प्रयागराज, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक में कुंभ




प्रयागराज में कुम्भ
प्रयाग की महत्ता वेदों और पुराणों में सविस्तार बतायी गयी है। एक बार शेषनाग से ऋषियों ने भी यही प्रश्न किया था कि प्रयाग को तीर्थराज क्यों कहा जाता है, जिस पर शेषनाग ने उत्तर दिया कि एक ऐसा अवसर आया कि सभी तीर्थों की श्रेष्ठता की तुलना की जाने लगी। उस समय भारत में समस्त तीर्थों को तुला के एक पलड़े पर रखा गया और प्रयाग को एक पलड़े पर, फिर भी प्रयाग का पलड़ा भारी पड़ गया। दूसरी बार सप्तपुरियों को एक पलड़े में रखा गया और प्रयाग को दूसरे पलड़े पर, वहाँ भी प्रयाग वाला पलड़ा भारी रहा। इस प्रकार प्रयाग की प्रधानता सिद्ध हुई और इसे तीर्थों का राजा कहा जाने लगा। इस पावन क्षेत्र में दान, पुण्य, तपकर्म, यज्ञादि के साथ साथ त्रिवेणी संगम का अतीव महत्व है। यह सम्पूर्ण विश्व का एक मात्र स्थान है, जहाँ पर तीन-तीन नदियाँ, अर्थात् गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती मिलती हैं और यहीं से अन्य नदियों का अस्तित्व समाप्त हो कर आगे एक मात्र नदी गंगा का महत्व शेष रहा जाता है। इस भूमि पर स्वयं ब्रह्मा जी ने यज्ञादि कार्य सम्पन्न किये। ऋषियों और देवताओं ने त्रिवेणी संगम कर अपने आपको धन्य समझा। मत्स्य पुराण के अनुसार धर्म राज युधिष्ठिर ने एक बार मार्कण्डेय जी से पूछा, ऋषिवर यह बतायें कि प्रयाग क्यों जाना चाहिए और वहां संगम स्नान का क्या फल है इस पर महर्षि मार्कण्डेय ने उन्हें बताया कि प्रयाग के प्रतिष्ठान से लेकर वासुकि के हृदयोपरि पर्यन्त कम्बल और अश्वतर दो भाग हैं और बहुमूलक नाग हैं। यही प्रजापति का क्षेत्र है, जो तीनों लोकों में विख्यात है। यहाँ पर स्नान करने वाले दिव्य लोक को प्राप्त करते हैं, और उनका पुनर्जन्म नहीं होता है। पद्मपुराण कहता है कि यह यज्ञ भूमि है देवताओं द्वारा सम्मानित इस भूमि में यदि थोड़ा भी दान किया जाता है तो उसका फल अनंत काल तक रहता है। माघी अमावस्या को मकर में सूर्य, चन्द्र और बृहस्पति मेष राशि में हो, तभी यह कुम्भ योग पड़ता है -
मेषराशि गते जीवे मकरे चन्द्र-भास्कर ।
अमावस्या तदा योग कुंभख्यस्तीर्थ नायके ।।
अथर्व वेद के अनुसार मनुष्य को सर्व सुख देने वाला कुम्भ प्रदान किया गया था। कुम्भ स्नान पर्व का भी अपना महत्व और मुहूर्त होता है। संक्रान्ति के पूर्व और बाद की सोलह घड़ियों में पुण्यकाल माना गया है। मुहूर्त तिथि आधी रात से पहले हो तो पहले दिन तीसरे प्रहर में पुण्य काल बताया गया है और यदि मुहूर्त तिथि यदि आधी रात के बाद हो तो पुण्य काल प्रातःकाल माना जाता है। इसके अलावा मकर संक्रान्ति का पुण्य काल चालीस घड़ी, कर्क संक्रान्ति का पुण्य काल तीस घड़ी और तुला और मेष का संक्रान्ति का पुण्य काल बीस-बीस घड़ी पहले और बाद में बताया गया है।

हरिद्वार में कुंभ
हरिद्वार उत्तराखण्ड राज्य में स्थित है। यह एक पुराण प्रसिद्ध स्थान है जहां माँ गंगा हिमालय की विशाल श्रेणियों को भेदती हुई मैदानी क्षेत्र में प्रवेश करती हैं। यहां हर की पैड़ी पर गंगा प्रवाह का अद्भुत दृश्य देखने को मिलता है।
कुंभ राशि गते जीवे तथा मेषे गते रवौ। हरिद्वार कृतं स्नानं पुनरावृत्तिवर्जनम् ।
तात्पर्य यह है कि कुंभ राशि का बृहस्पति हो और मेष राशि में सूर्य-संक्रांति हो, तब हरिद्वार में कुम्भ होता है। यहां पर यह स्थिति मेष - संक्रांति के समय अर्थात्-चैत्र या वैशाख मास में होती है।

उज्जैन में कुंभ
मेष राशि गते सूर्ये सिंह राशि बृहस्पति । पौर्णिमा या भवेत् कुंभ उज्जयिन्यां सुखप्रदः । अर्थात मेष राशि जब सूर्य हो और सिंह राशि में बृहस्पति हो तब उज्जैन में कुंभ-योग पड़ता है। यहां यह स्थिति बैशाख मास की पूर्णिमा को होती है। उज्जैन मध्य प्रदेश राज्य में क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित है जहां महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग विराजमान है।
नासिक में कुंभ
सिंह राशि गते सूर्ये सिंह चंद्र-बृहस्पतौ गोदावर्यां भवेत्कुंभो भुक्ति–मुक्ति प्रदा कः।। अर्थात जब सूर्य, चन्द्रमा और बृहस्पति तीनों सिंह राशि में हों, तब गोदावरी तट नासिक में कुंभ योग होता है। भाद्रपद भादो) मास की अमावस्या को स्थिति आती है। नासिक महाराष्ट्र राज्य में गोदावरी नदी के तट पर बसा है।


Share:

कोई टिप्पणी नहीं: