति जब मुद्रा का चलन अधिक हो मुद्रास्फीति
जो मान-सम्मान के योग्य हो माननीय
जो मधुर बोलता है मधुरभाषी
मित (कम) बोलने वाला मितभाषी
जिसकी आत्मा महान् हो महात्मा
किसी बात का गूढ़ रहस्य जानने वाला मर्मझ
जो मछली का आहार करता है मत्स्याहारी
जिसकी भुजाएँ बड़ी हों महाबाहु
जिसने मृत्यु को जीत लिया है मृत्युंजय
मांस आहार या भोजन करने वाला मांसाहारी/मांसभोजी
जो हाथों से मुक्त है अर्तात् अधिक देने वाला मुक्तहस्त
जो मुक़दमा लड़ता है मुकदमेबाज
जिसमें मल (गंदगी) हो मलिन
मेघ की तरह नाद करने वाला मेघनाद
जो रथ पर सवार है रथी
जिसे देख या सुनकर रोम (रोंगटे) खड़े हो जायें रोमांचकारी
राजा या राज्य के प्रति किया जाने वाला विद्रोह राजद्रोह
जो राज्य या राजा से द्रोह करे राजद्रोही
राष्ट्र का प्रमुख राष्ट्रपति
गोपों को घेरा बाँढकर नाचने की क्रिया रास
रक्त में रँगा हुआ या भरा हुआ रक्तरंजित
जो राजनीति जानता है राजनीतिज्ञ
जिसकी सूचना राजपत्र में दी गयी हो राजपत्रित
जो रंग (नाट्य) का मंच (स्टेज) है रंगमंच
रात को दिखाई न देने वाला रोग रतौंधी
वह पूँजी जो सम्पत्ति आदि के रूप में हो रिक्थ
वह काव्य जिसका अभिनय किया जाये रूपक
वह शासन प्रणाली जो जनता द्वारा जनता के हित के लिए है। लोकतंत्र
आय-व्यय, लेन-देन का लेखा करने वाला लेखाकार
जो असानी से पचता हो लघुपाक
जिसके पास लाख रुपये की सम्पत्ति हो लखपति
जिसका उदर लम्बा (बड़ा) हो लम्बोदर
जिसने प्रतिष्ठा प्राप्त की है लब्धप्रतिष्ठ
जो भूमि का हिसाब-किताब रखता हो लेखपाल
बच्चों को सुलाने के लिए गाया जाने वाला गीत लोरी
जो विषय विचार में आ सकता है विचारगम्य
बोलने की इच्छा विवाक्षा
विश्व का पर्यटन करने वाला विश्वपर्यटक
प्रतिकूल पक्ष का विपक्षी
जिस पुरुष की स्त्री मर गई हो विधुर
जिसकी पत्नी साथ में न हो विपत्नीक
जो वर्णन के बाहर हो वर्णनातीत
जो वचन से परे हो वचनातीत
जो पूर्ण रूप से बहरा हो वज्रबधिर
जिसके पाणि (हाथ) में वीणा हो वीणापाणि
जिस पर विश्वास न किया जा सके विश्वासघाती
जो विश्वास करने योग्य हो विश्वसनीय
जिस पर विश्वास किया गया है विश्वस्त
जो विश्व का हित चाहता है विश्वहितैषी
विधि (क़ानून) के द्वारा प्राप्त हो विधिप्रदत्त
बिजली की तरह तीव्र वेग वाला विद्युत्वेग
वाडव (सागर) का अनल (आग) वाड्वानल
जो कोई वस्तु वहन करता है वाहक
बिक्री करने वाला विक्रेता
जो अपने धर्म के विपरीत आचरण करता हो विधर्मी
जिस स्त्री का धव (पति) मर गया हो विधवा
जो विश्व भर में बंधु है विश्वबंधु
जो विषयों में आसक्त है विषयासक्त
स्पष्टीकरण के लिए दिया जाने वाला वक्तव्य विवृति
जो व्याकरण का ज्ञाता हो वैयाकरण
जो विज्ञान का ज्ञाता हो वैज्ञानिक
वेतन पर काम करने वाला वैतनिक
जिसके हाथ में वज्र हो वज्रपाणि
बाल्यावस्था और युवावस्था के बीच का समय वय:संधि
जिस स्त्री के कोई संतान न हुई हो बन्ध्या
जो अधिक बोलता हो वाचाल
जो मुक़दमा दायर करता है वादी/मुद्दई
वसुदेव के पुत्र वासुदेव
जिसके भीतर की हवा और तापमान सम स्थिति में रखा गया हो वातानुकूलित
जो क़ानून के अनुसार हो वैध
जो व्याख्या करता हो व्याख्याता
विष्णु का भक्त या विष्णु संबंधी वैष्णव
बिजली की तरह कांति (चमक) वाला विद्युत्प्रभ
जिसमें किसी प्रकार का विकार हो विकृत
जिसका ओई अंग बेकार हो विकलांग
किसी विषय को विशेष रूप से जानने वाला विशेषज्ञ
जिसके विषय में विवाद हो विवादास्पद
जो सुनने योग्य हो श्रोतव्य/श्रवणीय
जो सुनने में मधुर हो श्रुतिमधुर
जो सुनने में कटु लगे श्रुतिकटु
सदैव रहने वाला शाश्वत
जो अन्न और साग-सब्जी खाता हो शाकाहारी
सौ वर्ष का समय शताब्दी
जिसके हाथ में शूल हो शूलपाणि (शिव)
जो तेज चलता हो शीघ्रगामी
जो शिव की उपासना करता हो शैव
शत्रु का नाश करने वाला शत्रुध्न
वह स्थान जहाँ मुर्दे जलाये जाते हैं श्मशान
सौ में सौ शतप्रतिशत
शयन (सोने) का आगार (कमरा) शयनागार
शरण में आया हुआ शरणागत
जो शक्ति का उपासक हो शाक्त
जो शास्त्र को जानता हो शास्त्रज्ञ
सिर पर धारण करने योग्य शिरोधार्य
जिसके नख सूप के समान हो शूर्पणखा
संगीत के छ: राग षट्‌राग
छ: मुँहों वाला षण्मुख/षडानन
छह-छह महीने पर होने वाला षाण्मासिक
सोलह वर्ष की लड़की षोडशी
छह कोने वाली आकृति षट्कोण
जो दया के साथ (दयालु) है सदय
जो सरलता से बोध्य (समझने योग्य) हो सुबोध
जो आसानी से पचता हो सुपाच्य
जहाँ मुफ़्त में खाना बँटता हो सदावर्त
सब कुछ खाने वाला सर्वभक्षी
एक ही जाति का सजातीय
जहाँ अनेक नदियों का संगम (मिलन) हो संगम
जो संगीत जानता है संगीतज्ञ
एक ही समय में उत्पन्न होने वाला समकालीन
जो सबको एकसमान देखता है समदर्शी
सत्य के प्रति आग्रह सत्याग्रह
जो सब जगह व्याप्त हो सर्वव्यापी
वह पुरुष जिसकी पत्नी साथ है सपत्नीक
जो सर्वशक्तिसंपन्न है सर्वशक्तिमान
समान वय वाला समवयस्क
समान (एक ही) उदर से जन्म लेने वाला सहोदर
एक ही समय में वर्तमान समसामयिक
जिसका आचार अच्छा हो सदाचारी
सड़ी हुई वस्तु की गंध सड़ाँध
जिसमें सात रंग हो सतरंग
अपने परिवार के साथ है जो सपरिवार
सहन करना जिसका स्वभाव है सहनशील
जो किसी सभा का सदस्य हो सभासद
जो सब कुछ जानता हो सर्वज्ञ
जो सबका प्यारा हो सर्वप्रिय
जिस स्त्री का पति जीवित हो सधवा
सबको जीतने वाला सर्वजित
जो सव्य (बायें हाथ से हथियार आदि चलाने में) सधा हुआ हो सव्यसाची
जो नाटक का सूत्र धारण (संचालन) करता है सूत्रधार
साहित्य से सम्बन्धित साहित्यिक
जिनकी ग्रीवा (गर्दन) सुन्दर हो सुग्रीव
स्वेद (पसीने) से उत्पन्न होने वाला स्वेदज
जो स्मरण करने योग्य है स्मरणीय/स्मर्तव्य
किसी काम में दूसरों से बढ़ने की इच्छा स्पर्द्धा
जो स्त्री के वशीभूत या उसके स्वभाव का हो स्त्रैण
जो स्वयं उत्पन्न हुआ हो स्वयंभू
अपना हित चाहने वाला स्वार्थी
अपनी इच्छा से दूसरों की सेवा करने वाला स्वयंसेवक
जो स्वयं ही सिद्ध (ठीक) हो स्वयंसिद्ध
न बहुत शीत (ठंडा) न बहुत उष्ण (गर्म) समशीतोष्ण
प्राणों पर संकट लाने वाला सांघातिक
जिसका कोई आकार हो साकार
सब लोगों से सम्बंध रखने वाला सार्वजनिक
एक सप्ताह में होने वाला सारस्वत
सरस्वती का भक्त या सरस्वती से संबद्ध साप्ताहिक
सब कालों में होने वाला सार्वकालिक
सब देशों से सम्बद्ध सार्वदेशिक
समस्त पृथ्वी से सम्बन्ध रखने वाला सार्वभौमिक
दूसरे के स्थान पर काम करने वाला स्थानापन्न
एक स्थान से दूसरे स्थान को जाना स्थानान्तरण
अपने ही बल पर निर्भर रहने वाला स्वावलम्बी
स्वतन्त्रता प्राप्ति के बाद का स्वातन्त्र्योत्तर
कुछ ख़ास शर्तों द्वारा कोई कार्य कराने का समझौता संविदा
समय से संबंधित सामयिक
जिसके लोचन (आँखें) सुंदर हों सुलोचन
जिसे सरलता से पढ़ा जा सके सुपाठ्‌य
शयन करने की इच्छा सुषुप्सा
जो अक्षर पढ़ना लिखना जानता हो साक्षर
सिंह का बच्चा सिंहशावक
जो आसानी से लब्ध (प्राप्त) हो सके सुलभ
सुन्दर हृदय वाला सुहृदय
मिठाई बनाने और बेचने वाला हलवाई
हंस के समान सुंदर मंद गति से चलने वाली स्त्री हंसगामिनी
हाथ का लिखा हुआ हस्तलिखित
दूसरे के हाथ में गया हुआ हस्तांतरित
भलाई की इच्छा रखने वाला हितैषी
अगहन और पूस में पड़ने वाली ऋतु हेमन्त
जो दूसरे की हत्या करता है हत्यारा
हृदय को विदीर्ण करने वाला हृदयविदारक
हिन्द की भाषा हिन्दी

पाठको की जिज्ञासा

  1. शरण में आया हुआ - शरणागत
  2. श्रम से प्राप्त होने वाला - श्रमसाध्य
  3. दूसरों के द्वारा किया गया विश्वास - भरोसा
  4. एक साथ पढने वाला - सहपाठी 
  5. सूर्य के अस्त होने का समय - सूर्यास्त


Share:

आय-कर अधिनियम, 1961 Income Tax Act 1961



  • अध्याय 1 - प्रारंभिक
    • धारा - 1 : संक्षिप्त नाम, विस्तार और प्रारंभ
    • धारा - 2 : परिभाषाएं
    • धारा - 3 : "पूर्ववर्ष" की परिभाषा
  • अध्याय 2 - प्रभार का आधार
    • धारा - 4 : आय-कर का प्रभार
    • धारा - 5 : कुल आय की परिधि
    • धारा - 5क : पुर्तगाली सिविल कोड द्वारा शासित पति या पत्नी के बीच आय का प्रभाजन
    • धारा - 6 : भारत में निवास
    • धारा - 7 : प्राप्त हुर्इ समझी गर्इ आय
    • धारा - 8 : लाभांश आय
    • धारा - 9 : भारत में प्रोद्भूत या उद्भूत हुर्इ समझी गर्इ आय
    • धारा - 9क : भारत में कारबार संबंध गठित न करने वाले क्रियाकलाप
  • अध्याय 3 - आय जो कुल आय का भाग नहीं है
    • धारा - 10 : आय जो कुल आय के अंतर्गत नहीं आती है
    • धारा - 10क : मुक्त व्यापार क्षेत्र में नवस्थापित औद्योगिक उपक्रमों आदि के बारे में विशेष उपबंध
    • धारा - 10कक : विशेष आर्थिक जोनों में नए सिरे से स्थापित यूनिटों की बाबत विशेष उपबंध
    • धारा - 10ख : नवस्थापित शत-प्रतिशत निर्यातोन्मुख उपक्रमों की बाबत विशेष उपबंध
    • धारा - 10खक : कतिपय वस्तुओं या चीजों के निर्यात के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 10खख : कतिपय मामलों में कम्प्यूटर कार्यक्रमों का अर्थ
    • धारा - 10ग : पूर्वोत्तर क्षेत्र में कतिपय औद्योगिक उपक्रमों की बाबत विशेष उपबंध
    • धारा - 11 : पूर्त या धार्मिक प्रयोजनों के लिए धारित सम्पत्ति से आय
    • धारा - 12 : अभिदायों से होने वाली न्यासों या संस्थाओं की आय
    • धारा - 12क : धारा 11 और 12 को लागू किए जाने संबंधी शर्तें
    • धारा - 12कक : रजिस्ट्रीकरण के लिए प्रक्रिया
    • धारा - 13 : कतिपय दशाओं में धारा 11 का लागू न होना
    • धारा - 13क : राजनैतिक दलों की आय के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 13ख : निर्वाचन न्यास को प्राप्त स्वैच्छिक अभिदायों से संबंधित विशेष उपबंध
  • अध्याय 4 - कुल आय की संगणना
    • धारा - 14 : आय के शीर्ष
    • धारा - 14क : ऐसी आय के संबंध में किया गया व्यय, जो कुल आय27 में सम्मिलित नहीं किया जा सकता
    • धारा - 15 : वेतन
    • धारा - 16 : वेतन से कटौतियां
    • धारा - 17 : ''वेतन'', ''परिलब्धि'' और ''वेतन के बदले में लाभ'' की परिभाषा
    • धारा - 18 : धारा 18 से 21 का वित्त अधिनियम, 1988 द्वारा 1.4.1989 से लोप किया गया।
    • धारा - 22 : गृह संपत्ति से आय
    • धारा - 23 : वार्षिक मूल्य किस प्रकार अवधारित किया जाता है
    • धारा - 24 : गृह सम्पत्ति से होने वाली आय में से कटौतियां
    • धारा - 25 : गृह संपत्ति से आय में से कटौती न किए जाने योग्य रकमें
    • धारा - 25क : किराए के बकाया और वसूल न किए गए किराए के पश्चात्वर्ती प्राप्त होने के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 26 : सह-स्वामियों के स्वामित्वाधीन संपत्ति
    • धारा - 27 : ''गृह संपत्ति का स्वामी'', ''वार्षिक प्रभार'' आदि की परिभाषा
    • धारा - 28 : कारबार या वृत्ति के लाभ और अभिलाभ
    • धारा - 29 : कारबार या वृत्ति के लाभ और अभिलाभ से आय की संगणना कैसे की जाएगी
    • धारा - 30 : भवनों के लिए किराया, रेट, कर, मरम्मत और बीमा
    • धारा - 31 : मशीनरी, संयंत्र और फर्नीचर की मरम्मत और बीमा
    • धारा - 32 : अवक्षयण
    • धारा - 32क : विनिधान मोक
    •  धारा - 32कख : विनिधान निक्षेप लेखा
    • धारा - 32कग : नए संयंत्र या मशीनरी में विनिधान
    • धारा - 32कघ : कतिपय राज्यों में अधिसूचित पिछडे़ क्षेत्रों में नए संयंत्र या मशीनरी में विनिधान
    • धारा - 33 : विकास रिबेट
    • धारा - 33क : विकास मोक
    • धारा - 33कख : चाय विकास खाता, काफी विकास खाता और रबड़ विकास खाता
    • धारा - 33कखक : स्थल पुन:स्थापन निधि
    • धारा - 33कग : पोत परिवहन कारबार के लिए आरक्षितियां
    • धारा - 33ख : पुनर्वास मोक
    • धारा - 34 : अवक्षयण मोक और विकास रिबेट के लिए शर्तें
    • धारा - 34क : कुछ देशी कंपनियों की दशा में सीमित अवधि के लिए शेष अवक्षयण और शेष विनिधान मोक पर निर्बन्धन (पाबंदियां)
    • धारा - 35 : वैज्ञानिक अनुसंधान पर व्यय
    • धारा - 35क : पेटेन्ट अधिकारों या कापीराइट (प्रतिलिप्याधिकारों) के अर्जन पर व्यय
    • धारा - 35कख : व्यवहार ज्ञान पर व्यय
    • धारा - 35कखक : दूर-संचार सेवाओं के लिए स्पैक्ट्रम के उपयोग का अधिकार अभिप्राप्त करने के लिए व्यय
    • धारा - 35कखख : दूरसंचार सेवाएं चलाने के लिए लाइसेंस लेने में व्यय
    • धारा - 35कग : पात्र परियोजनाओं और स्कीमों पर व्यय
    • धारा - 35कघ : विनिर्दिष्ट कारबार पर व्यय की बाबत कटौती
    • धारा - 35ख : निर्यात मार्केट विकास मोक
    • धारा - 35ग : कृषि विकास मोक
    • धारा - 35गग : ग्रामीण विकास मोक
    • धारा - 35गगक : ग्राम विकास कार्यक्रमों को चलाने के लिए संगमों और संस्थाओं को संदाय के रूप में व्यय
    • धारा - 35गगख : प्राकृतिक स्रोतों के संरक्षण के कार्यक्रमों को चलाने के लिए संगमों या संस्थाओं को संदाय के रूप में व्यय
    • धारा - 35गगग : कृषि विस्तार परियोजना संबंधी व्यय
    • धारा - 35घ : कतिपय प्रारम्भिक व्ययों पर अपाकरण (अमोरटाइजेशन)
    • धारा - 35घघ : समामेलन या अविलयन की दशा में व्यय का अपाकरण (अमोरटाइजेशन)
    • धारा - 35घघक : स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति स्कीम के अधीन उपगत व्यय का अपाकरण
    • धारा - 35ड़ : कतिपय खनिजों के लिए पूर्वेक्षण आदि पर व्यय के लिए कटौती
    • धारा - 36 : अन्य कटौतियां
    • धारा - 37 : साधारण
    • धारा - 38 : भवन आदि जिनका कारबार आदि के लिए भागत: उपयोग किया जाता है या इस प्रकार अनन्यत: उपयोग नहीं किया जाता है
    • धारा - 39 : प्रबंध अभिकरण कमीशन
    • धारा - 40 : कटौती न करने योग्य रकमें
    • धारा - 40क : कुछ परिस्थितियों में व्यय या भुगतान का कटौती योग्य न होना
    • धारा - 41 : कर से प्रभार्य लाभ
    • धारा - 42 : खनिज तेल के पूर्वेक्षण आदि के कारबार की दशा में कटौतियों के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 43 : कारबार या वृत्ति के लाभ और अभिलाभ से होने वाली आय से सुसंगत कतिपय पदों की परिभाषा
    • धारा - 43क : करेंसी की विनिमय दर में परिवर्तनों के परिणामस्वरूप विशेष उपबंध
    • धारा - 43ख : वास्तविक संदाय पर ही की जाने वाली कुछ कटौतियां
    • धारा - 43ग : कुछ आस्तियों के अर्जन की लागत की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 43गक : कतिपय मामलों में पूंजी आस्तियों से भिन्न आस्तियों के अंतरण के लिए प्रतिफल के पूर्ण मूल्य के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 43घ : लोक वित्तीय संस्थाओं, पब्लिक कंपनियों आदि की आय की दशा में विशेष उपबंध
    • धारा - 44 : बीमा कारबार
    • धारा - 44क : व्यापारिक, वृत्तिक या समरूप संगम की दशा में कटौती के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44कक : वृत्ति या कारबार चलाने वाले कुछ व्यक्तियों द्वारा लेखा रखना
    • धारा - 44कख : वृत्ति या कारबार चलाने वाले कुछ व्यक्तियों के लेखाओं की संपरीक्षा
    • धारा - 44कग : कुछ माल में व्यापार करने के कारबार से लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44कघ : उपधारणात्मक आधार पर कारबार के लाभों और अभिलाभों की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44कघक : लाभ और अभिलाभों का उपधारणात्मक आधार पर संगणित करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44कड़ : माल वाहन चलाने, किराए या पट्टे पर देने के कारबार के लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44कच : खुदरा कारबार के लाभ और अभिलाभ की संगणना के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44ख : अनिवासी की दशा में पोत परिवहन के कारबार के लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44खख : खनिज तेलों की खोज, आदि के कारबार के संबंध में लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44खखक : अनिवासी की दशा में विमान चलाने के कारबार के लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44खखख : कुछ टर्न-की विद्युत परियोजनाओं में सिविल सन्निर्माण के कारबार आदि में लगी विदेशी कंपनियों के लाभ और अभिलाभ की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44ग : अनिवासियों की दशा में मुख्यालय व्यय की कटौती
    • धारा - 44घ : विदेशी कंपनियों की दशा में स्वामिस्व आदि के रूप में आय की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44घक : अनिवासियों की दशा में स्वामिस्व आदि के रूप में आय की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 44घख : सहकारी बैंकों के कारबार के पुनर्गठन की दशा में कटौतियों की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 45 : पूंजी अभिलाभ
    • धारा - 46 : समापनाधीन कंपनियों द्वारा आस्तियों के वितरण पर पूंजी अभिलाभ
    • धारा - 46क : कंपनी द्वारा अपने स्वयं के शेयरों या अन्य विनिर्दिष्ट प्रतिभूतियों के क्रय पर पूंजी अभिलाभ
    • धारा - 47 : अंतरण न समझे जाने वाले संव्यवहार
    • धारा - 47क : कुछ दशाओं में छूट का वापिस लिया जाना
    • धारा - 48 : संगणना करने का ढंग
    • धारा - 49 : अर्जन के कुछ ढंगों के संबंध में लागत
    • धारा - 50 : अवक्षयणीय आस्तियों की दशा में पूंजी अभिलाभों की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 50क : अवक्षयणीय आस्ति की दशा में अर्जन की लागत के विशेष उपबंध
    • धारा - 50ख : मंदी विक्रय की दशा में पूंजी अभिलाभ की संगणना के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 50ग : कतिपय दशाओं में प्रतिफल के पूर्ण मूल्य के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 50गक : कोट किए गए शेयर से भिन्न शेयर के अंतरण के लिए प्रतिफल के पूर्ण मूल्य हेतु विशेष उपबंध।
    • धारा - 50घ : कतिपय मामलों में उचित बाजार मूल्य को प्रतिफल का पूर्ण मूल्य समझा जाना
    • धारा - 51 : प्राप्त अग्रिम धन
    • धारा - 52 : अवकथन के मामलों में अंतरण के लिए प्रतिफल
    • धारा - 53 : निवास गृह से पूंजी अभिलाभ की छूट
    • धारा - 54 : निवास के लिए उपयोग में लार्इ गर्इ संपत्ति के विक्रय पर लाभ
    • धारा - 54क : कुछ मामलों में पूंजी अभिलाभों पर राहत
    • धारा - 54ख : कृषि प्रयोजनों के लिए प्रयुक्त भूमि के अंतरण से होने वाले पूंजी अभिलाभों को कुछ दशाओं में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ग : निजी उपयोग हेतु धारित आभूषणों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभों का कुछ दशाओं में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54घ : भूमि और भवनों के अनिवार्य अर्जन पर पूंजी अभिलाभ कुछ दशाओं में प्रभारित नहीं किया जाना
    • धारा - 54ड़ : पूंजी आस्तियों के अंतरण से होने वाले पूंजी अभिलाभों का कुछ दशाओं में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ड़क : दीर्घकालिक पूंजी आस्तियों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभों का 72[विनिर्दिष्ट प्रतिभूतियों] में विनिधान की दशा में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ड़ख : दीर्घकालिक पूंजी आस्तियों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभ का कुछ मामलों में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ड़ग : कतिपय बंधपत्रों में विनिधान पर पूंजी अभिलाभ प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ड़घ : कुछ सूचीबद्ध प्रतिभूतियों या यूनिटों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभ का कुछ मामलों में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ड़ड़ : पूंजी अभिलाभ, किसी विनिर्दिष्ट निधि की यूनिटों में विनिधान पर प्रभारित नहीं किया जाएगा
    • धारा - 54च : निवास गृह में विनिधान की दशा में कतिपय पूंजी आस्तियों के अंतरण पर पूंजी लाभ का प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54छ : नगरीय क्षेत्र से औद्योगिक उपक्रम के स्थानांतरण की दशा में आस्तियों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभों को छूट
    • धारा - 54छक : औद्योगिक उपक्रम को शहरी क्षेत्र से किसी विशेष आर्थिक जोन में स्थानान्तरित करने की दशा में आस्तियों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभों की छूट
    • धारा - 54छख : आवासिक संपत्ति के अंतरण पर पूंजी अभिलाभ का कतिपय दशाओं में प्रभारित न किया जाना
    • धारा - 54ज : नर्इ आस्ति अर्जित करने या पूंजी अभिलाभ की रकम का निक्षेप या विनिधान करने के लिए समय का विस्तार
    • धारा - 55 : ''समायोजित'', ''सुधार की लागत'' और ''अर्जन की लागत'' के अर्थ
    • धारा - 55क : मूल्यांकन अधिकारी को निर्देश
    • धारा - 56 : अन्य स्रोतों से आय
    • धारा - 57 : कटौतियां
    • धारा - 58 : कटौती न करने योग्य रकमें
    • धारा - 59 : कर से प्रभार्य लाभ
  • अध्याय 5 - अन्य व्यक्तियों की आय जो निर्धारिती की कुल आय में सम्मिलित है
    • धारा - 60 : जहां आस्तियों का अंतरण न हो वहां आय का अंतरण
    • धारा - 61 : आस्तियों का प्रतिसंहरणीय अंतरण
    • धारा - 62 : विनिर्दिष्ट कालावधि के लिए अप्रतिसंहरणीय अंतरण
    • धारा - 63 : ''अंतरण'' और ''प्रतिसंहरणीय अंतरण'' की परिभाषा
    • धारा - 64 : व्यष्टि की आय में पति या पत्नी, अवयस्क संतान आदि की आय का भी सम्मिलित होना
    • धारा - 65 : व्यक्ति का ऐसी आय की जो अन्य व्यक्ति की आय में सम्मिलित है बाबत दायित्व
  • अध्याय 6 - आय का संकलन और हानि का मुजरा करना या उसे अग्रनीत करना
    • धारा - 66 : कुल आय
    • धारा - 67 : फर्म की आय में भागीदार के अंश की संगणना करने की पद्धति
    • धारा - 67क : व्यक्ति-संगम या व्यष्टि-निकाय की आय में सदस्य के अंश की संगणना करने की पद्धति
    • धारा - 68 : रोकड़ जमा
    • धारा - 69 : अस्पष्टीकृत विनिधान
    • धारा - 69क : अस्पष्टीकृत धनराशि, आदि
    • धारा - 69ख : विनिधानों आदि की रकम जो लेखा पुस्तकों में पूरी तरह से प्रकट न की गर्इ हो
    • धारा - 69ग : अस्पष्टीकृत व्यय आदि
    • धारा - 69घ : हुंडी पर उधार ली गर्इ या लौटार्इ गर्इ रकम
    • धारा - 70 : आय के एक ही शीर्ष के अधीन एक स्रोत से होने वाली हानि का दूसरे स्रोत से होने वाली आय के प्रति मुजरा किया जाना
    • धारा - 71 : एक शीर्ष से होने वाली हानि का अन्य शीर्ष से होने वाली आय के प्रति मुजरा किया जाना
    • धारा - 71क : ''गृह संपत्ति से आय'' शीर्ष के अधीन हानि का मुजरा किए जाने के लिए संक्रमणकालीन उपबंध
    • धारा - 71ख : गृह संपत्ति से हानि का अग्रनीत किया जाना और मुजरा किया जाना।
    • धारा - 72 : कारबार की हानियों का अग्रनीत किया जाना और मुजरा किया जाना
    • धारा - 72क : समामेलन या अविलयन आदि में संचयित हानि और शेष अवक्षयण मोक के अग्रनयन और मुजरा करने से संबंधित उपबंध
    • धारा - 72कक : कुछ दशाओं में बैंककारी कंपनी के समामेलन की स्कीम में संचयित हानि और शेष अवक्षयण मोक के अग्रनयन और मुजरा करने से संबंधित उपबंध
    • धारा - 72कख : सहकारी बैंकों के कारबार के पुनर्गठन में संचयित हानि या शेष अवक्षयण मोक के अग्रनयन और मुजरे से संबंधित उपबंध
    • धारा - 73 : सट्टे के कारबार में हानियां
    • धारा - 73क : विनिर्दिष्ट कारबार द्वारा हानियों का अग्रनयन और मुजरा
    • धारा - 74 : ''पूंजी अभिलाभ'' शीर्ष के अधीन हानियां
    • धारा - 74क : ''अन्य स्रोतों से आय'' शीर्ष के अधीन आने वाले कतिपय विनिर्दिष्ट स्रोतों से हानियां
    • धारा - 75 : फर्म की हानियां
    • धारा - 78 : फर्म के गठन की तब्दीली की दशा में या उत्तराधिकार पर हानियों का अग्रनीत किया जाना और उनका मुजरा किया जाना
    • धारा - 79 : कुछ कंपनियों की दशा में हानियों का अग्रनीत किया जाना और उनका मुजरा किया जाना
    • धारा - 80 : हानियों के लिए विवरणी का प्रस्तुत किया जाना
  • अध्याय 6क - कुल आय की संगणना करने में की जाने वाली कटौतियां
    • धारा - 80झ : निश्चित तारीख के पश्चात् औद्योगिक उपक्रमों से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती आदि
    • धारा - 80झक : अवसंरचना विकास आदि में लगे हुए औद्योगिक उपक्रमों या उद्यमों से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80झकख : विशेष आर्थिक जोन के विकास में लगे किसी उपक्रमों या उद्यमों के लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौतियां
    • धारा - 80झकग : विनिर्दिष्ट कारबार के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 80झख : अवसंरचना विकास उपक्रमों से भिन्न कुछ औद्योगिक उपक्रमों से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80झखक : गृह निर्माण परियोजनाओं से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80झग : कतिपय विशेष प्रवर्ग के राज्यों में कतिपय उपक्रमों या उद्यमों की बाबत विशेष उपबंध
    • धारा - 80झघ : विनिर्दिष्ट क्षेत्र में होटलों और कन्वेंशन केन्द्रों के कारबार से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80झड़ : पूर्वोत्तर राज्यों में कतिपय उपक्रमों की बाबत विशेष उपबंध
    • धारा - 80ण : कतिपय विदेशी उद्यमों से स्वामिस्व आदि के संबंध में कटौती
    • धारा - 80क : कुल आय की संगणना करने में की जाने वाली कटौतियां
    • धारा - 80कक : धारा 80ड के अधीन कटौती की संगणना
    • धारा - 80कख : सकल कुल आय में सम्मिलित आय के निर्देश में कटौतियों का किया जाना
    •  धारा - 80कग : जब तक आय की विवरणी प्रस्तुत नहीं कर दी जाती तब तक कटौती का अनुज्ञात न किया जाना
    • धारा - 80ख : परिभाषाएं
    • धारा - 80ग : जीवन बीमा प्रीमियम, आस्थगित वार्षिकी, भविष्य निधि में अभिदाय कतिपय साधारण शेयरों या डिबेंचरों आदि में अभिदान की बाबत कटौती
    •  धारा - 80गग : कुछ नए शेयरों में विनिधान की बाबत कटौती
    • धारा - 80गगक : राष्ट्रीय बचत स्कीम के अधीन निक्षेप या आस्थगित वार्षिकी योजना में जमा की बाबत कटौती
    • धारा - 80गगख : साधारण शेयर बचत स्कीम के अधीन किए गए विनिधान की बाबत कटौती
    • धारा - 80गगग : कुछ पेंशन निधियों में अभिदाय की बाबत कटौती
    • धारा - 80गगघ : केन्द्रीय सरकार की पेंशन स्कीम में अभिदाय के संबंध में कटौती
    • धारा - 80गगड़ : धारा 80ग, धारा 80गगग और धारा 80 गगघ के अधीन कटौतियों की सीमा
    • धारा - 80गगच : दीर्घकालिक अवसंरचना बंधपत्रों के अभिदाय की बाबत कटौती
    • धारा - 80गगछ : किसी साधारण बचत स्कीम के अधीन किए गए विनिधान की बाबत कटौती
    • धारा - 80घ : स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम के संबंध में कटौती
    • धारा - 80घघ : ऐसे किसी आश्रित के, जो नि:शक्त व्यक्ति है, चिकित्सीय उपचार सहित भरण-पोषण की बाबत कटौती
    • धारा - 80घघख : चिकित्सीय उपचार आदि की बाबत कटौती
    • धारा - 80ड़ : उच्चतर शिक्षा हेतु लिए गए उधार पर ब्याज की बाबत कटौती
    • धारा - 80ड़ड़ : आवासीय गृह संपत्ति के लिए, लिए गए उधार पर ब्याज की बाबत कटौती
    • धारा - 80च : कुछ मामलों में शिक्षा संबंधी व्ययों की बाबत कटौती
    • धारा - 80चच : कतिपय मामलों में उच्चतर शिक्षा पर व्यय की बाबत कटौती
    • धारा - 80छ : कुछ निधियों, पूर्त संस्थाओं आदि को दान की बाबत कटौती
    • धारा - 80छछ : संदत्त किराए की बाबत कटौती
    • धारा - 80छछक : वैज्ञानिक अनुसंधान या ग्राम विकास के लिए कुछ संदानों की बाबत कटौती
    • धारा - 80छछख : कंपनियों द्वारा राजनैतिक दलों को दिए गए अभिदायों की बाबत कटौती
    • धारा - 80छछग : किसी व्यक्ति द्वारा राजनैतिक दलों के दिए गए अभिदायों की बाबत कटौती
    • धारा - 80ज : विस्थापित व्यक्तियों को नियोजित करने वाले नए औद्योगिक उपक्रमों की दशा में कटौती, आदि
    • धारा - 80जज : पिछड़े क्षेत्रों में नए स्थापित औद्योगिक उपक्रमों या होटल कारबार से लाभ और अभिलाभ के संबंध में कटौती
    • धारा - 80जजक : कुछ क्षेत्रों में लगाए गए नए लघु उद्योग उपक्रमों के लाभ और अभिलाभ के बारे में कटौती
    • धारा - 80जजख : भारत से बाहर की परियोजनाओं से लाभ और अभिलाभ के संबंध में कटौती
    • धारा - 80जजखक : कतिपय दशाओं में आवास परियोजना से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80जजग : निर्यात कारबार के लिए प्रतिधारित लाभों की बाबत कटौती
    • धारा - 80जजघ : संपरिवर्तनीय विदेशी मुद्रा में उपार्जनों के संबंध में कटौती
    • धारा - 80जजड़ : कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर आदि के निर्यात से लाभ की बाबत कटौती
    • धारा - 80जजच : फिल्म सॉफ्टवेयर के निर्यात या अन्तरण से लाभों और अभिलाभों की बाबत कटौतियां
    • धारा - 80ञ : कतिपय दशाओं में नवस्थापित औद्योगिक उपक्रमों या पोतों या होटल के कारबार से लाभ और अभिलाभ की बाबत कटौती
    • धारा - 80ञञ : कुक्कट पालन के कारबार से लाभ और अभिलाभ की बाबत कटौती
    • धारा - 80ञञक : जैव-अवक्रमणीय अपशिष्ट के संग्रहण और प्रसंस्करण के कारबार से लाभ और अभिलाभ की बाबत कटौती।
    • धारा - 80ञञकक : नए कर्मचारियों के नियोजन के संबंध में कटौती
    • धारा - 80ट : नए औद्योगिक उपक्रमों या पोत या होटल के कारबार से लाभ और अभिलाभ के लिए माने जा सकने वाले लाभांशों की बाबत कटौती
    • धारा - 80ठ : कुछ प्रतिभूतियों, लाभांशों, आदि पर ब्याज की बाबत कटौतियां
    • धारा - 80ठक : अपतट बैंककारी यूनिटों और अन्तरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केन्द्र की कतिपय आय की बाबत कटौतियां
    • धारा - 80ड : कतिपय अंतर्निगमित लाभांशों के संबंध में कटौती
    • धारा - 80डड : भारत में किसी समुत्थान से प्राप्त स्वामिस्व आदि के संबंध में भारतीय कंपनी की दशा में कटौती
    • धारा - 80ढ : कुछ विदेशी कंपनियों से प्राप्त लाभांशों के संबंध में कटौती
    • धारा - 80त : सहकारी सोसाइटियों की आय के संबंध में कटौती
    • धारा - 80थ : पुस्तकों के प्रकाशन के कारबार से लाभों और अभिलाभों के संबंध में कटौती
    • धारा - 80थथ : पुस्तकों के प्रकाशन के कारबार से लाभ और अभिलाभ के संबंध में कटौती
    • धारा - 80थथक : भारतीय भाषाओं में पाठ्य-पुस्तकों के लेखकों की वृत्तिक आय के संबंध में कटौतियां
    • धारा - 80थथख : पाठ्य-पुस्तकों से भिन्न कतिपय पुस्तकों के लेखकों की स्वामिस्व आय, आदि की बाबत कटौती
    • धारा - 80द : प्राचार्यों, शिक्षकों आदि की दशा में, कुछ विदेशी स्रोतों से पारिश्रमिक के संबंध में कटौती
    • धारा - 80दद : कतिपय दशाओं में विदेशी स्रोतों से वृत्तिक आय के संबंध में कटौती
    • धारा - 80ददक : भारत से बाहर की गर्इ सेवाओं के लिए प्राप्त पारिश्रमिक के संबंध में कटौती
    • धारा - 80ददख : पेटेंटों पर स्वामिस्व की बाबत कटौती
    • धारा - 80ध : कंपनियों से भिन्न निर्धारितियों की दशा में प्रबंध अभिकरण आदि की समाप्ति के लिए प्रतिकर के संबंध में कटौती
    • धारा - 80न : कंपनियों से भिन्न निर्धारितियों की दशा में दीर्घकालिक पूंजी अभिलाभ के संबंध में कटौती
    • धारा - 80नन : लाटरी से जीत के संबंध में कटौती
    • धारा - 80ननक : बचत खाते में निक्षेपों पर ब्याज की बाबत कटौती
    • धारा - 80प : किसी नि:शक्त व्यक्ति की दशा में कटौती
    • धारा - 80फ : कुछ दशाओं में माता या पिता की सकल कुल आय में से कटौती
    • धारा - 80फफ : अधिनियम के अधीन कुछ कार्यवाहियों के संबंध में किए गए व्यय की बाबत कटौती
  • अध्याय 7 - कुल आय की भागरूप आय जिस पर कोर्इ आय-कर संदेय नहीं है
    • धारा - 81 से 85ग : वित्त (सं. 2) अधिनियम, 1967 द्वारा 1.4.1968 से लोप किया गया
    • धारा - 86 : व्यक्ति-संगम या व्यष्टि-निकाय की आय में ऐसे संगम या निकाय के सदस्य का अंश
    • धारा - 86क : कतिपय प्रतिभूतियों पर कर की बाबत कटौती
  • अध्याय 8 - रिबेट और राहत
    • धारा - 87 : आय-कर की संगणना करने में अनुज्ञात किया जाने वाला रिबेट
    • धारा - 87क : कतिपय व्यष्टियों की दशा में आय-कर का रिबेट
    • धारा - 88 : जीवन बीमा प्रीमियम, भविष्य निधि में अभिदाय आदि पर रिबेट
    • धारा - 88क : कुछ नये शेयरों या यूनिटों में विनिधान की बाबत रिबेट
    • धारा - 88ख : पैंसठ वर्ष या उससे अधिक आयु के व्यष्टियों की दशा में आय-कर रिबेट
    • धारा - 88ग : पैंसठ वर्ष से कम आयु की स्त्रियों की दशा में आय-कर रिबेट
    • धारा - 88घ : कतिपय व्यष्टियों की दशा में आय-कर रिबेट
    • धारा - 88ड़ : प्रतिभूति संव्यवहार कर की बाबत रिबेट
    • धारा - 89 : उस दशा में राहत जिसमें वेतन आदि का भुगतान बकाया या अग्रिम के रूप में किया जाता है
    • धारा - 89क : निर्यात के कुल आवर्त के संबंध में कर राहत
  • अध्याय 9 - दोहरे कराधान से राहत
    • धारा - 90 : [विदेशों या विनिर्दिष्ट राज्यक्षेत्रों से करार
    • धारा - 90क : दोहरे कराधन राहत के लिए विनिर्दिष्ट संगमों के बीच हुए करारों का केंद्रीय सरकार द्वारा अंगीकार किया जाना
    • धारा - 91 : वे देश जिनके साथ कोर्इ करार नहीं है
  • अध्याय 10 - कर के परिवर्जन के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 92 : असन्निकट कीमत को ध्यान में रखते हुए अंतरराष्ट्रीय संव्यवहार से आय की संगणना
    • धारा - 92क : सहयुक्त उद्यम का अर्थ
    • धारा - 92ख : अंतरराष्ट्रीय संव्यवहार का अर्थ
    • धारा - 92खक : विनिर्दिष्ट देशी संव्यवहार का अर्थ
    • धारा - 92ग : असन्निकट कीमत की संगणना
    • धारा - 92गक : अंतरण मूल्यांकन अधिकारी को निर्देश
    • धारा - 92गख : सुरक्षित बंदरगाह नियम बनाने की बोर्ड की शक्ति
    • धारा - 92गग : अग्रिम मूल्यांकन करार
    • धारा - 92गघ : अग्रिम मूल्यांकन करार को प्रभावी रूप देना
    • धारा - 92गड़ : कतिपय मामलों में द्वितीय समायोजन।
    • धारा - 92घ : अंतरराष्ट्रीय संव्यवहार या विनिर्दिष्ट देशी संव्यवहार करने वाले व्यक्तियों द्वारा जानकारी और दस्तावेजों का रखा जाना और उन्हें बनाए रखा जाना
    • धारा - 92ड़ : अंतरराष्ट्रीय संव्यवहार या विनिर्दिष्ट देशी संव्यवहार करने वाले व्यक्तियों द्वारा लेखापाल से प्राप्त रिपोर्ट का दिया जाना
    • धारा - 92च : असन्निकट कीमत, आदि की संगणना से संबंधित कुछ पदों की परिभाषाएं
    • धारा - 93 : अनिवासियों को आय के अंतरण में परिणत होने वाले संव्यवहारों द्वारा आय-कर का परिवर्जन
    • धारा - 94 : प्रतिभूतियों में कुछ संव्यवहारों द्वारा कर का परिवर्जन
    • धारा - 94क : अधिसूचित अधिकारिता वाले क्षेत्र में अवस्थित व्यक्तियों से संव्यवहार के संबंध में विशेष अध्युपाय
    • धारा - 94ख : कतिपय मामलों में ब्याज कटौती को सीमित करना।
  • अध्याय 10क - सामान्य परिवर्जनरोधी नियम
    • धारा - 95 : सामान्य परिवर्जनरोधी नियम का लागू होना
    • धारा - 96 : अननुज्ञेय परिवर्जन ठहराव
    • धारा - 97 : ठहरावों में वाणिज्यिक सारतत्व का न होना
    • धारा - 98 : अननुज्ञेय परिवर्जन ठहराव का परिणाम
    • धारा - 99 : संबद्ध व्यक्ति और अनुकूलक पक्षकार का निरूपण
    • धारा - 100 : अध्याय का लागू होना
    • धारा - 101 : मार्गदर्शक सिद्धांतों का विरचित किया जाना
    • धारा - 102 : परिभाषाएं
  • अध्याय 11 - अवितरित लाभों पर अतिरिक्त आय कर
    • धारा - 104 : कुछ कंपनियों की अवितरित आय पर आय-कर
    • धारा - 105 : कुछ कंपनियों के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 106 : धारा 104 के अधीन आदेश करने का परिसीमा काल
    • धारा - 107 : धारा 104 के अधीन आदेशों के लिए सहायक आयुक्त (निरीक्षण) का अनुमोदन
    • धारा - 107क : कुछ मामलों में न्यूनतम वितरण को घटाना
    • धारा - 108 : उस कंपनी के लिए व्यावृत्तियां जिनमें जनता पर्याप्त रूप से हितबद्ध है
    • धारा - 109 : ''वितरण योग्य आय'' ''विनिधान कंपनी'' और ''कानूनी प्रतिशतता'' की परिभाषा
  • अध्याय 12 - कुछ विशेष दशाओं में कर का अवधारण
    • धारा - 110 : जहां कुल आय के अंतर्गत ऐसी आय है जिस पर कोर्इ कर संदेय नहीं है वहां कर का अवधारण
    • धारा - 111 : मान्यताप्राप्त भविष्य निधि के संचित अतिशेष पर कर
    • धारा - 111क : कतिपय मामलों में अल्पकालिक पूंजी अभिलाभों पर कर
    • धारा - 112 : दीर्घकालिक पूंजी अभिलाभों पर कर
    • धारा - 112क : राष्ट्रीय बचत पत्रों (प्रथम निर्गम) पर ब्याज पर कर
    • धारा - 113 : तलाशी के मामलों के समूह निर्धारण की दशा में करधारा - 114 : कंपनियों से भिन्न निर्धारितियों के मामले में पूंजी अभिलाभ पर कर
    • धारा - 115 : कंपनियों की दशा में पूंजी अभिलाभ पर कर
    • धारा - 115क : विदेशी कंपनियों की दशा में लाभांश, स्वामिस्व और तकनीकी सेवाओं की फीस पर कर
    • धारा - 115कख : विदेशी मुद्रा में क्रय किए गए यूनिटों या उनके अंतरण से उद्भूत पूंजी अभिलाभों से आय पर कर
    • धारा - 115कग : विदेशी करेंसी में क्रय किए गए बंधपत्रों या ग्लोबल निक्षेपागार रसीदों से आय पर अथवा उनके अंतरण से होने वाले पूंजी अभिलाभों से उद्भूत आय पर कर
    • धारा - 115कगक : विदेशी करेन्सी में खरीदी गर्इ ग्लोबल निक्षेपागार रसीदों से आय या उनके अंतरण से होने वाले पूंजी अभिलाभ पर कर
    • धारा - 115कघ : विदेशी संस्थागत विनिधानकर्ताओं की प्रतिभूतियों से अथवा उनके अंतरण से उद्भूत पूंजी अभिलाभों से आय पर कर
    • धारा - 115ख : जीवन-बीमा कारबार के लाभ और अभिलाभ पर कर
    • धारा - 115खक : कतिपय देशी कंपनियों की आय पर कर
    • धारा - 115खख : लाटरी, वर्ग पहेली, दौड़, जिसके अंतर्गत घुड़दौड़ भी है, ताश के खेल और अन्य सभी प्रकार के खेल या हर प्रकार या प्रकृति के जुए या दाव से जीत पर कर
    • धारा - 115खखख : भारतीय यूनिट ट्रस्ट की खुली साधारण शेयरोन्मुखी निधि या पारस्परिक निधियों की यूनिटों से आय पर कर
    • धारा - 115खखग : कतिपय मामलों में अनाम संदानों पर कर लगाया जाना
    • धारा - 115खखघ : विदेशी कंपनियों से प्राप्त कतिपय लाभांशों पर कर
    • धारा - 115खखघक : देशी कंपनियों से प्राप्त कतिपय लाभाशों पर कर
    • धारा - 115खखड़ : धारा 68 या धारा 69 या धारा 69क या धारा 69ग या धारा 69घ में निर्दिष्ट आय पर कर
    • धारा - 115खखच : पेटेंट से आय पर कर
  • अध्याय 12क - अनिवासियों की कुछ आय के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115झ : यदि निर्धारिती चाहे तो अध्याय का लागू न होना
    • धारा - 115ग : परिभाषाएं
    • धारा - 115घ : अनिवासियों की कुल आय की संगणना के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 115ड़ : विनिधान आय और दीर्घकालिक पूंजी अभिलाभ पर कर
    • धारा - 115च : विदेशी मुद्रा आस्तियों के अंतरण पर पूंजी अभिलाभ का कुछ दशाओं में प्रभारित न होना
    • धारा - 115छ : कुछ मामलों में आय की विवरणी का फाइल न किया जाना
    • धारा - 115ज : निर्धारिती के निवासी हो जाने के बाद भी कुछ दशाओं में इस अध्याय के अधीन फायदों का उपलभ्य होना
  • अध्याय 12घ - देशी कंपनियों के वितरित लाभों पर कर संबंधी विशेष उपबंध
    • धारा - 115ण : देशी कंपनियों के वितरित लाभों पर कर
    • धारा - 115त : देशी कंपनियों द्वारा कर न देने के लिए संदेय ब्याज
    • धारा - 115थ : कंपनी को व्यतिक्रमी कब समझा जाता है
  • अध्याय 12ख - कुछ कंपनियों के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञ : कुछ कंपनियों के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञक : कुछ कंपनियों के संबंध में समझी गर्इ आय
    • धारा - 115ञकक : कुछ कंपनियों से सम्बद्ध समझी गर्इ आय पर संदत्त कर की बाबत कर क्रेडिट
    • धारा - 115ञख : कुछ कंपनियों द्वारा कर संदाय के लिए विशेष उपबंध

  • अध्याय 12खक - कंपनी से भिन्न कतिपय व्यक्तियों] के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञग : कंपनी से भिन्न कतिपय व्यक्तियों द्वारा कर के संदाय के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञघ : अनुकल्पी न्यूनतम कर के लिए कर प्रत्यय
    • धारा - 115ञड : इस अधिनियम के अन्य उपबंधों का लागू होना
    • धारा - 115ञड़ड़ : इस अध्याय का कतिपय व्यक्तियों को लागू होना
    • धारा - 115ञच : इस अध्याय का निर्वचन
  • अध्याय 12खख - किसी विदेशी बैंक की भारतीय शाखा के समनुषंगी कंपनी में संपरिवर्तन के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञछ : किसी विदेशी कंपनी की भारतीय शाखा का समनुषंगी भारतीय कंपनी में संपरिवर्तन
  • अध्याय 12खग - भारत में निवासी के रूप में कथित विदेशी कंपनी से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115ञज : भारत में निवासी के रूप में कथित विदेशी कंपनी
  • अध्याय 12ग - खुदरा व्यापार आदि के संबंध में विशेष उपबंध
    • धारा - 115ट : कुछ दशाओं में आय की संगणना करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 115ठ : कुछ दशाओं में आय की विवरणी का दाखिल न किया जाना
    • धारा - 115ड : कटौतियों और आय-कर रिबेट नामंजूर करने के लिए विशेष उपबंध
    • धारा - 115ढ : कुछ मामलों में कार्यवाहियों का वर्जन
  • अध्याय 12घक - शेयरों के क्रय द्वारा वापस लिए जाने के लिए देशी कंपनी की वितरित आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115थक : शेयर धारकों को वितरित आय पर कर
    • धारा - 115थख : कंपनी द्वारा कर का संदाय न किए जाने पर संदेय ब्याज
    • धारा - 115थग : कंपनी को कब व्यतिक्रमी निर्धारिती माना जाएगा
  • अध्याय 12ड़ - वितरित आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115द : यूनिट धारकों को वितरित आय पर कर
    • धारा - 115ध : कर न देने के लिए संदेय ब्याज
    • धारा - 115न : भारतीय यूनिट ट्रस्ट या पारस्परिक निधि का व्यतिक्रमी निर्धारिती होना
  • अध्याय 12ड़क - प्रतिभूतिकरण न्यासों द्वारा वितरित आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115नक : विनिधानकर्ताओं को वितरित आय पर कर
    • धारा - 115नख : कर का संदाय न करने के लिए संदेय ब्याज
    • धारा - 115नग : प्रतिभूतिकरण न्यास का व्यतिक्रमी निर्धारिती होना
    • धारा - 115नगक : प्रतिभूतिकरण न्यासों से आय पर कर
  • अध्याय 12ड़ख - कतिपय न्यासों और संस्थाओं की अनुवर्धित आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115नघ : अनुवर्धित आय पर कर
      धारा - 115नड़ : न्यास या संस्था द्वारा कर के असंदाय के लिए संदेय ब्याज
    • धारा - 115नच : न्यास या संस्था को कब व्यतिक्रमी निर्धारिती माना जाएगा
  • अध्याय 12च - जोखिम पूंजी कंपनी और जोखिम पूंजी निधि से प्राप्त आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115प : कुछ मामलों में आय पर कर
  • अध्याय 12चक - कारबार न्यास से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115पक : यूनिट धारक और कारबार न्यास की आय पर कर
  • अध्याय 12चख - विनिधान निधियों की आय और ऐसी निधियों से प्राप्त आय पर कर से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115पख : विनिधान निधि और इसके यूनिट धारकों की आय पर कर
  • अध्याय 12छ - पोत परिवहन कंपनियों की आय से संबंधित विशेष उपबंध
    • धारा - 115फ : परिभाषाएं
    • धारा - 115फझ : सुसंगत पोत परिवहन आय
    • धारा - 115फण : धारा 115ञख के उपबंधों से अपवर्जन
    • धारा - 115फक : अर्हक पोतों के प्रचालन के कारबार से होने वाले लाभों और अभिलाभों की संगणना
    • धारा - 115फख : पोत प्रचालन
    • धारा - 115फग : अर्हक कंपनी
    • धारा - 115फघ : अर्हक पोत
    • धारा - 115फड़ : टनभार कर स्कीम के अधीन आय की संगणना करने की रीति
    • धारा - 115फच : टनभार आय
    • धारा - 115फछ : टनभार आय की संगणना
    • धारा - 115फज : संयुक्त प्रचालन, आदि की दशा में गणना
    • धारा - 115फञ : सामान्य खर्चों का अवधारण
    • धारा - 115फट : अवक्षयण
    • धारा - 115फठ : कटौती और मुजरा आदि का साधारण अपवर्जन
    • धारा - 115फड : हानि का अपवर्जन
    • धारा - 115फढ : टनभार कर आस्तियों के अंतरण से प्रभार्य अभिलाभ
    • धारा - 115फत : टनभार कर स्कीम संबंधी विकल्प अपनाने की पद्धति और समय
    • धारा - 115फथ : वह अवधि, जिसके लिए टनभार कर विकल्प प्रवृत्त रहेगा
    • धारा - 115फद : टनभार स्कीम का नवीकरण
    • धारा - 115फध : कतिपय मामलों में टनभार कर स्कीम संबंधी विकल्प अपनाने का प्रतिषेध
    • धारा - 115फन : टनभार कर आरक्षिति खाते में लाभों का अंतरण
    • धारा - 115फप : टनभार कर कंपनी के लिए न्यूनतम प्रशिक्षण की अपेक्षा
    • धारा - 115फफ : टनभार के भाड़े पर लेने के लिए सीमा
    • धारा - 115फब : लेखाओं का रखा जाना और संपरीक्षा
    • धारा - 115फभ : टनभार का अवधारण
    • धारा - 115फम : समामेलन
    • धारा - 115फय : अविलयन
    • धारा - 115फयक : अर्हक पोतों का अस्थायीतौर पर प्रचालन बंद करने का प्रभाव
    • धारा - 115फयख : कर का परिवर्जन
    • धारा - 115फयग : टनभार कर स्कीम में अपवर्जन
  • अध्याय 12ज - अनुषंगी फायदों पर आय-कर
    • धारा - 115ब : परिभाषाएं
    • धारा - 115बक : अनुषंगी फायदा कर प्रभारण
    • धारा - 115बख : अनुषंगी फायदे
    • धारा - 115बग : अनुषंगी फायदों का मूल्य
    • धारा - 115बघ : अनुषंगी फायदों की विवरणी
    • धारा - 115बड़ : निर्धारण
    • धारा - 115बच : सर्वोत्तम विवेकबुद्धि के अनुसार निर्धारण
    • धारा - 115बछ : निर्धारण से छूट गए अनुषंगी फायदे
    • धारा - 115बज : जहां अनुषंगी फायदे निर्धारण से छूट गए हैं वहां सूचना का जारी किया जाना
    • धारा - 115बझ : अनुषंगी फायदा कर का संदाय
    • धारा - 115बञ : अनुषंगी फायदों की बाबत अग्रिम कर
    • धारा - 115बट : अनुषंगी फायदों की विवरणी देने में व्यतिक्रम करने के लिए ब्याज
    • धारा - 115बटक : नियोजक द्वारा कर्मचारी से अनुषंगी फायदा कर की वसूली
    • धारा - 115बटख : कर्मचारी द्वारा कर का समझा गया संदाय
    • धारा - 115बठ : इस अधिनियम के अन्य उपबंधों का लागू होना
    • धारा - 115बड : अध्याय 12ज का निश्चित तारीख के पश्चात् लागू न होना
  • अध्याय 13 - आय-कर प्राधिकारी
    • धारा - 116 : आय-कर प्राधिकारी
    • धारा - 117 : आय-कर प्राधिकारियों की नियुक्ति
    • धारा - 118 : आय-कर प्राधिकारियों का नियंत्रण
    • धारा - 119 : अधीनस्थ प्राधिकारियों को अनुदेश
    • धारा - 120 : आय-कर प्राधिकारियों की अधिकारिता
    • धारा - 121 : आयुक्तों की अधिकारिता
    • धारा - 121क : आयुक्त (अपील) की अधिकारिता
    • धारा - 122 : सहायक आयुक्त (अपील) की अधिकारिता
    • धारा - 123 : सहायक आयुक्त (निरीक्षण) की अधिकारिता
    • धारा - 124 : निर्धारण अधिकारियों की अधिकारिता
    • धारा - 125 : विनिर्दिष्ट क्षेत्र, मामलों, व्यक्तियों आदि की बाबत आयुक्त की शक्तियां
    • धारा - 125क : सहायक आयुक्त (निरीक्षण) और आय-कर अधिकारी की समवर्ती अधिकारिता
    • धारा - 126 : विनिर्दिष्ट क्षेत्र, व्यक्तियों या आय के वर्गों की बाबत बोर्ड की शक्तियां
    • धारा - 127 : मामले अंतरित करने की शक्ति
    • धारा - 128 : आय-कर निरीक्षकों के कार्य
    • धारा - 129 : किसी पद के धारक की तब्दीली
    • धारा - 130 : किसी कृत्य या किन्हीं कृत्यों को करने के लिए सक्षम आयुक्त
    • धारा - 130क : किसी कृत्य या किन्हीं कृत्यों को करने के लिए सक्षम आय-कर अधिकारी
    • धारा - 131 : साक्ष्य के प्रकटीकरण, पेश करने आदि के बारे में शक्ति
    • धारा - 132 : तलाशी और अभिग्रहण
    • धारा - 132क : लेखा बहियों आदि की अध्यपेक्षा करने की शक्ति
    • धारा - 132ख : अभिगृहीत या अध्यपेक्षित आस्तियों का उपयोजन
    • धारा - 133 : जानकारी मांगने की शक्ति
    • धारा - 133क : सर्वेक्षण की शक्ति
    • धारा - 133ख : कुछ सूचना एकत्र करने की शक्ति
    • धारा - 133ग : विहित आय-कर प्राधिकारी द्वारा सूचना मंगाने की शक्ति
    • धारा - 134 : कंपनियों के रजिस्टरों का निरीक्षण करने की शक्ति
    • धारा - 135 : प्रधान महानिदेशक या महानिदेशक या प्रधान निदेशक या निदेशक, प्रधान मुख्य आयुक्त या मुख्य आयुक्त या प्रधान आयुक्त या आयुक्त तथा संयुक्त आयुक्त की शक्ति
    • धारा - 136 : आय-कर प्राधिकारियों के समक्ष की कार्यवाहियों का न्यायिक कार्यवाहियां होना
    • धारा - 137 : सूचना का प्रकटीकरण प्रतिषिद्ध होना
    • धारा - 138 : निर्धारितियों के संबंध में जानकारी का प्रकटीकरण
  • अध्याय 14 - निर्धारण के लिये प्रक्रिया
    • धारा - 139 : आय की विवरणी
    • धारा - 139क :
    • धारा - 139ख : कर विवरणी तैयार करने वालों के माध्यम से विवरणियां प्रस्तुत करने संबंधी स्कीम
    • धारा - 139ग : विवरणी के साथ दस्तावेज आदि प्रस्तुत करने से अभिमुक्ति देने की बोर्ड की शक्ति
    • धारा - 139घ : इलेक्ट्रानिक रूप में विवरणी का फाइल किया जाना
    • धारा - 140 : विवरणी किसके द्वारा सत्यापित हो
    • धारा - 140क : स्वत: निर्धारण
    • धारा - 141 : अनंतिम निर्धारण
    • धारा - 141क : प्रतिदाय के लिए अनंतिम निर्धारण
    • धारा - 142 : निर्धारण के पूर्व जांच
    • धारा - 142क : मूल्यांकन प्राधिकारी द्वारा आस्तियों के मूल्य का प्राक्कलन
    • धारा - 143 : निर्धारण
    • धारा - 144 : सर्वोत्तम विवेकबुद्धि के अनुसार निर्धारण
    • धारा - 144क : संयुक्त आयुक्त की कुछ मामलों में निर्देश देने की शक्ति
    • धारा - 144ख : कुछ मामलों में उपायुक्त को निर्देश
    • धारा - 144खक : कतिपय मामलों में प्रधान आयुक्त या आयुक्त को निर्देश
    • धारा - 144ग : विवाद समाधान पैनल को निर्देश
    • धारा - 145 : लेखा पद्धति
    • धारा - 145क : कतिपय मामलों में लेखा पद्धति
    • धारा - 146 : निर्धारिती की प्रेरणा पर निर्धारण को पुन: खोलना
    • धारा - 147 : निर्धारण से छूट गर्इ आय
    • धारा - 148 : जहां आय निर्धारण से छूट गर्इ है, वहां सूचना का जारी किया जाना
    • धारा - 149 : सूचना के लिए समय सीमा
    • धारा - 150 : ऐसे मामलों के लिए उपबंध जिनमें निर्धारण अपील आदि पर आदेश के अनुसरण में किया गया है
    • धारा - 151 : सूचना जारी करने की मंजूरी
    • धारा - 152 : अन्य उपबंध
    • धारा - 153 : निर्धारण, पुन: निर्धारण और पुन: संगणना को पूरा करने के लिए समय-सीमा
    • धारा - 153क : तलाशी या अध्यपेक्षा की दशा में निर्धारण
    • धारा - 153ख : धारा 153क के अधीन निर्धारण पूरा करने के लिए समय सीमा
    • धारा - 153ग : किसी अन्य व्यक्ति की आय का निर्धारण
    • धारा - 153घ : तलाशी या अध्यपेक्षा के मामलों में निर्धारण के लिए पूर्व अनुमोदन का आवश्यक होना
    • धारा - 154 : भूल सुधार
    • धारा - 155 : अन्य संशोधन
    • धारा - 156 : मांग की सूचना
    • धारा - 157 : हानि की जानकारी
    • धारा - 158 : फर्म के निर्धारण की जानकारी
  • अध्याय 14क - पुनरावर्ती अपीलों से बचने के लिये विशेष उपबंध
    • धारा - 158क : जब निर्धारिती दावा करता है कि विधि का वैसा ही प्रश्न उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित है
    • धारा - 158कक : प्रक्रिया, जब राजस्व द्वारा किसी अपील में, विधि का समरूप प्रश्न उच्चतम न्यायालय के समक्ष लंबित हो।
  • अध्याय 14ख - तलाशी के मामलों के निर्धारण के लिये विशेष प्रक्रिया
    • धारा - 158ख : परिभाषाएं
    • धारा - 158खक : तलाशी के परिणामस्वरूप अप्रकट आय का निर्धारण
    • धारा - 158खख : ब्लाक अवधि की अप्रकट आय की संगणना
    • धारा - 158खग : समूह निर्धारण संबंधी प्रक्रिया
    • धारा - 158खघ : किसी अन्य व्यक्ति की अप्रकट आय
    • धारा - 158खड़ : समूह निर्धारण पूरा करने के लिए समय-सीमा
    • धारा - 158खच : कुछ ब्याजों और शास्तियों का उद्गृहीत या अधिरोपित न किया जाना
    • धारा - 158खचक : कुछ मामलों में ब्याज और शास्ति का उद्ग्रहण
    • धारा - 158खछ : समूह निर्धारण करने में सक्षम प्राधिकारी
    • धारा - 158खज : इस अधिनियम के अन्य उपबंधों का लागू होना
    • धारा - 158खझ : अध्याय का निश्चित तारीख के पश्चात् लागू न होना
  • अध्याय 15 - विशेष दशाओं में दायित्व
    • धारा - 159 : विधिक प्रतिनिधि
    • धारा - 160 : प्रतिनिधि निर्धारिती
    • धारा - 161 : प्रतिनिधि निर्धारिती का दायित्व
    • धारा - 162 : संदत्त कर को वसूल करने का प्रतिनिधि निर्धारिती का अधिकार
    • धारा - 163 : अभिकर्ता कौन समझे जा सकेंगे
    • धारा - 164 : जहां हिताधिकारियों का अंश अज्ञात हो वहां कर का प्रभारण
    • धारा - 164क : मौखिक न्यास की दशा में कर प्रभारित किया जाना
    • धारा - 165 : ऐसे मामले जिनमें न्यास की आय का भाग प्रभार्य हो
    • धारा - 166 : प्रत्यक्ष निर्धारण या वसूली का वर्जित न होना
    • धारा - 167 : प्रतिनिधि निर्धारितियों की दशा में संपत्ति के विरुद्ध उपचार
    • धारा - 167क : फर्म की दशा में कर का प्रभारण
    • धारा - 167ख : जहां व्यक्ति संगम या व्यष्टि निकाय के सदस्यों के अंश अज्ञात हैं वहां कर प्रभारित किया जाना आदि
    • धारा - 167ग : परिसमापन में सीमित दायित्व भागीदारी के भागीदारों का दायित्व
    • धारा - 168 : निष्पादक
    • धारा - 169 : निष्पादक का संदत्त कर वसूल करने का अधिकार
    • धारा - 170 : मृत्यु पर से अन्यथा कारबार का उत्तराधिकार
    • धारा - 171 : हिन्दू अविभक्त कुटुम्ब का विभाजन के पश्चात् निर्धारण
    • धारा - 172 : अनिवासियों का पोत परिवहन कारबार
    • धारा - 173 : अनिवासी की बाबत कर की उसकी आस्तियों से वसूली
    • धारा - 174 : भारत छोड़ने वाले व्यक्तियों का निर्धारण
    • धारा - 174क : किसी विशिष्ट घटना या प्रयोजन के लिए बनाए गए व्यक्तियों के संगम या व्यष्टियों के निकाय या कृत्रिम विधिक व्यक्ति का निर्धारण
    • धारा - 175 : ऐसे व्यक्तियों का निर्धारण जिनके द्वारा कर से बचने के लिए संपत्ति का अंतरित किया जाना संभाव्य है
    • धारा - 176 : बंद कर दिया गया कारबार
    • धारा - 177 : विघटित संगम या बंद कर दिया गया कारबार
    • धारा - 178 : समापनाधीन कंपनी
    • धारा - 179 : समापनाधीन प्राइवेट कंपनी के निदेशकों का दायित्व
    • धारा - 180 : साहित्यिक या कलात्मक कृति के लिए स्वामिस्व या प्रतिलिप्याधिकार फीसें
    • धारा - 180क : व्यवहार ज्ञान के लिए प्रतिफल
    • धारा - 181 : वित्त अधिनियम, 1988 द्वारा 1.4.1989 से धारा 181 और उपशीर्ष ''ण–राज्य सरकारों का दायित्व'' का लोप किया गया।
  • अध्याय 16 - फर्मों को लागू विशेष उपबंध
    • धारा - 182 : रजिस्ट्रीकृत फर्मों का निर्धारण
    • धारा - 183 : अरजिस्ट्रीकृत फर्मों का निर्धारण
    • धारा - 184 : फर्म के रूप में निर्धारण
    • धारा - 185 : जब धारा 184 का अनुपालन न हो तब निर्धारण
    • धारा - 186 : फर्म के गठन में तब्दीली
    • धारा - 187 : एक फर्म का दूसरी फर्म द्वारा उत्तराधिकार
    • धारा - 188क : फर्म द्वारा देय कर के लिए भागीदारों का संयुक्त और पृथक दायित्व
    • धारा - 189 : विघटित फर्म या बंद किया गया कारबार
    • धारा - 189क : फर्मों के पूर्व निर्धारणों को लागू उपबंध
  • अध्याय 17 - कर संग्रहण और वसूली
    • धारा - 190 : स्रोत पर कटौती और अग्रिम संदाय
    • धारा - 191 : प्रत्यक्ष भुगतान
    • धारा - 192 : वेतन
    • धारा - 192क : किसी कर्मचारी को शोध्य संचयित अतिशेष का संदाय
    • धारा - 193 : प्रतिभूतियों पर ब्याज
    • धारा - 194 : लाभांश
    • धारा - 194झ : किराया
    • धारा - 194क : 'प्रतिभूतियों पर ब्याज'' से भिन्न ब्याज
    • धारा - 194ख : लाटरी या वर्ग पहेली से जीत
    • धारा - 194खख : घुड़दौड़ से जीत
    • धारा - 194ग : ठेकेदारों को संदाय
    • धारा - 194घ : बीमा कमीशन
    • धारा - 194घक : जीवन बीमा पालिसी के संबंध में संदाय
    • धारा - 194ड़ : अनिवासी खिलाड़ियों या खेलकूद संघों (एसोसिएशनों) को संदाय
    • धारा - 194ड़ड़ : राष्ट्रीय बचत स्कीम आदि के अधीन निक्षेपों की बाबत संदाय
    • धारा - 194च : पारस्परिक निधि या भारतीय यूनिट ट्रस्ट द्वारा यूनिटों के पुन: क्रय मद्धे संदाय
    • धारा - 194छ : लाटरी टिकटों के विक्रय पर कमीशन आदि
    • धारा - 194ज : कमीशन या दलाली
    • धारा - 194झक : कृषि भूमि से भिन्न कतिपय स्थावर संपत्ति के अंतरण पर संदाय
    • धारा - 194झख : कतिपय व्यष्टियों या हिन्दू अविभक्त कुटुंब द्वारा किराए का संदाय
    • धारा - 194झग : विनिर्दिष्ट करार के अधीन संदाय
    • धारा - 194ञ : वृत्तिक या तकनीकी सेवाओं के लिए फीस
    • धारा - 194ट : यूनिटों की बाबत आय
    • धारा - 194ठ : पूंजी आस्ति के अर्जन पर प्रतिकर का संदाय
    • धारा - 194ठक : कतिपय स्थावर संपत्ति के अर्जन पर प्रतिकर का संदाय
    • धारा - 194ठख : अवसंरचना ऋण निधि के ब्याज के रूप में आय
    • धारा - 194ठखक : किसी कारबार न्यास की यूनिटों से कतिपय आय
    • धारा - 194ठखख : विनिधान निधि की यूनिटों के संबंध में आय
    • धारा - 194ठखक : प्रतिभूतिकरण न्यास में विनिधान के संबंध में आय
    • धारा - 194ठग : कतिपय कारबार में लगी हुर्इ भारतीय कंपनी से ब्याज के रूप में आय
    • धारा - 194ठघ : कतिपय बंधपत्रों और सरकारी प्रतिभूतियों पर ब्याज के रूप में आय
    • धारा - 195 : अन्य राशियां
    • धारा - 195क : आय, जिस पर "शुद्ध कर" संदेय है
    • धारा - 196 : सरकार, रिजर्व बैंक या कुछ निगमों को संदेय ब्याज या लाभांश या अन्य राशियां
    • धारा - 196क : अनिवासियों के यूनिटों की बाबत आय
    • धारा - 196ख : यूनिटों से आय
    • धारा - 196ग : भारतीय कंपनी के विदेशी मुद्रा में बंधपत्रों या शेयरो से आय
    • धारा - 196घ : प्रतिभूतियों से विदेशी संस्थागत विनिधानकर्ताओं की आय
    • धारा - 197 : निम्नतर दर पर कटौती के लिए प्रमाणपत्र
    • धारा - 197क : कुछ दशाओं में कटौती का न किया जाना
    • धारा - 198 : कटौती किया गया कर प्राप्त हुर्इ आय है
    • धारा - 199 : कटौती किए गए कर की बाबत मुजरा
    • धारा - 200 : कर की कटौती करने वाले व्यक्ति का कर्त्तव्य
    • धारा - 200क : स्रोत पर काटे गए कर के विवरण की प्रक्रिया
    • धारा - 201 : कटौती करने की या संदाय करने में असफल रहने के परिणाम
    • धारा - 202 : वसूल करने के ढंगों में कटौती का केवल एक ढंग होना
    • धारा - 203 : कटौती किए गए कर के लिए प्रमाणपत्र
    • धारा - 203क : कर कटौती और संग्रहण लेखा संख्यांक
    • धारा - 203कक : कटौती किए गए कर, आदि का विवरण दिया जाना
    • धारा - 204 : 'संदाय करने के लिए उत्तरदायी'' व्यक्ति का अर्थ
    • धारा - 205 : निर्धारिती पर प्रत्यक्ष मांग का वर्जन
    • धारा - 206 : कर की कटौती करने वाले व्यक्तियों द्वारा विहित विवरणी का दिया जाना
    • धारा - 206क : निवासियों को कर की कटौती के बिना ब्याज के संदाय की बाबत तिमाही विवरणी का दिया जाना
    • धारा - 206कक : स्थायी खाता संख्यांक देने की अपेक्षा
    • धारा - 206ख : कर की कटौती किए बिना कुछ निवासियों को लाभांश का संदाय करने वाले व्यक्ति द्वारा विहित विवरणी का दिया जाना
    • धारा - 206ग : एल्कोहाली लिकर, वनोत्पाद, स्क्रैप आदि में व्यापार के कारबार से लाभ और अभिलाभ
    • धारा - 206गक : कर-संग्रहण खाता संख्यांक
    • धारा - 206गख : स्रोत पर संगृहीत कर के विवरणों का तैयार किया जाना
    • धारा - 206गग : उस व्यक्ति द्वारा, जिससे संग्रह किया गया है, स्थायी खाता संख्यांक दिए जाने की अपेक्षा
    • धारा - 207 : अग्रिम कर का संदाय करने का दायित्व
    • धारा - 208 : अग्रिम कर का संदाय करने के दायित्व की शर्तें
    • धारा - 209 : अग्रिम कर की संगणना
    • धारा - 209क : निर्धारिती द्वारा अग्रिम कर की संगणना तथा संदाय
    • धारा - 210 : निर्धारिती द्वारा स्वप्रेरणा से या निर्धारण अधिकारी के आदेश के अनुसरण में अग्रिम कर का संदाय
    • धारा - 211 : अग्रिम कर की किस्तें और नियत तारीखें
    • धारा - 212 : निर्धारिती द्वारा प्राक्कलन
    • धारा - 213 : कमीशन प्राप्तियां
    • धारा - 214 : सरकार द्वारा संदेय ब्याज
    • धारा - 215 : निर्धारिती द्वारा संदेय ब्याज
    • धारा - 216 : अव-प्राक्कलन आदि की दशा में निर्धारिती द्वारा संदेय ब्याज
    • धारा - 217 : निर्धारिती द्वारा उस दशा में संदेय ब्याज जिसमें कोर्इ प्राक्कलन नहीं किया गया है
    • धारा - 218 : निर्धारिती कब व्यतिक्रमी समझा जाएगा
    • धारा - 219 : अग्रिम कर के लिए मुजरा
    • धारा - 220 : कर कब देय होगा और निर्धारिती कब व्यतिक्रमी समझा जाएगा
    • धारा - 221 : कर में व्यतिक्रम होने पर देय शास्ति
    • धारा - 222 : कर वसूली अधिकारी द्वारा प्रमाणपत्र
    • धारा - 223 : कर वसूली अधिकारी जिसके द्वारा वसूली की जानी है
    • धारा - 224 : प्रमाणपत्र की विधिमान्यता और उसका रद्द किया जाना या उसका संशोधन
    • धारा - 225 : प्रमाणपत्र के अनुसरण में कार्यवाहियों का रोका जाना और उसका संशोधन या रद्द किया जाना
    • धारा - 226 : वसूली के अन्य ढंग
    • धारा - 227 : राज्य सरकार की मार्फत वसूली
    • धारा - 228 : पाकिस्तान में भारतीय कर और भारत में पाकिस्तानी कर की वसूली
    • धारा - 228क : विदेशों से करार के अनुसरण में कर की वसूली
    • धारा - 229 : शास्तियों, जुर्माने, ब्याज तथा अन्य राशियों की वसूली
    • धारा - 230 : कर-समाशोधन प्रमाणपत्र
    • धारा - 230क : कतिपय दशाओं में अचल संपत्ति के अंतरण के रजिस्ट्रीकरण पर निर्बंधन
    • धारा - 231 : वसूली कार्यवाहियां प्रारंभ करने के लिए अवधि
    • धारा - 232 : वाद के द्वारा या अन्य विधि के अंतर्गत वसूली का प्रभावित न होना
    • धारा - 233 : अनंतिम निर्धारण के अधीन संदेय कर की वसूली
    • धारा - 234 : कटौती या अग्रिम संदाय द्वारा संदत कर
    • धारा - 234क : आय की विवरणी देने में व्यतिक्रम के लिए ब्याज
    • धारा - 234ख : अग्रिम कर के भुगतान में व्यतिक्रम के लिए ब्याज
    • धारा - 234ग : अग्रिम कर के आस्थगन के लिए ब्याज
    • धारा - 234घ : अधिक प्रतिदाय पर ब्याज
    • धारा - 234ड़ : विवरण प्रस्तुत करने में व्यतिक्रमों के लिए फीस
    • धारा - 234च : आय की विवरणी देने में व्यतिक्रम के लिए फीस
  • अध्याय 18 - कुछ दशाओं में लाभांशों पर कर विषयक राहत
    • धारा - 235 : लाभांशों के मद्दे मानी जाने वाली कृषि आय के कर बाबत शेयरधारकों को राहत
    • धारा - 236 : पहले कर लगे लाभों में से अदा लाभांश की बाबत कंपनी को राहत
    • धारा - 236क : कुछ लाभांशों की बाबत कुछ पूर्त संस्थाओं या निधियों को राहत
  • अध्याय 19 - प्रतिदाय (रिफंड)
    • धारा - 237 : प्रतिदाय
    • धारा - 238 : कुछ विशेष दशाओं में प्रतिदाय का दावा करने के लिए हकदार व्यक्ति
    • धारा - 239 : प्रतिदाय के दावे का प्ररूप और परिसीमा
    • धारा - 240 : अपील आदि पर प्रतिदाय
    • धारा - 241 : कुछ दशाओं में प्रतिदाय को रोक रखने की शक्ति
    • धारा - 241क : कतिपय मामलों में प्रतिदाय को रोके रखना।
    • धारा - 242 : निर्धारण के सही होने को प्रश्नगत न किया जाना
    • धारा - 243 : विलंबित प्रतिदायों पर ब्याज
    • धारा - 244 : जहां किसी दावे का किया जाना आवश्यक नहीं है, वहां प्रतिदाय पर ब्याज
    • धारा - 244क : प्रतिदायों पर ब्याज
    • धारा - 245 : ऐसे कर के प्रति, जो संदेय है, प्रतिदायों का मुजरा
  • अध्याय 19क - मामलों का समझौता
    • धारा - 245क : परिभाषाएं
    • धारा - 245ख : आय-कर समझौता आयोग
    • धारा - 245खक : समझौता आयोग की अधिकारिता और शक्तियां
    • धारा - 245खख : कुछ परिस्थितियों में उपाध्यक्ष का अध्यक्ष के रूप में कार्य करना या उसके कृत्यों का निर्वहन करना
    • धारा - 245खग : एक न्यायपीठ से दूसरे न्यायपीठ को मामले अन्तरित करने की अध्यक्ष की शक्ति
    • धारा - 245खघ : बहुमत द्वारा विनिश्चय का किया जाना
    • धारा - 245ग : मामलों के समझौते के लिए आवेदन
    • धारा - 245घ : धारा 245ग के अधीन आवेदन की प्राप्ति पर प्रक्रिया
    • धारा - 245घघ : राजस्व संरक्षण के लिए अनन्तिम कुर्की का आदेश करने की समझौता आयोग की शक्ति
    • धारा - 245ड़ : पूरी की गर्इ कार्यवाहियों को पुन: आरम्भ करने की समझौता आयोग की शक्ति
    • धारा - 245च : समझौता आयोग की शक्तियां और प्रक्रिया
    • धारा - 245छ : रिपोर्टों का निरीक्षण आदि
    • धारा - 245ज : अभियोजन और शास्ति से उन्मुक्ति देने की समझौता आयोग की शक्ति
    • धारा - 245जक : समझौता आयोग के समक्ष कार्यवाही का उपशमन
    • धारा - 245जकक : कार्यवाहियों के उपशमन की दशा में संदत्त कर के लिए प्रत्यय
    • धारा - 245झ : समझौता आदेश का निश्चायक होना
    • धारा - 245ञ : समझौता आदेश के अधीन शोध्य राशि की वसूली
    • धारा - 245ट : समझौते के लिए पश्चात्वर्ती आवेदन का वर्जन
    • धारा - 245ठ : समझौता आयोग के समक्ष कार्यवाहियों का न्यायिक कार्यवाहियां होना
    • धारा - 245ड : कुछ व्यक्तियों का जिन्होंने अपील अधिकरण में अपील की है, समझौता आयोग के पास आवेदन करने का हकदार होना
  • अध्याय 19ख - अग्रिम विनिर्णय (एडवांस रूलिंग्स)
    • धारा - 245ढ : परिभाषाएं
    • धारा - 245ण : अग्रिम विनिर्णय प्राधिकरण
    • धारा - 245त : रिक्तियों आदि से कार्यवाहियों का अविधिमान्य न होना
    • धारा - 245थ : अग्रिम विनिर्णय के लिए आवेदन
    • धारा - 245द : आवेदन की प्राप्ति पर प्रक्रिया
    • धारा - 245दद : कुछ मामलों में अपील प्राधिकरण का कार्यवाही न करना
    • धारा - 245ध : अग्रिम विनिर्णय का लागू होना
    • धारा - 245न : कुछ परिस्थितियों में अग्रिम विनिर्णय का शून्य होना
    • धारा - 245प : प्राधिकरण की शक्तियां
    • धारा - 245फ : प्राधिकरण की प्रक्रिया
  • अध्याय 20 - अपीलें और पुनरीक्षण
    • धारा - 246 : अपीलीय आदेश
    • धारा - 246क : आयुक्त (अपील) के समक्ष अपीलीय आदेश
    • धारा - 247 : भागीदार द्वारा अपील
    • धारा - 248 : कतिपय मामलों में कर की कटौती करने के दायित्व से इन्कार करने वाले व्यक्ति द्वारा अपील
    • धारा - 249 : अपील का प्ररूप और परिसीमा
    • धारा - 250 : अपील में प्रक्रिया
    • धारा - 251 : [* * *] आयुक्त (अपील) की शक्तियां
    • धारा - 252 : अपील अधिकरण
    • धारा - 252क : अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदस्यों की अर्हता और सेवा के अन्य निबंधन तथा शर्तें
    • धारा - 253 : अपील अधिकरण को अपीलें
    • धारा - 254 : अपील अधिकरण के आदेश
    • धारा - 255 : अपील अधिकरण की प्रक्रिया
    • धारा - 256 : उच्च न्यायालय को मामलों का कथन
    • धारा - 257 : कुछ दशाओं में उच्चतम न्यायालय को मामलों का कथन
    • धारा - 258 : उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय को कथन का संशोधन करने की अपेक्षा करने की शक्ति
    • धारा - 259 : उच्च न्यायालय के समक्ष मामला दो से कम न्यायाधीशों द्वारा न सुना जाना
    • धारा - 260 : कथित मामले पर उच्च न्यायालय या उच्चतम न्यायालय का विनिश्चय
    • धारा - 260क : उच्च न्यायालय में अपील
    • धारा - 260ख : उच्च न्यायालय के समक्ष मामला दो से कम न्यायाधीशों द्वारा न सुना जाना
    • धारा - 261 : उच्चतम न्यायालय में अपील
    • धारा - 262 : उच्चतम न्यायालय के समक्ष सुनवार्इ
    • धारा - 263 : राजस्व पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले आदेशों का पुनरीक्षण
    • धारा - 264 : अन्य आदेशों का पुनरीक्षण
    • धारा - 265 : निर्देश आदि के होते हुए भी कर दिया जाना
    • धारा - 266 : उच्चतम न्यायालय द्वारा दिलवाए गए खर्चों का निष्पादन
    • धारा - 267 : अपील पर निर्धारण का संशोधन
    • धारा - 268 : प्रतिलिपि लेने में लगे समय का अपवर्जन
    • धारा - 268क : आय-कर प्राधिकारी द्वारा अपील या निर्देश के लिए आवेदन का फाइल किया जाना
    • धारा - 269 : 'उच्च न्यायालय'' की परिभाषा
  • अध्याय 20क - कर अपवंचन रोकने के लिए अंतरण की कुछ दशाओं में स्थावर सम्पत्ति का अर्जन
    • धारा - 269क : परिभाषाएं
    • धारा - 269कख : कुछ संव्यवहारों का रजिस्ट्रीकरण
    • धारा - 269ख : सक्षम प्राधिकारी
    • धारा - 269ग : स्थावर सम्पत्ति जिसकी बाबत अर्जन की कार्यवाहियां की जा सकती हैं
    • धारा - 269घ : प्रारम्भिक सूचना
    • धारा - 269ड़ : आक्षेप (आपत्तियां)
    • धारा - 269च : आक्षेपों की सुनवार्इ
    • धारा - 269छ : अर्जन के आदेश के विरुद्ध अपील
    • धारा - 269ज : उच्च न्यायालय में अपील
    • धारा - 269झ : केन्द्रीय सरकार में संपत्ति का निहित होना
    • धारा - 269ञ : प्रतिकर
    • धारा - 269ट : प्रतिकर का संदाय या निक्षेप
    • धारा - 269ठ : मूल्यांकन अधिकारियों द्वारा सहायता
    • धारा - 269ड : सक्षम प्राधिकारी की शक्तियां
    • धारा - 269ढ : भूल सुधार
    • धारा - 269ण : प्राधिकृत प्रतिनिधि या रजिस्ट्रीकृत मूल्यांकक द्वारा हाजिरी
    • धारा - 269त : स्थावर सम्पत्ति के अन्तरणों की बाबत विवरण दिया जाना
    • धारा - 269थ : अध्याय का नातेदारों को किए जाने वाले अन्तरणों को लागू न होना
    • धारा - 269द : इस अध्याय के अधीन अर्जन की दायित्वाधीन संपत्तियों का अन्य विधियों के अधीन अर्जन न किया जाना
    • धारा - 269दद : किसी निश्चित तारीख के पश्चात् किए गए स्थावर संपत्ति के अंतरण को इस अध्याय का लागू न होना
    • धारा - 269ध : अध्याय का विस्तार जम्मू-कश्मीर राज्य पर न होना
    • धारा - 269धन : संव्यवहार करने का ढंग
  • अध्याय 20ख - कर अपवंचन को रोकने के लिए कुछ दशाओं में स्वीकृति, संदाय या प्रतिसंदाय के ढंग के बारे में अपेक्षा
    • धारा - 269धध : कुछ उधार, निक्षेप या विनिर्दिष्ट राशियां लेने या प्रतिगृहीत करने का ढंग
    • धारा - 269न : कुछ उधारों और निक्षेपो के प्रतिसंदाय का ढंग
    • धारा - 269नन : विशेषवाहक बंधपत्र, 1991 के प्रतिसंदाय का ढंग
  • अध्याय 20ग - अंतरण के कुछ मामलों में स्थावर संपत्ति का केन्द्रीय सरकार द्वारा क्रय
    • धारा - 269प : अध्याय का प्रारम्भ
    • धारा - 269पक : परिभाषाएं
    • धारा - 269पख : समुचित प्राधिकरण
    • धारा - 269पग : स्थावर संपत्ति के अंतरण पर निर्बन्धन
    • धारा - 269पघ : केन्द्रीय सरकार द्वारा स्थावर संपत्ति के खरीदे जाने के लिए समुचित प्राधिकरण द्वारा आदेश
    • धारा - 269पड़ : केन्द्रीय सरकार में संपत्ति का निहित होना
    • धारा - 269पच : केन्द्रीय सरकार द्वारा स्थावर संपत्ति के क्रय के लिए प्रतिफल
    • धारा - 269पछ : प्रतिफल का संदाय या निक्षेप
    • धारा - 269पज : प्रतिफल के न देने या जमा न करने पर संपत्ति का अंतरण में पुन: निहित होना
    • धारा - 269पझ : समुचित प्राधिकरण की शक्तियां
    • धारा - 269पञ : भूल सुधार
    • धारा - 269पट : स्थावर संपत्ति के अंतरण संबंधी कुछ करारों के प्रतिसंहरण या परिवर्तन पर अथवा कुछ स्थावर सम्पत्ति के अंतरण पर निर्बन्धन
    • धारा - 269पठ : स्थावर संपत्ति के अंतरण की बाबत दस्तावेजों के रजिस्ट्रीकरण आदि पर निर्बन्धन
    • धारा - 269पड : अंतरिती के अंतरण के दावे से अन्तरक को उन्मुक्ति
    • धारा - 269पढ : समुचित प्राधिकरण के आदेश का अंतिम और निश्चायक होना
    • धारा - 269पण : कुछ अंतरणों को अध्याय का लागू न होना
    • धारा - 269पत : अध्याय का वहां लागू न होना जहां स्थावर संपत्ति का अंतरण निश्चित तारीख के पश्चात् होता है।
  • अध्याय 21 - अधिरोपणीय शास्तियां
    • धारा - 270 : प्रतिभूतियों आदि के बारे में जानकारी देने में असफलता
    • धारा - 270क : आय की कम रिपोर्ट करने और मिथ्या रिपोर्ट करने के लिए शास्ति
    • धारा - 270कक : शास्ति आदि के अधिरोपण से उन्मुक्ति
    • धारा - 271 : विवरणियां न देना, सूचनाओं का पालन न करना, आय छिपाना, आदि
    • धारा - 271-झ : धारा 195 के अधीन जानकारी देने में असफलता या गलत सूचना देने के लिए शास्ति
    • धारा - 271क : लेखा बहियां, दस्तावेज आदि रखने, बनाए रखने या रखे रखने में असफलता
    • धारा - 271कक : कतिपय संव्यवहारों की बाबत जानकारी और दस्तावेज रखने और बनाए रखने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 271ककक : जहां तलाशी आरंभ की गर्इ वहां शास्ति
    • धारा - 271ककख : जहां तलाशी आरंभ की गर्इ है, वहां शास्ति
    • धारा - 271ख : लेखाओं की संपरीक्षा कराने में असफलता
    • धारा - 271खक : धारा 92ड़ के अधीन रिपोर्ट देने में असफल रहने पर शास्ति
    • धारा - 271खख : उपयुक्त पूंजी पुरोधरण में अभिदाय करने में असफलता
    • धारा - 271ग : स्रोत पर कर की कटौती करने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271गक : स्रोत पर कर का संग्रहण करने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 271घ : धारा 269धध के उपबंधों के पालन में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271घक : धारा 269घन के उपबंधों का अनुपालन करने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271ड़ : धारा 269न के उपबंधों के पालन में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271च : आय की विवरणी न देने के लिए शास्ति
    • धारा - 271चक : वित्तीय संव्यवहार या रिपोर्ट योग्य खाते का विवरण देने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271चकक : वित्तीय संव्यवहार या रिपोर्ट योग्य खाते का गलत विवरण प्रस्तुत करने के लिए शास्ति
    • धारा - 271चकख : किसी पात्र विनिधान निधि द्वारा विवरण या सूचना या दस्तावेज देने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 271चख : अनुषंगी फायदों की विवरणी देने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271छ : धारा 92घ के अधीन जानकारी या दस्तावेज देने में असफल रहने पर शास्ति
    • धारा - 271छक : धारा 285क के अधीन सूचना या दस्तावेज देने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 271छख : धारा 286 के अधीन रिपोर्ट देने में असफलता या अयथार्थ रिपोर्ट देने के लिए शास्ति
    • धारा - 271ज : विवरण, आदि प्रस्तुत करने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 272 : बंद करने की सूचना देने में असफलता
    • धारा - 272क : प्रश्नों का उत्तर देने, कथन पर हस्ताक्षर करने, जानकारी, विवरणियां या कथन देने, निरीक्षण की अनुज्ञा देने आदि में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 272कक : धारा 133ख के उपबंधों के पालन में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 272ख : धारा 139क के उपबंधों का पालन करने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 272खख : धारा 203क के उपबंधों के पालन करने में असफलता के लिए शास्ति
    • धारा - 272खखख : धारा 206गक के उपबंधों का पालन करने में असफल रहने के लिए शास्ति
    • धारा - 273 : अग्रिम कर का मिथ्या प्राक्कलन या उसके संदाय में असफलता
    • धारा - 273क : कुछ दशाओं में शास्ति आदि घटाने या अधित्यजन (वेव) करने की शक्ति
    • धारा - 273कक : शास्ति से उन्मुक्ति प्रदान किए जाने की प्रधान आयुक्त या आयुक्त की शक्ति
    • धारा - 273ख : कुछ दशाओं में शास्ति अधिरोपित न किया जाना
    • धारा - 274 : प्रक्रिया
    • धारा - 275 : शास्ति अधिरोपित करने के लिए परिसीमा का वर्जन
  • अध्याय 22 - अपराध और अभियोजन
    • धारा - 275क : धारा 132 की उपधारा (3) के अधीन किए गए आदेश का उल्लंघन
    • धारा - 275ख : धारा 132 की उपधारा (1) के खंड (iiख) के उपबंधों का पालन करने में असफल रहना
    • धारा - 276 : कर वसूली को विफल करने के लिए सम्पत्ति को हटाना, छिपाना या उसका अंतरण या परिदान
    • धारा - 276क : धारा 178 की उपधारा (1) और (3) के उपबंधों के अनुपालन में असफलता
    • धारा - 276कक : धारा 269कख या धारा 269झ के उपबंधों के अनुपालन में असफलता
    • धारा - 276कख : धारा 276पग, धारा 276पड़ और धारा 276पठ के उपबंधों के अनुपालन में असफलता
    • धारा - 276ख : अध्याय 12घ या 17ख के अधीन केन्द्रीय सरकार के जमा खाते कर संदाय करने में असफलता
    • धारा - 276खख : स्रोत पर संगृहीत कर देने में असफलता
    • धारा - 276ग : जानबूझकर कर आदि का अपवंचन करने का प्रयास
    • धारा - 276गग : आय की विवरणी देने में असफल रहना
    • धारा - 276गगग : तलाशी के मामलों में आय की विवरणी देने में असफलता
    • धारा - 276घ : लेखा और दस्तावेजें पेश करने में असफलता
    • धारा - 276घघ : धारा 269धध के उपबंधों के अनुपालन में असफलता
    • धारा - 276ड़ : धारा 269न के उपबंधों के अनुपालन में असफलता
    • धारा - 277 : सत्यापन आदि में मिथ्या कथन
    • धारा - 277क : लेखा बहियों या दस्तावेजों आदि का मिथ्याकरण
    • धारा - 278 : मिथ्या विवरणी आदि का दुष्प्रेरण
    • धारा - 278क : दूसरे और बाद के अपराधों के लिए दण्ड
    • धारा - 278कक : कुछ दशाओं में दंड अधिरोपित न किया जाना
    • धारा - 278कख : अभियोजन से उन्मुक्ति प्रदान किए जाने की प्रधान आयुक्त या आयुक्त की शक्ति
    • धारा - 278ख : कंपनियों द्वारा अपराध
    • धारा - 278ग : हिन्दू अविभक्त कुटुम्ब द्वारा अपराध
    • धारा - 278घ : कुछ मामलों में आस्तियों, लेखा बहियों, आदि के बारे में उपधारणा
    • धारा - 278ड़ : आपराधिक मन:स्थिति के बारे में उपधारणा
    • धारा - 279 : अभियोजन का प्रधान मुख्य आयुक्त या मुख्य आयुक्त या प्रधान आयुक्त या आयुक्त की प्रेरणा से होना
    • धारा - 279क : कुछ अपराधों का असंज्ञेय होना
    • धारा - 279ख : अभिलेखों या दस्तावेजों में प्रविष्टियों का सबूत
    • धारा - 280 : लोक सेवकों द्वारा विशिष्टियों का प्रकटन
    • धारा - 280क : विशेष न्यायालय
    • धारा - 280ख : विशेष न्यायालय द्वारा विचारणीय अपराध
    • धारा - 280ग : अपराधों का समन मामले के रूप में विचारण
    • धारा - 280घ : दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 का विशेष न्यायालय के समक्ष की कार्यवाहियों को लागू होना
  • अध्याय 22ख - कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
    • धारा - 280म : परिभाषाएं
    • धारा - 280य : कुछ साधारण शेयरधारकों को कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
    • धारा - 280यक : औद्योगिक उपक्रम को शहरी क्षेत्र से स्थानांतरित करने के लिए कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
    • धारा - 280यख : कुछ दशाओं में कुछ विनिर्माण करने वाली कंपनियों को कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
    • धारा - 280यग : निर्यातों के बारे में कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
    • धारा - 280यघ : कुछ मामलों के वर्धित उत्पादन के संबंध में कर क्रेडिट प्रमाणपत्र
  • अध्याय 23 - प्रकीर्ण
    • धारा - 281 : कुछ अन्तरणों का शून्य होना
    • धारा - 281क : बेनामी धारित सम्पत्तियों के संबंध में जानकारी देने में असफल रहने का प्रभाव
    • धारा - 281ख :
    • धारा - 282 : साधारणतया सूचना की तामील
    • धारा - 282क : सूचनाओं और अन्य दस्तावेजों का अधिप्रमाणीकरण
    • धारा - 282ख : दस्तावेज पहचान संख्यांक का आबंटन
    • धारा - 283 : सूचना की तामील जब कुटुम्ब विभाजित हो गया है या फर्म, आदि, विघटित हो गर्इ है
    • धारा - 284 : बंद किए गए कारबार की दशा में सूचना की तामील
    • धारा - 285 : ऐसे अनिवासी द्वारा, जिसका संपर्क कार्यालय है, विवरण प्रस्तुत किया जाना
    • धारा - 285क : कतिपय मामलों में भारतीय समुत्थान द्वारा सूचना या दस्तावेजों का प्रस्तुत किया जाना
    • धारा - 285ख : चलचित्र फिल्मों के निर्माताओं द्वारा विवरणियों का दिया जाना
    • धारा - 285खक : वित्तीय संव्यवहार या रिपोर्ट योग्य खाते का विवरण प्रस्तुत करने के लिए बाध्यता
    • धारा - 286 : अंतरराष्ट्रीय समूह के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत करना
    • धारा - 287 : कुछ दशाओं में निर्धारितियों संबंधी जानकारी का प्रकाशन
    • धारा - 287क : कुछ मामलों में रजिस्ट्रीकृत मूल्यांकक द्वारा उपस्थिति
    • धारा - 288 : प्राधिकृत प्रतिनिधि द्वारा उपस्थिति
    • धारा - 288क : आय का पूर्णांकन
    • धारा - 288ख : संदेय रकम और शोध्य प्रतिदाय का पूर्णांकित किया जाना
    • धारा - 289 : रसीद का दिया जाना
    • धारा - 290 : परित्राण (इन्डेमनिटी)
    • धारा - 291 : अभियोजन से उन्मुक्ति देने की शक्ति
    • धारा - 292 : अपराधों का संज्ञान
    • धारा - 292क : दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 360 का और अपराधी परिवीक्षा अधिनियम, 1958 का लागू न होना
    • धारा - 292ख : कुछ आधारों पर आय की विवरणी, आदि का अविधिमान्य न होना
    • धारा - 292खख : कतिपय परिस्थितियों में सूचना का विधिमान्य समझा जाना
    • धारा - 292ग : आस्तियों, लेखाबहियों आदि के बारे में उपधारणा
    • धारा - 292गग : तलाशी या अध्यपेक्षा की दशा में प्राधिकार और निर्धारण
    • धारा - 293 : सिविल न्यायालयों में वादों का वर्जन
    • धारा - 293क : खनिज तेलों के पूर्वेक्षण, निष्कर्षण आदि के कारबार में भाग लेने के संबंध में छूट आदि देने की शक्ति
    • धारा - 293ख : अनुमोदन प्राप्त करने में विलम्ब के लिए माफी देने की केन्द्रीय सरकार या बोर्ड की शक्ति
    • धारा - 293ग : अनुमोदन वापस लेने की शक्ति
    • धारा - 294 : कर के प्रभार के लिए विधायी उपबंध के लम्बित रहने तक अधिनियम का प्रभावी रहना
    • धारा - 294क : कुछ संघ राज्यक्षेत्रों के संबंध में छूट आदि देने की शक्ति
    • धारा - 295 : नियम बनाने की शक्ति
    • धारा - 296 : नियमों और कुछ अधिसूचनाओं का संसद के समक्ष रखा जाना
    • धारा - 297 : निरसन और व्यावृत्तियां
    • धारा - 298 : कठिनाइयों को दूर करने की शक्ति


Share: