100+ Best Motivational Thoughts in Hindi – सर्वश्रेष्ठ अनमोल वचन



100+ Best Motivational Thoughts in Hindi
  1. अगर आप किसी काम के बारे में बहुत सोचते हो, तो आप वो काम नहीं कर पाओगे। – ब्रूस ली
  2. अगर सफलता का कोई रहस्य है, तो वो इस योग्यता में निहित है कि दूसरे व्यक्ति की बात को समझना और चीजों को उसके और अपने नजरिए से देख पाना। – हेनरी फोर्ड
  3. अगर हम हल का हिस्सा नहीं है, तो हम समस्या है। – शिव खेड़ा
  4. अधिक अनुभव, अधिक सहनशीलता और अधिक अध्ययन यही विद्वत्ता के तीन महास्तंभ हैं।- अज्ञात
  5. अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आती है।-जयशंकर प्रसाद
  6. अध्यापक राष्ट्र की संस्कृति के चतुर माली होते हैं। वे संस्कारों की जड़ों में खाद देते हैं और अपने श्रम से उन्हें सींच-सींच कर महाप्राण शक्तियाँ बनाते हैं।- महर्षि अरविंद
  7. अनुभव, ज्ञान उन्मेष और वयस् मनुष्य के विचारों को बदलते हैं।- हरिऔध
  8. अनुराग, यौवन, रूप या धन से उत्पन्न नहीं होता। अनुराग, अनुराग से उत्पन्न होता है।- प्रेमचंद
  9. अपना जीवन जीने के दो तरीके है, एक मायने के कुछ भी चमत्कार नहीं है, दूसरे मायने के सब कुछ चमत्कार है। – अब्राहम लिंकन
  10. अपने ज्ञान के प्रति जरूरत से अधिक यकीन करना मूर्खता है। ये याद रखें कि सबसे मजबूत कमजोर हो सकता है और सबसे बुद्धिमान गलती कर सकता है। – महात्मा गांधी
  11. अपने मिशन में कामयाब होने के लिए, आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकचित निष्ठावान होना पड़ेगा। – अब्दुल कलाम
  12. अपने विषय में कुछ कहना प्राय: बहुत कठिन हो जाता है क्योंकि अपने दोष देखना आपको अप्रिय लगता है और उनको अनदेखा करना औरों को।- महादेवी वर्मा
  13. अपने ह्रदय में उस दिव्य चिंगारी, जिसे अंतरात्मा कहते है, को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो। – जॉर्ज वाशिंगटन
  14. अहसास के साथ आप जो कुछ भी यकीन करते हैं वही आपकी हकीक़त बन जाती है।
  15. आप अपने चरित्र व साहस का निर्माण किसी अन्य के अवसर व स्वतंत्रता को छीनकर नहीं कर सकते। – अब्राहम लिंकन
  16. आभार,आत्मा से उत्पन्न होने वाली सबसे खूबसूरत कली है। – हेनरी वार्ड बीचर
  17. इस दुनिया में सभी भेद-भाव किसी स्तर के है, ना कि प्रकार के, क्योंकि एकता ही सभी चीजों का रहस्य है। – स्वामी विवेकानंद
  18. उत्कृष्टता एक शतत प्रक्रिया है कोई दुर्घटना नहीं। – अब्दुल कलाम
  19. उन लोगो के अटल साहस से ज्यादा प्रभावशाली कुछ भी नहीं है, जो अपनी आजादी और सम्मान के लिए दुःख सहने और त्याग करने के लिए तैयार है। – मार्टिन लूथर किंग जेआर
  20. एक मूर्ख खुद को बुद्धिमान समझता है, लेकिन बुद्धिमान व्यक्ति खुद को मूर्ख समझता है। – विलियम शेक्सपियर
  21. एक संतुलित मन के बराबर कोई तपस्या नहीं है. संतोष के बराबर कोई ख़ुशी नही है, लोभ के जैसी कोई बीमारी नहीं है दया के जैसा कोई सदाचार नहीं है। – चाणक्य
  22. एक सफल आदमी बनने की कोशिश करने के बजाए आप एक ऐसा व्यक्ति बनने की कोशिश करें जो अपनी बात का पक्का हो। – अल्बर्ट आइंस्टीन
  23. कभी भी घृणा को घृणा से खत्म नहीं किया जा सकता घृणा प्यार से कम होती है. यह एक अटल नियम है। – बुद्ध
  24. कभी-कभी सफलता सही निर्णय लेने के बारे में नहीं होती, ये बस कोई निर्णय लेने के बारे में होती है। – रोबिन शर्मा
  25. करुणा में शीतल अग्नि होती है जो क्रूर से क्रूर व्यक्ति का हृदय भी आर्द्र कर देती है।- सुदर्शन
  26. कवि और चित्रकार में भेद है। कवि अपने स्वर में और चित्रकार अपनी रेखा में जीवन के तत्व और सौंदर्य का रंग भरता है।- डॉ. रामकुमार वर्मा
  27. कविता का बाना पहन कर सत्य और भी चमक उठता है।- अज्ञात
  28. कुछ भी आपको शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से कमजोर बनाता हो उसे झर समझ के उसका बहिष्कार करे। – स्वामी विवेकानंद
  29. कुछ भी इतना कठिन नहीं है अगर आप उसे छोटे-छोटे कार्यो में विभाजित कर ले। – हेनरी फोर्ड
  30. कुटिल लोगों के प्रति सरल व्यवहार अच्छी नीति नहीं।- श्री हर्ष
  31. कोई ख़ुशी से जो भी करता है, स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। – महात्मा गांधी
  32. कोई भी उस व्यक्ति से प्रेम नहीं करता, जिससे वो डरता है। – अरस्तु
  33. खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है। – स्वामी विवेकानंद
  34. ख़ुशी तब होती है जब आप जो सोचते है जो कहते है और जो करते है, सब में संतुलन होता है। – विलियम शेक्सपियर
  35. गर्व लक्ष्य को पाने के लिए किए गए प्रयत्न में निहित है, ना की उसे पाने में। – महात्मा गांधी
  36. चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे प्रभावी माध्यम कह सकते है। – अस्तु
  37. जंज़ीरें, जंज़ीरें ही हैं, चाहे वे लोहे की हों या सोने की, वे समान रूप से तुम्हें गुलाम बनाती हैं।- स्वामी रामतीर्थ
  38. जहाँ प्रकाश रहता है वहाँ अंधकार कभी नहीं रह सकता।- माघ
  39. जिंदगी एक साइकिल की तरह है, अगर आपको बैलेंस बनाकर रखना है तो आपको पैडल मारते रहना होगा। – अल्बर्ट आइंस्टीन
  40. जिस प्रकार बिना जल के धान नहीं उगता उसी प्रकार बिना विनय के प्राप्त की गयी विधा फलदायी नहीं होती। – भगवान महावीर
  41. जीवन में सफल होने का सबसे बढ़िया तरीका है, उस नसीहत पर काम करना जो दुसरो को देते है। – मदर टेरेसा
  42. जैसे अंधे के लिए जगत अंधकारमय है और आँखों वाले के लिए प्रकाशमय है वैसे ही अज्ञानी के लिए जगत दुखदायक है और ज्ञानी के लिए आनंदमय।- संपूर्णानंद
  43. जैसे जल द्वारा अग्नि को शांत किया जाता है वैसे ही ज्ञान के द्वारा मन को शांत रखना चाहिए।- वेदव्यास
  44. जो अपने ऊपर विजय प्राप्त करता है वही सबसे बड़ा विजयी हैं।- गौतम बुद्ध
  45. जो अपने दिल से काम नहीं कर सकते वे हासिल करते है, लेकिन बस खोखली चीजे अधूरे मन से मिली सफलता अपने आस-पास कड़वाहट पैदा करती है। – अब्दुल कलाम
  46. जो दीपक को अपने पीछे रखते हैं वे अपने मार्ग में अपनी ही छाया डालते हैं।- रवींद्र
  47. जो दूसरों में बुराई ढूंढते है, उन्हें निश्चित तोर पर बुराई मिल भी जाती है। – अब्राहम लिंकन
  48. जो बहाने बनाने में अच्छा है, वो शायद ही किसी और काम में अच्छा हो। – बेजामिन फ्रकलिन
  49. ज्ञान दवा और हिम्मत तीनऐसे नैतिक गुण है, जो पुरे विश्व में मान्य है। – कवयुशिय्स
  50. तलवार ही सब कुछ है, उसके बिना न मनुष्य अपनी रक्षा कर सकता है और न निर्बल की।- गुरु गोविंद सिंह
  51. त्योहार साल की गति के पड़ाव हैं, जहाँ भिन्न-भिन्न मनोरंजन हैं, भिन्न-भिन्न आनंद हैं, भिन्न-भिन्न क्रीडास्थल हैं - बरुआ
  52. दुखियारों को हमदर्दी के आँसू भी कम प्यारे नहीं होते- प्रेमचंद
  53. दुनिया का सबसे बड़ा धर्म है अपने स्वभाव में अपने आप के प्रति सच्चे रहना, अपने आप पर विश्वास रखो हमेशा। – स्वामी विवेकानंद
  54. दुनिया की सबसे खुबसूरत चीजे न ही देखी जा सकती है और ना छुई, उन्हें बस दिल से महसूस किया जा सकता है। – हेलेन केलर
  55. दुनिया मजाक करे या तिरस्कार, उसकी परवाह किए बिना मनुष्य को अपना कर्तव्य करते रहना चाहिए। – स्वामी विवेकानंद
  56. नजरिया एक छोटी सी चीज है जिससे बहुत फर्क पड़ता है। – विस्टन चचिर्ल
  57. नजरिया एक छोटी सी चीज है,जिससे बहुत फर्क पड़ता है। – विंस्टन च्रिचर्ल
  58. नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य के आभूषण होते हैं। शेष सब नाममात्र के भूषण हैं।- संत तिरुवल्लुवर
  59. नेकी से विमुख हो जाना और बदी करना नि:संदेह बुरा है, मगर सामने हँस कर बोलना और पीछे चुगलखोरी करना उससे भी बुरा है।- संत तिरुवल्लुवर
  60. प्रत्येक बालक यह संदेश लेकर आता है कि ईश्वर अभी मनुष्यों से निराश नहीं हुआ है।- रवींद्रनाथ ठाकुर
  61. बदलाव प्रारम्भ में सबसे कठिन, मध्य में सबसे बेकार और अंत में सबसे अच्छा होता है। – रॉबिन शर्मा
  62. बाधाएं वो डरावनी चीजे है, जो आप तब देखते है जब आप लक्ष्य से अपनी आँखे हटा लेते है। – हेनरी फोर्ड
  63. बिना सेहत के जीवन, जीवन नहीं है, बस पीड़ा की एक स्थति है, मोंत की छवि है। – गोतम बुद्ध
  64. बीते हुए कल से सीखें, आज के लिए जिए और आने वाले कल के लिए उम्मीद रखे। – अल्बर्ट आइंस्टीन
  65. बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत है। – कन्फ्यूशियस
  66. भय ही पतन और पाप का मुख्य कारण है। – स्वामी विवेकानंद
  67. भाग्य के विपरीत होने पर अच्छा कर्म भी दुःखदायी हो जाता है। – चाणक्य
  68. मनुष्य अपने सबसे अच्छे रूप में सभी जीवों में सबसे उदार होता है, लेकिन यदि कानून और न्याय न हो तो वो सबसे खराब बन जाता है। – अरस्तु
  69. मनुष्य का जीवन एक महानदी की भाँति है जो अपने बहाव द्वारा नवीन दिशाओं में राह बना लेती है।- रवींद्रनाथ ठाकुर
  70. मनुष्य क्रोध को प्रेम से, पाप को सदाचार से लोभ को दान से और झूठ को सत्य से जीत सकता है।- गौतम बुद्ध
  71. मन्त्रणा के समय कर्तव्य पालन में कभी इर्ष्या नहीं करनी चाहिए। – चाणक्य
  72. महान सौंदर्य, अत्यधिक ताकत, बहुत धन का वास्तव में कुछ खास उपयोग नहीं है. एक सच्चा हृदय सबसे ऊपर है।– बेजामिन फ्रकलिन
  73. महान सौंदर्य, अत्यधिक ताकत, बहुत धन का वास्तव में कुछ खास उपयोग नहीं है। एक सच्चा हृदय सबसे ऊपर है। – बेंजामिन फ्रैंकलिन
  74. मित्रों का उपहास करना उनके पावन प्रेम को खंडित करना है।- राम प्रताप त्रिपाठी
  75. मुठ्ठी भर संकल्पवान लोग जिनकी अपने लक्ष्य में दृढ़ आस्था है, इतिहास की धारा को बदल सकते हैं। -महात्मा गांधी
  76. यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाजे बंद कर देंगे तो सच बाहर रह जाएगा। – रवीन्द्रनाथ टैगोर
  77. यदि हमारे मन में शांति नहीं है तो इसकी वजह है कि हम यह भूल चुके है कि हम एक दुसरे के है। – मदर टेरेसा
  78. ये मायने नहीं रखता की आप कहाँ से आ रहे है, बस ये मायने रखते है कि आप कहाँ जा रहे है। – ब्रायन ट्रेसी
  79. लोग क्या सोचेंगे, इस बात की चिंता करने की बजाए क्यों न कुछ ऐसा करने में समय लगाए जिसे प्राप्त करने पर लोग आप की प्रशंसा करें। – डेल कानेर्गी
  80. लोग हमारी परवाह नहीं करते है कि आप कितना जानते है, वो ये जानना चाहते है कि आप कितना ख्याल रखते है। – शिव खेड़ा
  81. वही उन्नति करता है जो स्वयं अपने को उपदेश देता है।- स्वामी रामतीर्थ
  82. विद्रोह को क्रांति नहीं कहा जा सकता, यह हो सकता है कि विद्रोह का अंतिम परिणाम क्रांति हो। – भगत सिंह
  83. विश्व के सभी धर्म, भले ही और चीजों में अंतर रखते हो, लेकिन सभी इस बात पर एकमत है कि दुनिया में कुछ नहीं बस सत्य जीवित रहता है। – महात्मा गांधी
  84. विश्वास वो शक्ति है जिससे उजड़ी हुई दुनिया में प्रकाश किया जा सकता है। – हेलेन केलर
  85. शरीर को स्वस्थ रखना हमारा कर्तव्य है, वरना हम अपने दिमाग को स्वच्छ और मजबूत नहीं रख पाएंगे – बुद्ध
  86. शिक्षित मन की यह पहचान है कि वो किसी भी विचार को स्वीकार किये बिना उसके साथ सहज रहे। – अरस्तु
  87. सच्चे साहित्य का निर्माण एकांत चिंतन और एकांत साधना में होता है।- अनंत गोपाल शेवडे
  88. समझदार आदमी को सारस की तरह होश से काम लेना चाहिए. जगह, वक्त और अपनी योग्यता को समझते हुए कार्य को सिद्ध करना चाहिए। – चाणक्य
  89. समझदार होने की असली निशानी ज्ञान नहीं है बल्कि कल्पना करने की आपकी सकती है। – अल्बर्ट आइंस्टीन
  90. स्वतंत्रता हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है!- लोकमान्य तिलक
  91. स्वस्थ नागरिक किसी देश के लिए सबसे बड़ी सम्पति होते है। – विस्टन
  92. हजार योद्धाओं पर विजय पाना आसान है, लेकिन जो अपने ऊपर विजय पाता है वही सच्चा विजयी है। – गौतम बुद्ध
  93. हताश न होना सफलता का मूल है और यही परम सुख है। उत्साह मनुष्य को कर्मों में प्रेरित करता है और उत्साह ही कर्म को सफल बनाता है।- वाल्मीकि
  94. हताश न होना ही सफलता का मूल है और यही परम सुख है।- वाल्मीकि
  95. हम जितना अध्ययन करते है, उतना ही हमें अपने अज्ञान का आभास होता जाता है। – स्वामी विवेकानंद
  96. हम सब यहाँ किसी खास वजह से है अपने अतीत के कैदी बनना छोड़िए. अपने भविष्य के निर्माता बनिए। – रोबिन शर्मा
  97. हम सभी एक दुसरे की मदद करना चाहते है, मनुष्य ऐसे ही होते है, हम एक दूसरे के सुख के लिए जीना चाहते है दुःख के लिए नहीं। – चार्ली चैपलिन
  98. हमें नई परिस्थितियों में नई सोच के साथ काम करना चाहिए। – अब्राहम लिंकन
  99. हमें भूत के बारे में पछतावा नहीं करना चाहिए, ना ही भविष्य के बारे में चिंतित होना चाहिए, विवेकवान व्यक्ति हमेशा वर्तमान में जीते है। – चाणक्य
  100. हमेशा याद रखो कि आपका अपना सफल होने का संकल्प ही किसी भी चीज से ज्यादा महत्वपूर्ण है। – अब्राहम लिंकन
  101. हमेशा सही करे, ये कुछ लोगो को संतुष्ट करेगा और बाकियों को अचंभित। – मार्क
  102. हार से डरो मत..कोशिश अच्छी हो तो हारना भी यशस्वी होता है। – ब्रूस ली


Share:

ब्‍लागिंग वाले गुंड़ो मै "महाशक्ति" चुनौती स्‍वीकार करता हूँ



कानपुर से लौटा जाने से पूर्व एक पोस्ट की थी, लौट कर देखा नेट खराब था नेट ठीक हुआ तो देखा कि उस पोस्ट पर तो किसी दादा जी द्वारा बहुत अभद्र शब्दों प्रयोग था जिसे हटाया जाना ही ठीक था। इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग कतई उचित नहीं है। अत: उसे आते ही हटाना उचित समझा। क्योंकि यह सर्वथा उचित नहीं है।

कुछ लोग चिट्टाकारी की मार्यादाओ की सीमा को लांग रहे है, जब ऐसा करने वाले लोग 40-45 साल उम्र की सीमा पार करने वाले लोग करते है बहुत झोभ होता है। हाल मैंने दो सज्जनों के ब्लॉग पर अपने नाम को देखा है, अकारण प्रत्यक्ष नामोल्लेख करके लिखना बहुत खेद जनक है। मै खुद इस बात से हत प्रभ हूँ कि अपने आपको खुद वरिष्‍ठ कहने वाले लोग मर्यादा भंग करते है। कहावत है कि नंगो से खुद भी डरता है मै तो इंसान हूँ यही सोच कर अभी तक इग्नोर कर रहा था किन्तु अब सिर से पानी ऊपर हो गया है बात खुदा से श्रीकृष्ण तक जा पहुँची है, ऐसे नंगो की #@*^%& ढकने की पूरी तैयारी जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन खुद करेगा।

जहाँ तक मुझे याद है कि मेरे द्वारा किसी के नाम का उल्लेख करते हुये कोई भूत में लेख लिखा किंतु जिस प्रकार उनके द्वारा प्रत्यक्ष रूप से मेरे नाम का उल्लेख किया, वह मर्यादा विरूद्ध है, किसी पाठक ने कुछ समय पूर्व टिप्‍प्‍णी मे सही कहा था कि जब बुर्जुग मर्यादा को खूंटी पर टांग दें तो इससे बुरा और क्या हो सकता है?

मुझे हंसी आती है उन महान पाठको और टिप्पणीकारो पर जिनको आदर्श मानता हूँ वे ऐसे भद्दे, फूहड़ तथा व्यक्तिगत अक्षेपो से व्‍यंगो को बिना पढ़ कर लोग सर्वोत्तम व्‍यंग का दर्जा देने वाले ब्‍लागर समूह को चाहिये कि नाम पर टिप्पणी करने के बजाय उनके काम और लेखन पर टिप्पणी करें तो अपने आप नीर-क्षीर अलग हो जायेगा। किन्तु ब्लॉगरों की आदत ही है बिना पढ़े टिप्‍पणी करने की और व्यंग का लेबल देख कर ठेल दी महान व्यंग की उपाधि देती हुई टिप्‍पणी, चाहे वाह करने वाली की माँ-बहन की ही #@*^%& कर दी गई हो, ब्लॉगरों की आदत ही हो गई है वह कोठे पर बैठकर वाह वाह करने वालो की तरह, जैसे वहाँ बैठ कर वाह-वाह करते है वैसे ही यहाँ भी टिप्पणी कर बधाई देते नजर आते है।

उस तथाकथित पोस्ट पर मात्र रचना जी ने ही सार्थक टिप्‍पणी की जो वास्तव मे पोस्ट को पढ़ा, अन्यथा एक दिन मे सर्वाधिक टिप्‍पणी करने का रिकॉर्ड दर्ज करने वाले तथा सदी के महान ब्लागर भी उस पोस्ट को साधुवाद देते नज़र आये, राक्षसी पोस्ट पर उम्‍दा नामक टिप्‍प्‍णी अमेरिका, जर्मनी, इंग्लैंड, लखनऊ तथा पता नही कहाँ से आयी पर बिना पोस्ट पढ़े टिप्‍पणी करने की आदत न बदल पायी।

महान परसाई की प्रशिद्ध दत्तक औलाद के शब्‍दो मे महाशक्ति के बारे दो लाईन - वो ‘महाशक्ति'…हाँ!…वही जिसे अपनी शक्ति पे बड़ा नाज़ है…असल में तो उसे खुद नहीं पता कि उसकी शक्ति का ह्रास हुए तो मुद्दतें बीत चुकी हैं मुझे उनके शब्‍दो से अपने बारे जानकर अच्‍छा लगा कि महाशक्ति के शक्ति ह्रास के बारे जानकारी रखते है, मतलब महाशक्ति के दम के बारे मे पूरी जानकारी है, और जानकारी नही रही होगी तो अपने पुरखो से पता कर ली होगी।

लगातार मेरे नाम महाशक्ति/प्रमेन्द्र को लेकर, इलाहाबाद को लेकर तथा जूनियर ब्लॉग एसोसिएशन के बारे भिन्न लोगों ने लगातार पोस्ट ठेले जा रहे है, जैसे जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन को लेकर उनकी #@*^%& मे किसी ने मिर्ची ठूस दी हो और दर्द के मारे भद्दी पोस्‍टों की दस्त कर रहे है।

जहाँ तक महाशक्ति की शक्ति ह्रास की बात है तो कुछ पारस्परिक मित्रों के कहने पर मैंने लगातार विवादों की जंग में मंदक की भूमिका निभाई और जो कुछ भी मैंने इस मसले पर चुप रह कर किया, उसी का परिणाम था कि प्रतिनिधि मंडल मेरठ गया और प्रस्तुत मसले का कुछ हल निकाल सका। मैंने पूरे संयम के साथ मामले पर नियंत्रित करने का किया, पर कुछ पिचालियों को सूअरों की भांति गंदगी मे लौटने में आनंद मिलता है। जहाँ उस विवाद मे मैने विवाद को निपटाने का जिन मित्रों से वादा किया था वो मैंने निभाया किन्तु वर्तमान में जो लोग अब गलत दिशा मे बात ले जा रहे है, अगर कुछ लोगों को इसी मे मजा आता है तो मै अब स्‍वयं चुनौती लेने का तैयार हूँ। मै इस मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं करूँगा और जरूरत पड़ी तो ही सामने आऊँगा। जो मित्रगण मठाधीशी की ध्‍वस्‍त करने मे लगे है वही आप लोगो के लिये काफी है, मुझे नहीं लगता कि मेरी इस प्रकरण में जरूरत है, अब कोई भी व्यक्ति मेरे से सम्‍पर्क करने की कोशिश न करे, क्योंकि जहां तक मेरा काम था मै कर चुका हूँ। अगर अब वो गलत भी करते है तो मै पूर्ण रूप से उनके साथ हूँ।

अब जो लोग भी "जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन तथा उससे जुड़े किसी भी व्यक्ति का नाम करते हुये अभद्र पोस्‍ट लिखेगा तो अपनी भद्द करवाने का खुद जिम्मेदार होगा", जूनियर ब्लॉगर एसोसिएशन का प्रत्‍येक सदस्‍य अपना विरोध ऐसे वाहियात पोस्‍टो पर साम-दाम-दंड-भेद के साथ दर्ज करने के लिए स्वतंत्र है। 



Share:

आज कानपुर में ppp



आज रात्रि 7 जून तथा कल 8 जून को मै कानपुर मे रहूँगा, कल 10 बजे से अपने कार्य समाप्ति तक व्‍यस्‍तता रहेगी। 10 बजे से पूर्व तथा इलाहाबाद के लिये ट्रेन पकड़ने से पहले समय मिला तो परिचित अपरचित ब्‍लारगों तथा मित्रों से मिलने की कोशिश रहेगी।


Share:

महापुरूषों के प्रेरक-वचन एवं कहावतें



230 Motivational Quotes in Hindi – प्रेरक विचार जो आपकी जिंदगी बदल देंगे


महापुरूषों के प्रेरक-वचन एवं कहावतें

    1. “अगर आप  बार भी असफ़ल हुए है तो एक बार और प्रयास करें।”
    2. “अगर आप कल गिर गए थे तो आज उठिये और आगे बढिये।”
    3. “अगर आप किसी की सफ़लता से खुश नहीं होते तो आप कभी सफ़ल नही हो सकते।”
    4. “अगर आप किसी चीज़ के सपने देख सकते है तो आप उसे हासिल भी कर सकते है।”
    5. “अगर आप रेत पर अपने कदमो के निशान छोड़ना चाहते है तो .. एक ही उपाय है – अपने कदम पीछे मत खिचिए”
    6. “अगर आप सोचते है कि आप इसे कर सकते है तो निश्चित रूप से आप इसे कर सकते है।”
    7. “अगर आपके पास मुसीबतों से लड़ने की ताकद है, तो आप जीत जाओगे। आप जीतते हैं तो आप लीड कर सकते हो, लेकिन अगर आप हारते हो तो आप मार्गदर्शन जरूर कर सकते है।” – Sandeep Maheshwari Quotes
    8. “अगर इस दुनियाँ में खुश रहना है तो खुद से दोस्ती करना सीख लो।”
    9. “अगर लोग आप पर पत्थर फेंके तो आप उस पत्थर को मील का पत्थर बना दीजिए।”
    10. “अच्छा बोलने से बेहतर है कि हम कुछ अच्छा करें।”
    11. “अच्छे के साथ अच्छा बनें बुरे के साथ बुरा नहीं क्योंकि हीरे को हीरे से तराशा तो जा सकता है पर कीचड़ से कीचड़ साफ़ नहीं हो सकता है.”
    12. “अपनापन छलके आंखों में ऐसा कोई एक ही मिलता है लाखों में।”
    13. “अपनापन, परवाह, आदर और समय ये वो दौलत है जो हमारे अपने हमसे चाहते है।”
    14. “अपने उद्देश्य में ईमानदारी से लगे रहना ही सफ़लता का सबसे बड़ा रहस्य है।”
    15. “अपने लक्ष्य को ऊँचा रखो और तब तक मत रुको जब तक आप इसे हासिल नहीं कर लेते है।”
    16. “अपने लक्ष्य को निर्धारित करना इसे हासिल करनें का पहला क़दम है।”
    17. “अपनों पर भी उतना ही विश्वास रखो जितना दवाइयों पर रखते होबेशक थोड़े कड़वे होंगे पर आपके फ़ायदे के लिए होंगे।”
    18. “अलमारी से निकले बचपन के खिलौने मुझे उदास देखकर बोले तुम्हे ही शौक था बड़े होने का।”
    19. “असफलता और सफलता दोनों ही अवस्थाओं में लोग तुम्हारी बातें करेंगे, सफल होने पर प्रेरणा के रूप में और असफल होने पर सीख के रूप में ।”
    20. “आगे बढ़ने के लिए हमे खुद को चीजों का चुनाव करना पड़ता है” — Kiran Bedi
    21. “आप उस व्यक्ति को कभी नहीं हरा सकते जो कभी हार नहीं मानता हो।”
    22. “आप जो आज करते है वो आपका कल निर्धारित करता है।”
    23. “आप समुद्र को किनारे बैठकर पानी की लहरों को देखते हुए नहीं पार कर सकते।”
    24. “आप हमेशा इतने छोटे बनिये कि, हर व्यक्ति आपके साथ बैठ सके और आप इतने बड़े बनिये कि आप जब उठे तो कोई बैठा न रहे।”
    25. “आपका सबसे बड़ा शिक्षक आपकी आखिरी गलती है।”
    26. “आपकी समस्याएं आपको रुकने का संकेत नही देती बल्कि वो लक्ष्य के रास्ते का मार्गदर्शक होती है।”
    27. “इतर से कपड़ों का महकाना कोई बड़ी बात नहीं है, मज़ा तो तब है जब आपके किरदार से खुशबू आये!!”
    28. “उन पर ध्यान मत दीजिये जो आपकी पीठ पीछे बात करते है इसका सीधा सा अर्थ है आप उनसे दो कदम आगे है”
    29. “उन्नति की क्षमता रखने वालों पर समय-समय पर आपत्ति आती है।”
    30. “एक सफल व्यक्ति हमेशा कुछ अच्छा हासिल करने के लिए प्रेरित होता है ना कि किसी को पराजित करने के लिए।”
    31. “एक हारा हुआ ईन्सान, हारने के बाद भी स्माईल करे तो, जितने वाला अपनी जीत की खुशी खो देता है।”
    32. “कम्फर्ट जोन से बाहर निकालिए, आप तभी आगे बढ़ सकते है जब आप कुछ नया आज़माने को तैयार है।”
    33. “किसी के पैरों में गिरकर कामयाबी पाने से बेहतर है अपने पैरों पर चलकर कुछ बनने की ठान लो।”
    34. “किसी को हराना बेहद आसान है लेकिन किसी से जितना बेहद कठिन काम है।”
    35. “कुछ अलग करना है, तो भीड़ से हट कर चलो, भीड़ साहस तो देती है, पर पहचान छिन लेती है।”
    36. “खरीद पाऊं खुशियाँ उदास चेहरों के लिए, मेरे क़िरदार का मोल बस इतना कर दे ए-खुदा।”
    37. “खुद को एक सोने के सिक्के जैसा बनाइये, जो कि अगर नाली में भी गिर जाए तो भी उसकी क़ीमत कम नहीं होती है।”
    38. “ख़ुशी आपके Attitude पर निर्भर करती है, आपके पास क्या है उस पर नहीं।”
    39. “घड़ी को देखो मत, बल्कि वो करो जो घड़ी करती है, बस चलते रहो।”
    40. “चोट ख़ाकर ही कोई व्यक्ति महान होता है, चोट ख़ाकर ही पत्थर बैठा मन्दिर में भगवान होता है।”
    41. “जब तक आप कोई काम कर नहीं लेते है तब तक ये असंभव ही लगता है।”
    42. “जहर में इतना जहर नहीं होगा जितना कुछ लोग दूसरों के लिए अपने दिल पर रखते हैं।”
    43. “जहां आप की अहमियत समझी ना जाए वहां जाना बंद कर दो चाहे वह किसी का घर हो या किसी का दिल।”
    44. “जिंदगी एक बार मिलती है यह बात बिल्कुल गलत है मौत एक बार मिलती है जिंदगी हर रोज मिलती है।”
    45. “ज़िंदगी जीना आसान नहीं होता; बिना संघर्ष के कोई महान नहीं होता; जब तक न पड़े हथौड़े की चोट; पत्थर भी भगवान नहीं होता।”
    46. “जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो जैसे चांद और सूरज की तुलना किसी से नहीं की जा सकती क्योकि यह अपने समय पर ही चमकते है।”
    47. “ज़िंदगी में हर मौक़े का फ़ायदा उठाओ, मगर किसी की मज़बूरी और भरोसे का नहीं।”
    48. “जितना कठिन संघर्ष होगा जीत उतनी ही शानदार होगी।”
    49. “जितने का मज़ा तभी आता है जब सभी आपके हारने का इंतजार कर रहे हो।”
    50. “जिनमें अकेले चलने का होंसला होता हैं, उनके पीछे एक दिन काफिला होता हैं।”
    51. “ज़िन्दगी में अगर बुरा वक़्त नहीं आता तो अपनों में छुपे हुए गैर और गैरों में छुपे हुए अपनों का कभी पता न चलता।”
    52. “जिस व्यक्ति ने कभी गलती नहीं की उसने कभी कुछ नया करने की कोशिश नहीं की।”
    53. “जिसने अपनी इच्छाओं पर काबू पा लिया उस व्यक्ति ने समझो अपने दुखों पर काबू पा लिया।” — Gautama Buddha Quotes
    54. “जिससे कोई उम्मीद नही होती अक्सर वही लोग कमाल करते हैं!”
    55. “जीवन मे सबसे बड़ी ख़ुशी उस काम को करनें में है, जिसे लोग कहते है कि आप नहीं कर सकते।”
    56. “जो अपने कदमों की काबिलियत पर विश्वास रखते है, वो ही अक्सर मंज़िल तक पहुँच पाते है।”
    57. “जो मनुष्य अपने क्रोध ख़ुद के ऊपर झेल जाता है वो दूसरों के क्रोध से बच जाता है”
    58. “ज्यादा नहीं बस इतने साफल हो जाओ की अपने माता-पिता की हर ख़्वाहिश पूरी कर सको।”
    59. “डर से जीतने का एक है तरीका है, इसे ख़त्म कर दो।”
    60. “तहज़ीब सीखा दी मुझे एक छोटे से मकान नेे दरवाज़े पर लिखा था थोड़ा झुककर चलिये।”
    61. “थोड़ा सा छुप- छूप कर अपने लिए भी जी लिया करो, कोई नहीं कहेगा थक गए हो आराम कर लो।”
    62. “दिल में बुराई रखने से बेहतर है कि नाराज़गी ज़ाहिर कर दीजिए।”
    63. “दुनियाँ की सबसे ख़तरनाक नदी है भावना, सब इसमें बह जाते है”
    64. “दुनियाँ में दो तरह के लोग होते है एक वो जो दुनियाँ के अनुसार खुद को बदल लेते है और दूसरे वो जो खुद के अनुसार दुनियाँ को बदल देते है।”
    65. “दूसरों को देखने के बज़ाय आप खुद वो काम करने की कोशिश करें, जिससे कि दूसरे आप को देखें।”
    66. “देख लेना ज़िन्दगी में मेहनत से मिले फल का स्वाद क़िस्मत से मिले फल के स्वाद से ज़्यादा मीठा लगेगा।” — ज्योत्सना गाँधी
    67. “देर से बनो लेकिन जरूर कुछ बनो लोग वक्त के साथ खैरियत नहीं पूछते है सियत पूछते हैं।”
    68. “पतझड़ हुए बिना पेड़ पर नए पत्ते नहीं आते ठीक उसी तरह परेशानी और कठिनाई सहे बिना इंसान के अच्छे दिन नहीं आते।”
    69. “पृथ्वी पर ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जिसको समस्या ना हो और कोई ऐसी समस्या नहीं है जिसका कोई समाधान ना हो। मंजिले चाहे कितनी भी ऊँची क्यों ना हो उसके रास्ते हमेशा पैरों के नीचे से ही जाते है।” — APJ Abdul Kalam Thoughts
    70. “फोटो लेने के लिए अच्छे कपड़े नहीं बस मुस्कुराहट अच्छी होनी चाहिए।”
    71. “बीते हुए को नहीं बदला जा सकता है, लेकिन भविष्य आपके हाथ मे है।”
    72. “बुरी आदतें अगर वक्त पर नहीं बदली जाए तो वह आदतें आपका वक्त बदल देती हैं|”
    73. “भरोसा जीता जाता है माँगा नहीं जाता है, ये वो दौलत है जो कि पाया जाता है कमाया नहीं जाता।”
    74. “भागते रहो अपने लक्ष्य के पीछे, क्यूंकि आज नहीं तो और कभी, करेंगे लोग गौर कभी, लगे रहो बस रुकना मत, आयेगा तुम्हारा दौर कभी।” — Abhinav Prateek
    75. “मेहनत इतनी खामोशी से करो कि सफलता शोर मचा दे।”
    76. “मैं अक्सर तस्वीरों को सफ़ेद छोड़ देती हूँ, शायद इन्हें रंगों का इंतज़ार है।” — ज्योत्सना गाँधी
    77. “मैदान में हारा हुआ इंसान,फिर से जीत सकता है, लेकिन मन से हारा हुआ इंसान, कभी नहीं जीत सकता!!”
    78. “मौन से जो कहा जा सकता है वो शब्द से नहीं, और जो दिल से दिया जा सकता है वो हाथ से नहीं।”
    79. “यदि आप दृढ संकल्प और पूर्णता के साथ काम करेंगे तो सफलता ज़रूर मिलेगी.” — Dheerubhai Ambani
    80. “यदि किसी काम को करने में डर लगे तो याद रखना यह संकेत है, कि आपका काम वाकई में बहादुरी से भरा हुआ है।”
    81. “ये क्या सोचेंगे? वो क्या सोचेंगे? दुनिया क्या सोचेगी? इससे ऊपर उठकर कुछ सोच, जिन्दगीं सुकून का दूसरा नाम हो जाएगी”
    82. “लक्ष्य वो है जो आपके लिए सही है इसके लिए अपना शत प्रतिशत दीजिये और कल के बीज बो दीजिये”― Kiran Bedi
    83. “लाखो किलोमीटर की यात्रा एक कदम से ही शुरू होती है”
    84. “लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें, लेकिन यह भी सत्य है कि उनमें से अधिकाँश यह नहीं चाहते कि आप उनसे बेहतर करें।”
    85. “लोग जो अपनी जिन्दगी का नियंत्रण अपने हाथो में नहीं लेते उनका नियंत्रण समय के हाथो में चला जाता है”― Kiran Bedi
    86. “वक्त और रिश्तों ने सिखा दी होशियारी, वरना हम भी मासूमियत की हद तक मासूम थे।”
    87. “सच्चाई और अच्छाई की तलाश में पूरी दुनियाँ घूम ले, अगर वो हमारे अंदर नही है तो कहीं नहीं है।”
    88. “सपने धूमिल है तो क्या हुआ कभी तो सच्चे होंगे, वक्त बुरें है तो क्या हुआ कभी तो अच्छे होंगे।”
    89. “सपने सच हो इसके लिए उन्हें देखना जरूरी है।”
    90. “सफल लोग कोई और नहीं होते वो बस कड़ी मेहनत करना जानते हैं|”
    91. “सफल होने के लिए सबसे पहले हमें खुद पर भरोसा करना होगा।”
    92. “सबकुछ मिला है हमको लेकिन सब्र नहीं है, बरसों की सोचते है और पल की ख़बर नही है।”
    93. “समझदार इंसान वो नहीं होता जो ईंट का जवाब पत्‍थर से देता है, समझदार इंसान वो होता है जो फेंकी हुई र्ईंट से आशियॉं बना लेता है।”
    94. “सारी दुनियाँ कहती है कि हार मान लो लेकिन दिल कहता है कि एक बार और कोशिश करो, तुम ये जरूर कर सकते हो”
    95. “सारे सीक्रेट्स आपको पता है,फिर भी अंजान बन कर क्यू रोते होकमियाब होके आप बेहतर इंसान नही बनते,बेहतर इंसान बन के आप कमियाब होते हो।” ― Abhinav Prateek
    96. “सिर्फ मरी हुई मछली को पानी का बहाव चलाती है जिस मछली में जान होती है वह अपना रास्ता खुद बनाती है।”
    97. “हँसते रहा करो दोस्तों चिंता करने के लिए बुढापा तो आएगा ही।”
    98. “हँसी के बिना बिताया हुआ दिन बर्बाद हुआ दिन है।”
    99. “हम कई बार असफ़ल हो सकते है लेकिन हार नहीं सकते।”
    100. “हमेशा अपने हौसलें आसमान में और पैर को ज़मीन पर रखो।”
    101. “हर बन्द रास्ते के बाद एक नया रास्ता खुलता है।”
    102. “हर सफलता की शुरुआत “मैं कर सकता हूँ।” से होती है।”
    103. अगर आप की सोच ही गरीबों वाली है, तो आप अमीर बनने के सपने नहीं देख सकते।
    104. अगर आप जीवन भर गलतियां ही निकालते रहेंगे तो आपको गलतियां सुधारने का अवसर ही नहीं मिलेगा।
    105. अगर आप हमेशा दूसरों के प्रति कृतज्ञ रहते है तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।
    106. अगर आपके रास्ते में चुनौतियां आ रही है तो समझ जाओ आप दुनिया बदलने वाला कार्य कर रहे है।
    107. अगर आपको किसी चुनौती से डर लगे तो एक बार उसका सामना जरूर करना चाहिए।
    108. अगर जिंदगी में कुछ पाना है, तो अपने तरीके बदलो इरादे नहीं।
    109. अनुशासन – लक्ष्य और उपलब्धियों के बीच सेतु का कार्य करता है।
    110. अपनी खराब आदतों पर विजय हासिल करना, सफलता की ओर बढ़ाया गया सबसे बड़ा कदम होता है।
    111. अपनी सोच को कैसे बेहतर बनाया जाए, यह सीखने से ज्यादा बेहतर और कुछ भी नहीं हो सकता।
    112. अपने आप को सफल और बेहतर इंसान बनाना चाहते हो तो, दूसरों की खुशी से जलने की बजाएं, उनकी खुशी में खुश होना चाहिए।
    113. अपने ऊपर विश्वास रखो जितना आप करते है, उससे कहीं अधिक आप जानते है।
    114. अपने काम में इस तरह डूब जाओ कि सफलता से कम कुछ मंजूर ना हो।
    115. अपने कार्य के प्रति हमेशा ईमानदार रहें फिर आपको सफलता प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता।
    116. अपने लिए नहीं तो उनके लिए कामयाब बनो, जो आपको नाकामयाब देखना चाहते है।
    117. असंतोष की भावना को लगन व धैर्य से रचनात्मक शक्ति में न बदला जाए तो वह ख़तरनाक भी हो सकती है।- इंदिरा गांधी
    118. असफलता के समय अगर आप धैर्य से काम लेते हो, तो समझो आप ने सफलता का आधा रास्ता पार कर लिया है।
    119. असल में वही जीवन की चाल समझता है, जो सफर में धूल को गुलाल समझता है।
    120. आज जितना सह लोगे, कल उतना पा भी लोगे।
    121. आपका सबसे अच्छा शिक्षक आपकी गलतियां होती है, वही आपको जीवन भर कुछ नया सीखाती रहती है।
    122. आपका समय सीमित है इसलिए दूसरों की जिंदगी में समय व्यर्थ ना करें।
    123. आपके जन्म से लेकर मृत्यु तक चुनौतियां साथ रहेंगी, अब आपको तय करना है इनसे लड़ना है या फिर हार के बैठ जाना है।
    124. आपके विचार ही आपके भाग्य का निर्माण करेंगे।
    125. आलोचना से बचने का बस एक ही उपाय है, कुछ मत करो, कुछ मत कहो, कुछ मत बनो।
    126. आशावादी व्यक्ति हर आपदा में एक अवसर देखता है, निराशावादी व्यक्ति हर अवसर में एक आपदा देखता है।
    127. इतने काबिल बन जाओ कि जो हाथ आप पर उठते थे, वे हाथ अब आपके लिए तालियां बजाने के लिए उठे।
    128. इतने काबिल बनो कि तुम्हें हराने वाले को कोशिश नहीं साजिश करनी पड़े।
    129. इतिहास को याद रखने में विश्वास मत रखो, इतिहास रचने में विश्वास करो।
    130. इर्ष्या करो लेकिन हराने के लिए नहीं, जीतने के लिए।
    131. इसलिए न रुके कि आप थक गए है, यह मानकर चलते रहे कि आपकी मंजिल बेहद करीब है।
    132. एक कदम आगे बढ़ाओ तो सही, दूसरा अपने आप चल पड़ेगा।
    133. एक दिन में कुछ नहीं होता लेकिन लगातार प्रयासों से किसी भी लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है।
    134. ऐसे पेशे का चुनाव करें जो आपको दिलचस्प लगता हो, यकीन मानिए आपको जिंदगी में एक भी दिन काम नहीं करना पड़ेगा।
    135. ऐसे व्यक्ति के लिए सभी परिस्थितियां एक समान होती है, जिसका ध्यान हमेशा अपने लक्ष्य पर रहता है।
    136. कल से बेहतर आज करना है इस सोच को अपनालो, फिर आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता।
    137. कश्तियां उनकी नहीं डूबती जिन की कश्तियों में छेद होता है, कश्तियां तो उनकी डूबती है जिनके बाजुओं में दम नहीं होता।
    138. कष्ट ही तो वह प्रेरक शक्ति है जो मनुष्य को कसौटी पर परखती है और आगे बढ़ाती है।- सावरकर
    139. कसौटी हमेशा आपकी प्रतिभा को निखारती है इसलिए कभी भी कसौटी से डरना नहीं चाहिए।
    140. कसौटीयाँ आपको प्रबल बनाती है, दुर्बल नहीं।
    141. किसी और से कभी भी अधिक आशा ना रखें नहीं तो आपको हर पल निराशा ही मिलेगी।
    142. किसी कार्य को करते समय अगर आपको लोग पागल कहे, तो घबराएं नहीं क्योंकि पागलों की दुनिया बदलते है।
    143. किसी की उम्मीद बनो, ना उम्मीद तो वे खुद भी होते है।
    144. किसी सफल व्यक्ति तथा दूसरों के बीच में मुख्य अंतर ताकत या ज्ञान का नहीं बल्कि इच्छाशक्ति का होता है।
    145. कुछ करने वाले कुछ पलों में सब कुछ कर जाते है, कुछ लोग पूरी जिंदगी भर कुछ नहीं कर पाते।
    146. कुछ भी मुक़ाम हासिल करने के लिए आपको सिर्फ़ दो चीज़ें ही चाहिए, पहला तो दृढ़ निश्चय और दूसरा कभी ना टूटने वाला हौसला। फिर भी संघर्ष के रास्ते मे जब आपका हौसला टूटने लगे तो उस समय किसी ऐसे की जरूरत होती है जो कि आपको एक बार फिर से उठकर खड़े होने के लिए प्रेरित कर सके। इसीलिए आज हम यहाँ आपको सफ़ल और महान लोगो द्वारा दिये गए सफलता के कुछ ऐसे मूलमंत्रो को बताने वाले है जिन्हें आप अपने मुश्किल समय मे अपनी ताकत बना कर खुद को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर सकते है।
    147. कुछ लोग ठोकर खा कर बिखर जाते है, और कुछ लोग ठोकर खा कर निखर जाते है।
    148. खुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले, खुदा भी पूछे बता बंदे तेरी रजा क्या है।
    149. गर्म लोहा ही पिघलता है ठंडा तो टूट जाता है, इसलिए हमेशा निरंतर प्रयास करते रहे।
    150. गलतियां करने में कोई बुराई नहीं है, लेकिन गलतियों को दोहराना बुरा है।
    151. गिरते तो सब है लेकिन उठकर, आगे बढ़ने वाले का ही नाम है।
    152. चाहे गुरु पर हो या ईश्वर पर, श्रद्धा अवश्य रखनी चाहिए। क्योंकि बिना श्रद्धा के सब बातें व्यर्थ होती हैं।- समर्थ रामदास
    153. चाहे पूरी दुनिया बदल जाए लेकिन आप नहीं बदलते
    154. जब तक आप दूसरों के सपनों के गुलाम है, तब तक आप अपने सपने पूरे नहीं कर सकते है।
    155. जब भी आपके साथ कुछ अप्रत्याशित हो तो ईश्वर को धन्यवाद देना कभी ना भूले।
    156. जिंदगी आसान नहीं होती आसान बनाना पड़ता है, कुछ “अंदाज” से तो कुछ “नजर अंदाज” से।
    157. जिंदगी इतनी बड़ी भी नहीं है कि ऐसे काम करने में खत्म कर दे, जिसे आप नापसंद करते हो।
    158. जिंदगी के हर मोड़ से गुजर ना चाहिए, क्या पता किस मोड़ पर मंजिल बैठी हो।
    159. जिंदगी बिताने के लिए फिजूल के कार्य करने जरूरी नहीं है, यह तो बिना कुछ करे भी बीत जाएगी।
    160. जिंदगी में मुसीबतें चाय में मलाई की तरह होती है सफल व्यक्ति वही है जो मलाई को हटाकर चाय पी जाए।
    161. जिस तरह एक दीपक पूरे घर का अंधेरा दूर कर देता है उसी तरह एक योग्य पुत्र सारे कुल का दरिद्र दूर कर देता है- कहावत
    162. जिस प्रकार रात्रि का अंधकार केवल सूर्य दूर कर सकता है, उसी प्रकार मनुष्य की विपत्ति को केवल ज्ञान दूर कर सकता है।- नारदभक्ति
    163. जिसको अपने आप पर भरोसा होता है, उसी को सफलता प्राप्त होती है।
    164. जिसे पराजित होने का डर है, उसकी हार निश्चित है।
    165. जीवन में कुछ बेहतर करना चाहते हो तो हमेशा सीखते रहो और सिखाते रहो।
    166. जीवन में छोटे-छोटे सुधार ही, आपको तरक्की की ओर ले जाते है।
    167. जो लोग आपकी खामोशी को नहीं समझ सकते, वे आपके कहे शब्दों को भी नहीं समझ पाएंगे।
    168. जो सत्य विषय हैं वे तो सबमें एक से हैं झगड़ा झूठे विषयों में होता है।-सत्यार्थप्रकाश
    169. जो हमेशा परिणाम की चिंता करने में लगा रहता है, वह कभी भी सफलता को नहीं पा सकता।
    170. ज्यादा नहीं बस इतने सफल हो जाओ, अपने मां बाप की हर ख्वाहिश पूरी कर सको।
    171. तप ही परम कल्याण का साधन है। दूसरे सारे सुख तो अज्ञान मात्र हैं।- वाल्मीकि
    172. तिनका-तिनका जुड़कर घोसला बनता है, उसी प्रकार धीरे धीरे ही सफलता मिलती है।
    173. तो आप कभी भी आगे नहीं बढ़ सकते है।
    174. थोड़ा डूबूंगा, थोड़ा टूटुंगा लेकिन मैं फिर लौट आऊंगा, ए जिंदगी तू देख मैं फिर जीत जाऊंगा।
    175. दंड द्वारा प्रजा की रक्षा करनी चाहिए लेकिन बिना कारण किसी को दंड नहीं देना चाहिए।- रामायण
    176. दूसरों को बदलने की कोशिश करते रहने वाले, जब तक स्वयं को नहीं बदलेंगे तब तक सफल नहीं हो सकते।
    177. द्वेष बुद्धि को हम द्वेष से नहीं मिटा सकते, प्रेम की शक्ति ही उसे मिटा सकती है।- विनोबा
    178. धर्म करते हुए मर जाना अच्छा है पर पाप करते हुए विजय प्राप्त करना अच्छा नहीं।- महाभारत
    179. धर्म का अर्थ तोड़ना नहीं बल्कि जोड़ना है। धर्म एक संयोजक तत्व है। धर्म लोगों को जोड़ता है।- डॉ. शंकरदयाल शर्मा
    180. धीमा ही सही चलो तो सही, मंजिल मिल ही जाएगी काबिल बनो तो सही।
    181. धीरे ही सही लेकिन हमेशा चलते रहे क्योंकि एक समय के बाद ठहरा हुआ पानी भी सड़ने लग जाता है।
    182. धीरे-धीरे आगे बढ़ने से न डरे,एक जगह खड़े रहने से डरे।
    183. परिणाम आपकी सोच के अनुरूप नहीं होता, वह तो सिर्फ आपकी मेहनत के अनुरूप होता है।
    184. पानी जैसे बनो जो अपना रास्ता खुद बनाता है,पत्थर जैसे मत बनो जो दूसरों का रास्ता रोकता है।
    185. पैसों से मिली खुशी कुछ समय के लिए रहती है, लेकिन अपनों से मिली खुशी पूरे जीवन भर साथ रहती है।
    186. प्रजा के सुख में ही राजा का सुख और प्रजाओं के हित में ही राजा को अपना हित समझना चाहिए। आत्मप्रियता में राजा का हित नहीं है, प्रजाओं की प्रियता में ही राजा का हित है।- चाणक्य
    187. बंद तकदीर के ताले वही लोग खोलते है, जिन्होंने अपने हुनर से चाबी बनाई होती है।
    188. बस पाने के तरीके बदल जाते है।
    189. बाधाएँ व्यक्ति की परीक्षा होती हैं। उनसे उत्साह बढ़ना चाहिए, मंद नहीं पड़ना चाहिए।- यशपाल
    190. बिना करें भी तो पछताना है, इससे अच्छा है कुछ करके पछताओ।
    191. बेस्ट मोटिवेशनल विचार : यहाँ हम आपको सफ़ल और महान लोगो द्वारा दिये गए कुछ सफलता के मूलमंत्रो को बताएंगे।
    192. बेहतर दिनों के लिए, बुरे दिनों से लड़ना पड़ता है।
    193. बोलने में विश्वास मत रखो, कुछ करके दिखाने में विश्वास रखो।
    194. मंजिल एक ही होती है,
    195. मंजिल को पाना मुश्किल जरूर होता है, लेकिन नामुमकिन कभी नहीं होता है।
    196. मंजिल मिलेगी, तू चल तो सही राहे बनेगी, तू कुछ कर तो सही।
    197. मेहनत जरूर रंग लाती है और जीवन में नए रंग खिलाती है।
    198. यदि आप में आत्मविश्वास नहीं है तो आप हमेशा न जीतने का बहाना खोजते रहेंगे।
    199. लड़ाई लड़ने वाला ही विजय प्राप्त करता है, दूर से देखने वाला तो सिर्फ तालियां ही बजा सकता है।
    200. लोकतंत्र के पौधे का, चाहे वह किसी भी किस्म का क्यों न हो तानाशाही में पनपना संदेहास्पद है। -जयप्रकाश नारायण
    201. लोग क्या कहेंगे इसकी चिंता मत करो, आपको क्या बनना है इस पर विश्वास करो।
    202. लोगों का काम है आपकी गलतियां ढूंढना है, आपको तो बस उन गलतियों को सुधारना है।
    203. वक्त आपका है – चाहे तो सोना बना लो, चाहे सोने में गुजार दो।
    204. वहां तूफान भी हार जाते है, जहां कस्तियाँ ज़िद्द पर होती है।
    205. विकास और विनाश दोनों आपके हाथ में है।
    206. विश्वास तब तक ठीक है जब तक खुद पर हो, दूसरों पर विश्वास अक्सर टूट जाता है।
    207. विस्तार की संभावना वही होती है, जहां कुछ कर गुजरने की चाह होती है।
    208. शाश्वत शांति की प्राप्ति के लिए शांति की इच्छा नहीं बल्कि आवश्यक है इच्छाओं की शांति।- स्वामी ज्ञानानंद
    209. संयम संस्कृति का मूल है। विलासिता निर्बलता और चाटुकारिता के वातावरण में न तो संस्कृति का उद्भव होता है और न विकास।- काका कालेलकर
    210. सकारात्मक सोच और निरंतर प्रयास, ही आपकी सफलता का आधार है।
    211. सत्याग्रह की लड़ाई हमेशा दो प्रकार की होती है। एक जुल्मों के खिलाफ़ और दूसरी स्वयं की दुर्बलता के विरुद्ध।- सरदार पटेल
    212. सफल इंसान वही है जिसे टूटे को बनाना और रूठे को मनाना आता है।
    213. सफल व्यक्ति वह होते है, जो बोलते कम है, सुनते ज्यादा है।
    214. सफल होने के लिए आपकी सफलता की इच्छा, विफलता के डर से बड़ी होनी चाहिए।
    215. सफल होने के लिए साहस और विश्वास दोनों जरूरी है लेकिन जीवन में खुश रहने के लिए अपनों के साथ रहना भी जरूरी है।
    216. सफलता एक दिन में नहीं मिलती, लेकिन एक दिन जरूर मिलती है।
    217. सफलता तब मिलेगी जब आप जो सोचते है, जो कहते है और जो करते है उनमें सामंजस्य से हो।
    218. सफलता नहीं मिल रही इसका मतलब ये नहीं कि लक्ष्य गलत है, हो सकता है आपकी मेहनत ही गलत दिशा में हो।
    219. सफलता पाने कि एक ही आमोध औषधि है, निरंतर कार्य करते जाओ, फल के बारे में चिंता मत करो।
    220. समस्या पैदा करने वाले मत बनो, समस्याओं का समाधान करने वाले बनो।
    221. सहिष्णुता और समझदारी संसदीय लोकतंत्र के लिए उतने ही आवश्यक है जितने संतुलन और मर्यादित चेतना।- डॉ. शंकर दयाल शर्मा
    222. सही स्थान पर बोया गया सुकर्म का बीज ही महान फल देता है।- कथा सरित्सागर
    223. सारा जगत स्वतंत्रता के लिए लालायित रहता है फिर भी प्रत्येक जीव अपने बंधनो को प्यार करता है। यही हमारी प्रकृति की पहली दुरूह ग्रंथि और विरोधाभास है।- श्री अरविंद
    224. साहित्य का कर्तव्य केवल ज्ञान देना नहीं है परंतु एक नया वातावरण देना भी है।- डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
    225. सूर्य और शौर्य को दिखाने की आवश्यकता नहीं होती, दोनों अपने आप चमक जाते है।
    226. सृजनशील व्यक्ति कुछ कर पाने की उम्मीद से प्रेरित होता है, दूसरों को होड़ में हराने की उम्मीद से नहीं।
    227. हमारी समस्या का समाधान सिर्फ हमारे पास है, दूसरों के पास तो सिर्फ सुझाव है।
    228. हमेशा दूसरों की सफलता के बारे में जानने के बजाय, खुद की सफलता पर ध्यान देना चाहिए।
    229. हमेशा याद रखे जो जितना सफल होगा, उसकी उतनी ही निंदा भी होगी।
    230. हार के डर जाने से बेहतर है, जीत के लिए कोशिश करते हुए मर जाना।


    Share: